लेखक की और रचनाएं

Latest

द फाॅरेस्ट मैन आॅफ इण्डिया - पद्मश्री जादव पयांग

विश्व वानिकी दिवस, 21 मार्च 2017 पर विशेष



जादव पयांगजादव पयांगविश्व वानिकी दिवस हर वर्ष आता है। वह हर वर्ष जंगल बचाने और बढ़ाने का सन्देश दे जाता है। इस सन्देश को जन-जन तक पहुँचाने के लिये सरकारी-गैरसरकारी स्तर पर पूरी दुनिया में सेमिनार, रैली तथा वृक्षारोपण के कार्यक्रम आयोजित होते हैं। किन्तु कुछ समुदाय और लोग ऐसे होते हैं, जो विश्व वानिकी दिवस की प्रतीक्षा किये बगैर साल के बारह महीने... हर दिन सिर्फ जंगल ही बचाने, बढ़ाने की चिन्ता, चिन्तन और करतब में मगन रहते हैं।

समुदाय के तौर पर जंगल बचाने में सबसे प्रथम हमारे आदिवासी समुदाय हैं, तो व्यक्ति के तौर पर एम एस यूनिवर्सिटी, वड़ोदरा के सहायक प्रोफेसर - ट्रीमैन बालकृष्ण शाह, गुड़गाँव के ट्रीमैन दीपक गौड़, अलवर के ट्रीमैन प्रदीप, लखनऊ के ट्रीमैन तिवारी और एक करोड़ पेड़ लगाने वाले ट्रीमैन दरीपल्ली रमैया समेत कई भारतीय हैं, जिनमें हरेक काम को हमें जानना चाहिए।

जोधपुर में खेजड़ी के दरख्तों की रक्षा की खातिर उनसे चिपककर अपनी जान गँवाने वाली शख्सियतों और उनके परिवारों से जाकर हमें कभी मिलना चाहिए। कालान्तर में इसी तर्ज पर चला और मशहूर हुए 'चिपको आन्दोलन' का नाम हम सभी जानते हैं। किन्तु चिपको आन्दोलन में वास्तविक भूमिका निभाने वाले गाँव और उसकी निवासी वन वीरांगनाओं को हम में से ज्यादातर नहीं जानते। हमें कभी ऐसी वीरांगनाओं की सूची भी बनानी चाहिए। असली जंगलियों से मिलना चाहिए।

श्री जगतसिंह जंगली, उत्तराखण्ड


जगत सिंह 'जंगल'व्यक्ति के तौर जंगल लगाने वालों में सबसे आगे एक नाम, श्री जगत सिंह 'जंगली' है। 'जंगली', उत्तराखण्ड के रुद्रप्रयाग जिले के गाँव कोटमल्ला के रहने वाले 65 वर्षीय श्री जगतसिंह का उपनाम है, जो उन्हें अकेले के बूते जंगल लगाने के लिये एक स्थानीय स्कूल के छोटे से कार्यक्रम में हासिल हुआ था। श्री जगतसिंह इस उपनाम को उन्हें हासिल अनेक सम्मानों में सबसे बड़ा सम्मान मानते हैं। श्री जगतसिंह को उत्तराखण्ड का 'ग्रीन एम्बेसडर' और 'द फादर आॅफ मिक्सिड फाॅरेस्ट्री' भी माना जाता है।

उत्तर भारतीय वनप्रेमियों के बीच श्री जगत सिंह जंगली का नाम काफी चर्चित है। लिहाजा, श्री जगत सिंह जंगली समेत अन्य के काम के बारे में हम कभी किसी अन्य लेख में चर्चा करेंगे । विश्व वानिकी दिवस पर आज एक ऐसे शख्स से परिचित होना अच्छा होगा, जो अपनी मेहनत और जिजीविषा के बूते पूर्वोत्तर भारत स्थित सबसे बड़े नदीद्वीप की आबरु बचाने में लगा है। असमवासी इस शख्स का नाम है - श्री जादव पयांग। श्री जादव पयांग को 'द फाॅरेस्टमैन आॅफ इण्डिया' कहा जाता है। भारत सरकार ने उन्हें पद्मश्री से नवाजा जा चुका है।

श्री जादव पयांग, असम


गौर कीजिए कि असम के नदी द्वीप माजुली का रकबा लगातार घट रहा है, लेकिन माजुली में जंगल का रकबा बढ़ रहा है। माजुली में फैलते वन संसार का श्रेय यदि किसी एक को जाता है, तो वह है 54 वर्षीय मिसिंग आदिवासी श्री जादव पयांग। श्री जादव के पास न कार्यकर्ताओं की कोई लम्बी-चौड़ी फौज है और न आर्थिक संसाधनों की भरमार; सिर्फ एक जुनून और एक समझ है जिसकी धुन में श्री यादव करीब 1360 एकड़ जंगल को उगाने में सहायक बन सके। पाँच साल के थे,तो दूध बेचकर आजीविका कमाने वाले उनके माँ-बाप ने मजबूरी में उन्हें एक कोर्टमास्टर के घर छोड़ दिया।

श्री जादव की स्कूली पढ़ाई हाई स्कूल से आगे भले ही नहीं बढ़ सकी, लेकिन जंगल को लेकर उनकी समझ के कारण आज उनके पास ‘भारत के वनपुरुष’ का गौरवशाली दर्जा है। लड़कपन (वर्ष 1979) में माजुली की वीरान धरती में मरे हुए साँपों को देखकर विचलित हुए श्री जादव ने उन्हें छाया देने हेतु 50 बीज और 25 बाँस पौधों के साथ जो शुरुआत की, उनके जुनूनू ने उसे एक जंगल में बदल दिया। कह सकते हैं कि श्री जादव 550 हेक्टेयर की पब्लिक सेंचुरी के अकेले पालनहार हैं। उनके जंगल में पाँच बंगाल टाइगर, तीन एक सींग वाले गैंडे, सैकड़ों हिरण, भालू, अन्य पशु व 50 से अधिक किस्म के पक्षी हैं। बाँस, बहेड़ा, टीम, गांभरी, सेब, गुलमोहर, आम, बरगद... जादव द्वारा लगाए वृक्षों की सूची विविध और इतनी लम्बी है कि आप हम पढ़ते-पढ़ते भले ही थक जाएँ; श्री जादव इन्हें लगाते-पालते-पोषते अभी भी नहीं थके हैं। उनकी सुबह आज भी तीन बजे शुरू होती है। यूँ श्री जादव अभी भी दूध बेचते हैं, पर अब वह साधारण दूध विक्रेता नहीं हैं। मवेशी इनकी रोजी-रोटी भी हैं और इनके वृक्षारोपण को मिलने वाली खाद का स्रोत भी।

अपने जंगलों की निगरानी करते पद्मश्री जादव पयांगपिछले 35 वर्षों में राॅयल बंगाल टाइगरों ने उनकी 85 गायों, 95 भैंसों और 10 सुअरों का शिकार किया है; बावजूद इसके जादव को टाइगर सबसे प्रिय हैं। अगस्त, 2012 में एक गैंडे का शिकार होने पर श्री जादव और उनके सबसे छोटे बेटे ने कई दिन तक खाना नहीं खाया। जादव के लिये सबसे अधिक खुशी के क्षण तब होते हैं, जब हाथियों के झुण्ड हर वर्ष तीन से चार महीने के लिए यहाँ आते हैं, जबकि हाथियों के आने से स्वयं उनके घर व फसलों को नुकसान हुआ है। श्री जादव के इस अनूठे वनप्रेम ने जंगल विभाग को भी शर्म आई। उसने भी जंगल का रकबा बढ़ाने की कोशिशें की।

श्री जादव ने जिस जिम्मेदारी के साथ अकेले वन संरक्षण और समृद्धि का बीड़ा उठा रखा है, इसे देखते हुए पृथ्वी दिवस, 2012 को दिल्ली के एक विश्वविद्यालय ने आमंत्रित कर ‘द फाॅरेस्टमैन आॅफ इण्डिया’ के उपनाम से नवाजा। तत्कालीन राष्ट्रपति स्व. श्री कलाम ने भी नकद पुरस्कार से सम्मानित किया। फ्रांस में जुटे दुनिया के 800 विशेषज्ञों में श्री जादव को भी शामिल किया गया।

सेंचुरी एशिया ने उन्हें ‘वाइल्ड लाइफ सेंचुरी अवार्ड’ से नवाजा तो भारत सरकार ने 2015 में पद्मश्री सम्मान दिया। अब फ्रेंड्स आॅफ आसाम एंड सेवन सिस्टर्स नामक एक संगठन श्री जादव के वन अभियान से जुड़ गया है। इसके बाद से श्री जादव 500 हेक्टेयर का नया जंगल लगाने में लगे हैं। श्री जादव पयांग कहते हैं कि उनकी इच्छा आगे चलकर कमलबाड़ी, डिब्रूगढ़ और फिर ‘वाटरमैन आॅफ इण्डिया’ राजेन्द्र सिंह के साथ मिलकर राजस्थान के वीराने में जंगल लगाने की है।

Post new comment

The content of this field is kept private and will not be shown publicly.
  • Web page addresses and e-mail addresses turn into links automatically.
  • Allowed HTML tags: <a> <em> <strong> <cite> <code> <ul> <ol> <li> <dl> <dt> <dd>
  • Lines and paragraphs break automatically.

More information about formatting options

CAPTCHA
यह सवाल इस परीक्षण के लिए है कि क्या आप एक इंसान हैं या मशीनी स्वचालित स्पैम प्रस्तुतियाँ डालने वाली चीज
इस सरल गणितीय समस्या का समाधान करें. जैसे- उदाहरण 1+ 3= 4 और अपना पोस्ट करें
12 + 0 =
Solve this simple math problem and enter the result. E.g. for 1+3, enter 4.