SIMILAR TOPIC WISE

दवा के रूप में गांजा

Author: 
अंगरिका गोगोई
Source: 
डाउन टू अर्थ, मार्च 2018

अध्ययन बताते हैं कि गांजे में कैंसर रोधी तत्व हैं। यह कीमोथेरेपी के बाद मरीज को न केवल आराम पहुँचाता है बल्कि क्लीनिकल ट्रायल बताते हैं कि यह कैंसर की कोशिकाओं का विकास भी रोकता है।

भारत में गांजे का चिकित्सा में प्रयोग मान्य हो सकता है। दो घटनाक्रम इसे बल प्रदान कर रहे हैं। पहला, गांजे को दवा के रूप में मान्यता प्रदान करने के लिये पिछले साल लोकसभा सांसद धर्मवीर गाँधी ने लोकसभा में निजी विधेयक पेश किया। दूसरा, महिला एवं बाल विकास मंत्री ने मेनका गाँधी ने मंत्रियों के समूह की बैठक में सुझाव दिया कि गांजे को कानूनी मान्यता दी जाये। मंत्रियों का यह समूह नेशनल ड्रग डिमांड रिडक्शन पॉलिसी के कैबिनेट नोट के प्रारूप की जाँच कर रहा है। वर्तमान में गांजा रखना, इसका व्यापार, इसे लाना ले जाना और उपभोग नारकोटिक ड्रग्स एंड साइकोट्रोपिक सब्सटेंसेज एक्ट 1985 के तहत प्रतिबन्धित है और ये गतिविधियाँ गैर कानूनी हैं।

दवा के रूप में गांजा


हालांकि विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने गांजे के इस्तेमाल से कई बीमारियों को जोड़ा है, मसलन दिमागी क्षमता को क्षति, ब्रोन्काइटिस, फेफड़ों में जलन आदि। डब्ल्यूएचओ यह भी कहता है कि कुछ अध्ययन बताते हैं कि कैंसर, एड्स, अस्थमा और ग्लूकोमा जैसी बीमारियों के इलाज के लिये गांजा मददगार है। लेकिन उसका यह भी मानना है कि गांजे के चिकित्सीय इस्तेमाल को स्थापित करने के लिये और अध्ययन की जरूरत है।

पिछले कई सालों में कई अध्ययनों में यह स्थापित करने की कोशिश की गई है कि गांजे में औषधीय गुण हैं।

अध्ययन में बताया गया है कि गांजे में पाये जाने वाले कैनाबाइडियॉल (सीबीडी) से क्रॉनिक पेन का सफलतापूर्वक इलाज किया जा सकता है और इसके विशेष दुष्परिणाम भी नहीं हैं। इंडियन जर्नल ऑफ पैलिएटिव केयर के सम्पादक और मुम्बई स्थित टाटा मेमोरियल सेंटर में असोसिएट प्रोफेसर नवीन सेलिंस का कहना है कि सीबीडी सकारात्मक नतीजे देता है।

कुष्ठरोग के मरीजों पर भी सीबीडी थेरेपी प्रयोग की जाती है। एपीलेप्सी एंड विहेवियर में 2017 में प्रकाशित अध्ययन कहता है कि इसके उपचार के सकारात्मक नतीजे निकले हैं, खासकर उन बच्चों पर जिन्हें मिर्गी के दौरे पड़ते हैं। नेचुरल प्रोडक्ट्स एंड कैंसर ड्रग डिस्कवरी में जुलाई 2017 में प्रकाशित अध्ययन के अनुसार, सीबीडी में क्षमता है कि वह कैंसर रोधी दवा बन सके। कीमोथेरेपी के बाद यह न केवल दर्द से राहत देता है बल्कि क्लीनिकल प्रयोग बताते हैं कि यह कैंसर की कोशिकाओं को विकसित होने से भी रोकता है।

इंटरनेशनल जर्नल ऑफ आयुर्वेद एंड फार्मास्यूटिकल केमिस्ट्री में प्रकाशित एक पत्र के अनुसार, चिकित्सा में गांजे के शुरुआती प्रयोग की जानकारी 1500 ईस्वी पूर्व अथर्ववेद में मिलती है। इस प्राचीन ग्रंथ में भांग का उल्लेख है जो गांजे का ही एक रूप है। इसे पाँच प्रमुख पौधों में से एक माना जाता है। होली के पर्व पर आज भी भांग खाने की परम्परा है। प्राचीन चिकित्सीय ग्रंथ सुश्रुत संहिता में गांजे के चिकित्सीय प्रयोग की जानकारी मिलती है। सुस्ती, नजला और डायरिया में इसके इस्तेमाल का उल्लेख मिलता है।

कैनाबिस: इवेल्युएशन एंड एथनोबोटेनी पुस्तक में लेखक ने पाया है कि गांजे के इस्तेमाल की जड़ में प्राचीन साहित्य और हिंदू धर्मग्रंथ हैं। इसमें कहा गया है कि पूरी 19वीं शताब्दी में मध्य भारत में खंडवा व ग्वालियर और पूर्व में पश्चिम बंगाल भारतीय उपमहाद्वीप में गांजे के सबसे बड़े उत्पादक और निर्यातक रहे हैं।

यह सर्वविदित है कि अवैध होने के बावजूद देश के कई हिस्सों में इसे उगाया जाता है, खासकर हिमाचल प्रदेश के गाँवों में। इसका उत्पादन बन्द करना लगभग असम्भव क्योंकि यह सहजता से उग जाता है। भारतीय हिमालय के जंगली क्षेत्रों में काफी उगता है। इस पौधे से चरस तैयार होता है जो पहाड़ी इलाकों के किसानों के रोजगार का जरिया है।

प्राचीन परम्परागत चीनी दवाइयों में भी गांजे का प्रयोग होता आया है। अमेरिका के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ के नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इन्फॉर्मेशन द्वारा प्रकाशित पत्र के मुताबिक, गांजे का इस्तेमाल रेचक औषधि में नमी लाने के लिये किया जाता है। यह चाइनीज फार्माकोपिया का भी हिस्सा है। फार्माकोपिया मेडिकल औषधियों को सूचीबद्ध करने वाला आधिकारिक प्रकाशन है। इसमें कहा गया है कि एक चीनी सर्जन ने सबसे पहले चेतनाशून्य करने के लिये गांजे का इस्तेमाल किया था।

बॉम्बे हैंप कम्पनी में वैज्ञानिक सलाहकार और गांजा विशेषज्ञ अर्नो हेजकैम्प का कहना है कि दुनिया भर में गांजे को अवैध माना गया है इसलिये गांजे से जुड़े क्लीनिकल ट्रायल बेहद मुश्किल हैं। वह कहते हैं कि क्लीनिकल ट्रायल की कमी से यह साबित नहीं होता कि गांजा काम नहीं करता बल्कि इससे साबित होता है कि ऐसे ट्रायल करना कितना मुश्किल काम है।

नियमों का जाल


डबलिन स्थित खाद्य पदार्थ नियामक प्राधिकरण का कैनाबिस फॉर मेडिकल यूज-ए साइंटिफिक रिव्यू इन 2017 एक व्यापक स्तर पर किया गया सर्वेक्षण है। यह 48 देशों में किया गया और इसमें गांजे के इस्तेमाल के आधार पर उनका वर्गीकरण है। इसमें पाया गया है कि कुछ देशों में सख्त नियम हैं और इसके इस्तेमाल को नियंत्रित किया गया है। डेनमार्क, एस्टोनिया, जर्मनी, नार्वे और पोलैंड उन देशों में शामिल हैं जो चिकित्सा में गांजे के इस्तेमाल के लिये कानूनी ढाँचा बनाने की दिशा में काम कर रहे हैं। चेक रिपब्लिक, इटली, ऑस्ट्रेलिया, इजराइल, नीदरलैंड, कनाडा और अमेरिका के कुछ राज्यों ने गांजे के चिकित्सीय कार्यक्रमों को पहले ही स्थापित कर दिया है।

वाशिंगटन स्थित थिंक टैंक कैटो इंस्टीट्यूट के अध्ययन में पाया गया है कि नशीली दवा को प्रतिबन्धित करने से यह खत्म नहीं होती बल्कि उसकी कालाबाजारी होती है। प्रतिबन्धित करने से बाजार में खराब गुणवत्ता की दवाएँ आ जाती हैं जिनसे ओवरडोज और प्वाइजनिंग का खतरा रहता है।

संयुक्त राष्ट्र के पूर्व जनरल सेक्रेटरी कोफी अन्नान कहते हैं कि शुरुआती रुझान बताते हैं, “जहाँ गांजे को वैधता प्रदान की गई है, वहाँ ड्रग और इससे सम्बन्धित अपराधों में बढ़ोत्तरी नहीं हुई है। हमें यह सावधानी से तय करना पड़ेगा कि किसे प्रतिबन्धित किया जाये और किसे नहीं। ज्यादातर गांजे का प्रयोग विशेष अवसरों पर होता है और यह किसी समस्या से भी नहीं जुड़ा है। फिर भी इससे होने वाले सम्भावित जोखिमों के कारण इसे विनियमित करने की जरूरत है।”

Post new comment

The content of this field is kept private and will not be shown publicly.
  • Web page addresses and e-mail addresses turn into links automatically.
  • Allowed HTML tags: <a> <em> <strong> <cite> <code> <ul> <ol> <li> <dl> <dt> <dd>
  • Lines and paragraphs break automatically.

More information about formatting options

CAPTCHA
यह सवाल इस परीक्षण के लिए है कि क्या आप एक इंसान हैं या मशीनी स्वचालित स्पैम प्रस्तुतियाँ डालने वाली चीज
इस सरल गणितीय समस्या का समाधान करें. जैसे- उदाहरण 1+ 3= 4 और अपना पोस्ट करें
9 + 4 =
Solve this simple math problem and enter the result. E.g. for 1+3, enter 4.