लेखक की और रचनाएं

Latest

भारत पाकिस्तान की साझा नदियों के पानी का उपयोग


सिंधु नदी बेसिनसिंधु नदी बेसिनभारत ने उसके और पाकिस्तान के बीच सिंधु नदी घाटी में प्रवाहित पानी के बँटवारे की समीक्षा का निर्णय लिया है। वैसे तो कश्मीर को हो रहे नुकसान को लेकर सालों से घाटी में असन्तोष था पर हाल की घटनाओं ने मामले को मुख्य धारा में ला दिया है।

विदित हो, 19 सितम्बर, 1960 को भारत के प्रधान मंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू और पाकिस्तान के प्रेसिडेंट जनरल अयूब खान के बीच कराची में, सिन्धु घाटी की नदियों के पानी का बँटवारा, दो भाइयों के बीच जायदाद के बँटवारे की तर्ज पर हुआ था। इस बँटवारे में पाकिस्तान को सिंधु, झेलम और चेनाब और भारत को रावी, व्यास और सतलज नदियाँ मिली थीं।

सिन्धु नदी में पर्याप्त पानी बहता है और उसे रावी, व्यास और सतलज को छोड़कर झेलम, चेनाब और सिन्धु नदी का पूरा-पूरा पानी उपलब्ध है। सिंधु नदी का उद्गम हिमालय में है। वह भारत और पाकिस्तान के बीच बहने वाली प्रमुख नदी है। उसकी कुल लम्बाई 3180 किलोमीटर तथा कछार का क्षेत्रफल लगभग 966,000 वर्ग किलोमीटर है।

पाकिस्तान का अधिकांश भाग सिन्धु नदी के कछार में स्थित है। बलुचिस्तान को छोड़कर बाकी भूभाग, लगभग गंगा के कछार की ही तरह उपजाऊ है। पूरे पाकिस्तान में बरसात की मात्रा अपेक्षाकृत कम है। वह भी भारत की ही तरह सिन्धु नदी घाटी के पानी पर आश्रित है।

उल्लेखनीय है कि दुनिया के अधिकांश देश इस बात से सहमत हैं कि केवल राईपेरियन देश को ही नदी के पानी पर हक होता है। सिन्ध नदी घाटी के मामले में चूँकि भारत और पाकिस्तान राईपेरियन देश हैं इसलिये उनको परम्परागत रूप से उस पानी पर हक है जो उनकी धरती पर होकर नदी में बहता है। इसके बावजूद घाटी के अपस्ट्रीम और डाऊन स्ट्रीम में स्थित देश अपनी-अपनी माँगों के पक्ष में अनेक तर्क प्रस्तुत करते हैं। अपेक्षा होती है कि मौटे तौर पर उनका निपटारा पानी के वितरण की समानता और बिना एक दूसरे को हानि के आधार पर किया जाना चाहिए।

दो देशों के बीच बहने वाली नदी घाटी के पानी एवं उससे सम्बद्ध भूजल के बँटवारे के लिये हेलसेंकी, फिनलैंड में अगस्त 1966 में समझौता हुआ था। यह समझौता मुख्य रूप से अन्तरराष्ट्रीय मार्गदर्शिका है। इसी मार्गदर्शिका के आधार पर सारे अन्तरराष्ट्रीय जल विवाद निपटाए जाते हैं। इसे अन्तरराष्ट्रीय कानून संगठन ने मान्य किया है।

इसी के आधार पर यूनाइटेड नेशन्स कन्वेंशन ऑन ला ऑफ नॉन-नेविगेशनल यूजेसे आफ इंटरनेशनल वाटरकोर्स बना और सन 2004 में बर्लिन रुल्स ऑन वाटर रिसोर्सेस का गठन हुआ। हेलसेंकी समझौते के नियम मुख्य रूप से माँग को सन्तुलित किये जाने के लिये पानी के समान बँटवारे को लागू करने के लिये जोर देते हैं। इसके अलावा उसमें राईपेरियन राज्यों को नदी की प्रदूषण मुक्ति का भी प्रावधान है।

हेलसेंकी मार्गदर्शिका के अध्याय दो के आर्टीकल 4 के अनुसार प्रत्येक राज्य को अधिकार है कि वह अपनी भूमि पर उपलब्ध जल का लाभदायी उपयोग करने के लिये अधिकृत है। नदी घाटी के पानी का बँटवारा तर्कसंगत तथा समानता आधारित होगा। उसे सिद्ध करने के लिये सभी उपलब्ध जानकारी का उपयोग किया जाएगा। विवाद की स्थिति में आपसी चर्चा और अन्त में प्राधिकरण का प्रावधान है।

सन 1960 में हुए सिन्धु समझौते के कारण कुछ लोगों का मानना है कि भारत के पास सन्धि को निरस्त करने हेतु सीमित विकल्प हैं। कुछ लोगों का मानना है कि सन 1960 में हुए एकतरफा समझौते की समीक्षा करना चाहिए।

भारत को झेलम, चेनाब और सिन्धु नदी (पाकिस्तान के हिस्से की नदियों) पर बाँध बनाकर कश्मीर की सालों से लम्बित पड़ी जरूरतों को पूरा करना चाहिए पर अनेक लोगों का अभिमत है कि यह विकल्प अनावश्यक तनाव को बढ़ावा देगा। दूसरे बाँध बनाने में बहुत समय लगेगा। हर जगह पानी ले जाना सम्भव नहीं होगा। पर्यावरण, विस्थापन और पुनर्वास की समस्याओं को निपटाना होगा। कुछ सुझाव निम्नानुसार हो सकते हैं-

भारत को झेलम, चेनाब और सिन्धु पर कश्मीर के लोगों की आजीविका से जुड़ी मूलभूत जरूरतों को पूरा करने के लिये ठोस कदम उठाना चाहिए। कश्मीर में अनेक लोगों की आजीविका का स्रोत झीलों में सालों से फलता-फूलता पर्यटन रहा है। झीलों में घटते पानी एवं गहराई और प्रदेश को बाढ़ के खतरों से बचाने के लिये झीलों के पुराने रकबे और गहराई को पुनः हासिल करना चाहिए।

यदि आवश्यक हो तो उसी नदी घाटी में नई वाटरबॉडीज को बनाना चाहिए। ऐसा करने से हजारों लोगों की आजीविका का संकट कम होगा। उन्हें परम्परागत रोजगार मिलेगा। बहुत से लोगों की बेकारी कम होगी। झेलम, चेनाब और सिन्धु की घाटियों में बाँध बनाने के स्थान पर सोलर पावर पर आश्रित लिफ्ट इरीगेशन योजनाओं का जाल बिछाना चाहिए।

हर प्यासे खेत को पानी उपलब्ध कराना चाहिए। पेयजल के लिये पर्याप्त मात्रा में पानी का उठाव करना चाहिए। हर बसाहट में पानी की पुख्ता व्यवस्था करना चाहिए ताकि निस्तार और स्वच्छता के लिये जरूरत पूरा करने के लिये कम-से-कम न्यूनतम पानी उपलब्ध हो।

राज्य के जिन इलाकों में भूजल स्तर की गिरावट देखी जा रही है उन इलाकों में रीचार्ज को बढ़ावा दिया जाना चाहिए। उपरोक्त मूलभूत जरूरतों के लिये पानी की माँग को पूरा करना किसी भी नजरिए से अनुचित नहीं है। वह हर राज्य का दायित्व है। इसे किसी भी मंच पर प्रतिपादित करने में भारत को कठिनाई भी नहीं होना चाहिए।


TAGS

Indus Water treaty in hindi, Indo-pak relation in hindi, Uri attack in hindi, India may consider on Indus water treatyin hindi, India Prime minister Jawaharlal Nehru in hindi, Pakistani President General Ayub Khan in hindi, united nations convention on non-navigational uses of international watercourses in hindi, berlin rules on water resources 2004 in hindi, solar plant in hindi, Indus water treaty summary in hindi, Indus water treaty pdf in hindi, Jhelum in hindi, Ravi in hindi, Chenab in hindi, Satluj river in hindi, source of the indus is on the Tibetan Plateau in hindi, Jammu & Kashmir in hindi, irrigation in hindi, waterbodies in hindi, indus water treaty main points in hindi, indus water treaty history in hindi, indus water treaty analysis in hindi, indus water treaty disputes in hindi, indus water treaty 1960 in hindi, Sindhu Jal Samjhauta in hindi, Uri attack in hindi, India may revisit Indus Waters Treaty signed with Pakistan in hindi, Can india scrap the indus water treaty?in hindi, India-pakistan on tug of war in hindi, Indian prime minister Narendra Modi in hindi, indus water treaty between india and pakistan in hindi, India will act against pakistan in hindi, what is indus water treaty in hindi, which india river go to pakistan in hindi, What is indus basin in hindi, New Delhi, Islamabad in hindi, Lashkar-e- Taiyaba in hindi, Pakistan’s people’s party in hindi, Nawaz Sharif in hindi, Indus Valley in hindi, research paper on indus valley in hindi, Chenab river in hindi, Pakistan planning to go to world bank in hindi, History of Indus river treaty wikipedia in hindi, Culture of induss valley in hindi, india pakistan water dispute wiki in hindi, india pakistan water conflict in hindi, water dispute between india and pakistan and international law in hindi, pakistan india water dispute pdf in hindi, water problem between india pakistan in hindi, indus water treaty dispute in hindi, water dispute between india and pakistan pdf in hindi, indus water treaty summary in hindi, indus water treaty pdf in hindi, indus water treaty 1960 articles in hindi, water dispute between india and pakistan in hindi, indus water treaty provisions in hindi, indus water treaty ppt in hindi, indus basin treaty short note in hindi, indus water treaty in urdu, sindhu river dispute in hindi, indus water dispute act in hindi, information about indus river in hindi language, indus river history in hindi, indus river basin, main tributaries of indus river in hindi, the largest tributary of the river indus is in hindi, indus river system and its tributaries in hindi, tributary of indus in hindi, details of sindhu river in hindi, sindhu river route map in hindi.


Post new comment

The content of this field is kept private and will not be shown publicly.
  • Web page addresses and e-mail addresses turn into links automatically.
  • Allowed HTML tags: <a> <em> <strong> <cite> <code> <ul> <ol> <li> <dl> <dt> <dd>
  • Lines and paragraphs break automatically.

More information about formatting options

CAPTCHA
यह सवाल इस परीक्षण के लिए है कि क्या आप एक इंसान हैं या मशीनी स्वचालित स्पैम प्रस्तुतियाँ डालने वाली चीज
इस सरल गणितीय समस्या का समाधान करें. जैसे- उदाहरण 1+ 3= 4 और अपना पोस्ट करें
7 + 4 =
Solve this simple math problem and enter the result. E.g. for 1+3, enter 4.