लेखक की और रचनाएं

SIMILAR TOPIC WISE

Latest

ग्रामीण आबादी के लिये अनूठा वाटर प्यूरीफायर (Innovative Water Purifier for Rural Population)

Author: 
उमाशंकर मिश्र
Source: 
इंडिया साइंस वायर, नई दिल्ली, 08 नवम्बर, 2017


भारतीय शोधकर्ताओं ने एक ऐसा सोलर वाटर प्यूरीफायर बनाया है, जो ग्रामीण इलाकों में स्वच्छ पेयजल उपलब्ध कराने में मददगार हो सकता है। महाराष्ट्र के फलटण में स्थित निम्बकर कृषि अनुसंधान संस्थान (एनएआरआई) के शोधकर्ताओं ने सौर ऊर्जा पर आधारित एक नया सोलर वाटर प्यूरीफायर (एसडब्ल्यूपी) विकसित किया है। इसकी खासियत यह है कि सौर ऊर्जा से संचालित होने के बावजूद इस तकनीक में सोलर पैनल या फिर बैटरी का उपयोग नहीं किया गया है।

.

पानी को साफ करने की यह रणनीति दो चरणों पर आधारित है। पहले चरण में किसी जलस्रोत से प्राप्त पानी को कई परतों में तह किए गए साफ सूती कपड़े से छान लिया जाता है। ऐसा करने से पानी से पार्टीकुलेट मैटर अलग हो जाते हैं। दूसरे चरण में तीन लीटर क्षमता वाली काँच की चार ट्यूबों का उपयोग किया जाता है, जो एक चैनल में लगे पात्र से जुड़ी रहती हैं। पात्र की मदद से काँच की ट्यूबों में पानी भरकर खुले स्थान में रख दिया जाता है। लगातार सूर्य की रोशनी के सम्पर्क में रहने से पानी गर्म हो जाता है और काँच की नलियों में संचित होने के कारण ऊष्मा बाहर नहीं निकल पाती। इस कारण ट्यूबों में भरे पानी का तापमान लम्बे समय तक स्थिर बना रहता है। एक बार पानी गर्म हो जाए तो उसे देर तक गर्म बनाए रखा जा सकता है और उसमें मौजूद बैक्टीरिया निष्क्रिय हो जाते हैं। इस तरह एक सामान्य सोलर वाटर प्यूरीफायर से प्रतिदिन करीब 15 लीटर सुरक्षित पेयजल मिल जाता है।

बैक्टीरिया कॉलोनी की गणना करने पर शोधकर्ताओं ने पाया कि सूती कपड़े से छाने गए पानी को 60 डिग्री तापमान पर 15 मिनट तक गर्म करने या फिर 45 डिग्री तापमान पर निरंतर तीन घंटे तक गर्म करने से उसमें मौजूद कॉलीफार्म बैक्टीरिया निष्क्रिय हो जाते हैं। करीब एक साल किए गए प्रयोग के बाद अध्ययनकर्ताओं ने पाया है कि कम धूप होने पर भी इस विधि से पानी को पीने योग्य बनाया जा सकता है। यह जानकारी हाल में अबू धाबी में आयोजित अन्तरराष्ट्रीय सोलर एनर्जी कॉन्फ्रेंस में पेश किए गए एक शोध पत्र में दी गई है।

संस्थान के निदेशक अनिल कुमार राजवंशी ने इंडिया साइंस वायर को बताया कि “हमने पाया है कि पानी को रोगाणुओं से मुक्त करने के लिये उसे उबालना जरूरी नहीं है। लम्बे समय तक एक निश्चित तापमान को स्थिर रखने से भी पानी में मौजूद रोगाणु निष्क्रिय हो जाते हैं। इसी तथ्य को ध्यान में रखकर यह रणनीति अपनाई गई है, जो किफायती होने के साथ-साथ ग्रामीण परिवेश के अनुकूल भी है।”

दुनिया भर में पानी शुद्ध करने के लिये फिल्टर्स, रिवर्स ओस्मोसिस (आरओ) और अल्ट्रा-वायलेट आधारित प्यूरीफायर्स का उपयोग किया जाता है। हालाँकि इन डिवाइसों में फिल्टर में गंदगी जमा हो जाती है और बार-बार उसे बदलना पड़ता है। आरओ में पानी की बर्बादी भी काफी होती है। इसके अलावा ग्रामीण इलाकों में बिजली आपूर्ति न होने से इन डिवाइसों का उपयोग करना व्यवहारिक नहीं माना जाता। इसके विपरीत ग्रामीण इलाकों में इस नए सोलर वाटर प्यूरीफायर का उपयोग व्यवहारिक माना जा रहा है। इसमें न तो बिजली की जरूरत पड़ती है और न ही आरओ की तरह इसमें पानी की बर्बादी होती है। इसकी एक खासियत यह भी है कि अन्य वाटर प्यूरीफायर्स की अपेक्षा इस सोलर वाटर प्यूरीफायर में गंदगी के जमाव की समस्या नहीं होती।

अध्ययनकर्ताओं के अनुसार “इसे बनाना आसान है और सामान्य प्रशिक्षण के बाद बेहद कम संसाधनों से इसे बना सकते हैं। एक पुरानी सूती साड़ी, काँच के कुछ पाइप और सूर्य की रोशनी इसके संचालन के लिये काफी है। इसे बनाने में 2500 रुपये से लेकर 3000 रुपये तक लागत आती है। बड़े पैमाने पर उत्पादन करें तो लागत कम होकर 1500 रुपये तक हो सकती है।”

राजवंशी के अनुसार “आपदा प्रभावित क्षेत्रों में सुरक्षित पेयजल मुहैया कराने और बरसात के पानी का एकत्रीकरण कर उसे पीने योग्य बनाने में भी यह तकनीक कारगर हो सकती है। हालाँकि आर्सेनिक और अन्य लवणों को इसके जरिये हटाना संभव नहीं है। इसके लिये आरओ या फिर अलवणीकरण प्रणाली ही उपयोगी हो सकती है।”

इस सोलर वाटर प्यूरीफायर को विकसित करने वाले शोधकर्ता अब इस तकनीक के विस्तार पर विचार कर रहे हैं ताकि ग्राम स्तर पर इसके उपयोग से प्रतिदिन 30-40 हजार लीटर पीने का सुरक्षित पानी मुहैया कराया जा सके।

TAGS

Solar water purifier in hindi, tubular collectors in hindi, coliforms in hindi, thermal degradation in hindi, NARI-Phaltan in hindi


Water Diesis

Water problems

water purifer

sir ur concept very nice my ngo ur issue product use in villeage city 

Post new comment

The content of this field is kept private and will not be shown publicly.
  • Web page addresses and e-mail addresses turn into links automatically.
  • Allowed HTML tags: <a> <em> <strong> <cite> <code> <ul> <ol> <li> <dl> <dt> <dd>
  • Lines and paragraphs break automatically.

More information about formatting options

CAPTCHA
यह सवाल इस परीक्षण के लिए है कि क्या आप एक इंसान हैं या मशीनी स्वचालित स्पैम प्रस्तुतियाँ डालने वाली चीज
इस सरल गणितीय समस्या का समाधान करें. जैसे- उदाहरण 1+ 3= 4 और अपना पोस्ट करें
10 + 1 =
Solve this simple math problem and enter the result. E.g. for 1+3, enter 4.