लेखक की और रचनाएं

SIMILAR TOPIC WISE

Latest

बर्बादी रोकनी है, तो नमभूमि बचाएँ

विश्व नम भूमि दिवस - 02 फरवरी, 2017 पर विशेष


लोकटक झीललोकटक झीलहर्ष की बात है कि विश्व नमभूमि दिवस - 2017 से ठीक दो दिन पहले आस्ट्रेलिया सरकार ने 15 लाख डॉलर की धनराशि वाले ‘वाटर एबंडेंस प्राइज’ हेतु समझौता किया है। यह समझौता, भारत के टाटा उद्योग घराने और अमेरिका के एक्सप्राइज घराने के साथ मिलकर किया गया है।

विषाद का विषय है कि जल संरक्षण के नाम पर गठित इस पुरस्कार का मकसद हवा से पानी निकालने की कम ऊर्जा खर्च वाली सस्ती प्रौद्योगिकी का विकास करने वालों के बीच प्रतिस्पर्धा बढ़ाना है।

जाहिर है कि सस्ती प्रौद्योगिकी से हवा से पानी निकालना सस्ता पड़ेगा। परिणामस्वरूप, एक नई प्रतिस्पर्धा जन्म लेगी; हवा में से ज्यादा-से-ज्यादा पानी निकाल लेने की प्रतिस्पर्धा। अभी हमारी भूमि फाड़कर पानी निकालने की प्रौद्योगिकी (ट्यूबवेल, समर्सिबल और जेटवेल) नमभूमि क्षेत्रों को सुखा रही हैं; कल को हवा से पानी निकासी की प्रौद्योगिकियाँ वायुमण्डल को सुखाने की दौड़ में लगेंगी। बताइए, इस शोषणकारी प्रतिस्पर्धा से हवा में नमी बढ़ेगी या घटेगी? वायु में नमी घटने से वैश्विक तापमान घटेगा कि बढ़ेगा? वैश्विक तापमान बढ़ना अच्छा होगा कि बुरा होगा?

हवा-भूमि की नमी का रिश्ता


तल, वितल, सुतल में नमी न हो, तो भूमि फट जाये और हम सभी उसमें समा जाएँ। भूमि की ऊपरी परत में नमी न हो, तो चाहे जितने बीज बिखेरें, वे सोये ही रहेंगे; नन्हा अंकुर कभी बाहर नहीं आएगा। हवा में नमी न हो, तो धरती तापघर में तब्दील हो जाये; नन्हा अंकुर दिन-दहाड़े झुलस जाये।

नम हवा चलती है, तो फसलों में जरूर कुछ कीड़ों वाली छोटी-मोटी बीमारियाँ लाती हैं, लेकिन हवा में नमी न हो, तो फसल ही न हो; हम भूख से मर जाएँ। कितने पौधे हैं, जो अपनी जीवन-जरूरत का पानी मिट्टी से नहीं, हवा से लेते हैं। दुनिया में जैव विविधता का आँकड़ा लगातार घट रहा है। हवा की नमी में और कमी हुई, तो जैव विविधता का सत्यानाश तो तय है; हमारी सेहत का भी।

यह हवा की नमी ही है कि जो जलवायु, वर्षा और किसी स्थान के तापमान का निर्धारण करती है। हवा में नमी घटती जाये, तो सब कुछ उलट-पुलट जाये। हवा में नमी न हो, तो सूरज धरती का सब पानी चोरी कर ले जाने में सफल हो जाये; हमारे सब झील, तालाब, नदी, समुद्र सूखकर रेगिस्तान में तब्दील हो जाये।

इस रिश्ते को जानते हुए ही हमारे गरीब-से-गरीब रेगिस्तानी गाँव ने भी तालाब बनाते वक्त उसके दक्षिण और पश्चिम सिरे पर छायादार दरख्त लगाये। मूल प्रश्न यह है कि यदि हवा की नमी से भूमि की नमी के इस रिश्ते की समझ भारतीय गाँवों के अनपढ़ों तक को है, तो क्या आस्ट्रेलियाई सरकार के विशेषज्ञों को न होगी?

सरकार पर हावी बाजार


गौर कीजिए कि आस्ट्रेलिया, नमभूमि संरक्षण को गति देेने सम्बन्धी रामसर सम्मेलन समझौते पर सबसे पहले हस्ताक्षर करने वाले देशों में से एक है। आस्ट्रेलियाई सरकार ने अपने देश में नमभूमि क्षेत्रों को बचाने के लिये बाकायदा उन्हें ‘नेचर रिजर्व एरिया’ घोषित किया है; संरक्षण हेतु नीतियाँ, कायदे कानून और कार्यक्रम बनाए हैं। दुखद है कि अपनी नमभूमि को लेकर ऐसा संजीदा देश, दुनिया की हवा से नमी छीनने की व्यावसायिक होड़ बढ़ाने का सूत्रधार बनने जा रहा है।

दुनिया को इस वक्त वैश्विक तापमान में वृद्धि को नियंत्रित करने वाली कार्बन अवशोषण प्रौद्योगिकी की होड़ को बढ़ावा देने की जरूरत है, न कि बाजार और शोषण को बढ़ाने वाली प्रौद्योगिकी की होड़ को बढ़ावा देने की; बावजूद इस सच के यदि आस्ट्रेलिया सरकार यह कर रही तो, इसे आस्ट्रेलिया सरकार में समझ के अभाव की बजाय, सरकार पर बाजार का प्रभाव ही अधिक मानना चाहिए।

आस्ट्रेलियाई सरकार के पुरस्कार समझौते में टाटा औद्यागिक घराने के शामिल होने का मतलब है कि भारत में हवा-पानी का बाजार भी इस होड़ के निशाने पर है। यह संकेत है कि भारत के पानी बाजार में फिल्टर और आरओ मशीनों की व्यावसायिक सफलता के बाद अब हवा से पानी सोख लेने की औद्योगिक और घरेलू मशीनों का दौर आने वाला है। ऐसे में जलवायु की मार को बढ़ने से कौन रोक सकता है? पिटने को तैयार रहिए।’ “जब हवा-पानी बिकवे लगै, तब को कर सकै उद्धार।’’

रामसर सम्मेलन की चेतावनी


सम्भवतः हमारी ऐसी कारगुजारियों को देखते हुए ही विश्व नमभूमि दिवस - 2017 पर विनाश के खतरों को कम करने के लिये नमभूमि बचाने का नारा दिया है। कैस्पियन सागर के ईरानी तट पर आयोजित रामसर सम्मेलन दो फरवरी, 1971 से हमें लगातार सचेत और संकल्पित करने की कोशिश कर रहा है। इसी कोशिश के तहत वर्ष 1997 से प्रति वर्ष दो फरवरी को विश्व नमभूमि दिवस के रूप में मनाया जाता है।

नमभूमि का मतलब है, एक ऐसी भूमि जो या तो उथले पानी के द्वारा ढँकी हुई है अथवा उसके बीच संक्रमित है अथवा वहाँ पानी का तल भूमि की सतह के पास हो। रामसर सम्मेलन नमभूमि को दलदल, दलदली भू पट्टी, वनस्पति पदार्थाें से ढँकी भूमि, प्राकृतिक-कृत्रिम, स्थायी-अस्थायी, स्थिर अथवा बहते हुए मीठे-खारे पानी के क्षेत्र केे रूप में परिभाषित करता है।

वह समुद्री पानी के उन क्षेत्रों को भी नमभूमि की परिभाषा में शामिल करता है, जिनकी गहराई कम ज्वार में छह मीटर से अधिक नहीं जाती। रामसर सम्मेलन मानता है कि ऐसे भूमि क्षेत्रों को बचाकर विध्वंस का खतरा कम किया जा सकता है।

भारत के कदम


भारत ने भी रामसर सम्मेलन समझौते में दस्तखत किये हैं। इसी समझौते के तहत भारत में राष्ट्रीय नमभूमि संरक्षण कार्यक्रम भी बनाया गया। केन्द्रीय नमभूमि नियामक प्राधिकरण भी बना। अहमदाबाद, सूरजपुर झील, भरतपुर झील, हस्तिनापुर झील, हरीके बर्ड सेंचुरी समेत देश के कई नमभूमि क्षेत्रों में प्रतिवर्ष विश्व नमभूमि दिवस सम्बन्धी आयोजन भी होते हैं। चिल्का झील संरक्षण के लिये भारत को ‘रामसर अवार्ड’ भी दिया गया है। भोपाल झील संरक्षण प्रयासों की भी तारीफ की गई। बड़ी संख्या में नमभूमि क्षेत्रों की पहचान भी की गई, किन्तु अब तक मात्र 115 को संरक्षित श्रेणी में रखा गया है।

विशेष संरक्षण की आवश्यकता के मद्देनजर भारत के 26 नमभूमि क्षेत्रों को ‘रामसर साइट’ के रूप में सूचीबद्ध किया गया है: वूलर झील (जम्मू-कश्मीर), होकेरा (जम्मू-कश्मीर), सूरीनसर मानसर झीलें (जम्मू-कश्मीर), तोमोरिरि (जम्मू-कश्मीर), पोेग बाँध झील (हिमाचल प्रदेश), रेणुका झील (हिमाचल प्रदेश), चन्द्रताल (हिमाचल प्रदेश), हरीके नमभूमि (पंजाब), सांभर झील (पंजाब), कांजी नमभूमि (पंजाब), रोपड़ नमभूमि (पंजाब), केवलादेव नेशनल पार्क (राजस्थान), बृजघाट से नरोरा तक ऊपरी गंगा नदी (उत्तर प्रदेश), भोज नमभूमि (मध्य प्रदेश), नलसरोवर पक्षी विहार (गुजरात), भीतरकनिका (उड़ीसा), चिल्का (उड़ीसा), कोलेरु झील (आन्ध्र प्रदेश), प्वाइंट केलीमेरे वाइल्डलाइफ एंड बर्ड सेंचुरी (तमिलनाडु), सास्थामकोट्टा झील (केरल), वेम्बानाद नमभूमि (केरल), अस्तामुदी (केरल), पूर्वी कोलकाता नमभूमि (प. बंगाल), दीपोर बील (असम), लोकटक झील (मणिपुर) और रुद्रसागर झील (त्रिपुरा)।

चुनौती और सम्भावना


सम्भावना यह है कि लद्दाख से लेकर केरल तक और पश्चिम की सिंधु नदी से लेकर असम, मेघालय, मणिपुर तक देखें तो भारत में नमभूमि क्षेत्र का रकबा कम नहीं है। दुनिया का सबसे बड़ा नमभूमि क्षेत्र - मावसींरम भारत में ही है। सुन्दरबन, अण्डमान निकाबोर द्वीप समूह, कच्छ की खाड़ी, लक्षद्वीप के तटीय प्रवाल भित्ति क्षेत्र भी नमभूमि क्षेत्र में ही शुमार हैं।

समुद्रतटीय नमभूमि क्षेत्रफल 6750 वर्ग किलोमीटर दर्ज किया गया है। नदियों को छोड़ दें, तो भारत का करीब 18.4 प्रतिशत भूभाग नमभूमि है। इस 18.4 प्रतिशत नमभूमि के 70 प्रतिशत पर भारत, धान की खेती करता है। सिंचित भूमि, नदी और अन्य छोटे नालों को छोड़ दें, तो भारत का कुल नमभूमि क्षेत्रफल 41 लाख हेक्टेयर आँका गया है। इस कुछ क्षेत्रफल में 15 लाख हेक्टेयर प्राकृतिक तथा 26 हेक्टेयर मानव निर्मित बताया जाता है।

चुनौती के रूप में उलटती पहली तस्वीर उत्तर प्रदेश से है। उत्तर प्रदेश का मात्र 5.16 फीसदी हिस्सा ही नमभूमि क्षेत्र के रूप में बचा है। इसमें भी 82 प्रतिशत प्राकृतिक नमभूमि है। बागपत और हाथरस में सबसे कम 0.18 प्रतिशत नमभूमि का आँकड़ा भूजल के मामले में उत्तर प्रदेश के दो जिलों की पोल खोल देता है। यह तो सिर्फ एक नजीर है।

भारत में लगातार व्यापक होता भूजल संकट तथा देशी-विदेशी पक्षियों के प्रवास तथा घनत्व में आई कमी गवाह है कि कानूनी कवायद और प्रावधानों के बावजूद हम भारत के अतुलनीय नमभूमि क्षेत्रों की निर्मलता और भूमि का संरक्षण करने में सफल साबित नहीं हुए हैं।

कारण क्या है?


भूजल निकासी की अधिकता, भूजल पुनर्भरण में कमी और जंगल कटान तो कारण है ही; नदियों की अविरलता-निर्मलता में होती घटोत्तरी भी एक प्रमुख कारण है। समझने की जरूरत है कि नमभूमि क्षेत्रों की गुणवत्ता स्थानीय नदी, वनस्पति तथा भूजल भण्डारों पर निर्भर करती है।

भारत के ज्यादातर नमभूमि क्षेत्र प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष रूप से गंगा, ब्रह्मपुत्र, कावेरी, गोदावरी, ताप्ती जैसी नदी प्रणालियों से ही जुड़े हैं। अब यदि नदियाँ ही मैली और सूखी होती जा रही हों, तो इनसे जुड़े नमभूमि क्षेत्रों की सुरक्षा की गारंटी कहाँ बचती है। नमभूमि को बेकार भूमि मानकर उस पर निर्माण करने का लालच हमारा इतना ज्यादा है कि हम उदयपुर, बंगलुरु जैसी मैदानी ही नहीं, नैनीताल जैसी पहाड़ी झील नगरियों में भी झीलों को बसावटों के कब्जे से नहीं बचा पा रहे हैं।

मानस बदलने की जरूरत


यमुना किनारे स्थित दिल्ली की नमभूमि को लेकर अक्षरधाम मन्दिर, खेलगाँव मेट्रो मॉल, मेट्रो मकान, बस डिपो निर्माण और गत वर्ष श्री श्री रविशंकर जी तथा सरकार द्वारा दर्शाया रवैया गवाह है कि कब्जा मुक्ति तो दूर, नमभूमि की महत्ता को हम अभी तक अपने कर्ताधर्ताओं के मानस में नहीं उतार पाये हैं। हम नहीं समझा पाये हैं कि नमभूमि सिर्फ एक सतही अथवा भूजलीय ढाँचा नहीं होती, नमभूमि वास्तव में एक जटिल पारिस्थितिकीय प्रणाली होती है।

भूजल के तल को ही ऊपर नहीं उठाती, अपितु कई तरह की परिस्थितिकीय, सामाजिक व आर्थिक सेवाएँ प्रदान करती हैं। भूमि की नमी और नम वनस्पति से हवा की नमी बढ़ती है, तो हवा में नमी से भूमि की नमी बचाए रखने में मदद मिलती है। हमारी कृषि के प्रकार, फसल उपज से लेकर मकान निर्माण की सामग्री तक का निर्धारण करने वाला एक महत्त्वपूर्ण कारक नमभूमि का होना, न होना ही है। पक्षियों का घनत्व और आवास-प्रवास काफी कुछ नमभूमि पर निर्भर करता है।

नमभूमि, कई दुर्लभ प्रजाति के कीड़ों और जानवरों को भोजन भी उपलब्ध कराती है। नमभूमि, कई उपयोगी देशज पौधों की भी घर होती है। हमारा जीवन भी प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष रूप से इन सभी से प्रभावित होता है। नमभूमि बचाए बगैर न तो वैश्विक तापमान में वृद्धि रोकी जा सकती है और न ही जलवायु परिवर्तन की मार से बचा जा सकता है। अतः अपने स्वार्थ के लिये सही, अब जरूरी हो गया कि यदि बर्बादी से बचना है, तो नमभूमि बचाएँ।


TAGS

wetlands day 2017 in hindi, world wetlands day 2016 theme in hindi, world wetlands day 2017 in hindi, world wetland day in hindi , slogans on world wetland day in hindi, wetland day in india in hindi, world wetland day 2015 theme in hindi, wetlands for disaster risk reduction in hindi, world wetlands day photo contest in hindi, ramsar convention on wetlands in hindi, ramsar sites in india in hindi, ramsar convention pdf in hindi, ramsar list in hindi, ramsar iran in hindi, importance of ramsar sites in hindi, ramsar wiki in hindi, what does ramsar stand for in hindi , ramsar convention mrunal in hindi, wetlands in india in hindi, ramsar sites in india pdf in hindi, wetlands in india wiki in hindi, ramsar sites in india map in hindi, wetlands in india ppt in hindi, montreux record sites in india in hindi, wetlands in india map in hindi, ramsar sites of international importance in india in hindi, ramsar sites definition in hindi, Ashtamudi Wetland in hindi, Bhitarkanika Mangroves in hindi, Bhoj Wetland in hindi, Chandra Taal in hindi, Chilika Lake in hindi, Deepor Beel in hindi, East Calcutta Wetlands in hindi, Harike Wetland in hindi, Hokera Wetland in hindi, Kanjli Wetland in hindi, Keoladeo National Park in hindi, Kolleru Lake in hindi, Loktak Lake in hindi, Nalsarovar Bird Sanctuary in hindi, Point Calimere Wildlife and Bird Sanctuary in hindi, Pong Dam Lake in hindi, Renuka Lake in hindi, Ropar_Wetland in hindi, Rudrasagar Lake in hindi, Sambhar Lake in hindi, Sasthamkotta Lake in hindi, Surinsar-Mansar Lakes in hindi, Tsomoriri in hindi, Upper Ganga River (Brijghat to Narora Stretch) in hindi, Vembanad-Kol Wetland in hindi, Wular Lake in hindi.


Post new comment

The content of this field is kept private and will not be shown publicly.
  • Web page addresses and e-mail addresses turn into links automatically.
  • Allowed HTML tags: <a> <em> <strong> <cite> <code> <ul> <ol> <li> <dl> <dt> <dd>
  • Lines and paragraphs break automatically.

More information about formatting options

CAPTCHA
यह सवाल इस परीक्षण के लिए है कि क्या आप एक इंसान हैं या मशीनी स्वचालित स्पैम प्रस्तुतियाँ डालने वाली चीज
इस सरल गणितीय समस्या का समाधान करें. जैसे- उदाहरण 1+ 3= 4 और अपना पोस्ट करें
9 + 1 =
Solve this simple math problem and enter the result. E.g. for 1+3, enter 4.