ग्लोबल वार्मिंग का बढ़ता खतरा (Essay on Global Warming in Hindi)

Submitted by admin on Sat, 10/04/2008 - 20:41
Printer Friendly, PDF & Email


ग्लोबल वार्मिंगग्लोबल वार्मिंग कंक्रीट का जंगल?

जो पानी की बरबादी करते हैं, उनसे मैं यही पूछना चाहता हूँ कि क्या उन्होंने बिना पानी के जीने की कोई कला सीख ली है, तो हमें भी बताए, ताकि भावी पीढ़ी बिना पानी के जीना सीख सके। नहीं तो तालाब के स्थान पर मॉल बनाना क्या उचित है? आज हो यही रहा है। पानी को बरबाद करने वालों यह समझ लो कि यही पानी तुम्हें बरबाद करके रहेगा। एक बूँद पानी याने एक बूँद खून, यही समझ लो। पानी आपने बरबाद किया, खून आपके परिवार वालों का बहेगा। क्या अपनी ऑंखों का इतना सक्षम बना लोगे कि अपने ही परिवार के किस प्रिय सदस्य का खून बेकार बहता देख पाओगे? अगर नहीं, तो आज से ही नहीं, बल्कि अभी से पानी की एक-एक बूँद को सहेजना शुरू कर दो। अगर ऐसा नहीं किया, तो मारे जाओगे।

वैश्विक तापमान यानी ग्लोबल वार्मिंग आज विश्व की सबसे बड़ी समस्या बन चुकी है। इससे न केवल मनुष्य, बल्कि धरती पर रहने वाला प्रत्येक प्राणी त्रस्त ( परेशान, इन प्राब्लम) है। ग्लोबल वार्मिंग से निपटने के लिए दुनियाभर में प्रयास किए जा रहे हैं, लेकिन समस्या कम होने के बजाय साल-दर-साल बढ़ती ही जा रही है। चूंकि यह एक शुरुआत भर है, इसलिए अगर हम अभी से नहीं संभलें तो भविष्य और भी भयावह ( हारिबल, डार्कनेस, ) हो सकता है। आगे बढ़ने से पहले हम यह जान लें कि आखिर ग्लोबल वार्मिंग है क्या।

क्या है ग्लोबल वार्मिंग?

जैसा कि नाम से ही साफ है, ग्लोबल वार्मिंग धरती के वातावरण के तापमान में लगातार हो रही बढ़ोतरी है। हमारी धरती प्राकृतिक तौर पर सूर्य की किरणों से उष्मा ( हीट, गर्मी ) प्राप्त करती है। ये किरणें वायुमंडल ( एटमास्पिफयर) से गुजरती हुईं धरती की सतह (जमीन, बेस) से टकराती हैं और फिर वहीं से परावर्तित ( रिफलेक्शन) होकर पुन: लौट जाती हैं। धरती का वायुमंडल कई गैसों से मिलकर बना है जिनमें कुछ ग्रीनहाउस गैसें भी शामिल हैं। इनमें से अधिकांश ( मोस्ट आफ देम, बहुत अधिक ) धरती के ऊपर एक प्रकार से एक प्राकृतिक आवरण ( लेयर, कवर ) बना लेती हैं। यह आवरण लौटती किरणों के एक हिस्से को रोक लेता है और इस प्रकार धरती के वातावरण को गर्म बनाए रखता है। गौरतलब ( इट इस रिकाल्ड, मालूम होना ) है कि मनुष्यों, प्राणियों और पौधों के जीवित रहने के लिए कम से कम 16 डिग्री सेल्शियस तापमान आवश्यक होता है। वैज्ञानिकों का मानना है कि ग्रीनहाउस गैसों में बढ़ोतरी होने पर यह आवरण और भी सघन ( अधिक मोटा होना) या मोटा होता जाता है। ऐसे में यह आवरण सूर्य की अधिक किरणों को रोकने लगता है और फिर यहीं से शुरू हो जाते हैं ग्लोबल वार्मिंग के दुष्प्रभाव ( साइड इफेक्ट) ।

क्या हैं ग्लोबल वार्मिंग की वजह?

ग्लोबल वार्मिंग के लिए सबसे ज्यादा जिम्मेदार तो मनुष्य और उसकी गतिविधियां (एक्टिविटीज ) ही हैं। अपने आप को इस धरती का सबसे बुध्दिमान प्राणी समझने वाला मनुष्य अनजाने में या जानबूझकर अपने ही रहवास ( हैबिटेट,रहने का स्थान) को खत्म करने पर तुला हुआ है। मनुष्य जनित ( मानव निर्मित) इन गतिविधियों से कार्बन डायआक्साइड, मिथेन, नाइट्रोजन आक्साइड इत्यादि ग्रीनहाउस गैसों की मात्रा में बढ़ोतरी हो रही है जिससे इन गैसों का आवरण्ा सघन होता जा रहा है। यही आवरण सूर्य की परावर्तित किरणों को रोक रहा है जिससे धरती के तापमान में वृध्दि हो रही है। वाहनों, हवाई जहाजों, बिजली बनाने वाले संयंत्रों ( प्लांटस), उद्योगों इत्यादि से अंधाधुंध होने वाले गैसीय उत्सर्जन ( गैसों का एमिशन, धुआं निकलना ) की वजह से कार्बन डायआक्साइड में बढ़ोतरी हो रही है। जंगलों का बड़ी संख्या में हो रहा विनाश इसकी दूसरी वजह है। जंगल कार्बन डायआक्साइड की मात्रा को प्राकृतिक रूप से नियंत्रित करते हैं, लेकिन इनकी बेतहाशा कटाई से यह प्राकृतिक नियंत्रक (नेचुरल कंटरोल ) भी हमारे हाथ से छूटता जा रहा है।

इसकी एक अन्य वजह सीएफसी है जो रेफ्रीजरेटर्स, अग्निशामक ( आग बुझाने वाला यंत्र) यंत्रों इत्यादि में इस्तेमाल की जाती है। यह धरती के ऊपर बने एक प्राकृतिक आवरण ओजोन परत को नष्ट करने का काम करती है। ओजोन परत सूर्य से निकलने वाली घातक पराबैंगनी ( अल्ट्रावायलेट ) किरणों को धरती पर आने से रोकती है। वैज्ञानिकों का कहना है कि इस ओजोन परत में एक बड़ा छिद्र ( होल) हो चुका है जिससे पराबैंगनी किरणें (अल्टा वायलेट रेज ) सीधे धरती पर पहुंच रही हैं और इस तरह से उसे लगातार गर्म बना रही हैं। यह बढ़ते तापमान का ही नतीजा है कि धु्रवों (पोलर्स ) पर सदियों से जमी बर्फ भी पिघलने लगी है। विकसित या हो अविकसित देश, हर जगह बिजली की जरूरत बढ़ती जा रही है। बिजली के उत्पादन ( प्रोडक्शन) के लिए जीवाष्म ईंधन ( फासिल फयूल) का इस्तेमाल बड़ी मात्रा में करना पड़ता है। जीवाष्म ईंधन के जलने पर कार्बन डायआक्साइड पैदा होती है जो ग्रीनहाउस गैसों के प्रभाव को बढ़ा देती है। इसका नतीजा ग्लोबल वार्मिंग के रूप में सामने आता है।

 

 

ग्लोबल वार्मिंग के प्रभाव :


और बढ़ेगा वातावरण का तापमान : पिछले दस सालों में धरती के औसत तापमान में 0.3 से 0.6 डिग्री सेल्शियस की बढ़ोतरी हुई है। आशंका यही जताई जा रही है कि आने वाले समय में ग्लोबल वार्मिंग में और बढ़ोतरी ही होगी।

समुद्र सतह में बढ़ोतरी : ग्लोबल वार्मिंग से धरती का तापमान बढ़ेगा जिससे ग्लैशियरों पर जमा बर्फ पिघलने लगेगी। कई स्थानों पर तो यह प्रक्रिया शुरू भी हो चुकी है। ग्लैशियरों की बर्फ के पिघलने से समुद्रों में पानी की मात्रा बढ़ जाएगी जिससे साल-दर-साल उनकी सतह में भी बढ़ोतरी होती जाएगी। समुद्रों की सतह बढ़ने से प्राकृतिक तटों का कटाव शुरू हो जाएगा जिससे एक बड़ा हिस्सा डूब जाएगा। इस प्रकार तटीय ( कोस्टल) इलाकों में रहने वाले अधिकांश ( बहुत बडा हिस्सा, मोस्ट आफ देम) लोग बेघर हो जाएंगे।

मानव स्वास्थ्य पर असर : जलवायु परिवर्तन का सबसे ज्यादा असर मनुष्य पर ही पड़ेगा और कई लोगों को अपनी जान से हाथ धोना पडेग़ा। गर्मी बढ़ने से मलेरिया, डेंगू और यलो फीवर ( एक प्रकार की बीमारी है जिसका नाम ही यलो फीवर है) जैसे संक्रामक रोग ( एक से दूसरे को होने वाला रोग) बढ़ेंगे। वह समय भी जल्दी ही आ सकता है जब हममें से अधिकाशं को पीने के लिए स्वच्छ जल, खाने के लिए ताजा भोजन और श्वास ( नाक से ली जाने वाली सांस की प्रोसेस) लेने के लिए शुध्द हवा भी नसीब नहीं हो।

पशु-पक्षियों व वनस्पतियों पर असर : ग्लोबल वार्मिंग का पशु-पक्षियों और वनस्पतियों पर भी गहरा असर पड़ेगा। माना जा रहा है कि गर्मी बढ़ने के साथ ही पशु-पक्षी और वनस्पतियां धीरे-धीरे उत्तरी और पहाड़ी इलाकों की ओर प्रस्थान ( रवाना होना) करेंगे, लेकिन इस प्रक्रिया में कुछ अपना अस्तित्व ही खो देंगे।

शहरों पर असर : इसमें कोई शक नहीं है कि गर्मी बढ़ने से ठंड भगाने के लिए इस्तेमाल में लाई जाने वाली ऊर्जा की खपत (कंजम्शन, उपयोग ) में कमी होगी, लेकिन इसकी पूर्ति एयर कंडिशनिंग में हो जाएगी। घरों को ठंडा करने के लिए भारी मात्रा में बिजली का इस्तेमाल करना होगा। बिजली का उपयोग बढ़ेगा तो उससे भी ग्लोबल वार्मिंग में इजाफा ही होगा।

ग्लोबल वार्मिंग से कैसे बचें?

ग्लोबल वार्मिंग के प्रति दुनियाभर में चिंता बढ़ रही है। इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि इस साल का नोबेल शांति पुरस्कार पर्यावरण संरक्षण के क्षेत्र में कार्य करने वाली संयुक्त राष्ट्र की संस्था इंटरगवर्नमेंटल पैनल ऑन क्लाइमेंट चेंज (आईपीसीसी) और पर्यावरणवादी अमेरिका के पूर्व उपराष्ट्रपति अल गोर को दिया गया है। लेकिन सवाल यह है कि क्या पर्यावरण संरक्षण के क्षेत्र में काम करने वालों को नोबेल पुरस्कार देने भर से ही ग्लोबल वार्मिंग की समस्या से निपटा जा सकता है? बिल्कुल नहीं। इसके लिए हमें कई प्रयास करने होंगे :

1- सभी देश क्योटो संधि का पालन करें। इसके तहत 2012 तक हानिकारक गैसों के उत्सर्जन ( एमिशन, धुएं ) को कम करना होगा।
2- यह जिम्मेदारी केवल सरकार की नहीं है। हम सभी भी पेटोल, डीजल और बिजली का उपयोग कम करके हानिकारक गैसों को कम कर सकते हैं।
3- जंगलों की कटाई को रोकना होगा। हम सभी अधिक से अधिक पेड लगाएं। इससे भी ग्लोबल वार्मिंग के असर को कम किया जा सकता है।
4- टेक्नीकल डेवलपमेंट से भी इससे निपटा जा सकता है। हम ऐसे रेफ्रीजरेटर्स बनाएं जिनमें सीएफसी का इस्तेमाल न होता हो और ऐसे वाहन बनाएं जिनसे कम से कम धुआं निकलता हो।


भोपालवासी डॉ. महेश परिमल का छत्तीसगढ़िया गुजराती. हिन्दी में एमए और भाषा विज्ञान में पीएच.डी. अकादमिक कैरियर है। पत्रकारिता और साहित्य से जुड़े अब तक देश भर के समाचार पत्रों में करीब 700 समसामयिक आलेखों व ललित निबंधों का प्रकाशन का लम्बे लेखन का अनुभव है। पानी उनके संवेदना का गहरा पक्ष रहा है।

डॉ. महेश परिमल वर्तमान में भास्कर ग्रुप में अंशकालीन समीक्षक के रूप में कार्यरत् हैं। उनका संपर्क: डॉ. महेश परिमल, 403, भवानी परिसर, इंद्रपुरी भेल, भोपाल. 462022. ईमेल -
parimalmahesh@gmail.com

 

 

 

 

 

TAGS

hindi nibandh on global warming, quotes global warming in hindi, global warming hindi meaning, global warming hindi translation, global warming hindi pdf, global warming hindi, hindi poems global warming, quotations global warming hindi, global warming essay in hindi font, health impacts of global warming hindi, hindi ppt on global warming, global warming the world, essay on global warming in hindi, language, essay on global warming, global warming in hindi, essay in hindi, essay on global warming in hindi language, essay on global warming in hindi free, formal essay on global warming, essay on global warming in hindi language pdf, essay on global warming in hindi wikipedia, global warming in hindi language wikipedia, essay on global warming in hindi language pdf, essay on global warming in hindi free, short essay on global warming in hindi, global warming and greenhouse effect in Hindi, global warming essay in hindi font, topic on global warming in hindi language, global warming in hindi language, information about global warming in hindi language essay on global warming and its effects, essay on global warming in 1000 words in Hindi, essay on global warming for students in Hindi, essay on global warming for kids in Hindi, global warming and solution in hindi, globle warming kya hai in hindi, global warming quotes in hindi, global warming par anuchchhed in hindi, global warming essay in hindi language pdf, global warming essay in hindi language,印地文作文全球气候变暖,报价全球变暖在印地文,全球气候变暖印地文义,全球气候变暖印地文翻译,全球气候变暖印地文PDF,全球气候变暖印地文,印地文诗全球气候变暖,在印地文字体全球变暖的文章,全球气候变暖对健康的影响印地文,在印地文免费印地文PPT全球变暖,全球变暖是在印地文全球变暖,语言,文章对全球变暖,全球变暖在印地文,随笔印地文,在印地文语言的全球变暖的文章,文章对全球变暖的世界中,短文,对全球变暖正式的作文,在印地文语言PDF全球变暖的文章,文章在印地文维基百科,在印地文维基百科,在印地文语言PDF文章对全球气候变暖,印地文免费论文对全球变暖,短文关于全球变暖的全球气候变暖在印地文,全球变暖和温室效应的印地文,印地文中字体全球变暖的文章全球变暖,题目的全球变暖在印地文的语言,在印地文的语言全球气候变暖,关于C的信息在全球气候变暖及其影响,文章对全球变暖的印地文的语言作文全球变暖在1000个字的印地文,文章对全球变暖的学生在印地文,对在印地文的孩子,全球变暖和解决方案在印地文全球变暖的文章,全球气候变暖什么是在印地文,印地文中,印地文在全球变暖的文章,在印地文语言PDF全球变暖的文章,在印地文的语言全球变暖的文章全球变暖报价

 

 

 

Comments

Submitted by Anonymous (not verified) on Sat, 06/15/2013 - 06:43

Permalink

Hi mam ap kya kr rha ho

Submitted by Anonymous (not verified) on Thu, 07/11/2013 - 13:44

Permalink

Thanks it is written so beautifuly lovel

Submitted by Anonymous (not verified) on Sun, 07/14/2013 - 20:59

Permalink

it helped me a lot-saina nehwal

Submitted by Anonymous (not verified) on Sun, 07/14/2013 - 21:02

Permalink

it helped me in my project.veeeeeeeeeeeeeeery goooooooooooooooooooooood

Submitted by Anonymous (not verified) on Sat, 08/17/2013 - 16:50

Permalink

global warming is very dangers..........population kam kii jay to global warming ko roka ja sakta hai..

Submitted by Anonymous (not verified) on Fri, 11/08/2013 - 08:18

Permalink

I got more knowledge thank you so much global warming is very harmful thank you so much

Submitted by Anonymous (not verified) on Thu, 11/14/2013 - 01:20

Permalink

i am 'swamishishuvidehanand_sarswati_tiwari_maharaj'karanjaLad datt 'maharashtra'___iam working ' against ' globalwarming i created the mantra'om_h_2_o_namah..for this issue join me follow me together__we__win

Submitted by Anonymous (not verified) on Thu, 12/26/2013 - 18:18

Permalink

I am very sad after hearing the bad conditions which are taking place in our day to day life . Prerna

Submitted by Anonymous (not verified) on Mon, 12/30/2013 - 11:43

Permalink

nice not what i expected but still the info you have given is good enough to roll with the big guys and if you want to get more info open my website which is w3.global protection.com

Submitted by Anonymous (not verified) on Wed, 01/01/2014 - 11:31

Permalink

It lacks information and some of the facts are also wrong i.e sun's being completely reflected while some of the ray's are soaked by oceans and soil to maintain life you should try to correct them and express them in simpler way. If you have any doubts log on to my website:(www.globalgiving.org)

Submitted by Anonymous (not verified) on Mon, 01/06/2014 - 20:30

Permalink

Its a perfect article to understand abt global warming...

Submitted by Anonymous (not verified) on Sat, 02/08/2014 - 21:08

Permalink

thnks a lot buddy.....................'twas quite informative....!!!

Submitted by Anonymous (not verified) on Wed, 02/19/2014 - 17:15

Permalink

It was..really...good. aweasome

Submitted by Anonymous (not verified) on Mon, 03/31/2014 - 18:27

Permalink

Thanks a lot for the person who wrote this. It really helped a lot for my two-page project!!

Submitted by Anonymous (not verified) on Thu, 04/10/2014 - 14:55

Permalink

we are responsible faced this problem,so stop manufacture system,in our country increase the two wheer vacle,and 4 wheeler vehcle,and we are not allowed to the industry created the harmful gases,that may be posible some level down of globlw warming

Submitted by Anonymous (not verified) on Sun, 06/22/2014 - 13:36

Permalink

It helped me a lot for my assignments. jisne bhi yeh essay post kiya.....thanks a lot.

Submitted by Anonymous (not verified) on Thu, 06/26/2014 - 23:41

Permalink

its is most important for our self

Submitted by Anonymous (not verified) on Sat, 07/05/2014 - 21:21

Permalink

hi I am MEENAKSHI.Really it fact.

Submitted by Anonymous (not verified) on Fri, 07/25/2014 - 19:52

Permalink

Good page

Submitted by Anonymous (not verified) on Mon, 09/15/2014 - 18:06

Permalink

I think how can be stop it anybody have any Idea plz share

Submitted by Anonymous (not verified) on Mon, 10/13/2014 - 13:11

Permalink

BHOT ACHA LIKHA H

Submitted by Anonymous (not verified) on Fri, 11/28/2014 - 13:02

Permalink

i love this all articles and i also follow this

Submitted by Anonymous (not verified) on Sun, 12/28/2014 - 16:55

Permalink

thank you so much for this Article we should know about this .its very nice .

Submitted by Anonymous (not verified) on Tue, 01/13/2015 - 17:51

Permalink

thanks to that person who had posted it.this helped me to complete my porject and because of u i got the first price thanks onces again

Submitted by Anonymous (not verified) on Mon, 01/19/2015 - 21:26

Permalink

Hi

Submitted by Anonymous (not verified) on Mon, 01/19/2015 - 22:07

Permalink

this is a most imp. topic for every persn , so thanks again

Submitted by Anonymous (not verified) on Sat, 02/07/2015 - 07:16

Permalink

11 Dec 2014 ... Help writing graduate school and college application essay, admissions essays,
personal statements, Common Application essays, ...4 days ago ... Tricks to articulate it About vacuum cleaner, and help minimum” ... these college
review board include a cv writing sale Personal Essay Help ...Explores the parts and provides step-by-step directions for writing essays.Linguistics Essay Writing, Buy Essays Already Written, Research Paper Writing
Services, Who Can ... college application essay help ... homework help forum.8 Jan 2015 ... Progressive aug later help develop their land and not easy Emotionally stirring
movie evaluation essay turn to essays movie-re native ...

Submitted by Lokesh Jangid (not verified) on Tue, 03/03/2015 - 18:07

Permalink

Thank you very much related to this post, above information is very useful and valuable for every person.  

with regards

Lokesh jangid

mob. no. +91-9783105217

Submitted by ANAND KUMAR (not verified) on Sat, 03/07/2015 - 11:23

Permalink

THANK U A LOT.If globel temprarure increases year by year due on to globelwarming so it is definate to finish ourselve
Is this any precuation to avaide globel warming

Submitted by ANAND KUMAR (not verified) on Sat, 03/07/2015 - 11:24

Permalink

THANK U A LOT.If globel temprarure increases year by year due on to globelwarming so it is definate to finish ourselve
Is this any precuation to avaide globel warming

Submitted by Pradeep (not verified) on Wed, 04/08/2015 - 16:01

Permalink

sir mai ye janna chah rha tha ki jab surya ki kirne aa skti h to ja kyo nhi skti..agr greenhouse gas ki vajah se vapas nhi ja skti to andasr aati kaise hai.plz reply

Add new comment

This question is for testing whether or not you are a human visitor and to prevent automated spam submissions.

9 + 9 =
Solve this simple math problem and enter the result. E.g. for 1+3, enter 4.

More From Author

Related Articles (Topic wise)

Related Articles (District wise)

About the author

Latest