Latest

ड्राय होली,

फोटो साभार - भास्करफोटो साभार - भास्कर

बच सकता है 37 लाख लीटर पानी


भास्कर न्यूज / ग्वालियर. एक बार फिर रंगों की बौछार करने का दिन करीब है और सबने एक-दूसरे को रंगने की तैयारी कर ली है। यदि हम चाहें तो इस त्योहार को यादगार बना सकते हैं। हम यदि थोड़ी समझदारी से होली खेलें तो सड़कों पर व्यर्थ पानी नहीं बहेगा। हमारे शास्त्रों में भी जल की बर्बादी को ‘पाप’ की श्रेणी में रखा गया है। यदि हम चाहें तो इस पाप से बचते हुए एक जिम्मेदार नागरिक की तरह अपने दायित्वों का निर्वहन कर होली की रंगत कुछ और बढ़ा सकते हैं।

ऐसे नहीं



होली के मौके पर इस बार भी हमारे शहर के लोगों को नगर निगम द्वारा अतिरिक्त जल उपलब्ध कराया जाएगा। यह अतिरिक्त जल 15 एमजीडी (मिलियन गैलन प्रतिदिन) होगा, जिसकी मात्रा प्रतिदिन शहर में होने वाली पानी की खपत के बराबर है। अर्थात अन्य दिनों की अपेक्षा होली पर शहरवासियों को दोगुना पानी मिल सकेगा। यदि हम चाहें तो अपने छोटे-से प्रयास से होली पर बर्बाद होने वाले इस अतिरिक्त पानी को बचाकर जल संकट से निपटने में अपना कुछ योगदान दे सकते हैं।

मुरार निवासी राकेश कुशवाह कहते हैं कि लोगों को होली का मतलब पानी की बर्बादी नहीं समझना चाहिए। जो लोग यह सोचते हैं कि होली में जितना चाहे पानी बहाया जा सकता है, वह पूरी तरह गलत हैं। बेशक होली रंगों का त्योहार है, पर हम दूसरे तरह से भी होली खेल सकते हैं। रंगों की बजाय एक-दूसरे को गुलाल लगाकर इस त्योहार को और अच्छे तरीक से मना सकते हैं।

इसी तरह थाटीपुर में रहने वाले आशीष भारती कहते हैं कि पिछले कुछ सालों में शहर में पानी की समस्या देखने को मिल रही है। इसलिए हम लोगों को चाहिए कि एक जिम्मेदार नागरिक की तरह पानी की बर्बादी न करें। जिस तरह होली खेलने के बाद लोग रंग साफ करने के लिए पानी बहाते हैं, उससे बहुत मात्रा में पानी की बर्बादी होती है।

यदि हम चाहें तो एक-दो बाल्टी पानी में अपनी जरूरत पूरी कर सकते हैं, फिर भी लापरवाही से पानी बहाते रहते हैं। इसलिए लोगों को चाहिए कि पानी का महत्वता समझें। सिटी सेंटर में रहने वाली सीमा शर्मा कहती हैं कि वह जब भी होली पर लोगों को पानी बर्बाद करते देखती हैं तो बहुत अफसोस होता है। आज शहर में कई ऐसे स्थान हैं, जहां पर्याप्त मात्रा में पानी नहीं पहुंचता है।

कई लोगों को पीने का पानी तक उपलब्ध नहीं हो पाता, ऐसे में होली के मौके पर पानी बर्बाद करना समझदारी नहीं है। उनका कहना है कि हम सब लोगों को होली पर मिलने वाले अतिरिक्त पानी को स्टोर कर लेना चाहिए। उस पानी का इस्तेमाल जिस दिन पानी नहीं आए, उस दिन घर के कामों में किया जा सकता है।

पानी कम नहीं, बर्बादी ज्यादा



हमारे शहर में लगभग 76 हजार नल कनेक्शन हैं। प्रत्येक व्यक्ति को औसतन प्रतिदिन 140 लीटर पानी की आवश्यकता होती है, जबकि मिलने वाले पानी की मात्रा 120 से 130 लीटर प्रतिदिन है। कई क्षेत्रों में आवश्यकता के अनुरूप या उससे अधिक भी जल उपलब्ध हो रहा है। सबसे बड़ी परेशानी पानी की बर्बादी है। यदि संतुलित रूप से जल का इस्तेमाल किया जाए तो प्रत्येक व्यक्ति को उसकी जरूरत का पानी मिल सकेगा।

सूखी होली खेलें



>> पानी की कमी को देखते हुए लोगों को चाहिए कि वह सूखी होली खेलें। इस तरह वह जल संरक्षण में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे। यह अच्छी बात है कि सामाजिक संस्थाएं और आमजन इस दिशा में प्रयास कर रहे हैं। पानी की बर्बादी रोकने के लिए सबको मिल-जुलकर प्रयास करने होंगे।

विवेक शेजवलकर , महापौर

ऐसे खेलें होली



होली का उत्साह चारों ओर दिखाई दे रहा है। रंग लोगों के चेहरे पर भले ही न दिख रहे हों रंगों से खेलने की उमंग सभी के मन में हिलोरे मार रही है। वर्तमान जलसंकट को देखते हुए लोगों को होली की उमंग भारी पड़ सकती है क्योंकि अगर लोगों ने हर वर्ष की तरह उमंग व उल्लास के साथ रंगों से सराबोर होकर होली मनाई तो एक दिन में १ करोड़ 52 लाख 57 हजार 946 लीटर पानी अतिरिक्त खर्च होगा।

होली खेलने वालों ने अगर प्राकृतिक रंग या गुलाल से होली खेली तो कुल 36 लाख 95 हजार 518 लीटर पानी की बचत होगी। यह आंकड़ा सामने आया भास्कर द्वारा होली की तैयारियों में लगे सभी वर्गो के लोगों के बीच सर्वे के पश्चात। पानी खर्च का आंकड़ा निकालने के लिए विशेषज्ञों से चर्चा की।

विशेषज्ञों के अनुसार सामान्य तौर पर नहाने में 20 लीटर पानी प्रतिदिन प्रति व्यक्ति खर्च होता है। सूखे रंग या गुलाल से होली खेलने के पश्चात 40 लीटर पानी खर्च होगा पर अगर यही होली कैमिकल युक्त रंगों से खेली जाती है तो रंग छुड़ाने व नहाने में 60 लीटर पानी की खपत होगी।

March 20, 2008
दैनिक भास्कर - ड्राय होली . . .

Tags - News Bhaskar hindi version, Gwalior hindi version, a shower of colors hindi version, festival hindi version, Holi play sensibly hindi version, no water will flow hindi version, waste water hindi version, the occasion of Holi hindi version, water consumption hindi version, water crisis hindi version, the meaning of the Holy waste of water hindi version, Holi festival of colors in Hindi,

Post new comment

The content of this field is kept private and will not be shown publicly.
  • Web page addresses and e-mail addresses turn into links automatically.
  • Allowed HTML tags: <a> <em> <strong> <cite> <code> <ul> <ol> <li> <dl> <dt> <dd>
  • Lines and paragraphs break automatically.

More information about formatting options

CAPTCHA
यह सवाल इस परीक्षण के लिए है कि क्या आप एक इंसान हैं या मशीनी स्वचालित स्पैम प्रस्तुतियाँ डालने वाली चीज
इस सरल गणितीय समस्या का समाधान करें. जैसे- उदाहरण 1+ 3= 4 और अपना पोस्ट करें
3 + 3 =
Solve this simple math problem and enter the result. E.g. for 1+3, enter 4.