Latest

राज, समाज और पानी : एक


.

अनुपम मिश्र


देश में पानी का संकट जिस तरह से बढ़ता जा रहा है उसके बारे में अब कुछ अलग से बताना ज़रूरी नहीं लगता। जो संकट पहले गर्मी के दिनों में आता था, अब सर्दी के दिनों में भी सिर उठाने लगा है। पानी के मामले में देश की राजधानी दिल्ली भी काफी गरीब साबित हो रही है।

ऐसे में जहाँ देश की सबसे कम बरसात होती हो - हमारे राजस्थान के रेतीले इलाक़ो में समाज ने पानी के लिए अपने को सबसे अच्छे ढंग से संगठित किया था। कुछ हज़ार साल पुरानी यह परंपरा आज भी जारी है और जहाँ आधुनिकतम तकनीक से पानी देने की कोशिशें असफल हुई हैं, वहाँ एक बार फिर से इसी परंपरा ने लोगों के लिए साफ और मीठा पानी जुटाया है।

हम कह सकते हैं कि पानी जुटाने की यह परंपरा समयसिद्ध और स्वयंसिद्ध साबित हुई है। अंग्रेज जब हमारे देश में आए थे तब उन्हें सचमुच कन्याकुमारी से कश्मीर तक छोटे बड़े कोई बीस लाख तालाब बने बनाए मिले थे। तब देश में कोई इंजीनियर नही था, इंजीनियरिंग सिखाने वाला कालेज नहीं था, सरकारी स्तर पर कोई सिंचाई विभाग नहीं था फिर भी पूरे देश में पानी और सिंचाई का सुंदर काम खड़ा था। गांधीजी ने आज से 100 साल पहले 'हिंद स्वराज' में देश के स्वावलंबन, सहकारिता और देश के निर्माण की जिन बातों की ओर इशारा किया था, वे सब हमें पानी के इस काम में बहुत सरलता और तरलता से देखने को मिल सकती हैं।

आज हमारे पढ़े लिखे समाज को ये जानकर काफी अचरज होगा कि देश का पहला इंजीनियरिंग कॉलेज 1847 में इन्ही ग्रामीण इंजीनियरों के बदौलत खुला था। आज सरकारें और समाज सेवी संस्थाएँ भी जिन्हें अनपढ़ बताती है और कुछ सिखाना चाहती हैं उन्हीं लोगों ने इस देश में इस कोने से उस कोने तक पानी की शिक्षा, पानी के सिद्धांत और पानी के व्यवहार का एक सुंदर ढाँचा खड़ा किया। इस ढाँचे का आकार इतना बड़ा था कि वो निराकार हो गया था। इसका कोई केन्द्रीय बजट नहीं था, कोई सदस्य नही था, कोई नौकर चाकर नहीं था। फिर भी पूरे देश में पानी का काम बहुत खूदसूरती से चलाया जाता था।

तालाब बनवाने वालों की एक इकाई थी, बनाने वालों की एक दहाई थी और यह इकाई, दहाई मिलकर सैंकड़ा, हजार बनती थी। लेकिन पिछले दौर में थोड़ी सी नई पढ़ाई पढ़े हुऐ समाज के एक छोटे से हिस्से ने इस इकाई, दहाई, सैंकड़ा को शून्य ही बना दिया है। लेकिन समाज का एक बड़ा हिस्सा आज भी पानी की इस शिक्षा और व्यवहार के काम में चुपचाप जुटा है।

 

पुस्तकः महासागर से मिलने की शिक्षा
(इस पुस्तक के अन्य अध्यायों को पढ़ने के लिए कृपया आलेख के लिंक पर क्लिक करें)

क्रम

अध्याय

1

सुनहरे अतीत से सुनहरे भविष्य तक

2

जड़ें

3

राज, समाज और पानी : एक

राज, समाज और पानी : दो

राज, समाज और पानी : तीन

राज, समाज और पानी : चार

राज, समाज और पानी : पाँच

राज, समाज और पानी : छः

4

नर्मदा घाटीः सचमुच कुछ घटिया विचार

5

तैरने वाला समाज डूब रहा है

6

ठंडो पाणी मेरा पहाड़ मा, न जा स्वामी परदेसा

7

अकेले नहीं आते बाढ़ और अकाल

8

रावण सुनाए रामायण

9

साध्य, साधन और साधना

10

दुनिया का खेला

11

शिक्षा: कितना सर्जन, कितना विसर्जन

 

Tags -Water crisis ( Hindi ), the case of water ( Hindi ), the less rain ( Hindi ), the society for water ( Hindi ), fresh water ( Hindi ), the tradition of raising the water ( Hindi ), two million tanks ( Hindi ), water education ( Hindi ), the principle of water ( Hindi ),

Post new comment

The content of this field is kept private and will not be shown publicly.
  • Web page addresses and e-mail addresses turn into links automatically.
  • Allowed HTML tags: <a> <em> <strong> <cite> <code> <ul> <ol> <li> <dl> <dt> <dd>
  • Lines and paragraphs break automatically.

More information about formatting options

CAPTCHA
यह सवाल इस परीक्षण के लिए है कि क्या आप एक इंसान हैं या मशीनी स्वचालित स्पैम प्रस्तुतियाँ डालने वाली चीज
इस सरल गणितीय समस्या का समाधान करें. जैसे- उदाहरण 1+ 3= 4 और अपना पोस्ट करें
8 + 9 =
Solve this simple math problem and enter the result. E.g. for 1+3, enter 4.