Latest

2.5 एकड़ जमीन से दस-बारह लाख रु. की सालाना आमदनी!

वेब/संगठन: 
bhartiyapaksha.com
Author: 
विनय कुमार
हरियाणा के सोनीपत जिले का अकबरपुर बरोटा गांव। यहां आने के पहले आपके मस्तिष्क में गांव और खेती का कोई और चित्र भले ही हो, परंतु यहां आते ही खेत, खेती एवं किसान के बारे में आपकी धारणा पूरी तरह बदल जाएगी। इस गांव में स्थित है श्री रमेश डागर का माडल कृषि फार्म जो उनके अथक प्रयासों एवं प्रयोगधर्मिता की कहानी खुद सुनाता प्रतीत होता है। उनकी किसानी के कई ऐसे पहलू हैं, जिनके बारे में आम किसान सोचता ही नहीं। आइए जानते हैं, ऐसे कुछ पहलुओं के बारे में उन्हीं के शब्दों में…

प्रश्न : रमेशजी आज आप हर दृष्टि से एक सफल किसान हैं। हम आपके शुरुआती दिनों के बारे में जानना चाहेंगे।

रमेश डागर : बात सन् 1970 की है, घर की परिस्थितियों के कारण मुझे मैट्रिक स्तर पर ही पढ़ाई छोड़कर खेती में लगना पड़ा। तब मेरे पास केवल 16 एकड़ जमीन थी। शुरू में मैं भी वैसे ही खेती करता था जैसे बाकी लोग किया करते थे। मैंने पहले-पहले बाजरे की फसल लगाई थी, फसल अच्छी हुई, लाभ भी हुआ। फिर गेहूं की फसल लगाई, जिसमें खर-पतवार इतना अधिक हो गया कि नुकसान उठाना पड़ा। कुल मिलाकर मैं खेती के अपने तरीके से संतुष्ट नहीं था, इसलिए मैं कुछ अलग करना चाहता था, ताकि मैं भी समृध्दि के रास्ते पर आगे बढ़ सकूं। अंत में मैं इस निष्कर्ष पर पहुंचा कि मुझे अपने तौर-तरीके में बदलाव लाना होगा।

प्रश्न : आपने अपने तौर-तरीकों में क्या बदलाव किए और उनका क्या परिणाम निकला?

रमेश डागर : मैंने महसूस किया कि किसानों को फसलों के चयन में समझ-बूझ के साथ काम लेना चाहिए। मैं प्राय: कुछ किसानों को ट्रेन से सब्जी ले जाते हुए देखता था और उनसे रोज की बिक्री के बारे में पूछता था। उनसे मिली जानकारी ने मुझे सब्जी की खेती करने की प्रेरणा दी। सन् 1970 में मैंने पहली बार टिन्डे की फसल लगाई, जिसमें मुझे बाजरे और गेहूं से तीन गुना ज्यादा आमदनी हुई। सब्जीमंडी में मैंने एक बार कुछ ऐसी सब्जियां देखीं जो हमारे देश में नहीं बल्कि विदेशों में पैदा होती हैं। इनका भाव भी बहुत अधिक था। इनके बारे में मैंने कई स्रोतों से जानकारी इकट्ठी की और फिर सन् 1980 में उनकी खेती शुरू कर दी। सब्जियों की खेती से मेरी आमदनी काफी बढ़ गई।
इसी दौरान बाजार में फूलों की विशेष मांग को देखते हुए प्रयोग के तौर पर मैंने फूलों की भी खेती शुरू की, जिससे मुझे सबसे ज्यादा आमदनी हुई। सन् 1987-88में मैंने बेबीकार्न की खेती की। उस समय इसकी कीमत 400-500 रुपए प्रति किलो होने के कारण मुझे काफी लाभ हुआ। आज केवल सोनीपत जिले में ही बेबीकार्न की खेती 1600 एकड़ में हो रही है। फूल और सब्जियों की खेती से हुई आमदनी से मैंने सुख-समृध्दि के साधनों के साथ-साथ और खेत भी खरीदे। मेरे पास आज 122 एकड़ जमीन है।

प्रश्न : फसलों के चयन में सावधानी के साथ-साथ क्या आपने खेती के तौर-तरीकों में भी बदलाव किए हैं?

रमेश डागर :
हां किए हैं। मैं अपने खेतों में रासायनिक खाद (उर्वरक) का बिल्कुल इस्तेमाल नहीं करता। खाद के तौर पर मैं केंचुआ खाद व गोबर खाद का ही इस्तेमाल करता हूं। तथाकथित हरित क्रांति के नाम पर किसानों को जिस तरह से रासायनिक खाद का अधिक से अधिक इस्तेमाल करने के लिए प्रेरित किया जा रहा है, मुझे उस पर सख्त एतराज है।

प्रश्न : आपके राज्य में तो हरित क्रांति बहुत सफल रही है। यहां के किसानों ने काफी प्रगति भी की है। आप इससे असंतुष्ट क्यों हैं?

रमेश डागर :
पहली बार जब मैंने अपने खेत की मिट्टी की जांच करवाई तो पता चला कि रासायनिक खाद के इस्तेमाल का जमीन पर कितना बुरा प्रभाव पड़ता है। यदि रासायनिक खाद का इसी तरह इस्तेमाल होता रहा तो आने वाले 50-60 वर्षों में हमारी जमीनें बंजर हो जाएंगी। आर्थिक रूप से भी रासायनिक खाद का इस्तेमाल किसान के हित में नहीं रहा। हरित क्रांति से किसानों के खर्चे तो बढ़ गए पर आमदनी कम होती गई। जहां पहले एक कट्ठे यूरिया से काम चल जाता था, वहीं आज पांच कट्ठा लगता है। इससे किसान कर्जदार होता जा रहा है।

प्रश्न : हरित क्रांति के नाम पर होने वाली इस क्षति को रोकने के लिए आपने क्या पहल की?

रमेश डागर :
जमीन की उर्वरता बनाए रखने के लिए मैंने कई प्रयोग किए और किसान-क्लब बना कर अन्य किसान भाइयों से भी विचार-विमर्श किया। हमने पाया कि खेती की अपनी पुरानी पध्दति को विज्ञान के साथ जोड़कर एक नया रास्ता ढूंढा जा सकता है। और यह रास्ता हमने जैविक कृषि के रूप में विकसित कर लिया है।

प्रश्न : आप एक प्रयोगधर्मी किसान हैं। आपने लीक से हटकर कई ऐसे सफल प्रयोग किए हैं, जिनसे भारत का किसान प्रेरणा ले सकता है। हम आपके ऐसे कुछ प्रयोगों के बारे में विस्तार से जानना चाहेंगे।

रमेश डागर :
जैविक आधार पर की जाने वाली बहुआयामी खेती में ही मेरी सफलता का राज छिपा है। किस मौसम में कौन सी फसल की खेती करनी है, यह तय करने के पहले मैं जमीन की गुणवत्ता और पानी की उपलब्धता के साथ-साथ बाजार की मांग को भी हमेशा ध्यान में रखता हूं। मैं जिस तरह से खेती करता हूं, उसके कुछ खास पहलू इस प्रकार हैं :

केंचुआ खाद :

केंचुआ किसान के सबसे अच्छे मित्रें में से एक है। मैं अपने खेतों में केंचुआ खाद का खूब प्रयोग करता हूं। एक किलो केंचुआ वर्ष भर में 50-60 किलो केंचुआ पैदा कर सकता है। केंचुआ खाद बनाने में खेती के सारे बेकार पदार्थों, जैसे डंठल, सड़ी घास, भूसा, गोबर, चारा आदि का प्रयोग हो जाता है। सब मिलाकर केंचुए से 60-70 दिनों में खाद तैयार हो जाती है। इस खाद की प्रति एकड़ खपत यूरिया की अपेक्षा एक चौथाई है। इसके प्रयोग से मिट्टी को नुकसान भी नहीं पहुंचता है। फसल की उत्पादकता भी 20-30 प्रतिशत बढ़ जाती है। केंचुआ खाद बनाने पर यदि किसान ध्यान दें तो वे अपने खेतों में प्रयोग करने के बाद इसे बेच भी सकते हैं। यह किसान भाईयों के लिए आमदनी का एक अतिरिक्त स्रोत भी हो सकता है।

बायो गैस :

मैं बायोगैस का इतना अधिक उत्पादन कर लेता हूं कि इससे इंजन चलाने और अन्य जरूरतें पूरी करने के बाद भी गैस बच जाती है। बची हुई गैस मैं अपने मजदूरों में बांट देता हूं। इससे उनके भी ईंधन का काम चल जाता है। बायोगैस का मैंने एक परिवर्तित माडल तैयार किया है जिसमें प्रति घन मीटर की लागत 5000 रुपए की बजाय 1000 रफपए हो जाती है। मेरे इस माडल में गैस पलांट की मरम्मत का खर्चा भी न के बराबर है।

मशरूम खेती :

मैं मशरूम की कई फसलें लेता हूं। जिन किसान भाइयों के यहां मार्केट नजदीक नहीं है, उन्हें डिंगरी (ड्राई मशरूम) की फसल लेनी चाहिए। आज पूरी दुनिया में डिंगरी का 80 हजार करोड़ का बाजार है। जहां धान की फसल होती है, वहां इसकी खेती की संभावनाएं सबसे अधिक होती हैं क्योंकि इसकी खेती में पुआल का विशेष रूप से प्रयोग होता है। फसल लेने के बाद बेकार बचे हुए पदार्थों को मैं केंचुआ खाद में बदल कर 60-70 दिनों में वापस खेतों में पहुंचा देता हूं।

तालाब एवं मछली पालन :

खेत के सबसे नीचे कोने को और गहरा करके मैंने तालाब बना दिया है, जिसमें बरसात का सारा पानी इकट्ठा होता है और डेरी का सारा व्यर्थ पानी भी चला जाता है। डेरी के पानी में मिला गोबर आदि मछलियों का भोजन बन जाता है। इससे उनका विकास दोगुना हो जाता है। मछलीपालन के अलावा तालाब में कमल ककड़ी, मखाना आदि भी उगाता हूं।

बहुफसलीय खेती :

मैं एक साथ तीन से चार फसल लेता हूं। ऐसा करते समय मैं समय, तापमान और मेल का विशेष ध्यान रखता हूं। उदाहरण स्वरूप सितंबर माह के अंत में मूली की बुवाई हो जाती है जिसके साथ गेंदा फूल भी लगा देते हैं। मूली को अक्टूबर में निकाल लेते हैं और नवंबर के शुरूआत में पालक या तोरी आदि लगा देते हैं जिसकी कटाई दिसंबर में हो जाती है। वहीं फूलों से आमदनी जनवरी से शुरू हो जाती है।

गुलाब एवं स्टीवीया :

स्टीवीया एक छोटा सा पौधा है जिससे निकलने वाला रस चीनी से 300 गुना ज्यादा मीठा होता है। इसका प्रयोग मधुमेह के मरीज भी कर सकते हैं। मैंने इसकी खेती से प्रति एकड़ लाखों रुपए की कमाई की है। एक विशेष प्रकार के महारानी प्रजाति के गुलाब की खेती से भी मैंने काफी लाभ कमाया है। इस गुलाब से निकलने वाले तेल की कीमत अंतरराष्ट्रीय बाजार में 4 लाख रुपए प्रति लीटर है। एक एकड़ में उत्पादित गुलाब से लगभग 800 ग्राम तेल निकाला जा सकता है।

केले की खेती :

केले की खेती से जमीन में केंचुओं की संख्या बहुत ज्यादा हो जाती है। केला एक ऐसा पौधा है जो खराब एवं पथरीली जमीन को भी कोमल मिट्टी में तब्दील कर देता है। इसके प्रभाव से किसी भी फसल की उत्पादकता 25 से 30 प्रतिशत बढ़ जाती है। केले की जैविक खेती करने से पौधे सामान्य से ज्यादा ऊंचाई के होते हैं। इसकी खेती से लगभग 25 से 30 हजार रुपए प्रति एकड़ की आमदनी हो जाती है। गर्मी में केलों के बीच में ठंडक रहती है इसलिए इसमें फूलों की भी खेती हो जाती है, जिससे 15-20 हजार रुपए की अतिरिक्त आमदनी हो जाती है। गर्मी के दिनों में मधुमक्खी के बक्सों को रखने के लिए भी यह सबसे सुरक्षित स्थान होता है।

वृक्षारोपण :

खेतों की मेड़ों पर मैंने पापुलर आदि के पेड़ लगा रखे हैं जिससे 7 से 8 वर्षों में प्रति एकड़ 70 से 80 हजार रुपए की आमदनी हो जाती है। इन वृक्षों से खेतों को नुकसान भी नहीं होता और पर्यावरण भी ठीक रहता है।

मधुमक्खी पालन :

मधुमक्खी से भरे एक बक्से की कीमत लगभग चार हजार रुपए होती है। मेरी खेती में मधुमक्खियों की विशेष भूमिका है। वैसे भूमिहीन किसान भाइयों के लिए भी मधुमक्खी पालन एक अच्छा काम है। शहद उत्पादन के अलावा भी इनके कई फायदे हैं। फूलों की पैदावार में इनसे 30 से 40 प्रतिशत और तिलहन-दलहन की पैदावार में लगभग 10 से 20 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी हो जाती है। बेहतर परागण के कारण फसलें भी एक ही समय पर पकती हैं। इस क्षेत्र में खादी ग्रामोद्योग एवं कई अन्य संस्थाएं सहायता कर रही हैं।

प्रश्न : आपने एक माडल तैयार किया है जिसमें सिर्फ 2.5 एकड़ जमीन से दस-बारह लाख रुपए प्रतिवर्ष की आमदनी हो सकती है और साथ ही कई लोगों को रोजगार भी मिल जाता है। इस बारे में जरा विस्तार से बताएं।

रमेश डागर :
मैंने 2.5 एकड़ में छ: परियोजनाएं चला रखी हैं जिसका संक्षिप्त विवरण इस प्रकार है :

मधुमक्खी पालन :

मधुमक्खियों के 150 बक्सों से हम शुरुआत करते हैं। एक ही साल में इनकी संख्या दोगुनी हो जाती है। इससे साल में 5-6 लाख की आमदनी हो जाती है।

केंचुआ खाद:

इसे बेचकर मैं 3-4 लाख रुपए की आमदनी कर लेता हूं।

मशरूम खेती:

इससे मुझे प्रतिवर्ष 3-4 लाख रुपए मिल जाते हैं।

डेरी:

एक छोटी सी डेरी से लगभग 60-70 हजार की सीधी आय होती है।

मछली पालन :

इससे भी लगभग 15-20 हजार रुपए मिल जाते हैं।

ग्रीन हाउस :

इसमें लगी फसल से एक-डेढ़ लाख रुपए आ जाते हैं।

प्रश्न : आप किसान भाइयों के लिए क्या संदेश देना चाहेंगे?

रमेश डागर :
समझदार किसान तो वो है जो पहले मार्केट देखे, फिर मिट्टी की जांच कराए, तापमान का ख्याल रखे और अच्छे बीज का चयन करे। किसान भाइयों को जैविक खेती ही करनी चाहिए, मवेशी रखनी चाहिए, बायोगैस तथा वर्मी कम्पोस्ट तैयार करना चाहिए। 365 दिन में 300 दिन कैसे काम करें, प्रत्येक किसान को इसकी चिन्ता करनी चाहिए। हमें एक-दो फसलें ही नहीं बल्कि एक-दूसरे पर आश्रित खेती की बहुआयामी व्यवस्था विकसित करनी चाहिए। इस संबंध में किसी प्रकार की जानकारी के लिए किसान मुझसे जब चाहें संपर्क कर सकते हैं।
मेरा पता है :
डागर कृषि फार्म, ग्राम व पोस्ट – अकबरपुर बरोटा,
जिला-सोनीपत, हरियाणा, पिन-131003

Help with aloe vera farming

Hi, I want to do aloe vera farming on 17 acre land in Siliguri,West Bengal. Kindly help in suggesting how should i go about it. I am new to farming. I need help with following: 1. Land Preparation2. Soil Preparation 3. Seed/ Plant Purchase4. Sowing and Best time for plantation5. type of fertilizers to be used 6. When to cultivate7. Where and how to sell  Regards,R K Agarwal

kheti

aap mujhe whatsapp karen aloe vera ke plant ke lie 8527948731

Tre plant

Mera khet churu Rajasthan me h me konsa per Lagana chahiye Mera khet 10 bigha h

Papita and tulsi ki kheti

mai papit aur tulsi ki kheti karna chatu hu,pls muje iske bare mai bataye 

tulsi contrect farming

agar ap tulsi ki kheti karna chahtte hai to mere no. 9258924259 par call ya whatsup kare 

alovera ki kheti

Me bhi normal khrti se pareshan ho chuka hu..to muje to alovera ki kheti k abre me jankari do...plz

tulai ki kheti

sir...tulsi kya kam aati hai plz hme jankari dene ka kast karve..kyuki ham ia kheti me anjan hai....or me tulsi ki kheti karna chahta hu .....mere halat aisa hai ki me kheti ke siva orkus bhi nahi kar sakta.....maa baap kw saat rehna bhi bahut jaruri hai ..kyuki pitaji .ko lakva hai.ma ko cancer hai...to plz help me.......

balu reti me phul ki kheti

jis se km lagt m adhik munapha ho

Information About Aloevera Kheti

Dear Sir, I live in Jhansi, Uttar Pradesh, and i have 5 acer land.to kya aap mujhe bta sakte he ki mujhe kis chij ki kheti karni chahiye, mene kai faslo ke bare me suna he par, mujhe ni pta ki kon si kheti sahi rahegi mere liye, mene kabhi kheti ni ki he, me ab tak private job karta tha delhi me, lekin ab kheti karna chahta hu, kuchh apna karna chahta hu. to kya aap mujhe kuchh salah de sakte he...        

alovera

में एलोवेरा की खेती करना चाहता हु । एलोवेरा की खेती कैसे करनी है ।मुझे इसका सुझाब दे।

elovera

Mudhe elovera ki kheti ki jankari chahie.esaka seed kaha milta aor eska market kaha hai

Aloe vera

I want to do aloebera plantation on my agricultural land so please tell me full detail

alovera ki kheti ki puri jankari

Vyapar

Alvera ka market kaha hai

Sir
Mai maharashtra se hu mai alvora ki kheti karunga to usko kaha bechu

Alvera ka market kaha hai

Sir
Mai maharashtra se hu mai alvora ki kheti karunga to usko kaha bechu

About Alovera and Fishing Farming knowledgement

सर मेरे को एलोवेरा और मछली पालन करना है । तो मेरे को इनकी पूरी जानकारी प्रदान करे,आपकी अति कृपा होगी।

धन्यवाद!

aloevera farming

Medicinal Herbs Cultivation under Buyback the new season started for Medicinal plants Aolevera cultivation for this year 12000/=plants will be cultivate of one [1] acre land. 4 to 6 kg of one plant production average 4 kg of 1 plants 12000*4=48000kg Buy back Cort agreement 3/=of 1 kg 48000*3=1,44,000/= 1st catting in 12 to 13 month aloevera plant grow mother plants, one plants minimum 15 to 20 plants grow average 10 plants minimum we shall buying 1/=plant 12000*10=1,20,000/= Total income is 1,44,000*1,20,000 = 2,64,000/= in one acre next catting 120 days *120 * 120 production of catting 12000*3=36000kg*3 rs buy back pries =1,08,000*3=3,24,000+1,20,000 =4,44,000 Krishna Agriculture private limited mob-= 7052199000,8808052017

aloevera farming

Medicinal Herbs Cultivation under Buyback the new season started for Medicinal plants Aolevera cultivation for this year 12000/=plants will be cultivate of one [1] acre land. 4 to 6 kg of one plant production average 4 kg of 1 plants 12000*4=48000kg Buy back Cort agreement 3/=of 1 kg 48000*3=1,44,000/= 1st catting in 12 to 13 month aloevera plant grow mother plants, one plants minimum 15 to 20 plants grow average 10 plants minimum we shall buying 1/=plant 12000*10=1,20,000/= Total income is 1,44,000*1,20,000 = 2,64,000/= in one acre next catting 120 days *120 * 120 production of catting 12000*3=36000kg*3 rs buy back pries =1,08,000*3=3,24,000+1,20,000 =4,44,000 Krishna Agriculture private limited mob-= 7052199000,8808052017

aloe vera

sir muje kheti krni h aloe Vera ki muje all information do Na my contacts. Nom 7742003062

aloe Vera

Hlo sar ji namskar mre paas 5Aked jamin h sir muje isme rojgar krna h iske Andre aak tuvel h jo sechei k kaam me lete h but muje kuch extra krna h plz sir muje koi achi Gide do Na my age 21 year Vil+post lilawathi teh-rajgarh dist -churu rajasthan.plz sir reply fast and my what's num 7742003062

Alovera Farmaring

Right Now I am Working In japaning (MNC) company But Not Satified So I Satrat Over Self Bussness Start Alovera Farmaring Plz Guide Us 

Alovera ki kheti ki jankari

Me 25yr ka hu muje apne khet me alovera ki falas karni he .... To muje gujarat me alovera ke podhe kha mule nge

aloevera contrect farming

aloevera plant ke liye samperk kare  farmer development & research center 9258924259

aloevera

call me 9106491664

alovera ki kheti

Pl. alovera ki kheti ke liye salah deejie

एलुवेरा

एलुवेरा बेचने के लिए बाजार कहाँ उपलब्ध है।

Alovera marketing

Dear friends

I want a market for alovira.

aloevera ki seling kanha ki jankari

Mujhe aloavera ki kheti Karini hai kheti ke like bij and seling ki puri Jankari chahiye.

एलुवेरा

एलुवेरा बेचने के लिए बाजार कहाँ उपलब्ध है । जहाँ अच्छा दाम मिले।

aloeveera ka podha or use bikri kaha Karna hai

Aloe Vera ki kheti ki jankari

Alovera

Alovera or saghvan bechana he

एलुवेरा

एलुवेरा बेचने के लिए बाजार कहाँ उपलब्ध है । जहाँ अच्छा दाम मिले।

Aloavera

Sir game bataye ki aloavera ki kheti kaise ki jati hai. Aur kahan Aur kaise bechna hai.

alovera

sir namaskar
sir me 17sal ka hu or muje alovera ki kheti karni he
muje alovera ke podhe( पौधे)chahiye
please sir muje aapse bdi umidh he
mo...(9977573912)Aakash sarva
address : govindpura post. kunwarshi district . dhar
: .madhay parades (m.p)

Badi Elaychi..

kindly advise us... we are plan to our village (bhargadi,P.O bajwar Block: pabo Pauri garwal.) harvesting Badi Elaychi Plant in our area Kindly confirm any other facility in horticulture system for harvesting Badi Elaychi..If any requirement in horticulture department to start these process kindly advise us which type requirement from your side.Thanks and Best RegardsRajender Singhmobile No: 9891243940

Lebar

Penchant mumbi

Badi Elaychi..

kindly advise us... we are plan to our village (bhargadi,P.O bajwar Block: pabo Pauri garwal.) harvesting Badi Elaychi Plant in our area Kindly confirm any other facility in horticulture system for harvesting Badi Elaychi..If any requirement in horticulture department to start these process kindly advise us which type requirement from your side.Thanks and Best RegardsRajender Singhmobile No: 9891243940

खेती की जानकारी

गाँव सदलपुर तहसील मंडी आदमपुर जिला हिसार।
मै अलोवेरा की खेती के बारे में जानना चाहता हु ,यह खेती कैसे की जाती है इसके लिए कैसा जमीन चाहिए हवामान कैसा चाहिये,पौधा कहाँ से लाये !

crop production

Plz mediation ke maare mai jaankari dejiye

Land for Allovera / other Medicine on lease/ sale

I have  25 acre land  at Chhapoli/ Girawadi , Tahsil - Udaipurwati - Dist -Jhunjhunu ( Rajasthan ) 110 KM from Jaipur  with Very good water  facility and space  House for farmer who can take care farming .I want to give this land on lease /sale for allovera /oter medicine .Pl contact me at my mobile  no 7733815951/8777314950

राम राम जी

राम राम जी

aloe veera agriculture

Sir ham apne kher Mai aloe Vera ki kheti shuru karna chahiye hai plz ham isle bare Mai jruri information dijiye aur usme kese Kya karna hai wo bhi btaiye
And ye Kha sell Kar payenge aur kese usme profit Kar payenge

Aloevera ki khati

Aloevera ki kheti ke bare main Puri jankari den or Khan bikti hai batayen

kele kheti ke bareme

Dear sir,  sir, me keleki kheti karana chahata tu muje samajiye  kele ki kheti me kaisa havaman chahiye or kaisi jamin chahiye agar 2.5 akar jamime kis tarah se me 10-12 lakh amdani pa saku   vinod solanki 

Alovra ki jankari

Alovera ki kheti ke bad uski patiya kaha par beche uski jankari chahiye 

एलोवेरा की खेती हेतु सुझाव एवं सहायता

मै अलोवेरा की खेती के बारे में जानना चाहता हु ,यह खेती कैसे की जाती है इसके लिए कैसा जमीन चाहिए हवामान कैसा चाहिये,पौधा कहाँ से लाये ! Br.Sanjay sharmaVPO- RajgarhDist- BhiwaniState -Haryana

Alovera farming

Alovera farming complete details

एलोवेरा की खेती हेतु सुझाव एवं सहायता

मै अलोवेरा की खेती के बारे में जानना चाहता हु ,यह खेती कैसे की जाती है इसके लिए कैसा जमीन चाहिए हवामान कैसा चाहिये,पौधा कहाँ से लाये ! Br.Sanjay sharmaVPO- RajgarhDist- BhiwaniState -Haryana

alovera ki kheti ki jakari

A puri jankari

Aloe vera full information

Plz send me all information about aloe vera ! I from bhind ,M.P.

Post new comment

The content of this field is kept private and will not be shown publicly.
  • Web page addresses and e-mail addresses turn into links automatically.
  • Allowed HTML tags: <a> <em> <strong> <cite> <code> <ul> <ol> <li> <dl> <dt> <dd>
  • Lines and paragraphs break automatically.

More information about formatting options

CAPTCHA
यह सवाल इस परीक्षण के लिए है कि क्या आप एक इंसान हैं या मशीनी स्वचालित स्पैम प्रस्तुतियाँ डालने वाली चीज
इस सरल गणितीय समस्या का समाधान करें. जैसे- उदाहरण 1+ 3= 4 और अपना पोस्ट करें
7 + 9 =
Solve this simple math problem and enter the result. E.g. for 1+3, enter 4.