Latest

संदर्भ राजस्थान: पानी के रास्ते में खड़े हम

मौसम को जानने वाले हमें बताएंगे कि 15-20 वर्षो में एक बार पानी का ज्यादा होना या ज्यादा बरसना प्रकृति के कलेंडर का सहज अंग है। थोड़ी-सी नई पढ़ाई कर चुके, पढ़-लिख गए हम लोग अपने कंप्यूटर, अपने उपग्रह और संवेदनशील मौसम प्रणाली पर इतना ज्यादा भरोसा रखने लगते हैं कि हमें बाकी बातें सूझती ही नहीं हैं।  वरूण देवता ने इस बार देश के बहुत-से हिस्से पर और खासकर कम बारिश वाले प्रदेश राजस्थान पर भरपूर कृपा की है। जो विशेषज्ञ मौसम और पानी के अध्ययन से जुड़े हैं, वो हमें बेहतर बता पाएंगे कि इस बार कोई 16 बरस बाद बहुत अच्छी वर्षा हुई है।

हमारे कलेंडर में और प्रकृति के कलेंडर में बहुत अंतर होता है। इस अंतर को न समझ पाने के कारण किसी साल बरसात में हम खुश होते हैं, तो किसी साल बहुत उदास हो जाते हैं। लेकिन प्रकृति ऎसा नहीं सोचती। उसके लिए चार महीने की बरसात एक वर्ष के शेष आठ महीने के हजारों-लाखों छोटी-छोटी बातों पर निर्भर करती है। प्रकृति को इन सब बातों का गुणा-भाग करके अपना फैसला लेना होता है। प्रकृति को ऎसा नहीं लगता, लेकिन हमे जरूर लगता है कि अरे, इस साल पानी कम गिरा या फिर, लो इस साल तो हद से ज्यादा पानी बरस गया।

मौसम को जानने वाले हमें बताएंगे कि 15-20 वर्षो में एक बार पानी का ज्यादा होना या ज्यादा बरसना प्रकृति के कलेंडर का सहज अंग है। थोड़ी-सी नई पढ़ाई कर चुके, पढ़-लिख गए हम लोग अपने कंप्यूटर, अपने उपग्रह और संवेदनशील मौसम प्रणाली पर इतना ज्यादा भरोसा रखने लगते हैं कि हमें बाकी बातें सूझती ही नहीं हैं। हमारे पुरखे बताएंगे कि समाज ने ऎसे बहुत-से बड़े-बड़े काम किए हैं पानी रोकने के लिए, ऎसे बड़े तालाब बनाए हैं, जो सामान्य बारिश में भरते नहीं हैं, उन पर हर साल वर्ष के मौसम में पानी की चादर नहीं चल पाती है। ऎसे बड़े तालाबों के इर्दगिर्द बसे गांवों में रहने वाले बुजुर्गो से पूछिए, तो वे सहज ही यह बताएंगे कि 15-20 सालों में कभी ज्यादा पानी गिर जाए, तो उसको रोककर सहेजकर रखने के लिए ही तालाबों को इतना बड़ा बनाया गया था।

इसलिए इस साल यदि पानी पिछले 15 सालों से ज्यादा गिरा है, तो यह प्रकृति की सोची-समझी प्रणाली का एक सुंदर नमूना है। जहां तक समाज इस प्रणाली को समझता था, उसकी पर्याप्त इज्जत करता था, वहां तक उसको इसका भरपूर लाभ भी मिला है। अब अगर दो-तीन साल कोई तालाब भरता नहीं है, तो लोगों को लगता है, तालाब का कोई मतलब नहीं है, तालाब को भर देना चाहिए। लेकिन इसमे कोई दो राय नहीं कि तालाब या जल भंडार की प्रणाली हमारे जीवन के लिए बहुत जरूरी है।

जब हमने इस प्रणाली की इज्जत करना छोड़ दिया, तो हम पाते हैं कि कुछ घंटों की थोड़ी-सी भी ज्यादा बरसात में हमारे सभी चमक-दमक वाले शहर दिल्ली, मुंबई, जयपुर, अहमदाबाद, बेंगलुरू, भोपाल सब डूबने लगते हैं। पानी के सड़कों पर जमा होने का हल्ला हो जाता है। हमारे इन सभी आधुनिक बन गए शहरों में आज से 30-40 साल पहले तक सुंदर-सुंदर बड़े-बड़े तालाब हुआ करते थे और ये शहर में होने वाली वर्षा के अतिरिक्त जल को अपने में रोककर पहले उसको बाढ़ से बचाते थे और फिर छह महीने बाद आ सकने वाले जल संकट को भी थामते थे, लेकिन जमीन के प्रति हमारे लगातार बढ़ते लालच और हमारी नई राजनीति ने इन सब जगहों पर कब्जा किया है और उन पर सुंदर जगमगाते मॉल, बाजार, हाउसिंग सोसायटी आदि बना दिए हैं। इसलिए दो घंटे की तेज बरसात भी इन इलाकों को डुबोकर हमें याद दिलाती है कि हम उसके रास्ते में खड़े हो रहे हैं।

इस साल खूब अच्छा पानी गिरा है। समाज के जिन हिस्सों में, जिलों में लोगों ने अपने इलाकों मे पानी के काम को ठीक से बनाकर-सजाकर रखा है, वे लोग वरूण देवता के इस प्रसाद को अपनी अंजुली में खूब अच्छे से भर सकेंगे और उन्हें इसका भरपूर आशीर्वाद या लाभ आने वाले महीनों में मिलने ही वाला है।

जैसलमेर का उदाहरण बार-बार दिया जा सकता है। इसमें पुनरोक्ति दोष नहीं है कि ऎसा मानकर एक बार फिर याद करना चाहिए कि जहां देश की सबसे कम वर्षा होती है, कुल 16 सेंटीमीटर, वहां भी इस बार वरूण देवता ने थोड़ा ज्यादा खुश होकर 32 सेंटीमीटर के करीब पानी गिराया है। यहां पर कुछ जगह लोगों ने अपने चार सौ-पांच सौ साल पुराने कामों की समझदारी को फिर से इज्जत दी है और लोगों के साथ एकजुट होकर, कहीं-कहीं तो सचमुच "ल्हास खेलकर" जल संग्रहण के इंतजाम किए हैं। "ल्हास खेलने" का मतलब है, स्वेच्छा से उत्सवपूर्वक सामूहिक श्रमदान करना।

रामगढ़ के बिप्रासर जैसे पुराने तालाबों को, ईसावल मैती, गिरदुवाला जैसे इलाकों में नि:स्वार्थ भाव से अपना पसीना बहाकर इस साल बरसे पानी को रोका गया है। आज ये इलाके पानी का काम करने वाले सभी लोगों के लिए एक संुदर उदाहरण की तरह लबालब भरे खड़े हैं। इसी के साथ नागौर, अलवर, जयपुर, सांभर झील सभी जगह अनेक लोगों ने प्रचार से दूर रहकर जल संरक्षण का काम चुपचाप किया है। लोगों के मिले-जुले प्रयासों का ही नतीजा है, आज उनके तालाब नीले पानी से भरे लबालब दिखते हैं। लगता है जैसे नीला आसमान तालाबों में अपना पानी लेकर उतर आया हो और अब वो यहां लंबे समय तक आराम करना चाहेगा। हमें उसे आराम करने देना चाहिए।

दूसरी तरफ, हम में से जो लोग वर्षा जल के संचयन के काम में इस बार पिछड़ गए हैं, उन्हें भी प्रकृति याद तो दिला ही रही है कि अगली बार ऎसा मत होने देना।

जल है तो कल है

बहुत ही सुन्दर आलेख. इस बार भी भोपाल व मध्‍य प्रदेश अछूता ही रहा. वरुण देव कुपित रहे. लेकिन अब वरुण देव खुश है
अतुल तिवारी रीवा

बहुत सुन्दर वर्णन!

यह जरुरी है कि हम भी अपने पुरखों की तरह पानी की इज्जत करना सीखें!अनुपम मिश्र जी को बहुत बहुत धन्यवाद....चत्तरसिंह जी रामगढ आपको बहुत सम्मानपूर्वक हमेशा याद करते हैं!
-सवाई राम सुथार,पटवारी रामगढ!

Very good

Very good article.

Prashaant
09810738732

पानी के रास्ते में खड़े हम

बहुत ही सुन्दर आलेख. इस बार भी भोपाल अछूता ही रहा. वरुण देव कुपित रहे.

Post new comment

The content of this field is kept private and will not be shown publicly.
  • Web page addresses and e-mail addresses turn into links automatically.
  • Allowed HTML tags: <a> <em> <strong> <cite> <code> <ul> <ol> <li> <dl> <dt> <dd>
  • Lines and paragraphs break automatically.

More information about formatting options

CAPTCHA
यह सवाल इस परीक्षण के लिए है कि क्या आप एक इंसान हैं या मशीनी स्वचालित स्पैम प्रस्तुतियाँ डालने वाली चीज
इस सरल गणितीय समस्या का समाधान करें. जैसे- उदाहरण 1+ 3= 4 और अपना पोस्ट करें
3 + 1 =
Solve this simple math problem and enter the result. E.g. for 1+3, enter 4.