संगठन

Latest

जल संगठन गतिविधियां

जल संगठन गतिविधियां

बीज बचाकर खेती बचाने की जुगत (Farm saving by saving the seeds)


मध्य प्रदेश के 35 जिलों के ग्रामीण इलाकों से निकल रही 'बीज बचाओ-खेती बचाओ' यात्रा दरअसल जैवविविधता तथा परम्परागत खेती को सहेजने की कोशिश है। इसमें पाँच सदस्यों के दल ने 55 दिनों तक 25 जिलों के गाँव–गाँव घूमकर परम्परागत देसी अनाजों, वनस्पतियों, पेड़–पौधों, देशज पशुओं, मवेशियों और विलुप्त हो रही जैवविविधता पर गाँव की चौपाल पर ग्रामीणों से बात की। यह दल गाँवों में ही रुकता और उनके जन-जीवन समझने की कोशिश करता। बीते पचास सालों में नए चलन की खेती और उत्पादन बढ़ाने की होड़ में देसी किस्म के अनाज, धान और अन्य वनस्पतियाँ तेजी से विलुप्ति की कगार तक पहुँच गई हैं। इनसे दूरस्थ और आदिवासी इलाकों में रहने वाले लोगों को पोषण सम्बन्धी कई परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। इन्हें खाने से जहाँ ग्रामीण समाज और आदिवासी हट्टे–कट्टे रहकर खूब मेहनत–मशक्कत करते रहते थे, आज उनके बच्चे गम्भीर किस्म के कुपोषित हो रहे हैं। अन्धाधुन्ध रासायनिक खादों और जहरीले कीटनाशकों के उपयोग से धरती की कई बेशकीमती प्रजातियाँ खत्म हो रही हैं। हालांकि इनमें से कुछ को अब भी कहीं–कहीं ग्रामीण समाज ने बचाकर रखा है।

इन्हें बचाना इसलिये भी आवश्यक है कि ये प्रजातियाँ हमारे भौगोलिक पारिस्थितिकी के विकास क्रम में हजारों सालों और कई पीढ़ियों के संचित ज्ञान के फलस्वरूप हमारे जन-जीवन में रची बसी हुई थीं।

संगठन ढूढ़ें
और अपने आसपास पानी पर काम करने वाले संगठन के बारे में जानें

संगठन

संस्थायें(Organisations)

क्या आप अपने इलाके में जल के क्षेत्र में कार्यरत किसी संस्था की खोज में हैं? आपकी खोज यहाँ समाप्त होती है! जल के क्षेत्र में कार्यरत संस्थाओं की इस नाम-सूचक डायरेक्टरी में आपका स्वागत है। इसमें NGO से लेकर व्यक्तिगत एवं सरकारी संस्थाओं तक सभी का समावेश किया गया है। अपना तालुका ढूँढ़ने के लिए नक़्शे का उपयोग करें या सिर्फ अपने तालुका का नाम टाइप करें।

क्या आप पानी के क्षेत्र में कार्यरत संस्थाओं की इस नाम-सूची में अपनी संस्था का नाम समाविष्ट करना चाहते हैं। आपका पुनः स्वागत है!

आइए अपना पता डाले और सुधारें

संस्थायें(Organisations)


GIS द्वारा सक्रिय पृष्ठ पर जाकर संस्था का नाम खोजने के लिए यहाँ क्लिक करें। संस्था समाविष्ट करें

आएं और देखें

संस्थायें(Organisations)



आरगनाइजेशन डाटाबेस पूरे देश की संस्थाओं को भारत के इंटरैक्टिव नक़्शे पर स्थित करनेवाला एक बहुत ही आसान परंतु शक्तिशाली साधन है। नक़्शे का हर बिंदू जल के क्षेत्र में कार्य करनेवाले किसी संस्था का निर्देश देता है तथा उस पर उस संस्था के बारे में मूलभूत जानकारी उपलब्ध है, जैसे कि संपर्क करने एवं वह किस क्षेत्र में कार्य करती है इसके संबंध में जानकारी। अपनी संस्था का नाम इस नक़्शे पर डालने पर अन्य संस्था एवं व्यक्ति आपको आसानी से ढूँढ सकते हैं एवं आपसे संपर्क कर सकते हैं। आप यहाँ अपनी संस्था के प्रशंसनिय कार्य, योजना (उपक्रम), तथा अन्य जानकारी भी दे सकते हैं। आप इस साधन का उपयोग किसी विशिष्ट क्षेत्र के विशिष्ट विभाग में कार्य करनेवाली संस्थाओं को खोजने के लिए भी कर सकते हैं।

डाटा स्त्रोत (Data Sources)
इस साधन में दी गई संस्थाओं के नाम की सूची प्राथमिक एवं अन्य सहायक स्थानों से एकत्रित की गई है। इस सूची में मौजूद अधिक से अधिक डाटा, खास करके कावेरी नदी के संग्रहण क्षेत्र के अंतर्गत आनेवाली संस्थाएं, अर्घ्यम फाउंडेशन द्वारा किए गए प्राथमिक निरीक्षण अभ्यास के जरिए एकत्रित किया गया है। अन्य सहायक सूची बनाने के लिए, हमारी कुछ समितीयों ने इन संस्थाओं को प्रत्यक्ष भेंट दी एवं संस्था के प्रतिनिधि से प्रमाणित ढाँचे में सही जानकारी प्राप्त की। अर्घ्यम फाउंडेशन की एक समिती ने कर्नाटक के कुल आठ जिलों में से डाटा एकत्रित किया। तमिलनाडू में, भारतीदासन विश्वविद्यालय, तिरुचिरापल्ली के अठारह डाक्टरल एवं मास्टर्स के छात्रों के एक दल ने कावेरी नदी संग्रहण क्षेत्र में आनेवाले ग्यारह जिलों में से जानकारी एकत्रित की। हमारे साझिदार, जैसे कि समाज प्रगति सहयोग, BIRD-K, डेवलपमेंट अल्टरनेटिव्ज एवं AME फाउंडेशन, ने जल के विषय पर कार्य करनेवाली उनकी कुछ साझिदार संस्थाओं के बारे में जानकारी हासिल करने में हमारी सहायता की है। इसके अलावा, इस डाटा बेस में सूचित कुछ संस्थाओं के नाम प्लानिंग कमिशन की NGO की सूची में से लिए गए हैं। आभार (Acknowledgements) हम BIRD-K, डेवलपमेंट अल्टरनेटिव्ज, SPS एवं AME फाउंडेशन आदि सभी साझिदारों के आभारी हैं। इसके अलावा प्लानिंग कमिशन ने उनके NGO डाटाबेस में से हमे जो NGO की सूची उपलब्ध कराई है, उसके लिए हम उनको भी धन्यवाद देना चाहते हैं। अर्घ्यम्‌ की सलाह समिती तथा भारतीदासन विश्वविद्यालय, तिरुचिरापल्ली के छात्रों ने प्राथमिक सर्वेक्षण पूर्ण करने में हमारी विशेष सहायता की है। हम उनके भी आभारी हैं।

हम Spinfo के विशेष रुप से आभारी है, जिन्होंने इस एप्लिकेशन में संस्थाओं के नाम नक़्शे पर लाने के लिए हमे पिनकोड डाटा उपलब्ध कराया है।

हम इ-गवर्नमेंट्स फाउंडेशन के भी आभारी हैं, जो कि हमारे तकनीकी सहयोगी है तथा जिन्होंने भारत जल पोर्टल का प्रबंध किया है।

डिस्क्लेमर (Disclaimer)

इस एप्लिकेशन में मौजूद संस्थाओं को नक्शे पर सबसे निकट उपलब्ध पिन कोड पर दर्शाया गया है । तथापि इस स्तर पर डाटा उपलब्धि की कुछ परीमितताओं के कारण हो सकता है कि कुछ संस्था उनके भौगोलिक स्थान-बिंदूओं से अधिकतम 12किमी की दूरी पर हों।
हालांकि इन संस्थाओं के बारे में उपलब्ध कराई गई जानकारी सही है तथा हमने इसकी पूरी छानबीन की है, किंतु यदि इस उपलब्ध जानकारी में कोई त्रुटी हो तो कृपया हमे portal@arghyam.org इस पते पर मेल भेंजे। इस जानकारी में सुधार लाने में हमे बड़ी खुशी होगी।