Latest

तभी से बादल बरसता है

Author: 
मनोहर चमोली ‘मनु’
Source: 
जनसत्ता (रविवारी) 23 जुलाई 2014
बहुत पुरानी बात है। तब धरती और बादल पास-पास रहते थे। इतने पास कि एक-दूसरे को छू लेते। उस समय धरती बहुत हल्की थी। इतनी हल्की कि हवा में उड़ जाती। कभी-कभी तो बादल धरती की पीठ पर सवार होकर पूरे अंतरिक्ष का चक्कर लगा आता।

एक दिन की बात है। धरती ने बादल से कहा- ‘तुम्हें पीठ पर बिठाते-बिठाते मैं थक गई हूं। मैं अकेले कहीं दूर घूमने जाना चाहती हूं।’

बादल ने कहा- ‘तो जा न, किसने रोका है। मगर याद रखना, जल्दी लौट आना। मैं तुझे याद करूंगा।’

बादल हंसते हुए कहने लगी- ‘तुम मुझे याद करोगे? लेकिन मुझे कैसे पता चलेगा?’

बादल सोचने लगा। फिर बोला - ‘तेरी याद आने पर मैं बरसने लगूंगा। खूब बारिश करूंगा। जब बारिश हो तो समझ लेना कि मैं याद कर रहा हूं। लेकिन याद रखना। बस लौट आना। नहीं तो मैं नाराज हो जाऊंगा।’

धरती शरमा गई। सकुचाते हुए उसने नजरें झुका लीं। फिर पूछने लगी, ‘तुम नाराज हो जाओगे? लेकिन मुझे कैसे पता चलेगा?’

बादल फिर सोचने लगा। कहने लगा- ‘नाराज होने पर मैं ओले गिराऊंगा। तूझे ओलों से ढक दूंगा। समझ लेना कि मैं नाराज हूं।’ धरती घूमने चली गई। धरती नीचे और नीचे की ओर टपक पड़ी।

कई दिन बीत गए। बादल धरती को याद करने लगा। याद में बरसने लगा। इतना बरसा कि बस बरसता रहा।

धरती हरी-भरी हो गई। धरती पर पेड़ उग आए। पहाड़ बन गए। नदियां बन गईं। समुद्र बन गया। खेत लहलहाने लगे। पशु-पक्षियों ने धरती को बसेरा बना लिया। धरती भारी हो गई। अब अपनी धुरी पर घूमने लगी। तभी से धरती घूम रही है। आज भी बादल धरती को याद करता है। खूब बरसता है। और हां, जब नाराज होता है तो ओले बरसाता है।

ईमेल : chamoli123456789@gmail.com

देखो! मैं आ रहा हूं!

Author: 
अर्चना बाली
Source: 
अनुवादः अरविन्द गुप्ता, सेंटर फॉर इंनवायरोनमेंट एडयूकेशन

अर्चना बाली

पक्षी मेरे पड़ोसी हैं

Author: 
कासिम मोहम्मद
Source: 
अनुवादः अरविन्द गुप्ता, सेंटर फॉर इंनवायरोनमेंट एडयूकेशन

कासिम मोहम्मद

कच्छ की खाड़ी के जंगली गधे

Author: 
नीता शाह
Source: 
अनुवादः अरविन्द गुप्ता, सेंटर फॉर इंनवायरोनमेंट एडयूकेशन

नीता शाह

फॉरेस्ट अफसर के साथ एक दिन

Author: 
सुनीता सिंह
Source: 
अनुवादः अरविन्द गुप्ता, सेंटर फॉर इंनवायरोनमेंट एडयूकेशन

सुनीता सिंह

नाम, स्थान, जानवर, चीज...

Author: 
सीमा भट्ट
Source: 
अनुवादः अरविन्द गुप्ता, सेंटर फॉर इंनवायरोनमेंट एडयूकेशन

सीमा भट्ट

वन्यजीवन संरक्षण के लिये लेखन

Author: 
दीपक दलाल
Source: 
अनुवादः अरविन्द गुप्ता, सेंटर फॉर इंनवायरोनमेंट एडयूकेशन

दीपक दलाल

वन्यजीवन की शूटिंग

Author: 
शेखर दत्तात्री
Source: 
अनुवादः अरविन्द गुप्ता, सेंटर फॉर इंनवायरोनमेंट एडयूकेशन

शेखर दत्तात्री

शेर का पीछा और पेशा

Author: 
रवि चेल्लम
Source: 
अनुवादः अरविन्द गुप्ता, सेंटर फॉर इंनवायरोनमेंट एडयूकेशन

रवि चेल्लम