सुरेश नौटियाल

Submitted by admin on Tue, 11/17/2009 - 13:53
सुरेश नौटियालसुरेश नौटियालपत्रकारिता के विभिन्न आयामों और पक्षों के जीवन्त रूप सुरेश नौटियाल कलम को हथियार ही मानते हैं। खुशहाल और अपने सपनों के उत्तराखण्ड के साथ-साथ धरती की सुन्दर पारिस्थितिकी के आकांक्षी सुरेश जी की लेखनी लगातार चलती रहती है।

पूर्वार्ध


1984 में प्रतिपक्ष साप्ताहिक से पत्रकारिता की यात्रा आरम्भ की। 1985 में यूएनआई समाचार एजेंसी में प्रशिक्षु पत्रकार के तौर पर शामिल हुए और 1993 में वरिष्ठ उपसम्पादक के तौर पर छोड़ा। 1994 में द ऑब्जर्वर ऑफ बिजनेस एंड पॉलिटिक्स नामक अंग्रेजी दैनिक में संवाददाता से शुरुआत और 2000 के अन्त में विशेष संवाददाता रहते हुए नौकरी त्यागी। इसके पश्चात अमर उजाला में कुछ समय विशेष संवाददाता रहे। वर्ष 2002 में सीएसडीएस के एक प्रोजेक्ट सैडेड के समन्वयक और सम्पादक रहे और इसके तुरन्त बाद सिटीजंस ग्लोबल प्लेटफोर्म के समन्वयक और सम्पादक बने। 2006 में निदेशक के रूप में मानवाधिकार संस्था एचआरएलएन में शामिल हुए और तदुपरान्त इस संस्था के प्रकाशन विभाग के वरिष्ठ निदेशक बने। साथ ही, मानवाधिकारों पर केन्द्रित पत्रिका कॉम्बैट लॉ के तीन साल तक कार्यकारी सम्पादक और इस पत्रिका के अंग्रेज़ी संस्करण के सीनियर एसोसिएट एडीटर भी रहे। वह दिल्ली में उत्तराखण्डी पत्रकारों के संगठन उत्तराखण्ड पत्रकार परिषद के पदाधिकारी भी रहे।

फिलहाल


फिलहाल सुरेश जी उत्तराखण्ड प्रभात पाक्षिकपत्र के सम्पादक हैं और पीआईबी से मान्यताप्राप्त स्वतंत्र पत्रकार के नाते हिन्दी-अंग्रेज़ी की अनेक पत्र-पत्रिकाओं में लिखते हैं।

सुरेश जी उत्तराखण्ड परिवर्तन पार्टी के केन्द्रीय उपाध्यक्ष और शीर्ष नीति-निर्धारक राजनीतिक समिति के सदस्य हैं। राइट्स एक्टीविस्ट होने के अलावा वह अन्तरराष्ट्रीय संगठन ग्लोबल ग्रीन्स, डेमोक्रेसी इंटरनेशनल, एशिया-पैसिफिक ग्रीन्स फेडरेशन और स्थानीय उत्तराखण्ड चिन्तन जैसे अनेक संगठनों में महत्त्वपूर्ण पदाधिकारी हैं।

सम्पर्क


ईमेल : sureshnautiyal@gmail.com
फोन : +91- 9868182289

Printer Friendly, PDF & Email