हाथीपावा पहाड़ी पर श्रमदान करते आदिवासी