नया ताजा

पसंदीदा आलेख

आगामी कार्यक्रम

खासम-खास

Submitted by HindiWater on Fri, 10/11/2019 - 08:38
जल संरक्षण - आवश्यकता एवं उपाय।
हम सभी जानते हैं कि जल सभी जीवित प्राणियों के अस्तित्व के लिए कितना महत्त्वपूर्ण है। आपने यह भी जानकारी प्राप्त कर ली होगी कि प्रयोग करने योग्य पानी की कमी होती जा रही है। यहाँ पर पानी के संरक्षण के कुछ महत्त्वपूर्ण उपाय, प्रत्येक व्यक्ति, समुदाय तथा जल संरक्षण में सरकार का योगदान की भूमिका के बारे में जान जाएँगे।

Content

Submitted by HindiWater on Mon, 08/19/2019 - 12:55
Source:
जनसत्ता (युवा शक्ति), 15 अगस्त, 2019
career in forest management forest department
भारत की समृद्ध और प्रचुर वन सम्पदा हमारी अर्थव्यवस्था में महत्त्वपूर्ण योगदान देती है। भारत के लगभग एक-चैथाई भाग में घने वन हैं जो दुनिया के लगभग सभी प्रकार के वनों का प्रतिनिधित्व करते हैं। देश की आबादी का एक बड़ा भाग अपनी आजीविका के लिए प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से वनों पर निर्भर हैं।
Submitted by HindiWater on Mon, 08/19/2019 - 12:17
Source:
दैनिक जागरण, 11 अगस्त 2019
maintain ecology and ecosystem
संभालें पर्यावरण की पारिस्थितिकी। आज पृथ्वी का पारिस्थितिकी तंत्र पूरी तरह से गड़बड़ा गया है। इसके बहुत से कारणों में एक हमारी इसे न समझने की प्रवृत्ति रही है। देखिए, अगर पृथ्वी सबकी थी तो ऐसा क्या हुआ कि हमारे बीच से कई प्रजातियाँ, चाहे वो पेड़-पौधे हों या जीव, उनका गायब होना शुरू हो गया ? एक मोटा आंकड़ा बताता है कि दुनिया से वन्यजीवों की 45 फीसदी और पेड़-पौधों की 12 फीसदी प्रजातियाँ घट गई हैं।
Submitted by HindiWater on Fri, 08/16/2019 - 10:23
Source:
ganga river between faith and filth
विश्वास और गंदगी के बीच गंगा नदी। हमारी राष्ट्रीय नदी गंगा के प्रदूषण का मुद्दा पिछले कई दशकों से भारत सरकार के लिए चिंता का विषय बना हुआ है। इसकी मूल वजह है गंगा के प्रति हम देशवासियों की अटूट आस्था। गंगा हमारे लिए महज एक नदी नहीं अपितु माँ है। भारतीय सभ्यता-संस्कृति, दर्शन-धर्म और अध्यात्म का पवित्र प्रवाह है। वैदिक काल से मध्ययुग तक हमारे गौरवशाली अतीत की साक्षी रही राष्ट्र की इस जीवनधारा के तटों पर ऐसी उन्नत सभ्यता विकसित हुई जिसने भारत को विश्व गुरु का दर्जा दिलाया।

प्रयास

Submitted by HindiWater on Tue, 10/15/2019 - 11:15
रामवीर तंवर।
गांव से बाहरवी तक की पढ़ाई करने के बाद मैकेनिकल इंजीनियरिंग से बीटेक करने लिए एक काॅलेज में दाखिला लिया। काॅलेज में पर्यावरण संरक्षण के लिए रामवीर काफी सक्रिय रहे। साथ ही उनके मन में जलाशयों को संरक्षित करने का विचार चलता रहा। बीटेक करने के बाद एक अच्छी नौकरी मिल गई, लेकिन बार बार मन तालाबों के संरक्षण के बारे में ही सोचता रहा।

नोटिस बोर्ड

Submitted by HindiWater on Mon, 10/14/2019 - 17:02
Source:
मातृसदन में फिर शुरू होगा गंगा की रक्षा के लिए आंदोलन।
स्वामी ज्ञान स्वरूप सानंद उर्फ प्रोफेसर जीडी अग्रवाल के प्रथम बलिदान दिवास को हरिद्वार के जगजीतपुर स्थित मातृ सदन में संकल्प सभा के रूप में आयोजित किया गया। सर्वप्रथम स्वामी सानंद के बलिदान को याद कर सभा में दो मिनट का मौन रखा गया।
Submitted by HindiWater on Fri, 08/30/2019 - 07:32
Source:
योजना, अगस्त 2019
बजट 2019 में ग्रामीण भारत विकास के लिए योजनाएं।
वित्त और कॉरपोरेट मामलों की मंत्री निर्माला सीतारमण ने संसद में वित्त वर्ष 2019-20 के लिए बजट पेश किया। केन्द्रीय बजट 2019-20 में ग्रामीण भारत से सम्बन्धित प्रमुख योजनाएँ इस तरह हैं -
Submitted by HindiWater on Sat, 07/13/2019 - 14:19
Source:
दैनिक भास्कर, 09 जुलाई 2019
भूजल स्तर बढ़ाने के लिए मध्य प्रदेश में सरकार लायेगी ग्रे-वाटर कानून।
भूजल स्तर बढ़ाने के लिए मध्य प्रदेश में सरकार लायेगी ग्रे-वाटर कानून। बारिश शुरू होते ही जल संकट दूर हो गया है, लेकिन यह राहत कुछ ही महीनों की रहेगी। यह समस्या फिर सामने आएगी, क्योंकि जितना पानी धरती में जाता है, उससे ज्यादा हम बाहर निकाल लेतेे हैं। भूजल दोहन का यह प्रतिशत 137 है। यानी, 100 लीटर पानी अंदर जाता है, तो हम 137 लीटर पानी बाहर निकालते हैं। यह प्रदेश के 56 मध्यप्रदेश के 56 फीसद से दोगुना से भी ज्यादा है।

Latest

खासम-खास

जल संरक्षण - आवश्यकता एवं उपाय

Submitted by HindiWater on Fri, 10/11/2019 - 08:38
हम सभी जानते हैं कि जल सभी जीवित प्राणियों के अस्तित्व के लिए कितना महत्त्वपूर्ण है। आपने यह भी जानकारी प्राप्त कर ली होगी कि प्रयोग करने योग्य पानी की कमी होती जा रही है। यहाँ पर पानी के संरक्षण के कुछ महत्त्वपूर्ण उपाय, प्रत्येक व्यक्ति, समुदाय तथा जल संरक्षण में सरकार का योगदान की भूमिका के बारे में जान जाएँगे।

Content

वन प्रबन्ध में करियर

Submitted by HindiWater on Mon, 08/19/2019 - 12:55
Source
जनसत्ता (युवा शक्ति), 15 अगस्त, 2019
भारत की समृद्ध और प्रचुर वन सम्पदा हमारी अर्थव्यवस्था में महत्त्वपूर्ण योगदान देती है। भारत के लगभग एक-चैथाई भाग में घने वन हैं जो दुनिया के लगभग सभी प्रकार के वनों का प्रतिनिधित्व करते हैं। देश की आबादी का एक बड़ा भाग अपनी आजीविका के लिए प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से वनों पर निर्भर हैं।

संभालें पर्यावरण की पारिस्थितिकी

Submitted by HindiWater on Mon, 08/19/2019 - 12:17
Source
दैनिक जागरण, 11 अगस्त 2019
संभालें पर्यावरण की पारिस्थितिकी।संभालें पर्यावरण की पारिस्थितिकी। आज पृथ्वी का पारिस्थितिकी तंत्र पूरी तरह से गड़बड़ा गया है। इसके बहुत से कारणों में एक हमारी इसे न समझने की प्रवृत्ति रही है। देखिए, अगर पृथ्वी सबकी थी तो ऐसा क्या हुआ कि हमारे बीच से कई प्रजातियाँ, चाहे वो पेड़-पौधे हों या जीव, उनका गायब होना शुरू हो गया ? एक मोटा आंकड़ा बताता है कि दुनिया से वन्यजीवों की 45 फीसदी और पेड़-पौधों की 12 फीसदी प्रजातियाँ घट गई हैं।

विश्वास और गंदगी के बीच गंगा नदी

Submitted by HindiWater on Fri, 08/16/2019 - 10:23
विश्वास और गंदगी के बीच गंगा नदी।विश्वास और गंदगी के बीच गंगा नदी। हमारी राष्ट्रीय नदी गंगा के प्रदूषण का मुद्दा पिछले कई दशकों से भारत सरकार के लिए चिंता का विषय बना हुआ है। इसकी मूल वजह है गंगा के प्रति हम देशवासियों की अटूट आस्था। गंगा हमारे लिए महज एक नदी नहीं अपितु माँ है। भारतीय सभ्यता-संस्कृति, दर्शन-धर्म और अध्यात्म का पवित्र प्रवाह है। वैदिक काल से मध्ययुग तक हमारे गौरवशाली अतीत की साक्षी रही राष्ट्र की इस जीवनधारा के तटों पर ऐसी उन्नत सभ्यता विकसित हुई जिसने भारत को विश्व गुरु का दर्जा दिलाया।

प्रयास

तालाबों को संरक्षित करने के लिए इंजीनियर ने छोड़ दी नौकरी

Submitted by HindiWater on Tue, 10/15/2019 - 11:15
गांव से बाहरवी तक की पढ़ाई करने के बाद मैकेनिकल इंजीनियरिंग से बीटेक करने लिए एक काॅलेज में दाखिला लिया। काॅलेज में पर्यावरण संरक्षण के लिए रामवीर काफी सक्रिय रहे। साथ ही उनके मन में जलाशयों को संरक्षित करने का विचार चलता रहा। बीटेक करने के बाद एक अच्छी नौकरी मिल गई, लेकिन बार बार मन तालाबों के संरक्षण के बारे में ही सोचता रहा।

नोटिस बोर्ड

मातृसदन में फिर शुरू होगा गंगा की रक्षा के लिए आंदोलन

Submitted by HindiWater on Mon, 10/14/2019 - 17:02
स्वामी ज्ञान स्वरूप सानंद उर्फ प्रोफेसर जीडी अग्रवाल के प्रथम बलिदान दिवास को हरिद्वार के जगजीतपुर स्थित मातृ सदन में संकल्प सभा के रूप में आयोजित किया गया। सर्वप्रथम स्वामी सानंद के बलिदान को याद कर सभा में दो मिनट का मौन रखा गया।

बजट 2019 में ग्रामीण भारत के विकास की योजनाएं

Submitted by HindiWater on Fri, 08/30/2019 - 07:32
Source
योजना, अगस्त 2019
वित्त और कॉरपोरेट मामलों की मंत्री निर्माला सीतारमण ने संसद में वित्त वर्ष 2019-20 के लिए बजट पेश किया। केन्द्रीय बजट 2019-20 में ग्रामीण भारत से सम्बन्धित प्रमुख योजनाएँ इस तरह हैं -

भूजल स्तर बढ़ाने के लिए मध्य प्रदेश सरकार लायेगी ग्रे-वाटर कानून

Submitted by HindiWater on Sat, 07/13/2019 - 14:19
Source
दैनिक भास्कर, 09 जुलाई 2019
भूजल स्तर बढ़ाने के लिए मध्य प्रदेश में सरकार लायेगी ग्रे-वाटर कानून।भूजल स्तर बढ़ाने के लिए मध्य प्रदेश में सरकार लायेगी ग्रे-वाटर कानून। बारिश शुरू होते ही जल संकट दूर हो गया है, लेकिन यह राहत कुछ ही महीनों की रहेगी। यह समस्या फिर सामने आएगी, क्योंकि जितना पानी धरती में जाता है, उससे ज्यादा हम बाहर निकाल लेतेे हैं। भूजल दोहन का यह प्रतिशत 137 है। यानी, 100 लीटर पानी अंदर जाता है, तो हम 137 लीटर पानी बाहर निकालते हैं। यह प्रदेश के 56 मध्यप्रदेश के 56 फीसद से दोगुना से भी ज्यादा है।

Upcoming Event

Popular Articles