कुपोषण के कारण फैल रहा है बच्चों में फ्लोरोसिस

Submitted by UrbanWater on Thu, 07/20/2017 - 16:41
Printer Friendly, PDF & Email


स्केलेटल फ्लोरोसिस से पीड़ित बच्चास्केलेटल फ्लोरोसिस से पीड़ित बच्चाधार। जिले के ग्रामीण क्षेत्र में फ्लोराइड को लेकर जिस तरह की जागरुकता की आवश्यकता है, वह मैदानी स्तर पर नहीं दिख रही है।

दरअसल कुपोषण और फ्लोराइड दोनों का आपस में सम्बन्ध है। जिले में कुपोषण के कारण कई बच्चे इसका शिकार होते जा रहे हैं। वहीं अभी भी लड़के और लड़कियों में खानपान में भेदभाव किया जा रहा है। इसी वजह से फ्लोराइड प्रभावित क्षेत्रों में जहाँ कुपोषण है, वहाँ पर बच्चों की स्थिति चिन्ताजनक है। माना जा रहा है कि कैल्शियम, विटामिन सी से लेकर अन्य कई जरूरी पोषक तत्व नहीं मिल पा रहे हैं इसीलिये इस तरह की स्थिति बनी है।

फ्लोराइड की मात्रा पानी में अधिक होने के कारण बच्चे दन्तीय फ्लोरोसिस से प्रभावित हो रहे हैं। इस तरह के हालात में कहीं-न-कहीं बच्चों के स्वास्थ्य पर बुरा असर पड़ रहा है।

जब तक ग्रामीण क्षेत्र के लोग खुद जागरूक नहीं होंगे तब तक इस तरह की स्थिति में सुधार के लिये किये गए प्रयास शत-प्रतिशत सफल नहीं हो सकते।

खानपान को लेकर देना होगा ध्यान


वर्तमान में पीने के पानी को शुद्ध करने के मामले में कई बार ऐसे खनिजों का पानी से नुकसान हो जाता है जो कि मानव शरीर के लिये जरूरी है। उन्होंने कहा कि खासकर आरओ या अन्य माध्यम से उपयोग होने वाले पानी में कभी-कभी जरूरी खनिज तत्व नहीं होने के कारण भी ठीक से पोषण नहीं हो पाता है और समस्या उत्पन्न होती रहती है। 

जहाँ जाँचों वहाँ मिलती है समस्या


इधर स्थिति यह है कि जिले के किसी भी ग्रामीण क्षेत्र में यदि समस्या को देखें तो वहाँ पर फ्लोराइड प्रभावित बच्चों की संख्या बड़ी तादाद में सामने आ जाती है। जिले के ग्राम सीतापाट में 8 साल का एक बच्चा इस परेशानी के चलते दिव्यांग हो गया है। यह बच्चा सामान्य रूप से स्कूल जा रहा है लेकिन कई तरह की परेशानी से जुझना पड़ता है। गाँव में ऐसे और भी कई बच्चे हैं जिनको फ्लोरोसिस बीमारी की समस्या होने की आशंका है जिसके कारण दन्तीय फ्लोरोसिस बच्चों में दिक्कत बनी हुई है।

जागरुकता के अभाव में जहरीला पानी पीने को मजबूर ग्रामीण

एक ही हैण्डपम्प से पीते हैं पानी


ग्राम सीतापाट व करौंदिया में यह बात सामने आई कि एक गाँव में एक ही हैण्डपम्प से सभी गाँव वाले पानी पीते हैं बावजूद उसके परिणाम अलग-अलग हो रहे हैं। ग्राम करौंदिया में उर्मिला नामक बच्ची फ्लोरोसिस से प्रभावित है जबकि वहीं उसका भाई प्रभावित नहीं है। ऐसी स्थिति सामने आने पर यह माना जा रहा है कि मुख्य रूप से खान-पान एक बड़ा फैक्टर है। कुपोषण जैसी स्थिति बन रही है। खासकर लड़के-लड़कियों में भेद करने के कारण भी इस तरह की स्थिति बनती हैै।

विटामिन सी एवं कैल्शियम की गोलियाँ भी उपलब्ध करवाई गईं। इसके माध्यम से सलाह दी गई है कि इन चीजों को खाने के साथ-साथ अपनी जीवनशैली में पोषक तत्वों को भी अपनाएँ। कुपोषण से बचकर भी इस बीमारी से लड़ा जा सकता है।

अशिक्षा के कारण हो रही है दिक्कत


फ्लोराइड जैसे मसले पर मैदानी स्तर पर देखें तो एक बात यह स्पष्ट हो गई है कि अभी भी आदिवासी अंचल के लोगों में अशिक्षा जैसी स्थिति बनी हुई है। यह बात तब देखने को मिलती है जब विविध संस्थाएँ या सरकारी तंत्र ग्रामीणों को स्वस्थ रहने के लिये शुद्ध पानी उपयोग करने की सलाह देता है तो उस सलाह को वह नहीं मानते हैं।

ग्रामीण क्षेत्र में पीने के पानी के जो सोर्स हैं, वह खराब हो चुके हैं। ऐसे में उन सोर्स का उपयोग केवल खेती के काम में इस्तेमाल होना चाहिए। जबकि अशिक्षा के कारण अधिकांश ग्रामीण क्षेत्र के लोग इसका उपयोग पीने के तौर पर कर लेते हैं। एक तरफ यह कहा जाता है कि सरकार द्वारा प्रयास नहीं किये जा रहे हैं जबकि सरकारी एजेंसी से लेकर विभिन्न गैर सरकारी संस्थाओं द्वारा जागरुक करने के बावजूद भी लोग यह ध्यान नहीं देते हैं कि आखिर में कौन से पानी का इस्तेमाल कब और कैसे किया जाये।

गर्मी में हो या बारिश हालात एक जैसे


ग्रामीण क्षेत्र में यह बात सामने आती है कि गर्मी के दिनों में ग्रामीण फ्लोराइड युक्त पानी पीने को मजबूर हैं। गर्मी में अधिकांश हैण्डपम्प से पानी आना बन्द हो जाता है। जिन हैण्डपम्प से पानी की आवक बनी रहती है उसी का पानी पीना उनकी मजबूरी होती। इन परिस्थितियों में सबसे बड़ी चुनौती रहती है कि वह आखिर किस सेफ सोर्स या सही विकल्प की ओर जाएँ। परिणामस्वरूप इन ग्रामीणों को आदिवासी अंचल के लोगों को पीने का पानी दूषित यानी फ्लोराइड की अधिक मात्रा वाला पानी हैण्डपम्प से लेना पड़ता है। इस तरह की स्थिति में लोगों के स्वास्थ्य पर बुरा असर पड़ता है।

वहीं बारिश के दिनों में भी लोग लापरवाही कर जाते हैं। जागरुकता का अभाव होने के कारण स्थिति बनती है लगातार कई दिनों और कई माह तक अध्ययन करने में यह पाया गया है कि ग्रामीण क्षेत्र के लोग बारिश के दिनों में हैण्डपम्प में पानी की आवक बढ़ जाती है तब भी वह अपने घर के नजदीकी हैण्डपम्प से ही पानी लेने की स्थिति में रहते हैं।

यह मानवीय स्वभाव है कि कोई भी व्यक्ति अपने पास में आसानी से चीज उपलब्ध हो तो पहले उसे प्राथमिकता देता है। लेकिन जब स्वास्थ्य की भयावह स्थिति बन रही हो और तमाम लोग इस बात को बता रहे हो कि वह शुद्ध पानी अपने घर से कुछ दूर जाकर ले सकता है तो उस दिशा में भी ध्यान देने की आवश्यकता है। ऐसी कई कमियों से मैदानी स्तर पर परेशानियाँ बनी हुई हैं। जब तक ग्रामीण क्षेत्र में सामाजिक संस्थाओं के साथ-साथ विभिन्न स्तर पर जागरुकता के प्रयास नहीं होंगे तब तक दिक्कत होती रहेगी।

सुनील को मालूम नहीं क्यों है दाँत खराब


दन्तिय फ्लोरोसिस से पीड़ित सुनीलदन्तिय फ्लोरोसिस से पीड़ित सुनीलवैसे तो जिले के कई ऐसे किशोर जिन्हें आज तक इस बात की जानकारी नहीं है कि उनके दाँत खराब क्यों हैं, लेकिन ग्राम दिलावर के सुनील ऐसा विद्यार्थी है जिसे हर रोज लोगों के सामने शर्मिन्दा होना पड़ता है। पारिवारिक मजबूरियों के चलते सुनील कभी-कभी शहरी क्षेत्र में आकर छोटे-मोटे काम करता है।

इस दौरान अधिकांश लोग यही समझते हैं कि सुनील गुटखा खाने का आदि है। ऐसे में उसके प्रति एक गलत छवि बन जाती है, जबकि उसे जानकारों के सम्पर्क में आने में बताया गया कि वह लगातार ऐसे हैण्डपम्प या ऐसे सोर्स का पानी पी रहा है जिससे उसे दन्तीय फ्लोरोसिस हो चुका है। तब जाकर उसे यह एहसास हुआ कि वह किसी बीमारी से पीड़ित है ना कि वह गुटखा आदि खाने जैसे विषय से ताल्लुक रखता है। कई बार सफाई देने के बाद भी सुनील के सामने यही पीड़ा सामने आती है कि लोग उसे गुटखा खाने वाला ही समझते हैं। जबकि उसने कभी भी तम्बाकू या गुटखे का सेवन ही नहीं किया।

उल्लेखनीय है कि जिन लोगों को दन्तीय फ्लोरोसिस हो जाता है, उनमें से अधिकांश बच्चों या किशोरों के लिये व युवाओं के लिये इस तरह की सोच बना ली जाती है कि वे किसी तम्बाकू एवं गुटखे का सेवन करते हैं। इस तरह से दन्तीय फ्लोरोसिस के मामले में अनजाने में ही एक सामाजिक प्रतिष्ठा भी जुड़ी हुई है, ऐसे में कई किशोर उम्र के बच्चों को हीन भावना से ग्रसित होना पड़ता है। इसके लिये समाज को भी जागरूक होना पड़ेगा।

वजह है कि आज आप किसी भी बच्चे को अचानक से यह नहीं कह सकते कि तुम गुटखा खाकर अपनी आदत खराब कर चुके हो। ऐसी बीमारी के बारे में लोगों को भी पता नहीं होता है कि यह दन्तीय फ्लोरोसिस है। इसलिये समाज में भी जागरुकता होनी चाहिए जिससे कि हमारे कई छोटे बच्चे जो कि ग्रामीण और आदिवासी क्षेत्र के हैं, उनके प्रति एक मिथक पाल लिया जाये जिससे उनकी छवि खराब हो जाये।

Add new comment

This question is for testing whether or not you are a human visitor and to prevent automated spam submissions.

9 + 11 =
Solve this simple math problem and enter the result. E.g. for 1+3, enter 4.

More From Author

Related Articles (Topic wise)

Related Articles (District wise)

About the author

प्रेमविजय पाटिलप्रेमविजय पाटिलमध्यप्रदेश के धार जिले में नई दुनियां के ब्यूरों चीफ प्रेमविजय पाटिल पानी-पर्यावरण के मुद्दे पर लगातार सोचते और लिखते रहते है। मितभाषी, मधुर स्वभाव के धनी श्री प्रेमविजय पाटिल समाज के विभिन्न सांस्कृतिक, सामाजिक गतिविधियों में भी सक्रिय रहते हैं। पत्रकारिता के

Latest