नॉर्वे से सीखिए वनों का संरक्षण

Submitted by editorial on Fri, 11/16/2018 - 16:24
Printer Friendly, PDF & Email

नॉर्वेनॉर्वे (फोटो साभार - रिसर्च गेट)यूरोप में 3 लाख 85 हजार वर्ग किलोमीटर क्षेत्रफल में फैला हुआ एक देश है। नाम है नॉर्वे।

एक सौ साल पहले इस देश का भूगोल कुछ अलग था। यहाँ के पेड़-पौधे धीरे-धीरे खत्म हो रहे थे। लोग अपनी जरूरतों मसलन जलावन आदि के लिये वनों की बेतहाशा कटाई कर रहे थे। एक समय तो ऐसा भी आ गया था कि लग रहा था, यहाँ की जमीन पर एक भी पेड़ नहीं बचेगा।

नॉर्वे अपने अस्तित्व बचाने के संकट से जूझने लगा था।

मानव की जिन्दगी के लिये पेड़ कितना जरूरी है, यह हम सब बचपन से पढ़ते आ रहे हैं। ऐसे में यह ख्याल अपने आप में हैरतंगेज है कि किसी देश में पेड़-पौधे गायब हो रहे हों, वहाँ किस तरह लोगों की जिन्दगी कायम रह पाती।

नॉर्वे के लोग भी शायद यही सोच रहे थे और गम्भीरता से सोच रहे थे। ये सब सोचते-विचारते ही कुछ ख्याल उनके जेहन में उभर आया होगा। उन ख्यालों और विचारों को जब जमीन पर उतारना शुरू किया गया, तो धीरे-धीरे परिणाम भी सामने आने लगा और आज नॉर्वे दुनिया के उन गिने-चुने देशों में शामिल है, जहाँ भरपूर जंगल और पेड़-पौधे मौजूद हैं।

आज से चार साल पहले तक नॉर्वे में पेड़ों की संख्या 100 साल पहले की तुलना में तीन गुना बढ़ चुकी थी। पेड़ों की कटाई पर आधारित अर्थव्यवस्था को नुकसान पहुँचाए बिना वहाँ पेड़ पौधों की संख्या में लगातार इजाफा हुआ है। एक अनुमान के मुताबिक, नॉर्वे में हर साल जितने पेड़ लगाए जाते हैं, महज उसका आधा ही काटा जाता है। इस तरह दिनोंदिन पेड़ों की संख्या में इजाफा ही हो रहा है। कहा जाता है कि नॉर्वे में जितने कार्बन का उत्सर्जन होता है, उसका 60 प्रतिशत हिस्सा पेड़-पौधे ही सोख लेते हैं।

इससे समझा जा सकता है कि नॉर्वे में प्रदूषण या पर्यावरण को होने वाले सम्भावित नुकसान को कम करने में पेड़ पौधे कितनी अहम भूमिका निभा रहे हैं।

ऊपर के जो भी आँकड़े दिये गए हैं, वे आज से चार साल पुराने हैं। अभी के हालत और भी बदल गए हैं क्योंकि पिछले चार वर्षों में वनों को बचाने के लिये नार्वे की सरकार ने और भी कई अहम और कठोर कदम उठाए हैं।

इन्हीं में एक कदम नॉर्वे सरकार ने यह उठाया कि वहाँ के पेड़ों-जंगलों की कटाई पर पूरी तरह पाबन्दी लगा दी। यही नहीं, नॉर्वे संसद की पर्यावरण व ऊर्जा पर स्थायी समिति ने शपथ के लिये एक अनुशंसा भी पेश की कि जिस भी उत्पाद में पेड़ों को काटकर उसका कोई भी तत्व इस्तेमाल किया जाएगा, उस उत्पाद का इस्तेमाल नॉर्वे में नहीं किया जाएगा।

इस शपथ को लाने में रैनफॉरेस्ट फाउंडेशन नॉर्वे ने अहम भूमिका निभाई और इसके लिये कई वर्षों तक काम किया। इसके अलावा कई वन क्षेत्रों के संरक्षण के लिये लाखों रुपए खर्च करने की मंजूरी दी गई।

यही नहीं, वनों के संरक्षण के लिये नॉर्वे सरकार ने जंगलों की कटाई पर भी पूरी तरह प्रतिबन्ध लगा दिया है। नॉर्वे ने ये सब तब किया, जब वहाँ पर्याप्त मात्रा में वन मौजूद थे। दरअसल, नॉर्वे सरकार ने ये समझ लिया था कि पर्याप्त वन होने के चलते अगर लापरवाह हो गए, तो लोग दोबारा वनों की कटाई शुरू कर देंगे जिससे दोबारा मुश्किलें पैदा हो जाएँगी।

अभी नॉर्वे वन संरक्षण को लेकर कई देशों के साथ मिलकर काम कर रहा है। कई देशों को तो नॉर्वे फंड भी कर रहा है।

यही नहीं, नॉर्वे ने इसी साल संयुक्त राष्ट्र व इंटरपोल के साथ मिलकर अवैध रूप से वनों की कटाई पर रोक लगाने का अभियान शुरू किया है।

अभियान के तहत वनों को काटकर तस्करी करने वाले अपराधियों की नकेल कसी जाएगी।

नॉर्वे ने जिस तरह वनों का संरक्षण किया और उनकी संख्या बढ़ाई, पूरी दुनिया और भारत को उससे सबक लेने की जरूरत है।

भारत के सन्दर्भ में हम नीचे बात करेंगे, इससे पहले हम यह जानने की कोशिश करते हैं कि वैश्विक स्तर पर वनों की क्या हालत है।

एक अनुमान के मुताबिक, दुनिया की कुल जमीन के महज 30 प्रतिशत हिस्से में ही वन हैं। इनमें से हर साल इंग्लैंड के आकार के वन खत्म हो रहे हैं।

बताया जाता है कि वैश्विक स्तर पर अगर इसी तरह वनों की कटाई जारी रही, तो अगले एक सौ साल में रेन फॉरेस्ट पूरी तरह खत्म हो जाएगा।

नेशनल जियोग्राफिक की एक रिपोर्ट के अनुसार, वनों की कटाई की एक प्रमुख वजह कृषि है। किसान खेती के लिये ज्यादा-से-ज्यादा जमीन चाहते हैं और इसके लिये वनों को काट रहे हैं। इसके अलावा मवेशियों के चारे के लिये भी वनों पर कुल्हाड़ी चलाई जा रही है।

वनों की कटाई की दीगर वजहों में लकड़ी आधारित कारोबार, जंगलों से होकर सड़क मार्ग का निर्माण, बढ़ती आबादी आदि शामिल हैं।

वनों की कटाई का असर पर्यावरण पर तो पड़ता ही है, इससे वन्यजीवों के अस्तित्व पर भी संकट के बादल मँडराने लगते हैं। वन असंख्यक जीव-जन्तुओं का आवास होता है। ऐसे में जब वन कटने लगते हैं, तो इन जन्तुओं का जीवन खतरे में पड़ जाता है।

वर्ष 2016 में वैश्विक स्तर वनों की स्थिति को लेकर यूनिवर्सिटी ऑफ मैरीलैंड द्वारा तैयार की गई रिपोर्ट के अनुसार करीब 73.4 मिलियन एकड़ वन क्षेत्र खत्म हो गया है। सिर्फ 2016 में वन क्षेत्र खत्म होने के आँकड़े लें, तो यह नुकसान 29.7 मिलियन हेक्टेयर आता है। पिछले वर्ष की तुलना में ये नुकसान 51 प्रतिशत अधिक है।

उक्त रिपोर्ट की मानें, तो विगत छह वर्षों की तुलना में वर्ष 2016 में सबसे ज्यादा वनों का नुकसान हुआ।

वनों को लेकर वैश्विक स्थिति के बाद अब आते हैं भारत में। भारत में भी वनों को लेकर स्थिति बहुत अच्छी नहीं है। हालांकि, पहले की अपेक्षा भारत में वनों का विस्तार हुआ है।

पर्यावरण, वन व जलवायु परिवर्तन मंत्रालय की स्टेट ऑफ फॉरेस्ट रिपोर्ट-2013 के अनुसार वर्ष 2011 से 2013 के बीच भारत में वनों के क्षेत्र में 5871 वर्ग किलोमीटर की बढ़ोत्तरी हुई है। इनमें सबसे ज्यादा इजाफा पश्चिम बंगाल और ओड़िशा में हुआ है। अन्य राज्यों में बिहार, झारखण्ड और तमिलनाडु शामिल हैं। इसके विपरीत आन्ध्र प्रदेश, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, झारखण्ड और कर्नाटक में वनों का क्षेत्रफल घटा है।

रिपोर्ट में एक दिलचस्प बात सामने आई है कि वनों का विस्तार नई जगहों पर हुआ न कि परम्परागत वन क्षेत्र में। रिपोर्ट में बताया गया है कि महज 2 प्रतिशत वनों का विस्तार वन क्षेत्र की चौहद्दी में हुआ है। बाकी विस्तार उन क्षेत्रों में हुआ है, जहाँ वन नहीं थे।

वहीं, हालिया रिपोर्ट बताती है कि भारत में वनों के विस्तार में महज एक प्रतिशत का इजाफा हुआ है। वर्ग किलोमीटर में बात की जाये, तो वर्ष 2015 से वर्ष 2017 के बीच 8021 वर्ग किलोमीटर में वनों का विस्तार हुआ है। हालांकि, पूर्वोत्तर में वन क्षेत्र में गिरावट आई है।

वनों की इस स्थिति के बारे में इंडिया स्टेट ऑफ फॉरेस्ट रिपोर्ट से पता चला है।

यह रिपोर्ट फॉरेस्ट सर्वे ऑफ इण्डिया की ओर से सेटेलाइट डेटा के विश्लेषण के बाद तैयार की गई है।

रिपोर्ट के अनुसार भारत में कुल वन क्षेत्र 8,02,088 वर्ग किलोमीटर में फैला हुआ है जो भारत के कुल क्षेत्रफल का 24.39 प्रतिशत है।

बताया जाता है कि रिपोर्ट देश भर के 633 जिलों के सर्वेक्षण के आधार पर तैयार की गई है। पूर्व के वर्षों में 589 जिलों को लेकर ही सर्वेक्षण किये जाते थे।

वैश्विक सन्दर्भ में अगर भारत के आँकड़े को देखें, तो यह हमारे लिये राहत भरी बात है। रिपोर्ट में कहा गया है कि वन क्षेत्र के मामले में भारत विश्व में 10वें स्थान पर है। यानी कि भारत दुनिया के उन 10 देशों में शुमार है, जहाँ ज्यादा वनक्षेत्र हैं।

लेकिन, रिपोर्ट में यह भी रेखांकित किया गया है कि भारत में जिन क्षेत्रों में वनों का विस्तार हुआ है, वे आदिवासी जिले हैं। इसका मतलब है कि शहर व मुफस्सिल क्षेत्रों में वनों का विस्तार नहीं हो रहा है।

उल्लेखनीय है कि केन्द्र सरकार ने वनों का विस्तार 33 प्रतिशत क्षेत्रफल में करने का लक्ष्य रखा है। इस लक्ष्य को पूरा करने के लिये जरूरी है कि देश के सभी राज्यों में वनक्षेत्रों का विस्तार 33 प्रतिशत तक हो जाये।

मौजूदा आँकड़ों के मुताबिक देश के महज 15 राज्यों में ही 33 प्रतिशत से ज्यादा वनक्षेत्र हैं। इसके अलावा पूर्वोत्तर के 7 जिलों में वनक्षेत्र 75 प्रतिशत से ज्यादा हैं।

सरकार का कहना है कि वनक्षेत्रों के विस्तार के लिये चलाई गई कई योजनाओं के परिणामस्वरूप ही वनों का क्षेत्रफल बढ़ा है।

अखिल भारतीय स्तर पर वन क्षेत्र में एक प्रतिशत का इजाफा हुआ है, जो अच्छी खबर है, लेकिन कई इलाकों में वनक्षेत्र में कमी चिन्ता की बात है।

बंगलुरु स्थित इण्डियन इंस्टिट्यूट ऑफ साइंस के इकोलॉजिकल साइंस सेंटर के टीवी रामचंद्र ने मोगांबे नाम की वेबसाइट के एक लेख में कहा है कि वेस्टर्न घाट के जिलों में उन्होंने जो सर्वेक्षण किया है, उसके मुताबिक इन जिलों में वनक्षेत्र घटा है। इसी तरह उत्तरी-पश्चिमी घाट के वनक्षेत्र में 2 फीसदी की गिरावट आई है। अन्य घाटों में भी वनक्षेत्र में गिरावट दर्ज की गई है।

इन घाट क्षेत्रों में वनक्षेत्र में कमी होने से जलसंकट की स्थिति उत्पन्न हो गई है क्योंकि वन नहीं होने से बारिश का पानी रुक नहीं पाता है जिससे स्ट्रीम सूखे पड़ जा रहे हैं।

न केवल पर्यावरण बल्कि बारिश पर आश्रित आबादी वाले क्षेत्रों में पानी की उपलब्धता के लिये वन बेहद जरूरी है। वन न केवल ग्रामीण क्षेत्रों में बल्कि शहरी क्षेत्रों में भी होना चाहिए ताकि शहरों की आबोहवा दुरुस्त रहे। वन जलवायु परिवर्तन की समस्या से लड़ने में भी मददगार है।

पर्यावरण विशेषज्ञों का कहना है कि सरकार को वनक्षेत्र बढ़ाने की योजना को प्राथमिकता की सूची में रखना चाहिए।

इसके लिये सरकार नॉर्वे से काफी कुछ सीख सकती है। हालांकि, देश में बढ़ी आबादी के मद्देनजर लोगों को रहने के लिये ज्यादा जमीन की जरूरत पड़ेगी, इसलिये जहाँ वन नहीं हैं, वहाँ नए सिरे से वनों को आबाद करना मुश्किल है, लेकिन सरकार को यह कोशिश करनी होगी कि जहाँ वन आबाद है, वहाँ आबाद ही रहे।

इसके अलावा शहरी क्षेत्रों में सरकार होम गार्डन की शक्ल में गैर-पारम्परिक वनों का विस्तार कर सकती है। इसके लिये सरकार को चाहिए कि वह लोगों को आकर्षक ऑफर होम गार्डन तैयार करने के लिये प्रेरित करे।

इसके अलावा और भी कई तरीके हैं, जिनके जरिए बिना अतिरिक्त जमीन लिये हरियाली बढ़ाई जा सकती है।

ऐसा ही एक अद्भुत तरीका पश्चिम बंगाल के कोलकाता शहर में रहने वाले एक टैक्सी चालक धनंजय चक्रवर्ती ने अपनी टैक्सी की छत पर लॉन बना रखा है। वहीं टैक्सी के भीतर आधा दर्जन से ज्यादा पौधे हैं।

वे पिछले 5-6 साल से पौधों और दूब से भरी टैक्सी चला रहे हैं। उनका कहना है कि टैक्सी की छत पर दूब लगे होने के कारण भीतर का तापमान बाहर की तुलना में कम रहता है।

पर्यावरणविदों ने धनंजय चक्रवर्ती की इस तरकीब की जमकर तारीफ की और कहा कि ऐसी ही व्यवस्था दूसरी टैक्सियों में भी की जा सकती है।

कुल मिलाकर कहा जा सकता है कि सरकार और आम लोग अगर ईमानदारी से कोशिश करें, तो वक्त रहते हरियाली का क्षेत्रफल बढ़ाकर प्रदूषण जैसे मुद्दों से बेहतर तरीके से निबटा जा सकता है।

 

 

 

TAGS

Forest conservation in Norway, Norway deforestation law, deforestation should be banned, Norway is first country to ban deforestation, countries that banned deforestation, deforestation rates by country, brazil deforestation, zero deforestation, countries with highest deforestation rate, benefits of forest9lk, social benefits of forests, economic benefits of forests, ecological benefits of forests, environmental benefits of forests, advantages of forest, benefits of forest ecosystem, forest cover in India, percentage of forest cover in India, total forest cover in India, forest cover in India state wise, north east states recorded decrease in forest, India targets 33 percent forest cover, carbon footprint, environment pollution, climate change, Green taxi in Kolkata, when did norway ban deforestation, first country to ban deforestation, deforestation should be banned, countries banned deforestation, countries with highest deforestation rate, deforestation rates by country, zero deforestation, brazil deforestation, Why should we stop deforestation?, What are the negative effects of deforestation?, Which country banned deforestation by law?, Where is deforestation the worst?, What would happen if deforestation continues?, Why should we be concerned about deforestation?, How are we trying to fix deforestation?, What are the disadvantages of deforestation?, What are the five main causes of deforestation?, Which is the first country to ban FM radio?, Which country is most affected by deforestation?, Which country has the highest deforestation rate?, How big of a problem is deforestation?, why should we stop deforestation, debate on deforestation in against, reasons why deforestation is bad, deforestation should not be banned, reasons why deforestation is good, why is deforestation happening, how to stop deforestation, effects of deforestation on human health, Which country banned deforestation by law?, Where is the most deforestation in the world?, Are there forests in Norway?, What trees grow in Norway?, Does Norway have a rainforest?, Which country has the worst deforestation?, Where is the highest rate of deforestation?, How does deforestation lead to global warming?, How many pages is Norwegian wood?, What is the name of the mountain range in Norway?, How many national parks are there in Norway?, Which countries have the highest rate of deforestation?, How much forest has been lost in the world?, Where is deforestation a problem?, What countries have deforestation?, countries with highest deforestation rate 2018, countries with highest deforestation rate 2017, russia deforestation, deforestation rates by country 2016, countries with the lowest deforestation rates, nigeria deforestation, deforestation data by country, deforestation statistics, What are some benefits of forests?, What are the economic benefits of forests?, Why forests are important for us?, How the forest is useful for us?, economic benefits of forests, environmental benefits of forests, benefits of forest wikipedia, ecological benefits of forests, advantages of forest, economic importance of forests in points, cultural benefits of forests, social benefits of forest biodiversity, How are forests economically important?, What are the ecological benefits of forests?, How do forests benefit the environment?, How important is forestry to Canada's economy?, social benefits of forests, environmental benefits of forests, benefits of forest wikipedia, economic importance of forests in points, economic importance of forests pdf, economic importance of forest wikipedia, ecological benefits of forests, how do forest products contribute to the economy of a nation, What is the ecological significance of forest?, What is an ecological benefit?, What are the economic benefits of forests?, How do forests benefit the environment?, benefits of forest wikipedia, social benefits of forests, benefits of forest essay, ecological functions of forests, economic benefits of forests, forest ecosystem, ecological uses of forests surpass commercial uses, forest ecosystem goods and services, What do forests do for the environment?, Why forests are important to the environment?, What are the advantages of forests?, How the forest is useful for us?, What is the importance of forest ecosystem?, How do forests help the environment?, How the forest is useful for us?, How are forest beneficial to us?, Which state has the largest forest cover in India?, Which state has lowest forest cover in India?, What does forest cover mean?, What part of total land of India is covered with forest?, Which state in India has no forest?, Which is biggest forest in India?, Which state has largest area of forest cover in India?, Which state has highest percentage of forest?, Which state in India has the least population?, What is the percentage of forest cover in India?, Why Lakshadweep has zero percent forest area?, Which country has most forest?, Which state has the largest area under permanent forest?, What are the different types of forest found in India?, Which is the biggest forest in the world?, forest cover in india wikipedia, percentage of forest cover in india 2017, total forest cover in india 2017, forest cover in india 2018, percentage of forest cover in india 2018, forest cover in india state wise, facts about forest cover in india, total forest cover in india 2018.

 

 

 

Add new comment

This question is for testing whether or not you are a human visitor and to prevent automated spam submissions.

9 + 7 =
Solve this simple math problem and enter the result. E.g. for 1+3, enter 4.

More From Author

Related Articles (Topic wise)

Related Articles (District wise)

About the author

उमेश कुमार रायउमेश कुमार राय पत्रकारीय करियर – बिहार में जन्मे उमेश ने स्नातक के बाद कई कम्पनियों में नौकरियाँ कीं, लेकिन पत्रकारिता में रुचि होने के कारण कहीं भी टिक नहीं पाये। सन 2009 में कलकत्ता से प्रकाशित होने वाले सबसे पुराने अखबार ‘भारतमित्र’ से पत्रकारीय करियर की शुरुआत की। भारतमित्र में बतौर प्रशिक्षु पत्रकार करीब छह महीने काम करने के बाद कलकत्ता से ही प्रकाशित हिन्दी दैनिक ‘सन्मार्ग’ में संवाददाता के रूप में काम किया। इसके बाद ‘कलयुग वार्ता’ और फिर ‘सलाम दुनिया’ हिन्दी दैनिक में सेवा दी। पानी, पर्यावरण व जनसरोकारी मुद्दों के प्रति विशेष आग्रह होने के कारण वर्ष 2016 में इण्डिया वाटर पोर्टल (हिन्दी) से जुड गए। इण्डिया वाटर पोर्टल के लिये काम करते हुए प्रभात खबर के गया संस्करण में बतौर सब-एडिटर नई पारी शुरू की।

नया ताजा