हार्वी के सबक

Submitted by UrbanWater on Sun, 10/15/2017 - 11:47
Printer Friendly, PDF & Email
Source
डाउन टू अर्थ, अक्टूबर 2017

हार्वी तूफान से तबाहीहार्वी तूफान से तबाहीहार्वी तूफान अपने पीछे बर्बाद जिन्दगियाँ और जानमाल की विशाल क्षति छोड़ गया है। तूफान से हुआ नुकसान करीब 150 से 180 बिलियन डॉलर (9,72,150 से 11,66,580 लाख करोड़ रुपए) का है। टेक्सास के तट पर एक हफ्ते तक तबाही मचाने वाले तूफान ने अमेरिका की आर्थिक व्यवस्था व राजनीति पर भी गम्भीर सवाल उठाए हैं।

यह विडम्बना ही है कि जलवायु परिवर्तन से जुड़ी यह घटना एक ऐसे राज्य में घटी है जो जलवायु परिवर्तन को नकारने वाले बहुत से लोगों का घर है। साथ ही यहाँ की अर्थव्यवस्था वैश्विक तापमान के लिये जिम्मेदार जीवाश्म ईंधनों पर बड़े पैमाने पर आश्रित है। निश्चित रूप से जलवायु की किसी घटना को वातावरण में ग्रीनहाउस गैसों के बढ़ाने के लिये प्रत्यक्ष तौर पर जिम्मेदार नहीं माना जा सकता। लेकिन वैज्ञानिकों ने बहुत पहले अनुमान लगा लिया था कि यह बढ़ोत्तरी न केवल औसत तापमान बढ़ाएगा बल्कि मौसम में अस्थिरता भी पैदा करेगा, खासकर हार्वी तूफान जैसी अतिशय (एक्सट्रीम) घटनाओं में।

इंटरगर्वनमेंटल पैनल ऑन क्लाइमेट चेंज ने कुछ साल पहले निष्कर्ष निकाला था “इस बात के प्रमाण हैं कि मानवजनित प्रभाव के कारण एक्सट्रीम घटनाओं में बदलाव आया है। ग्रीनहाउस गैसों में बढ़ोत्तरी भी इनमें से एक है।” खगोल भौतिकविद एडम फ्रेंक ने व्याख्या की थी। “ज्यादा तापमान का अर्थ है हवा में ज्यादा नमी और इसका मतलब है तेजी से वर्षण।”

यह तय है कि हॉस्टन और टेक्सास ग्रीन हाउस गैसों के बढ़ने के मामले में ज्यादा कुछ नहीं कर सकते, यद्यपि ये जलवायु परिवर्तन की नीतियाँ बनाने में सक्रिय भूमिका जरूर निभा सकते हैं। लेकिन स्थानीय और राज्य प्राधिकरण ऐसी घटनाओं के बचाव के काफी बेहतर इन्तजाम कर सकते थे जिनकी आवृत्ति से इलाका जूझा है।

तूफान के बाद सभी लोग मदद के लिये सरकार की ओर देखते हैं। ठीक ऐसे ही जैसे 2008 में आर्थिक संकट के वक्त देखा गया था। यह भी विडम्बना है कि यह एक ऐसे देश के हिस्से में हो रहा है जहाँ सरकारी और सामूहिक गतिविधियों को दरकिनार किया गया है। यह भी हैरानी भरा है कि अमेरिका में बैंकिंग के दिग्गज नवउदारवाद के उपदेश देते हुए सरकारी हस्तक्षेप कम करने की माँग उठा रहे हैं और उन नियमों को हटाने की बात कह रहे हैं जो उन्हें खतरनाक और समाज विरोधी गतिविधियों से रोकते हैं। जरूरत पड़ने पर यही लोग सरकार की शरण में चले जाते हैं।

इस तरह के प्रसंगों से स्पष्ट रूप से सबक लेने की जरूरत है। बाजार में समाज को वह सुरक्षा देने की क्षमता है जिसकी जरूरत है। जब बाजार धराशाई होते हैं, जो अक्सर हुआ भी है तो सामूहिक प्रयास अनिवार्य हो जाते हैं।

आर्थिक संकट की तरह जलवायु परिवर्तन के प्रभाव को कम करने के लिये भी सामूहिक प्रयास की जरूरत है। इसका अर्थ है कि यह सुनिश्चित किया जाये कि इमारतें और आधारभूत संरचनाएँ इस तरह बनें कि वे अतिशय घटनाओं का सामना कर सकें। साथ ही ये ऐसी जगह में न हों जो नुकसान की दृष्टि से अत्यधिक संवेदनशील हों। इसका मतलब यह भी है कि पर्यावरण की रक्षा की जाये, खासकर वेटलैंड को बचाया जाये। वेटलैंड तूफानों का प्रभाव कम करने में बेहद उपयोगी हो सकती है। इसका यह भी मतलब है कि प्राकृतिक आपदा के खतरे को कम किया जाये क्योंकि इन आपदाओं के फलस्वरूप खतरनाक रसायन पैदा हो सकता है। हॉस्टन में ऐसा हुआ भी था। इसका यह भी मतलब है कि बचाव जैसे राहत कार्य को पर्याप्त जगह मिले।

प्रभावकारी सरकारी निवेश और सख्त नियम इन परिणामों को हासिल करने में उपयोगी साबित हो सकते हैं। बिना पर्याप्त नियमों के, व्यक्ति और फर्मों को पर्याप्त सावधानियाँ बरतने के लिये लाभ हासिल नहीं होगा क्योंकि उन्हें पता है कि अतिशय घटनाओं की कीमत तो दूसरों को चुकानी होगी। सार्वजनिक योजनाओं और नियमों के अभाव में वातावरण के साथ बाढ़ भी बदतर होगी। बिना आपदा प्रबन्धन और पर्याप्त फंडिंग के कोई भी शहर हॉस्टन की तरह मुश्किलों में घिर सकता है। अगर बचाव के आदेश नहीं होंगे तो बहुत से लोग मारे जाएँगे। लेकिन अगर बचाव के आदेश होंगे तो लोग इसके बाद होने वाली असमंजस की स्थिति में जाएँगे। साथ ही उलझन में फँसकर लोग बाहर नहीं निकल पाएँगे।

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रम्प और उनकी रिपब्लिकन पार्टी ने सरकार विरोधी चरम विचारधारा को अपना रखा है। अमेरिका और दुनिया इसकी भारी कीमत चुका रही है। दुनिया कीमत इसलिये चुका रही है क्योंकि अमेरिका का ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन में किसी भी देश से ज्यादा योगदान है। आज भी अमेरिका प्रति व्यक्ति ग्रीनहाउस उत्सर्जन के मामले में विश्व में अग्रणी है। अमेरिका भी इसकी भारी कीमत चुका रहा है। गरीब विकासशील देशों जैसे हैती और इक्वाडोर ने कुछ आपदाओं का सामना करने के बाद प्राकृतिक आपदाओं से निपटना सीख लिया है। भले ही इसके लिये इन देशों ने भारी-भरकम राशि खर्च भी की हो। 2005 में न्यू ऑरलियंस में कैटरीना तूफान ने भारी तबाही मचाई थी। 2012 में सैंडी तूफान ने न्यूयॉर्क शहर के अधिकांश हिस्से को नुकसान पहुँचाया। अब टेक्सास में हार्वी के रूप में विनाश आया है। इन आपदाओं से निपटने के लिये अमेरिका बेहतर काम कर सकता है। इसके पास वे तमाम संसाधन और कुशलता है जो ऐसी घटनाओं की जटिलताओं और उसके परिणामों का विश्लेषण कर सकते हैं। साथ ही ऐसे नियम और निवेश कार्यक्रम भी बनाए जा सकते हैं जो जानमाल पर पड़ने वाले नुकसानदेय प्रभाव को सीमित कर सकते हैं।

अमेरिका के पास जिस चीज का अभाव है वह है सामंजस्यपूर्ण दृष्टिकोण। यह उन लोगों की वजह से है जो खास हितों के साथ काम करते हैं और वे एक्सट्रीम नीतियों से लाभ लेते हैं। जरूरत पड़ने पर वे दोनों तरफ की भाषा बोलते हैं। आपदा से पहले वे नियमों, सरकारी निवेश और योजनाओं का विरोध करते हैं और बाद में पुनर्वास व नुकसान की भरपाई के नाम पर बिलियंस डॉलर की माँग करते हैं और इसे हासिल भी कर लेते हैं। यह सब आसानी से रोका जा सकता है। इन हालातों में यही आशा की जा सकती है कि अमेरिका और दूसरे देशों ने हार्वी तूफान से सबक लिया होगा। उन्हें अब और समझाने बुझाने की जरूरत नहीं होनी चाहिए।

(लेखक नोबेल पुरस्कार विजेता अर्थशास्त्री हैं। यह लेख मूलरूप से प्रोजेक्ट सिंडीकेट द्वारा प्रकाशित किया गया था। डाउन टू अर्थ इसका अनुवाद किया है।)

Related Articles (Topic wise)

Related Articles (District wise)

About the author

नया ताजा