समुद्री कछुओं के संरक्षण की आवश्यकता

Submitted by editorial on Sun, 09/23/2018 - 13:15
Printer Friendly, PDF & Email
Source
संघर्षबोध
महाराष्ट्र के रत्नागिरी जिले में संरक्षित समुद्री कछुओं के घोसलें (संगठन-सहयाद्री निसर्ग मित्र)महाराष्ट्र के रत्नागिरी जिले में संरक्षित समुद्री कछुओं के घोसलें (संगठन-सहयाद्री निसर्ग मित्र) परिचय
दुनिया के सभी तटीय क्षेत्रों में नौवहन, ट्रोलिंग और मछली पकड़ने के अन्य संचालनों से समुद्री कछुओं और उनके अंडे विनष्ट होने के कारण यह अपने कई प्राकृतिक निवासों से लुप्त हो गए हैं या लुप्त होने की कगार पर हैं। कुल सात समुद्री कछुओं की प्रजातियों में से पाँच प्रजातियाँ भारत के तटीय समुद्रों में पाई जाती है और अगर सही मायनों में देखें तो चार ही प्रजातियाँ समुद्री तटों पर अंडे देने और उनके भोजन क्षेत्रों में महत्त्वपूर्ण हैं। इन प्रजातियों में शामिल हैं लेदरबैक कछुआ (डर्मीचेरलस कोरीअसीआ), हास्कबील कछुआ (इरीटमोचेइलस इम्ब्रीकेट), लागरहैड कछुआ (केरेटा), हरा कछुआ (चेइलोनिआ मायडास) और ओलिव रिडले कछुआ (लेपीडोचेइलस ओलिविसीया)। माना जाता है कि इन प्रजातियों में ओलिव रिडले प्रचुर मात्रा में पाई जाने वाली प्रजाति है। विश्व में ओलिव रिडले कछुओं के घोसलों की संख्या का एक महत्त्वपूर्ण अनुपात भारत के पूर्वी तट पर पाया जाता है।

ओलिव रिडले कछुए व्यापक रूप से वितरित एक प्रजाति हैं जो बडे़ पैमाने पर प्रजनन या अंडे देने का प्रदर्शन करता है, जिसे आरीबादाज (या आरिबाझान जोकि एक स्पेनिश शब्द है) के रूप में परिभाषित किया जाता है। ओलिव रिडले कछुओं का सबसे अधिक प्रजनन या घोसले ओडिशा के गहीरमाथा, ऋषिकुल्या और देवी नदी के मुहाने पर दिखाई देते हैं। इन सब में गहीरमाथा इन घोसलों का सबसे बड़ा क्षेत्र है जहाँ एक साल में एक साथ 1,00,000 समुद्री कछुए घोसलें बनाने के लिये आते हैं और कभी-कभी तो इनकी संख्या 6,00,000 तक पहुँच जाती है। समुद्री कछुओं की व्यापक संख्या और प्रतीयमान होने के बावज़ूद, इन कछुओं की आबादी मानव द्वारा किए गए शोषण, मत्स्य वास के नष्ट होने और मछली पकड़ने की व्यापक गतिविधियों से जर्जर हो गई।

अन्तरराष्ट्रीय प्रकृति संरक्षण संघ (IUCN) ने इस प्रजाति को वर्तमान में लुप्त प्राय प्रजातियों की सूची में शामिल किया है। यह समुद्री कछुए विश्व की लुप्तप्राय प्रजातियों में शामिल होने के कारण अन्तरराष्ट्रीय समुदाय भारत से इन समुद्री कछुओं के घोसलों को सुरक्षित स्थान और इनकी आबादी जो भोजन प्रजनन के लिये समुद्री तटों पर आती हैं, उन्हें संरक्षण देने की अपेक्षा रखता है। अन्तरराष्ट्रीय व्यापार में लुप्तप्राय प्रजाति के जीव-जन्तु परिशिष्ट सूची (CITES) ने ओलिव रिडले कछुओं को परिशिष्ट 1 में (अन्तरराष्ट्रीय व्यापार से निषिद्ध) शामिल किया गया है।

समुद्री कछुओं की आबादी के कम होने के कुछ कारण :
शीशु कछुआशीशु कछुआ झिंगा महाजाल मछली पकड़ (ट्रोलिंग) को दुनिया में समुद्री कछुओं की भारी संख्या में विनाश के कारण के रूप में जाना जाता है। जब से महाजाल मछली पकड़ प्रयोग में है, यह देखा गया है कि इस जाल में समुद्री कछुओं के पकड़े जाने और उनके मारे जाने की तादाद में भारी इजाफा हुआ है। यांत्रिकी तकनीकों के साथ महाजाल मछली पकड़ना सिर्फ समुद्री कछुओं के जीवन को बल्कि मछली पकड़ने वाले स्थानीय समुदाय की जीवनशैली इन दोनों को खतरे में डालता है। समुद्री कछुओं की असामयिक मृत्यु का प्रमुख कारण अवैध रूप से अपतटीय दायरे में होने वाली महाजाल मछली पकड़ और गिलनेट जाल है। भारत के समुद्री तटों के पास के पानी में (10 फैदम) यांत्रिकी तौर तरीकों से मछली पकड़ने पर प्रतिबंध होने के बावजूद मछुआरे महाजाल मछली पकड़ का इस्तेमाल करते आ रहे हैं और पिछले 15 वर्षों में कछुओं की मृत्युदर में वृद्धि चिंताजनक है। कछुआ अपवर्जन उपकरणें (TED) का प्रयोग महाजाल (ट्राल नेट) में अनिवार्य है, परंतु मछुआरे उसका प्रभावी ढंग से उपयोग नहीं करते। एक अनुमान के तहत गैर इरादतन पकड़े जाने से मरने वाले कछुओं की संख्या 4 से 5 प्रति महाजाल नौका है जो बहुत ज्यादा है।

1. समुद्री तटों पर लगाए गए नारियल के पेड़ कोकस न्यूसीफेरा के बागान और कासुआराना वृक्ष प्रजनन के दौरान कछुओं की मृत्यु के कारण बनते नजर आ रहे हैं।

2. स्थानीय लोगों द्वारा समुद्री कछुओं के अंडों और वयस्कों का शिकार और तटीय क्षेत्रों में विकासपरक गतिविधियों से समुद्री कछुओं की आबादी के लिये खतरा है। स्थानीय लोगों के द्वारा इन कछुओं के अंडों के शिकार की प्रवृत्ति भारत के ज्यादातर समुद्री तटों पर दिखाई देती है।

युवा कछुए समुद्र की ओर बढ़ते हुएयुवा कछुए समुद्र की ओर बढ़ते हुए 3. मछली पकड़ने की जाल में फँसे और घायल कछुओं को मांस के लिये अक्सर स्थानीय लोगों के द्वारा मार दिया जाता है। कई लोग धार्मिक आस्था के चलते इन कछुओं को भगवान विष्णु का अवतार मान छोड़ देते हैं। परंतु अधिकतर भारत के तटीय गाँवों में इन कछुओं का मांस 250 से 500 रुपये किलो तक बेचते देखा गया है।

4. समुद्री तटों पर रेत का खनन इन कछुओं के लिये एक उभरते हुए खतरे के रूप में देखा जाता है। कई समुद्री तटों पर वास्तु निर्माण हेतु रेत का खनन किया जाता है तो कई बार तट पर कम हुई रेत को बढ़ाया जाता है, इससे समुद्री कछुओं के घोसलों के प्राकृतिक आवास नष्ट हो रहे हैं।

5. समुद्री तटों और इनके नजदीकी घरों से आती कृत्रिम रोशनी इन कछुओं के लिये हानिकारक है। शिशु कछुए रेत से बाहर आने के बाद समुद्र की ओर जाने के बजाय इस कृत्रिम रोशनी की ओर आकर्षित होकर उल्टी दिशा में प्रवास करते हैं, परिणामस्वरूप इस भटकाव के कारण उनकी मृत्यु हो जाती है।

तालिका 1. भारत मे समुद्री कछुओं के संरक्षण के लिये कार्य करते संगठन

क्र. सं.

संगठन का नाम

वर्ष

कार्यस्थल

प्रजाति

1.

छात्र समुद्री कछुआ संचालन

1988

चेन्नई

ओलिव रेडले

2

अंडमान और निकोबार पर्यावरण दल

1988

अंडमान और निकोबार द्वीप

लेदर बैक कछुआ, ओलिव रीडले कछुआ और हास्कबील कछुआ

3.

वन्यजीव संरक्षण सोसायटी, भारत

1994

-

वन्यजीव उत्पादों के अवैध व्यापार पर रोक

4.

समुद्री कछुए संरक्षण समूह

1991

आंध्र प्रदेश

ओलिव रिडले

5.

वन्यजीव सोसायटी, ओडिशा

1994

ओडिशा

ओलिव रिडले

6.

विशाखा पशु क्रुरता निवारक सोसायटी

1995

आंध्र प्रदेश

ओलिव रिडले

7.

समुद्री कछुआ संरक्षण कार्य

1996

केरल

ओलिव रिडले और हरा कछुआ

8.

भारत का वन्यजीव संस्थान

1997

भारतीय समुद्री तट

 सभी प्रजातियाँ

9.

प्रोजेक्ट स्वराज

1998

ओडिशा

ओलिव रिडले

10.

ऑपरेशन कचापा

1998

ओडिशा

ओलिव रिडले

11.

सहयाद्रि निसर्ग मित्र

2002

महाराष्ट्र

ओलिव रिडले

12.

मुंबई प्राकृतिक इतिहास सोसायटी

2002

महाराष्ट्र, गोवा और गुजरात

ओलिव रिडले

13.

सलीम अली पक्षी परागण और प्राकृतिक इतिहास केंद्र

-

तमिलनाडु

ओलिव रिडले

14.

पानल संरक्षण कार्य एवं सूचना संचालन

-

केरल

ओलिव रिडले

15.

गुजरात डेजर्ट पारिस्थितिकी संस्थान

-

गुजरात

ओलिव रिडले

6. गीदड़ों (कनीस एइरइस), लकड़बग्घे और जंगली कुत्ते भी व्यस्क कछुओं, अंडों और शिशु कछुओं के परभक्षी हैं।
7. आजकल बढ़ता हुआ समुद्री और तटीय पर्यटन, समुद्री कछुओं को उनके प्राकृतिक क्षेत्रों में घोसलें बनाने में बाधा उत्पन्न कर रहा है।

ओडिशा के समुद्री तटों पर विगत 15 वर्षों में ओलिव रिडले कछुओं की मृत्युदर का ग्राफओडिशा के समुद्री तटों पर विगत 15 वर्षों में ओलिव रिडले कछुओं की मृत्युदर का ग्राफ समुद्री कछुओं की समस्याओं का समाधान उपलब्ध होने के बावजूद हमें उनके संरक्षण के उपायों को पूरी ईमानदारी से प्रयोग में लाने की जरूरत है। कछुओं के घोसलों के संभावित प्राकृतिक प्रजनन क्षेत्रों को पहचाने जाने की और उसके मानचित्र उपलब्ध कराए जाने की जरुरत है। मानवीय गतिविधियों से होने वाली कछुओं की मृत्यु के लिये इन प्रजातियों को बचाने हेतु दिशा-निर्देश बनाए जाने चाहिए। पारिस्थतिकी को हानि पहुँचाए बिना पर्यटन क्षेत्र के लिये दिशा-निर्देश बनाए जाने चाहिए तथा सागर में सहयोगात्मक कार्रवाई हेतु राष्ट्रीय और अन्तरराष्ट्रीय स्तर पर योजना बनाई जानी चाहिए। महाजाल मछली पकड़ से होने वाली समुद्री कछुओं की मृत्यु को रोकने के लिये कछुआ अपवर्जन उपकरण (TED) का इस्तेमाल आवश्यक है।

समुद्री कछुओं के संरक्षण हेतु स्थानीय लोगों को अधिक से अधिक संख्या में शामिल करना, विविध कार्यक्रमों को तैयार करने और सामग्री वितरण जैसी गतिविधियाँ कछुआ संरक्षण में लगे विभिन्न संगठनों के सदस्य और संस्थाओं द्वारा किया जा रहा है। यह आंदोलन क्रमश: रूप से पूरे भारत के तटों पर फैल रहा है, और इन गतिविधियों के समर्थन करने के लिये वित्तिय सहायता अपेक्षित है।

संदर्भ
राईट बी एवं महांती बी. 2005, ऑपरेशन कचापा : ओलिव रिडले कछुए के लिये कार्यरत एक गैर सरकारी संगठन

मत्स्यपालन प्रयोगशाला, राष्ट्रीय समुद्र विज्ञान संस्थान

TAGS

What are the 7 types of turtles? in hindi, How many sea turtles are left? in hindi, How old does sea turtles live? in hindi, Why are sea turtles going extinct? in hindi, sea turtle habitat in hindi, sea turtle size in hindi, sea turtle species in hindi, sea turtle types in hindi, loggerhead sea turtle in hindi, sea turtle shell in hindi, sea turtle mass in hindi, green sea turtle in hindi, Where do Olive Ridley turtles live? in hindi, How many olive ridley sea turtles are left? in hindi, How much does a Olive Ridley turtle weigh? in hindi, What does the Ridley turtle eat? in hindi, olive ridley turtles Orissa in hindi, olive ridley turtles upsc in hindi, olive ridley iucn in hindi, olive ridley turtle facts in hindi, olive ridley turtle body in hindi, olive ridley turtle food in hindi, olive ridley turtle special fact in hindi, olive ridley pronunciation in hindi, Why is it called trolling? in hindi, What does it mean to troll on social media? in hindi, When someone is trolling? in hindi, Is it trawling or trolling? in hindi, internet trolling in hindi, trolling examples in hindi, trolling synonym in hindi, trolling meaning in hindi, why is it called trolling? in hindi, trolling meme in hindi, trolling fishing in hindi, trolling meaning in telugu in hindi, What is sand mining used for? in hindi, What are the effects of sand mining? in hindi, Why does sand mining occur? in hindi, Where is sand mined? in hindi, disadvantages of sand mining in hindi, sand mining impacts in hindi, sand mining in india in hindi, how to control sand mining in hindi, sand mining pdf in hindi, sand mining methods in hindi, sand mining companies in hindi, illegal sand mining in india in hindi, Leatherback turtle in hindi, Where can you find leatherback turtles? in hindi, How many leatherback turtles are left in the world? in hindi, How old do leatherback sea turtles live to be? in hindi, Do leatherback turtles have teeth? in hindi, leatherback turtle facts in hindi, leatherback turtle size in hindi, leatherback turtle habitat in hindi, leatherback turtle mouth in hindi, leatherback turtle diet in hindi, leatherback turtle endangered in hindi, leatherback turtle lifespan in hindi, leatherback turtle teeth in hindi, How many Hawksbill turtles are left? in hindi, Where do Hawksbill turtles live? in hindi, Where is the hawksbill turtle found? in hindi, What is the population of hawksbill turtle? in hindi, hawksbill turtle facts in hindi, hawksbill turtle population in hindi, hawksbill turtle habitat in hindi, why are hawksbill turtles endangered in hindi, hawksbill turtle diet in hindi, hawksbill turtle shell in hindi, how many hawksbill turtles are left in hindi, hawksbill turtle population 2017 in hindi, Loggerhead turtle in hindi, How many loggerhead turtles are left? in hindi, Why are loggerhead turtles called loggerheads? in hindi, What does a loggerhead turtle look like? in hindi, What does a loggerhead turtle eat? in hindi, loggerhead turtle facts in hindi, loggerhead turtle size in hindi, loggerhead turtle habitat in hindi, loggerhead turtle diet in hindi, loggerhead turtle endangered in hindi, loggerhead turtle baby in hindi, what do loggerhead turtles eat in hindi, loggerhead turtle life cycle in hindi, Green turtle in hindi, Where do you find green turtles? in hindi, Are all turtles green? in hindi, How long do green turtles live? in hindi, Are green turtles endangered? in hindi, green turtle facts in hindi, green turtle restaurant in hindi, the green turtle menu in hindi, green turtle endangered in hindi, green turtle habitat in hindi, green turtle near me in hindi, green turtle locations in hindi, green turtle diet in hindi


Add new comment

This question is for testing whether or not you are a human visitor and to prevent automated spam submissions.

5 + 5 =
Solve this simple math problem and enter the result. E.g. for 1+3, enter 4.