उत्तरी अमेरिका महाद्वीप की प्राकृतिक बनावट एवं जलवायु

Submitted by Hindi on Fri, 04/20/2018 - 11:46
Printer Friendly, PDF & Email
Source
पर्यावरण विज्ञान उच्चतर माध्यमिक पाठ्यक्रम


पिछले दो वर्षों में हमने एशिया, यूरोप एवं अफ्रीका महाद्वीपों के बारे में पढ़ा है। इस वर्ष एक नए महाद्वीप के बारे में जानो - उत्तरी अमेरिका महाद्वीप।

इस महाद्वीप की प्राकृतिक बनावट (यानी मैदान, पहाड़ और पठार) और जलवायु (यानी गर्मी, सर्दी और वर्षा) के बारे में हम पढ़ेंगे।

अमेरिका महाद्वीपों की स्थिति
मानचित्र नं. 1 में अमेरिका नाम के दो महाद्वीप दिखाये गये हैं - उत्तर में पड़ने वाला उत्तरी अमेरिका और दक्षिण में पड़ने वाला दक्षिणी अमेरिका।

विश्व का मानचित्रउत्तरी अमेरिका के पूर्व से पश्चिम तक जाने के लिये जहाज़ों को बहुत लंबा रास्ता तय करना पड़ता था।

दोनों महाद्वीपों को जोड़ती हुई जो संकरी ज़मीन की पट्टी है, वहाँ पर सन 1914 में एक चौड़ी नहर बनकर तैयार हुई। इसे पनामा नहर कहते हैं। यह लगभग 82 कि.मी. लंबी है।

उत्तरी अमेरिका महाद्वीप की बनावट
कनाडा का शील्ड : यह बहुत पुरानी चट्टानों से बना कटा-फटा प्रदेश है। इस विशाल प्रदेश में अनेक झीलें हैं और नदियाँ इन्हीं झीलों के बीच बहती रहती हैं या फिर दलदल में खो जाती हैं।

उत्तरी अमेरिका की प्राकृतिक बनावटउत्तरी अमेरिका की जलवायु
उत्तरी अमेरिका कितना विशाल महाद्वीप है। इसमें अवश्य अलग-अलग तरह की जलवायु देखने को मिलेगी।

तुम ग्लोब में देखो तो पाओगे कि उत्तरी अमेरिका के दक्षिणी हिस्से भूमध्य रेखा के पास है और इसके उत्तरी हिस्से उत्तरी ध्रुव के पास है।

उत्तरी अमेरिका में जनवरी में तापमानसर्दी और गर्मी के मौसम में तापमान
उत्तरी अमेरिका में मुख्य रूप से दो ऋतुएँ होती हैं, गर्मी और सर्दी। पहले हम वहाँ की सर्दी के बारे में जाने।

0 डिग्री सें. तापमान में पानी बर्फ बन जाता है। जनवरी में अमेरिका के आधे से अधिक हिस्से में तापमान 0 डिग्री सें. से भी कम रहता है। यानी यहाँ पर हिमपात होता है और पानी जम जाता है।

अमेरिका के काफी उत्तर में तो तापमान शून्य से 30 डिग्री सें. से भी कम हो जाता है।

अमेरिका के बीच तक इतने कड़ाके की ठंड पड़ने का एक और मुख्य कारण है- उत्तर से दक्षिण की ओर चलने वाली बफीर्ली हवाएँ। ये हवाएँ पूरे महाद्वीप को ठंडा कर देती हैं।

इस तरह की बर्फीली हवाएँ हमारे महाद्वीप यानी एशिया महाद्वीप में भी चलती है। इनके कारण भारत में भी खूब ठंड पड़ सकती थी। लेकिन हमारे देश के उत्तर में ऊँचा हिमालय पर्वत जो है। ये पर्वत उत्तर से आने वाली बर्फीली हवाओं को रोक लेते हैं। इस कारण हमारे देश में बहुत कड़ाके की ठंड नहीं पड़ती।

अमेरिका में भी एक ऊँची पर्वतमाला है - रॉकीज पर्वत। मगर ये पर्वत उत्तर से चलने वाली हवाओं को रोक नहीं पाते हैं। ऐसा क्यों?

तापमान और खेती
फसलों को उगने और पकने के लिये कम से कम 3 या 4 डिग्री सें. औसत तापमान आवश्यक है। अगर तापमान इससे भी कम हो जाए तो फसल पक नहीं पाएगी। इसी कारण अमेरिका के उत्तरी भागों में सर्दी की ऋतु में कोई फसल नहीं उगाई जाती है। केवल दक्षिणी भागों में सर्दी में फसल होती है।

गर्मी में तापमान
अब चलो देखें वहाँ गर्मी के मौसम में तापमान कैसा रहता है।

 

 

 

 

 

जुलाई के महीने में उत्तरी अमेरिका में सबसे कम तापमान कितने डिग्री. से कितने डिग्री सें. के बीच रहता है? यह तापमान अमेरिका के कौन से भाग में रहता है? जुलाई में सबसे अधिक तापमान....डिग्री सें. से....डिग्री सें. के बीच रहता है। यह अमेरिका के कौन से भाग में रहता है?

 

तुम्हारे प्रदेश में गर्मी के दिनों में तापमान 25 डिग्री से 27 डिग्री सें. के बीच रहता है अमेरिका के अधिकांश भागों में जुलाई में औसत तापमान 25 डिग्री सें. से अधिक रहता है या कम?

 

गर्मी में अमेरिका के अधिकतर भाग तुम्हारे प्रदेश से अधिक गरम है या कम?

 

तुम्हारे प्रदेश के जितनी गर्मी अमेरिका के कौन से भाग में पड़ती होगी - पहचानो।

अमेरिका के अधिकांश भागों में खेती के लिये कौन सा मौसम ज्यादा उपयुक्त होगा- गर्मी या ठंड?

 

अमेरिका में वर्षा
किसी भी जगह की जलवायु में वहाँ के तापमान के अलावा वर्षा को भी देखना ज़रूरी है। अमेरिका में कहाँ-कहाँ कितनी बारिश होती है।

सागर से चलने वाली भाप भरी हवाएँ
प्रशांत महासागर से चलने वाली भाप भरी हवायें पश्चिम दिशा से पूर्वी दिशा की ओर बहती है।

उत्तरी अमेरिका की बनावट एवं वर्षा
प्रशांत महासागर से उठती भाप भरी ये हवाएँ ग्रेट प्लेस में बहुत कम वर्षा करती हैं।

इन हवाओं को कौन से पर्वत रोक लेते हैं?
पूर्व में अटलांटिक महासागर और मेक्सिको की खाड़ी से भी भाप भरी हवाएँ अमेरिका की ओर चलती हैं। ये हवाएँ मुख्यतः गर्मी के दिनों में चलती हैं। ये भाप भरी हवाएँ मेक्सिको की खाड़ी एवं अटलांटिक महासागर के तट में खूब वर्षा करती हैं। जैसे-जैसे ये हवाएँ अमेरिका के भीतरी भागों में पहुँचती हैं, वैसे-वैसे वे सूखती जाती हैं। इस तरह पूर्वी तट से मध्य की ओर जाने पर क्रमशः वर्षा कम होती जाती है।

अमेरिका में रेगिस्तान
अमेरिका के दक्षिण-पश्चिम में जो पठार हैं, उनके नाम याद करो। ये पठार सिएरा नेवादा पर्वत और रॉकीज़ पर्वत के बीच में पड़ते हैं। यहाँ पर बहुत कम वर्षा होती है, 25 से.मी. से भी कम। यहीं पर अमेरिका के रेगिस्तान हैं।

 

 

 

 

 

वर्षा को नापना

 

किसी भी जगह कितनी वर्षा होती है, यह कैसे नापा जाता है? एक गोलाकार बर्तन जिसका व्यास 12 से.मी. हो, उसे एक खुले मैदान में रखा जाता है। जब भी बारिश होती है तब इस बर्तन में पानी इक्ट्ठा होता है। उसमें इकट्ठे हुए पानी को हर रोज नापना घट से नापा जाता है। इसी को जोड़कर पता चलता है कि हर वर्ष उस जगह कितने से.मी. वर्षा हुई।

 

उत्तरी अमेरिका की प्राकृतिक वनस्पति
किसी भी जगह की वनस्पति वहाँ के तापमान और वर्षा पर निर्भर करती है। अमेरिका में तापमान और वर्षा में इतनी भिन्नता है, इसलिये वहाँ पाई जाने वाली वनस्पति भी बहुत अलग-अलग तरह की है। यहाँ अलग-अलग क्षेत्रों में घास, कंटीली झाड़ियाँ, कोणधारी पेड़, चौड़ी पत्ती के पेड़ आदि पाए जाते हैं।

अब चलो अमेरिका के वन और प्राकृतिक वनस्पतियों के बारे में पढ़े। पहले यह याद करो कि अमेरिका में दक्षिण में गर्मी पड़ती है और उत्तर में ठंड बढ़ती जाती है।

तुमने देखा कि अमेरिका के दक्षिण पश्चिम में ऐसे प्रदेश हैं जहाँ 25 से.मी. से भी कम वर्षा होती है। इस प्रदेश में गर्मी में खूब गर्मी भी पड़ती है। इस कारण वहाँ पानी जल्दी सूख जाता है और नमी नहीं रहती है। ऐसी जलवायु में कंटीली झाड़ियाँ और नागफनी ही उगती हैं। इन पौधों में पत्तियाँ नहीं होती हैं। केवल कांटे होते हैं। अगर पत्तियाँ होती तो उनमें से पानी जल्दी भाप बनकर उड़ जाता। अमेरिका के अरिज़ोना रेगिस्तान के नागफनी का चित्र देखो।

अगर अमेरिका के बिल्कुल उत्तरी हिस्सों को देखोगे तो पाओगे कि वहाँ भी 25 से.मी. से कम वर्षा होती है। तो क्या वहाँ भी नागफनी उगेंगे? नहीं। यह तो अमेरिका का टुंड्रा प्रदेश है। तुम्हें याद होगा टुंड्रा प्रदेश में साल में कुछ ही महीनों में धूप रहती है और वह भी हल्की-हल्की। बहुत अधिक ठंड के कारण यहाँ पानी सूखता नहीं है इसलिये यहाँ नमी की कमी नही रहती है। तो यहाँ नागफनी के उगने का सवाल ही नही उठता। पर यहाँ एक दूसरी दिक्कत है। यहाँ साल भर में सूर्य का प्रकाश इतना कम मिलता है कि पेड़ पौधे उग नहीं पाते। बस जब कुछ महीनों में धूप पड़ती है तब लाईकेन जैसी काईयाँ उग आती हैं।

अब उन प्रदेशों को देखते हैं जहाँ 25 से.मी. से अधिक, मगर 50 से.मी. से कम वर्षा होती है। मानचित्र में इस प्रदेश को पहचानो। यहाँ जितनी वर्षा होती है उसमें इस प्रदेश के दक्षिणी व मध्य के भागों में केवल घास ही घास उग पाती है, पेड़ नहीं। यहाँ दूर-दूर तक पेड़ नहीं दिखाई पड़ते। अमेरिका के इस लंबे चौड़े घास के फैलाव को प्रेरीज़ कहते हैं।

लेकिन कम वर्षा के इसी प्रदेश के उत्तरी भाग में कोणधारी पेड़ों के वन हैं। भई यह कैसे? दोनों भागों में तो उतनी ही वर्षा होती है। इसके पीछे एक कारण है। दक्षिण में गर्मी अधिक पड़ती है, सो जो पानी बरसता है वह भाप बनकर उड़ जाता है। इसलिए दक्षिण में पेड़ों के लायक नमी नहीं रहती है। इसके विपरीत उत्तर में ठंड अधिक और गर्मी कम पड़ती है। सो वहाँ पर मिट्टी में नमी बनी रहती है - पानी सूख नहीं जाता है। इस कारण वहाँ पेड़ होते हैं और वन हैं। ठंडे बर्फीले प्रदेश होने के कारण यहाँ कोणधारी पेड़ों के वन पाए जाते हैं।

अब हम अमेरिका के उन इलाकों को देखें जहाँ 50 से.मी. से अधिक वर्षा होती है। अधिक वर्षा वाले इन इलाकों में तरह-तरह के पेड़ों के घने जंगल मिलते हैं। बहुत ऊँचे पहाड़ों पर और बहुत ठंडे इलाकों में कोणधारी पेड़ों के वन पाए जाते हैं। गर्म इलाकों में चौड़ी पत्ती वाले पेड़ उगते हैं।

अभ्यास के प्रश्न
1. भारत से किस दिशा में जाने पर अमेरिका महाद्वीप मिलेगा?
2. पनामा नहर के बनने से अमेरिका के लोगों को क्या सुविधा हुई?
3. मिसिसिपी नदी की बहने की दिशा क्या है?
4. अमेरिका के कौन से भाग में विशाल मैदान हैं?
5. सर्दी के मौसम में विन्निपेग शहर में कितने डिग्री सें. से कितने डिग्री सें. तापमान रहता है? गर्मी की ऋतु मे वहाँ तापमान कितना रहता है?
6. अमेरिका में उत्तर से चलने वाली ठंडी हवाओं को रॉकीज़ पर्वत क्यों नही रोक पाते?
7. अमेरिका के उत्तरी भागों में सर्दी के महीनों में खेती क्यों नहीं हो पाती है?
8. इन चार शहरों में सबसे अधिक वर्षा कहाँ होगी - विद्रिपेग, डेन्वर, नारफोक, सेन फ्रांसिस्को?
9. ग्रेट प्लेस मे कम वर्षा होने के क्या कारण है?
10. अमेरिका के उत्तरी भागों में कम वर्षा होने पर भी कोणधारी पेड़ क्यों पाए जाते हैं?
 

Related Articles (Topic wise)

Related Articles (District wise)

About the author

नया ताजा