रिस्पना के बहाने भगीरथ बनने की पेशकश

Submitted by RuralWater on Sat, 12/23/2017 - 15:19


रिस्पना नदी का उद्गम स्थलरिस्पना नदी का उद्गम स्थलदुनिया में गोमुख से बहने वाली गंगा-भागीरथ नदी का इतिहास है कि वे राजा भगीरथ के तप के कारण स्वर्ग से धरती पर उतरी है। इसके बाद लंदन की टेम्स नदी का इतिहास इस मायने में जुड़ जाता है कि जो नदी एकदम मैली, सूखी हुई मरणासन्न में थी, वहाँ के लोगों और सरकारों ने पुनर्जीवित ही नहीं किया बल्कि आज टेम्स नदी, दुनिया में नदी संरक्षण को लेकर एक मिशाल बनी हुई है।

हालांकि यही हालात मौजूदा वक्त सभी नदियों की है। परन्तु उत्तराखण्ड की अस्थायी राजधानी देहरादून में बहने वाली रिस्पना नदी की हालत बद से बदस्तूर हो चुकी है। टेम्स नदी जैसी स्थिति में रिस्पना नदी कब आये ऐसा कहना अभी जल्दीबाजी ही होगा। मगर देहरादून की रिस्पना नदी के संरक्षण को लेकर मौजूदा मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की कुलबुलाहट अब दिखने लग रही है कि रिस्पना नदी को पुनर्जीवित ही नहीं करेंगे बल्कि वे इस नदी के पुराने सौन्दर्य को लौटाने का भरसक प्रयास करेंगे।

उल्लेखनीय हो कि सरकार या मुख्यमंत्री वे सिर्फ किसी विशेष उपलब्धि के लिये ही याद किये जाते हैं। ऐसी उपलब्धि को उत्तराखण्ड के मौजूदा मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत रिस्पना नदी को लेकर अपने साथ जोड़ना चाहते हैं। सम्भवतः इसलिये सरकार और उसके मुख्यमंत्री अक्सर बड़े ‘संकल्प’ लेते हैं, घोषणाएँ करते हैं। लेकिन इतिहास वही बनाते हैं जो संकल्प सिद्ध करते हैं।

अब बारी त्रिवेंद्र सिंह की है, अक्सर सरकारों के संकल्प उनकी सियासी मजबूरी ही होती है। लेकिन उत्तराखण्ड की सरकार इस बार एक ऐसा ‘संकल्प’ कर बैठी है जो सियासी ‘मजबूरी’ तो बिल्कुल नहीं है। फिलवक्त यह संकल्प है देहरादून में रिस्पना नदी को वापस ‘ऋषिपर्णा’ बनाने का। कहना भले ही आसान हो लेकिन दून की रिस्पना और अल्मोड़ा की कोसी को पुनर्जीवन देने का ‘संकल्प’ कोई मामूली संकल्प नहीं।

दून में रिस्पना को पुनर्जीवन का मतलब एक नदी ही पुनर्जीवित नहीं होगी, इससे पुनर्जीवित होगी एक सभ्यता, एक संस्कृति, एक विरासत। पुनर्जीवित होगा एक शहर और स्थापित होंगी नई परम्पराएँ, क्योंकि मानव सभ्यताओं और नदियों का पुराना रिश्ता जो रहा है। सिर्फ रिस्पना ही क्यों रिस्पना के साथ बिंदाल, सुसवा, सौंग, तमसा, टौंस, दुल्हनी, चंद्रभागा आदि को भी तो जीवन मिलेगा। रिस्पना और बिंदाल का महति जिक्र इसलिये क्योंकि आज देहरादून के बसते ही नाले में तब्दील हो चुकी इन दो नदियों के बीच है। आज अतिक्रमण और प्रदूषण इन्हें लील चुका है, ये दोनों नदियाँ तो गंगा की भी गुनहगार हैं।

रिस्पना नदी के किनारे बसीं अवैध कॉलोनियाँकल्पना कीजिए कि आने वाले समय में रिस्पना ऋषिपर्णा में तब्दील होकर सदानीरा हो जाएगी, तो नदी का जो शोर आज सिर्फ मकड़ैत और शिखर फाल में ही सुनाई देता है वो काठबंगला, बाडी गार्ड, आर्यनगर, राजीव नगर, भगत सिंह कॉलोनी से लेकर मोथरोवाला तक सुनाई देगा। ये वो क्षेत्र हैं जहाँ आज रिस्पना एक गन्दे नाले में तब्दील हो चुकी है।

रिस्पना के पुनर्जीवित होने पर यहाँ गन्दी बस्तियाँ नहीं होंगी, दुर्गन्ध नहीं होगा, उसमें जगह-जगह गिरती गन्दगी नहीं होगी। तब यहाँ सुन्दर हरे-भरे तट होंगे, पक्षियों का कलरव होगा, छोटे चेकडैम होंगे, सुन्दर घाट होंगे और भी बहुत कुछ ऐसा होगा जो कल्पना से परे हो। निसन्देह रिस्पना का उद्धार होगा तो बिंदाल को भी जीवन मिलेगा। बिंदाल और रिस्पना को पुनर्जीवन का अर्थ है देहरादून को नया जीवन मिलना।

रिस्पना के पुनर्जीवन के साथ ही एक बिखरा हुआ अव्यवस्थित सा शहर काफी हद तक व्यवस्थित हो जाएगा, तमाम बड़ी समस्याओं को हल मिलेगा। इतिहास गवाह है कि रिस्पना और बिंदाल दून की दो जीवनरेखाएँ रही हैं, इन्हीं नदियों के कारण कभी देहरादून बसा होगा। रिस्पना और बिंदाल जीवित होंगी तो सुसवा नदी के दिन भी बहुरेंगे। सुसवा में ‘साग’ भी लौटेगा और मछलियाँ भी।

सुसवा आज इस कदर प्रदूषित है कि किसान उसका पानी खेत में नहीं डालते। यह पूरी नदी विषैली हो चुकी है, जिस नदी क्षेत्र में होने वाली घास भी स्वादिष्ट ‘साग’ हुआ करता थी, वहाँ होने वाली घास आज पशु भी नहीं खाते। नदी क्षेत्र में रहने वाले लोग गम्भीर बीमारियों के शिकार हो रहे हैं। रिस्पना और बिंदाल के संगम से बनी यही सुसवा नदी आगे सौंग में मिलकर गंगा को भी प्रदूषित कर रही है।

अन्दाजा लगाया जा सकता है कि रिस्पना का पुनर्जीवन कितना अहम है, त्रिवेंद्र सिंह रावत सौभाग्यशाली हैं कि सत्ता सम्भालते ही उन्हें गायत्री और प्रधानमंत्री की मन की बात ने एक मकसद दिया है। आज उनके पास अवसर है, पर्याप्त समय भी है और मजबूत जनादेश भी। एकमात्र सवाल संसाधनों का है तो सरकार के लिये यह कोई बड़ी बात नहीं, बशर्ते इरादा हो, मजबूत इच्छाशक्ति हो तो लंदन की टेम्स नदी के जैसे रिस्पना नदी के दिन बहुर सकते हैं। हालांकि जो पहल मुख्यमंत्री ने शुरू की है उसे अंजाम तक पहुँचाना इतना आसान भी नहीं है।

सच तो यह है कि एक मुहाने पर संकल्प लेने भर से रिस्पना को पुनर्जीवन नहीं मिलने वाला। संकल्प सिद्ध करने के लिये मुख्यमंत्री को खुद मैदान में डटकर मोर्चा लेना होगा, एकमात्र इस संकल्प को ही सर्वोच्च प्राथमिकता में रखना होगा। आमजन को इसके लिये जागरुक कर विश्वास में लेना होगा, तथा दूसरी ओर कुछ कड़े फैसले भी लेने होंगे। उन्हें वोट बैंक की सियासत और नफा नुकसान से ऊपर उठने का दम भी दिखाना होगा।

रिस्पना, बिंदाल और सुसवा का संगम स्थलरिस्पना की बदहाली के जिम्मेदारों को भी बेनकाब करना होगा, रिवर फ्रंट डेवलपमेंट जैसी योजना को रोककर नए सिरे से वृहद योजना तैयार करानी होगी। यह योजना तो जहाँ नदी क्षेत्र कब्जे से बचा है, वहाँ भी रिस्पना को नाले में तब्दील कर रही है।

मुख्यमंत्री के लिये यह बहुत आसान नहीं बल्कि बेहद चुनौतीपूर्ण है। यह कटु सत्य है कि रिस्पना की बदहाली तो बीते डेढ़ दशक में ज्यादा हुई है। इससे ज्यादा दुर्भाग्यपूर्ण और क्या हो सकता है कि राज्य की सर्वोच्च संस्था जहाँ विधान बनता है, आज वह भी रिस्पना नदी में ही है। राज्य बनने के बाद तो इस पर बेतहाशा कब्जे हुए, उच्च न्यायालय के आदेश तक ताक पर रख दिये गए।

दुर्भाग्यपूर्ण यह है कि रिस्पना को रौंदने वाले उस पर बस्तियाँ बसाने वाले उसी के दम पर विधानसभा में पहुँच रहे हैं, सरकार का हिस्सा बन रहे हैं। त्रिवेंद्र जी मजबूत इरादों के साथ आगे बढ़िए, डटकर पूरी ताकत के साथ इस संकल्प को सिद्ध कराइए। चार साल से भी अधिक समय है आपके पास, इस संकल्प की सिद्धि के लिये पर्याप्त समय है यह। छोड़िए और सब चिन्ताएँ, एकमात्र यह कामयाबी आपकी हर नाकामी पर भारी पड़ेगी। यहाँ भी नाकाम रहे तो इतिहास माफ भी नहीं करेगा। एकमात्र यही संकल्प आपको एक कामयाब मुख्यमंत्री साबित करने के लिये काफी है, यह संकल्प सिद्ध हुआ तो जब इतिहास लिखा जाएगा निसन्देह आप ही ‘ऋषिपर्णा के भगीरथ’ कहलाएँगे।
 

Disqus Comment

More From Author

Related Articles (Topic wise)

Related Articles (District wise)

About the author

.
प्रेम पेशे से स्वतंत्र पत्रकार और जुझारु व्यक्ति हैं, विभिन्न संस्थानों और संगठनों के साथ काम करते हुए बहुत से जमीनी अनुभवों से रूबरू हुए। उन्होंने बहुत सी उपलब्धियाँ हासिल की।

 

नया ताजा