युद्ध और शान्ति के बीच जल - भाग दो

Submitted by RuralWater on Fri, 03/23/2018 - 14:38
Printer Friendly, PDF & Email

(प्रख्यात पानी कार्यकर्ता राजेन्द्र सिंह के वैश्विक जल अनुभवों पर आधारित एक शृंखला)

सीरिया, दुष्काल के चंगुल में


जल संकटजल संकट20 से 25 अक्टूबर, 2015 को टर्की के अंकारा में संयुक्त राष्ट्र संघ का एक सम्मेलन था। यह सम्मेलन, रेगिस्तान भूमि के फैलते दायरे को नियंत्रित करने पर राय-मशविरे के लिये बुलाया गया था। चूँकि, अलवर, राजस्थान के ग्रामीणों के साथ मिलकर तरुण भारत संघ इस विषय में कुछ सफल कर पाया है; लिहाजा, मुझे वहाँ की नोट स्पीकर के तौर पर आमंत्रित किया गया था। मेरे भाषण के बाद सीरिया के एक वरिष्ठ अधिकारी मेरे पास आये और बोले - ''आपकी बात मेरे दिल के करीब है। किन्तु आपने अपने भाषण में सीरिया का नाम नहीं लिया। मैं चाहता हूँ कि आप मेरे देश आएँ।''

मैं तो दुनिया की धरती और पानी देखने ही निकला था। मैंने हाँ कर दी।

दुनिया के नक्शे के हिसाब से सीरिया दुनिया के मध्य-पूर्व में स्थित है। सीरिया की एक सीमा पर लेबनान, पूर्व में इराक, पश्चिम में मध्यान्ह सागर, उत्तर में टर्की, दक्षिण में जाॅर्डन और दक्षिण-पूर्व में इसराइल देश है। अब आप देखिए कि सीरिया की सभ्यता और खेती कितनी पुरानी है! सीरिया, सदियों से कृषि प्रधान राष्ट्र रहा है। आज सीरिया, अपने ही... खासकर खेतिहर नागरिकों से खाली होता देश है।

आज की बात करें तो सीरिया आज पश्चिमी एशिया में स्थित एक ऐसे देश के रूप में जाना जाता है, जो लम्बे समय से गृह युद्ध में फँसा हुआ है। पिछले साढ़े चार सालों के सैन्य युद्ध में सीरिया के तकरीबन ढाई लाख लोग मारे जा चुके हैं। मुझे बताया गया कि एक करोड़ से ज्यादा लोग दर-बदर हो गए हैं। इस दर-बदर आबादी में से मात्र 10 प्रतिशत यानी करीब 10 लाख लोगों को ही यूरोप आदि देशों में सुरक्षित शरण मिल पाई है। मैंने यह समझने की कोशिश की कि यह क्यों हुआ? लोग उजड़े तो उजड़े क्यों?

सामान्य तौर पर बताया जाता है कि सीरिया में उपद्रव की शुरुआत मार्च, 2011 में एक लोकतांत्रिक विरोध प्रदर्शन से हुई थी। सुरक्षा बलों द्वारा प्रदर्शनकारियों पर दागी गोलियों से हुईं मौतों को लेकर भड़के लोगों ने सीरिया के राष्ट्रपति के इस्तीफे की माँग को लेकर देशव्यापी प्रदर्शन किया था। उसी प्रदर्शन को दबाने की कोशिशें, सीरिया को गृह युद्ध के हालात में घसीट लाई। मीडिया में तो यही प्रोजेक्ट किया गया कि सीरिया से लोगों के पलायन का मूल कारण, गृह युद्ध के हालात हैं।

सीरिया के गृह युद्ध को आज शिया-सुन्नी मुद्दे रूप दे दिया गया है। लेकिन मैं आपको बताऊँ कि सीरिया के नागरिकों के व्यापक विस्थापन की सबसे पहली और बुनियादी वजह यह नहीं है; बुनियादी वजह है - पानी की कमी। पानी की भयानक कमी की वजह से सीरिया के गाँवों के लोग उजड़कर, सीरिया के नगरों में आये; दूसरे देशों में गए। सीरिया के गाँवों में आये संकट ने नगरों में अफरा-तफरी मचा दी। इससे गृह युद्ध के हालात बने।

यही सच्चाई है। आप देखिए कि आज, सीरिया की करीब 70 प्रतिशत आबादी पीने के पानी की कमी से जूझ रही है। जब पीने को पानी ही पर्याप्त नहीं, तो खेती कहाँ से हो? आज, सीरिया के करीब 20 लाख से ज्यादा लोग अपनी भूख का इन्तजाम नहीं कर पा रहे हैं। लगभग इतने ही यानी सीरिया में करीब 20 लाख बच्चे ऐसे हैं, जो स्कूल से बाहर हैं। हर पाँच में से चौथा आदमी, गरीब है। 15 अलग-अलग जगह विस्थापित लोगों में से चार लाख तो ऐसे हैं कि जो जीवन सुरक्षा के बुनियादी साधनों से महरूम हैं। यह सब क्यों हुआ? पानी की कमी की वजह से ही तो। विस्थापन की असली वजह यह है।

आप समझ लें कि पलायन और विस्थापन.. दो अलग-अलग स्थितियाँ होती हैं। पलायन होता है कि आप कमाने अथवा किसी अन्य मकसद से अपने मूल स्थान से दूसरे स्थान पर चले जरूर जाते हैं, लेकिन आपका अपने मूल स्थान पर आना-जाना बना रहता है। विस्थापन - वह स्थिति है कि जब पूरा परिवार का परिवार ही अपनी जड़ों से उजड़ जाएँ। जड़ों के प्रति संवेदनहीनता भी कभी-कभी विस्थापन कराती है, किन्तु विस्थापन अक्सर मजबूरी में ही होता है अथवा जबरन किया गया अथवा कराया गया होता है। इसीलिये बाँधों के निर्माण के कारण उजड़ने को विस्थापन कहते हैं, पलायन नहीं। सीरिया से विस्थापन हुआ।

आपने जानने की कोशिश की कि सीरिया में पानी की भयानक कमी का क्या कारण है?
हाँ, मैंने जानने की कोशिश की। मुझे वहाँ इफरेटिस (Euphrates) नदी को देखने को कहा गया। इफरेटिस को सीरिया में 'ददाद' कहते हैं। इफरेटिस- पश्चिम एशिया की सबसे लम्बी नदी है। मेसोपोटामिया सभ्यता से सम्बद्ध होने के कारण, यह एक ऐतिहासिक महत्त्व की नदी भी है। मैंने, इफरेटिस के टर्की स्थित स्रोत से यात्रा शुरू की। देखा कि टर्की ने इफरेटिस नदी पर अतातुर्क नाम का एक बहुत बड़ा बाँध बनाया है। इस बाँध ने इफरेटिस के पानी को पूरी तरह बाँध रखा था। अतातुर्क बाँध के आगे इफरेटिस नदी, एक तरह से खत्म ही दिखाई दी।

मुझे बताया गया कि सीरिया के बहुत बड़ी आबादी को अपनी खेती, मछली और रोजमर्रा की जरूरत के पानी के लिये, सदियों से इफरेटिस नदी का ही सहारा रहा है। मैंने खेत देखे; लोगों से बातचीत की तो पता चला कि नदी क्या बँधी, नदी किनारे के सीरियाई भू-भाग की खेती भी उजड़ी और लोग भी। हजार-दो हजार नहीं, लाखों की आबादी उजड़ी। उजड़ने वाले बगदाद गए; लेबनान गए; फिर ग्रीस, ग्रीस से टर्की गए।

टर्की से होते हुए जर्मनी, यू के, स्वीडन, नीदरलैंड, आॅस्ट्रिया, बेल्जियम और यूरोप के देशों तक पहुँचे। अकेले जर्मनी में पहुँचे विस्थापितों की संख्या करीब साढ़े 12 लाख हैं, फ्रांस और यू के में पाँच-पाँच लाख। स्वीडन में चार लाख तो बेल्जियम में ढाई लाख के करीब लोग आये हैं। आॅस्टिया में पहुँचने वालों की संख्या भी लाखों में है और यूरोप के 20 देशों में तो एक बहुत बड़ी आबादी पहुँची है। एक देश से उजड़कर बसने वालों की तादाद पूरी दुनिया में तेजी से बढ़ रही है।

गौर करने की बात है कि विस्थापित आबादी, सबसे ज्यादा यूरोप के नगरों में ही पहुँची है। इससे नगरों में बेचैनी बढ़ी है। मैंने जब पता किया कि विस्थापितों के एक स्थान से दूसरे स्थान भटकने के क्या कारण हैं? तो पता चला कि स्थानीय नागरिकों से तालमेल न बैठ पाना अथवा भूख का इन्तजाम न हो पाना तो था ही; रिफ्यूजी का दर्जा मिलने में होने वाली देरी और मुश्किल भी इसका एक प्रमुख कारण था।

क्या आपको किसी विस्थापित परिवार से मिलने का मौका मिला?
दिक्कत तो जरूर हुई, लेकिन हालात को समझने के लिये पिछले कुछ समय से मैं खुद चार विस्थापित परिवारों को लगातार ट्रैक कर रहा हूँ। खलील, अलाह, अहमद और यामीन। खलील और यामीन - फिलहाल, यूके डालटिंगटाॅन में हैं। अलाह और अहमद - यूके के टस्काॅन में हैं। इन चारों के परिवारों को तीन साल बाद रिफ्यूजी घोषित किया गया था।

खलील - सीरिया के बास्ते अही बियर कस्बे से आया है। खलील के विस्थापन से पूर्व, उसके कस्बे की आबादी एक लाख से ज्यादा थी; अब वहाँ 7000 ही बचे हैं। खलील के साथ-साथ इसके सात भाई और तीन बहनों को भी उजड़ना पड़ा। सारा परिवार बिखर गया। आइमान - जर्मनी में, कासिम, सलीम और सेमल - लेबनान में, जलाल - नार्वे में तो खलील और यामीन - यूके में हैं। 65 वर्ष की बहन इवा - सीरिया में पड़ी है। 54 साल की फातिमा और 44 साल की इमान तथा इनके परिवार लेबनान में हैं।

इस परिवार को सामने रखकर आप कल्पना कीजिए कि उजड़ने का दर्द कितना बड़ा और अपूर्णनीय हो सकता है। क्या कोई मदद... कितना ही बड़ा मुआवजा इस दर्द की भरपाई कर सकता है? नहीं। पहली बार जब मैं खलील से मिला तो उसके परिवार के भटकने की कहानी सुनकर और उनके रहन-सहन के हालात देखकर मेरी खुद की आँखें नम हो गईं। खलील ने बताया कि अपने कस्बे से उजड़कर जब लेबनान पहुँचा तो कैसे वहाँ उसकी पत्नी इका, दो बेटे और एक बेटी.. सभी बीमार पड़ गए थे; कैसे उनका मरने जैसा हाल हो गया था। लोग, उससे और उसके परिवार से नफरत करते थे। इसलिये उसे लेबनान छोड़ना पड़ा।

2017 में रिफ्यूजी घोषित होने के बाद से खलील और उसका परिवार यूके डालटिंगटाॅन में है। पता चला कि सुसी और सेक नामक दम्पत्ति ने यहाँ इनकी बहुत सेवा की है। अब वह वहाँ सुमाखा काॅलेज में सब्जियाँ बेचने उगाने का काम करता है। चार दिन पहले मिला, तो गले मिलकर खुशी से नाचने लगा।

अहमद - यामीन का बेटा है। यामीन, सीरिया की राजधानी का रहने वाला है। वहाँ से उजड़ने के बाद अब यूके डालटिंगटाॅन में है। वहीं पर नौवीं कक्षा में पढ़ता है।

अलाह - दोराह का रहने वाला है। अलाह को 2014 में ही घर छोड़ना पड़ा। पहले वह लेबनान गया; फिर करीब डेढ़ साल तुर्की में रहा। मल्टी बेस अपरलैंड में रहने के बाद अलाह करीब पाँच महीने तक डोम्सडोनिया में रहा। फिर फ्रांस के कैलेट शहर के जांगल में तीन दिन रहने के बाद अब वह टस्काॅन में है।

यामीन भी टस्काॅन में है। मैं आपको किस-किस के उजाड़ की कहानी बताऊँ? उजड़ने वाले परिवारों से मिलिए तो एहसास होता है कि पानी, भगवान का दिया कितना महत्त्वपूर्ण उपहार है! हमारी हवस और नासमझ करतूतों के कारण हमने पानी को उजाड़ और युद्ध का औजार बना दिया है। पानी, प्रकृति की अनोखी नियामत है। कोई इसे अपना निजी कैसे बता सकता है? अन्याय होगा तो तनाव और अशान्ति होगी ही।

अब देखिए कि सीरिया और इराक के हक का पानी न देने वाले टर्की का क्या हाल है।

 

इफरेटिस नदी पर कुछ अतिरिक्त जानकारी


इफरेटिस नदी को ग्रीक सभ्यता के समय की मूल पर्सियन भाषा में उफरातू (Ufratu) नाम से पुकारा जाता था। इसे, सुमेरी भाषा में बुरान्नुआ (Buranuna) अक्काडी में पुरात्तु (Purattu) अरबी में अल-फुरत  (Al Furat) हैं। इफरेटिस नदी को टर्की में फिरात (Firat) था सीरिया (Euphrates) पेरात (Perat) से सम्बोधित किया जाता है। अरमीनियाई उच्चारण - येपरात (Yeprat) है।


इफरेटिस - पश्चिम टर्की से उत्पन्न होती है। वह इसके बाद सीरिया और इराक से गुजरती है। करीब 145 से 195 किलोमीटर लम्बा शत्त अल अरब, इफरेटिस और टिगरिस नदी को पर्सियन गल्फ से मिलाता है। इफरेटिस नदी 3000 किलोमीटर की अपनी विशाल यात्रा में टर्की के 1230 किलोमीटर, सीरिया के 710 किलोमीटर और इराक के 1060 किलोमीटर लम्बे भू-भाग से होकर गुजरती है। इफरेटिस का जलग्रहण कितना विशाल है, इसका अन्दाजा आप इसी से लगा सकते हैं कि इसके बेसिन में टर्की, सीरिया और इराक के अलावा सउदी अरब, कुवैत और ईरान भी आते हैं। वर्षा और ग्लेशियर पर आधारित होने के कारण विशेषकर अप्रैल से मई के बीच इफरेटिस में पानी बढ़ जाता है। सजुर, बालिख और खबर - सीरिया की तीन ऐसी नदियाँ हैं, जो इफरेटिस में मिलती हैं। कारा सु और मूरत नामक नदियाँ भी इफरेटिस की सहायक धाराएँ हैं।


इफरेटिस के यात्रा भू-भाग में पहाड़ भी हैं, मरुस्थल भी, ओक के जंगल भी, चारागाह भी तो खेती की समृद्ध भूमि भी। आपको जानकर खुशी होगी कि इफरेटिस नदी में मछलियों की करीब 34 प्रजातियों का खजाना रहता है।


इस नदी पर कई बाँध-बैराज हैं - इराक के हिंदिया बाँध, हादिथा बाँध और रामादी बैराज। इराक अपनी कई नहरों और झीलों के लिये इफरेटिस से ही पानी लेता है। सीरिया का तबका बाँध 1973 में बनकर पूरा हुआ। इसके बाद इफरेटिस नदी पर क्रमशः बांथ बाँध और तिशरिन नामक दो बाँध तथा इसकी सहायक धाराओं और उपधाराओं पर तीन छोटे बाँध बनाए। इफरेटिस पर टर्की का पहला बाँध - केबन बाँध 1974 में पूरा हुआ। दक्षिण-पश्चिम अंतोलिया परियोजना - टर्की द्वारा इफरेटिस और टिगरिस नदी बेसिन में करीब 22 बाँध बनाकर, 19 जलविद्युत परियोजनाओं को चलाने और करीब 17 लाख वर्ग किलोमीटर क्षेत्र को सिंचित करने तथा पेयजल उपलब्ध कराने की योजना है। इस परियोजना के तहत टर्की ने अतातुर्क नामक एक ऐसा बाँध बनाया है, जो इफरेटिस में पीछे से आने वाले सारे पानी को रोकने की क्षमता रखता है। अतातुर्क बाँध की ऊँचाई - 184 मीटर और लम्बाई 1,820 मीटर बताई गई है।


अब देखिए कि इन बाँध, बैराजों ने मिलकर क्या किया? इफरेटिस के प्रवाह में 1970 में सीरिया और टर्की में बाँध निर्माण का कार्य शुरू होने के बाद से नाटकीय परिवर्तन आया। 1990 से पहले हिट नामक स्थान पर अधिकतम प्रवाह मात्रा जहाँ 7,510 क्युबिक मीटर प्रति सेकेंड थी, 1990 के बाद यह मात्र 2,514 क्यूबिक मीटर प्रति सेकेंड पाई गई; जबकि न्यूनतम प्रवाह मात्रा 55 क्यूबिक मीटर प्रति सेकेंड से घटने की बजाय, बढ़कर 58 क्यूबिक मीटर प्रति सेकेंड हुई है। गौर करने की बात है कि 1990 के बाद हिट नामक स्थान पर इफरेटिस के सामान्य प्रवाह में भी 356 क्यूबिक मीटर प्रति सेकेंड प्रतिवर्ष की गिरावट दर्ज हुई है। इसी तरह बाँध-बैराजों ने टिगरिस नदी के प्रवाह को भी दुष्प्रभावित किया।


विकिपीडिया पर दर्ज वर्ष 2016 का आँकड़ा यह है कि टर्की की दक्षिण-पश्चिम अंतोलिया परियोजना की वजह से 382 गाँवों के दो लाख लोग विस्थापित हुए। सबसे अधिक करीब 55, 300 लोगों का विस्थापन, अकेले अतातुर्क बाँध की वजह से हुआ। असाद झील में आई बाढ़ के कारण करीब 4000 हजार परिवारों को जबरन हटाया गया। सर्वे बताता है कि विस्थापित लोगों में से अधिकांश को न तो पर्याप्त मुआवजा मिला और न ही कोई स्थायी ठिकाना।


टर्की ने वर्ष 1984 में सीरिया को यह घोषणा की थी कि वह सीरिया के लिये इफरेटिस नदी में कम-से-कम 500 क्यूबिक मीटर प्रति सेकेंड अथवा 16 क्यूबिक किलोमीटर प्रति वर्ष की दर से पानी छोड़ेगा। 1987 में दोनो देशों के बीच संधि भी हुई। 1987 में सीरिया और इराक के बीच भी संधि हुई। उसके अनुसार, सीरिया को टर्की द्वारा छोड़े कुल पानी 60 प्रतिशत इराक में जाने देना था। जल बँटवारे को लेकर 2008 में एक संयुक्त त्रिदेशीय समिति बनी। 03 सितम्बर, 2009 को तीनों देशों के बीच पुनः सहमति हुई। लेकिन टर्की ने मूल नदी जल बँटवारा संधि (1987) का उल्लंघन करते हुए 15 अप्रैल, 2014 के बाद से इफरेटिस नदी के प्रवाह में कटौती करनी शुरू की और अपनी दादागीरी जारी रखते हुए 16 मई, 2014 को सीरिया और इराक के हिस्से का पानी छोड़ना पूरी तरह बन्द कर दिया।)

 

आगे की बातचीत शृंखला को पढ़ने के लिये क्लिक करें।

युद्ध और शान्ति के बीच जल

युद्ध और शान्ति के बीच जल - भाग तीन

Comments

Add new comment

This question is for testing whether or not you are a human visitor and to prevent automated spam submissions.

13 + 4 =
Solve this simple math problem and enter the result. E.g. for 1+3, enter 4.

More From Author

Related Articles (Topic wise)

Related Articles (District wise)

About the author

अरुण तिवारीअरुण तिवारी

शिक्षा:


स्नातक, पत्रकारिता एवं जनसंपर्क में स्नातकोत्तर डिप्लोमा

कार्यवृत


श्रव्य माध्यम-

Latest