कैसे मिलेगी देश को आर्सेनिक से मुक्ति

Submitted by HindiWater on Wed, 07/31/2019 - 15:13
Printer Friendly, PDF & Email
Source
दैनिक नवज्योति, 8 जून 2019

कैसे मिलेगी देश को आर्सेनिक से मुक्ति।कैसे मिलेगी देश को आर्सेनिक से मुक्ति।आज देश में पानी में आर्सेनिक की समस्या ने विकराल रूप धारण कर लिया है। दरअसल आर्सेनिक घुला भूजल स्वास्थ्य के लिए भीषण खतरा बन गया है। दावे भले ही कितने किए जाएं, लेकिप सच्चाई यह है कि हमारे देश में लोगों को पीने का साफ पानी मुहैया करा पाने में स्थानीय निकाय असमर्थ रहे हैं। नगर-महानगर निकायों द्वारा पानी की समुचित आपूर्ति आज भी एक भयावह सपने से कम नहीं है। आए-दिन पानी के लिए होने वाले संघर्ष इसके जीते-जागते सबूत हैं। इन संघर्षों में अक्सर सिर फुटौवल की घटनाएँ तो आम बात हैं, कभी-कभार पानी को लेकर हत्याएँ भी हो जाती हैं। इतिहास इसका प्रमाण है कि गर्मी के मौसम में जल संकट के चलते इन घटनाओं में और बढ़ोत्तरी हो जाती है। 

शोधकर्ताओं द्वारा आर्सेनिक प्रभावित क्षेत्रों का एक मानचित्र भी जारी किया गया है, जो आर्सेनिक के संदूषण के कारण होने वाले जोखिम को दर्शाता है। रिपोर्ट उत्तर प्रदेश के विभिन्न इलाकों में कुओं के व्यापक परिक्षण की आवश्यकता को इंगित करती है। ऐसा कर आर्सेनिक के लिए अत्याधिक आबादी वाले समूहों में रहने वाले लोगों के दीर्घकालिक जोखिम को कम करने में यह कदम सहायक होगा।

देश में वैसे ही पीने का साफ पानी मिलना सपने से कम नहीं है और जो मिलता भी है वह प्रदूषित है। असलियत यह है कि लोग प्रदूषित पानी पीने को मजबूर हैं। इसके अलावा उनके पास कोई चारा भी नहीं है। सबसे बड़ी बात यह है उनको जो पानी पीने को मिल भी रहा है, उसमें आर्सेनिक की मात्रा निर्धारित मानको से भी ज्यादा है। नतीजतन लोग गम्भीर जानलेवा बीमारियों के शिकार होकर असमय मौत के मुँह में जाने को विवश हैं। समय≤ पर किए गए शोध-अध्ययन इसकी गवाही देते हैं। केन्द्रीय जल संसाधन मंत्रालय भी इसका खुलासा कर चुका है। हालात की भयावहता का प्रमाण यह है कि आज देश की कुल आबादी में तकरीब 23.9 करोड़ से भी अधिक लोग आर्सेनिक मिला पानी पीने को मजबूर हैं। इसमें दोराय नहीं है कि देश की अधिकांश आबादी पीने के पानी के लिए हैडपंप, कुंए और नलकूपों पर ही निर्भर हैं। सच कहा जाए तो वह इनके सहारे ही अपने पीने के पानी की जरूरत पूरी करती है, लेकिन पानी में आर्सेनिक घुला होने के कारण देश की आबादी का 19 फीसदी हिस्सा या यूँ कहें कि देश के तरीबन 153 से ज्यादा जिले त्वचा, त्वचा के घाव, हृदय सम्बन्धी रोगों, फेफड़े और मूत्राशय व अन्य अंगों के कैंसर, त्वचा का फटना, केरोटोइस और नाड़ी एवं संतानोत्पत्ति से सम्बन्धित जैसी जानलेवा बीमारी की चपेट में हैं। यही नहीं इससे बौद्धिक कार्यों की क्षमता भी प्रभावित हुई है। विडम्बना यह है कि इसके बावजूद हमारी सरकार मौन साधे बैठी है। क्यों, यह समझ से परे है।

आर्सेनिकयुक्त पानी पीने से हुइ स्किन एलर्जी।आर्सेनिकयुक्त पानी पीने से हुइ स्किन एलर्जी।

देश के सबसे बड़े प्रान्त उत्तरप्रदेश की स्थिति तो और भी बुरी है। हालिया अध्ययन चैंकाने वाला है। टेरी स्कूल ऑफ एडवांस स्टडीज के अध्ययन के निदेशक डॉ. चंदर कुमार के अनुसार यहाँ की 78 फीसदी आबादी ग्रामीण इलाकों में रहती है। यहाँ के लोग खाना, पीने के पानी, सिंचाई व अन्य घरेलू उपयोग के लिए भूजल पर ही निर्भर हैं। शहरों की तुलना में इन इलाकों में भूजल में आर्सेनिक की मात्रा मानक से बहुत ज्यादा है। वाटर रिसर्च जर्नल में प्रकाशित अध्ययन रिपोर्ट के अनुसार 1680 भूजल नमूनों के विश्लेषण-प्रयोगशाला में परीक्षण के आधार पर यह तथ्य सामने आया है कि उत्तरप्रदेश के ग्रामीण अंचल के 2.34 करोड़ लोग आर्सेनिक युक्त पानी पी रहे हैं। इस अध्ययन में भूजल में आर्सेनिक के स्तर को प्रभावित करने वाले 20 मापदण्डों जैसे भूमि आवरण, जलभूत की गहराई, मिट्टी की रासायनिक और जैविक संरचना, जल निकासी आदि के मूल्यांकन में यह स्पष्ट हुआ है कि प्रदेश के 40 जिले आर्सेनिक की उच्च सांद्रता की चपेट में हैं। यह क्षेत्र गंगा, राप्ती और घाघरा नदियों के बाढ़ क्षेत्र में हैं। इनमें बलिया, बाराबंकी, गोरखपुर, गाजीपुर, गोंडा, फैजाबाद, लखीमपुर खीरी सर्वाधिक प्रभावित हैं। इसके अलावा आर्सेनिक के मध्यम जोखिम वाले जिलों में उन्नाव, शाहजहाँपुर, चंदौली, वाराणसी, प्रतापगढ़, कुशीनगर, मउ, बलरामपुर, देवरिया और सिद्धार्थ नगर हैं। साफ है कि शहरों की तुलना में ग्रामीण इलाकों में पाइप के माध्यम से जलापूर्ति की कोई व्यवस्था नहीं है।
 
शोधकर्ताओं द्वारा आर्सेनिक प्रभावित क्षेत्रों का एक मानचित्र भी जारी किया गया है। जो आर्सेनिक के संदूषण के कारण होने वाले जोखिम को दर्शाता है। रिपोर्ट उत्तर प्रदेश के विभिन्न इलाकों में कुओं के व्यापक परीक्षण की आवश्यकता को इंगित करती है। ऐसा कर आर्सेनिक के लिए अत्याधिक आबादी वाले समूहों में रहने वाले लोगों के दीर्घकालिक जोखिम को कम करने में यह कदम सहायक होगा। जवाहर लाल नेहरु विश्वविद्यालय, दिल्ली के वैज्ञानिक आर पी सिंह ने एक शोध में इस तथ्य का खुलासा भी किया है कि आर्सेनिक एक भारी वस्तु है जो हमेशा सतह की ओर पाया जाता है। घटते भूगर्भीय जल के चलते, खेती में उपयोग में आ रहे रसायन और कारखानों से निकला रसायनयुक्त अपशेष आर्सेनिक की प्रमुख वजह है। कुछ नदियाँ ऐसे इलाकों और पहाड़ों से होकर गुजरती हैं जहाँ आर्सेनिक तत्व भारी मात्रा में होते हैं। इस बार में एम्स के ऑन्क्रोलॉजी विभाग के प्रोफेसर डॉ. एमडी रे की मानें तो शरीर में आर्सेनिक की मामूली मात्रा भी यदि लम्बे समय तक रह जाए तो कैंसर की सम्भावना कई गुना बढ़ जाती है। क्योंकि यह मानव शरीर पर जहरीला असर डालता है। उस दशा में जबकि पानी में खतरनाक आर्सेनिक तत्व मौजूद हैं। इसे चिकित्सकीय भाषा में आर्सिनिकोसिस कहते हैं। यह शरीर में आवश्यक एंजाइम्स पर नकारात्मक प्रभाव छोड़ता है, नतीजतन शरीर के कई अंग काम करना बंद कर देते हैं और रोगी की मौत हो जाती है।

TAGS

what is arsenic, arsenic in water, arsenic poisoning, arsenic meaning, arsenic water pollution, diseases caused by arsenic, arsenic 74, arsenic meaning in hindi, essay on arsenic, arsenic wikipedia, arsenic wikipedia in hindi, arsenic bromide, arsenic poison, arsenic poisoning, black foot disease is caused by, water pollution effects, what are the causes of water pollution, water pollution project, types of water pollution, water pollution essay, water pollution drawing, water pollution causes and effects, water pollution introduction.

 

More From Author

Related Articles (Topic wise)

Related Articles (District wise)

About the author

एक परिचय:


. 21 जनवरी 1952 को एटा, उ.प्र. में शिक्षक माता-पिता के यहाँ जन्म।

राजकीय इंटर कॉलेज, एटा से 12वीं परीक्षा उत्तीर्ण, सागर विश्वविद्यालय से स्नातक, छात्र जीवन में अंग्रेजी हटाओ आन्दोलन, समाजवादी युवजन सभा और छात्र संघ से जुड़ाव रहा। राजनैतिक गतिविधियों में संलिप्तता के कारण विधि स्नातक और परास्नातक की शिक्षा अपूर्ण।

नया ताजा