जलग्रहण विकास - सिद्धांत एवं रणनीति
14 Aug 2018
Environment

1.1 पर्यावरणीय अध्ययन की बहुविषयी प्रकृति
पर्यावरण की प्रकृति निरंतर परिवर्तनशील रही है जिसके अंतर्गत वर्तमान में पर्यावरण का अध्ययन विज्ञान एवं समाज विज्ञानों की विभिन्न शाखाओं में किया जा रहा है। फलस्वरूप इसकी प्रकृति बहुविषयी हो गई है। प्रारम्भ में पर्यावरण का अध्ययन प्राकृतिक विज्ञानों में ही किया जाता था लेकिन पर्यावरण के घटकों के तीव्र गति से दोहन से पर्यावरण की सुरक्षा एवं पारिस्थितिक तंत्र के सन्तुलन को बनाये रखने के लिये इसके अध्ययन का क्षेत्र विस्तृत किया गया, ताकि प्राकृतिक विज्ञानों के साथ-साथ प्राकृतिक उपक्रमों एवं मानवीय क्रियाकलापों का अध्ययन समाज विज्ञानों में भी किया जा सके। इस दृष्टि से वर्तमान में समाजशास्त्र, राजनीति विज्ञान, इतिहास एवं साहित्य में भी पर्यावरण अध्ययन का समावेश किया गया है। इसके कारण पर्यावरण अध्ययन की प्रकृति बहुविषयी बन गई है। ये सभी विषय मिलकर पर्यावरण में मानव की भूमिका एवं इसके क्रियाकलापों को समझने में सहायता करते हैं।

विज्ञान एवं समाज विज्ञानों की विभिन्न शाखाओं में किये गये पर्यावरण के विशेष पक्षों के अध्ययन द्वारा इसकी स्पष्ट व्याख्या संभव हुई है। प्रारम्भ में विज्ञान विषय में केवल पर्यावरण की संगठनात्मक प्रकृति का अध्ययन किया जाता था जो विभिन्न शाखाओं के विषय क्षेत्र तक ही सीमित था। उदाहरणार्थ, वनस्पति विज्ञान में वनस्पति एवं जलवायु जल मृदा आदि पर्यावरणीय तत्वों के सम्बन्धों का अध्ययन किया जाता था। इस आधार पर विभिन्न जीवोमों का अध्ययन इसमें सम्मिलित किया गया। इस प्रकार प्राणीशास्त्र में विश्व के जीव-जन्तुओं की विविध जातियों के विकास, स्थानान्तरण एवं वर्तमान वितरण का अध्ययन किया जाता है। रसायनशास्त्र में रासायनिक विश्लेषणों तथा भौतिक शास्त्र में तापीय एवं रेडियोधर्मिता तकनीकी का अध्ययन किया जाता है।

समाज विज्ञानों में प्राकृतिक पर्यावरण के उपयोग में सांस्कृतिक शक्तियों की भूमिका के अध्ययन पर बल दिया जाता है। इसमें जनसंख्या का पर्यावरण से सम्बन्ध तथा इसका उपयोग प्रमुख है। पर्यावरण के विभिन्न पक्षों का अध्ययन विभिन्न विशेषज्ञों द्वारा किया जाता है जो किसी विशेष विषय से संबद्ध रहते हैं। प्रसिद्ध अर्थशास्त्री बारबारा वार्ड ने स्पष्ट किया है कि पर्यावरणीय मुद्दों की बढ़ती संख्या के कारण उनके समाधान की पहचान करना मुश्किल रहा है। लेकिन वर्तमान में पर्यावरण की बढ़ती बहुविषयी प्रकृति में विभिन्न विषयों में स्थान पाया है जिसके फलस्वरूप पर्यावरण का अध्ययन इसके विभिन्न पक्षों के अनुसार विभिन्न प्राकृतिक एवं समाज विज्ञानों में किया जा रहा है।

प्रकृति में विद्यमान जैविक तथा अजैविक घटक मिलकर पर्यावरण का निर्माण करते हैं। इनमें अजैविक या भौतिक घटकों की प्रभावकारी दशाओं में विभिन्न जीव समायोजन कर जीवन संचालित करते हैं। भौतिक घटकों में स्थल, वायु, जल, मृदा आदि महत्त्वपूर्ण है। ये जीवन मंडल के विभिन्न जीवों को आधार प्रदान करते हैं तथा उनके विकास हेतु अनुकूल दशायें उत्पन्न करते हैं। प्रसिद्ध विद्वान एण्ड्री गाउडी ने अपनी पुस्तक ‘पर्यावरण की प्रकृति’ में पृथ्वी के भौतिक घटकों, जैसे; भू-आकारों, जलीय भाग, जलवायु मृदा आदि को पर्यावरण के तत्वों के रूप में स्वीकार करके इनके साथ जैविक घटकों की प्रतिक्रिया के अध्ययन के रूप में भू-दृश्य एवं पारिस्थितिकी तंत्र के मध्य भी घनिष्ट सम्बन्ध बताया है।

उन्होंने बताया कि पर्यावरण के तत्वों का अध्ययन प्रारम्भिक समय में भौतिक भूगोल में किया जाता था, लेकिन नूतन वर्षों में तीव्रता से आये परिवर्तन के तहत इनका स्वतंत्र अस्तित्व उभरकर सामने आया है। भौतिक भूगोल को मानव भूगोल से समन्वित करने के लिये इसे प्रमुख कड़ी के रूप में विकसित किया गया, जिसके अन्तर्गत पर्यावरण के तत्वों, पर्यावरणीय समस्याओं तथा पर्यावरण पर मानवीय प्रभाव को महत्त्वपूर्ण स्थान दिया गया। किसी क्षेत्र या भू-दृश्य के विकास एवं प्रकृति को समझने के लिये पर्यावरण के तत्वों का अध्ययन आवश्यक है। ये तत्व या कारक पृथक न होकर परस्पर अन्तर्सम्बन्धित होने चाहिए।

मानव पर्यावरण का प्रमुख घटक है, जो अपने कार्यों द्वारा इसे परिवर्तित करता है तथा स्वयं भी प्रभावित होता है। स्पष्ट है कि पर्यावरण सदैव परिवर्तनशील रहता है, जिसमें मानवीय एवं प्राकृतिक दोनों शक्तियों की भूमिका रहती है। यह निर्धारित करना कठिन है कि पर्यावरण में होने वाले कोई भी परिवर्तन पूर्ण रूप से प्राकृतिक कारकों का परिणाम है या मानवीय योगदान है। इस प्रकार पर्यावरण किसी स्वतंत्र कारक का प्रभाव न होकर विभिन्न कारकों (जैविक-अजैविक) का अन्तःक्रियात्मक प्रभावकारी योग है, जो स्वयं परिवर्तनशील रहते हुए प्रत्येक कारक को भी प्रभावित करता है। पर्यावरण के कारक विभिन्न शृंखलाओं पारिस्थितिकीय चक्रों तथा तंत्रों के द्वारा परस्पर एक-दूसरे से संयोजित रहते हुए सन्तुलन की दशा को बनाये रखते हैं।

पर्यावरण एक खुला तंत्र है, जो सदैव परिवर्तनशील रहता है। इसके विभिन्न अजैविक घटकों के मध्य जीवों का परस्पर सहवास होता है, क्योंकि पर्यावरण तथा जीव एक-दूसरे से जुड़े हुये हैं। ये जीव पर्यावरणीय परिवर्तनों के प्रति अनुकूलन कर लेते हैं। जीव अनुकूलन करके ही पर्यावरण से अनुक्रिया करते हैं, जिसके परिणामस्वरूप जीव मण्डलीय पारिस्थितिक तंत्र इनमें प्रभावित होता है। पर्यावरण प्रकृति की विषय विकास के साथ परिवर्तित होती रही है। इसमें प्रारम्भ में केवल भौतिक संघटकों को ही सम्मिलित किया गया जिसका गाउडी ने पुरजोर समर्थन किया लेकिन बाद में जैविक संघटकों को भी सम्मिलित किया गया तथा इनमें मानव को केन्द्रीय स्थान दिया गया। आगे चलकर 20वीं शताब्दी के आरम्भिक वर्षों में पर्यावरण को जीवों का पारिस्थितिकीय अध्ययन माना जाने लगा, इनमें टांसले महोदय का प्रमुख स्थान है। इन्होंने पर्यावरण के जैविक घटकों (पादप एवं जीव जन्तुओं) तथा इनके भौतिक परिवेश अथवा आवास के मध्य परस्पर अन्त: क्रिया को स्पष्ट किया तथा इस व्यवस्था को पारिस्थितिकी तंत्र शब्द दिया।

1.2 पर्यावरण की परिभाषा
पर्यावरण से अभिप्राय एक ऐसी प्रवृत्ति से है जो जन्तु तथा वनस्पति समुदाय को प्रभावित करती है, इस प्रवृत्ति में भौतिक तत्वों की प्रधानता होती है। पर्यावरण अंग्रेजी शब्द का भाषान्तर पुनरुक्ति है जो दो शब्दों Environ तथा ment के सामंजस्य से उत्पन्न हुआ है, जिनका अर्थ क्रमशः Encircle अर्थात आस-पास से घिरे हुये। कतिपय पारिस्थितिक वैज्ञानिकों ने पर्यावरण के लिये Environment शब्द के स्थान पर Habitat या Milieu शब्द का प्रयोग किया है जिसका अभिप्राय समस्त प्रवृत्ति से है। ए.एन. स्ट्रेहलर (1976) के अनुसार मनुष्य का अस्तित्व जीव जंतुओं तथा पादप समुदाय के साथ संभव माना है। पार्क के अनुसार उन दशाओं का योग कहलाता है जो मानव को निश्चित समयावधि में नियत स्थान पर आवृत करती है। जर्मन के वैज्ञानिक फिटिंग के अनुसार “पर्यावरण जीवों के परिवृत्तीय कारकों का योग है। इसमें जीवन की परिस्थितियों के सम्पूर्ण तथ्य आपसी सामंजस्य से वातावरण बनाते हैं”।

टांसले नामक प्रसिद्ध पादप परिस्थितिविद ने बताया है कि प्रभावकारी दशाओं का वह सम्पूर्ण योग पर्यावरण कहलाता है, जिसमें जीव जन्तु रहते हैं। पर्यावरण भौतिक तथा जैविक परिस्थितियों का सम्मिलित आवरण है जो सम्पूर्ण जीवन मण्डल को घेरे हुये है तथा जीव-जंतुओं तथा पेड़-पौधों की उत्पत्ति तथा वृद्धि को सीमित करता है। विश्व शब्दकोष में पर्यावरण की परिभाषा निम्न रूप से दी है-

पर्यावरण उन सभी दशाओं तथा प्रभावों का योग है जो जीवों व उनकी प्रजातियों के विकास, जीवन एवं मृत्यु को प्रभावित करता है।
डॉ. डेविस ने पर्यावरण को परिभाषित करते हुए लिखा है कि “मनुष्य के सम्बन्ध में पर्यावरण से अभिप्राय भू-तल पर मानव के चारों ओर फैले उन सभी भौतिक स्वरूपों से है। जिनसे वह निरन्तर प्रभावित होता रहता है”।
डडले स्टाम्प के अनुसार, पर्यावरण प्रभावों का ऐसा योग है जो किसी जीव के विकास एवं प्रकृति को परिवर्तित तथा निर्धारित करता है।
हर्सकोविट्स के अनुसार, पर्यावरण उन सभी बाह्य दशाओं और प्रभावों का योग है, जो पृथ्वी तल पर जीवों के विकास-चक्र को प्रभावित करते हैं।
अतः पर्यावरण भौतिक एवं जैविक संकल्पना है जिसमें पृथ्वी के अजैविक तथा जैविक संघटकों को समाहित किया जाता है। अजैविक दशाएं जलमण्डल, स्थलमण्डल तथा वायुमण्डल में परिदर्शित होती है-

1.3. पर्यावरण का विषय क्षेत्र
वर्तमान में पर्यावरण अध्ययन का क्षेत्र व्यापक हो गया है जिसमें जीव मण्डलीय वृहद पारिस्थितिक तंत्र के तीनों परिमण्डलों; स्थलमण्डल, जलमण्डल एवं वायुमण्डल के संघटन एवं संरचना का अध्ययन सम्मिलित है।

इससे स्पष्ट होता है कि पर्यावरण में स्थल, जल, वायु एवं जीवन मण्डल के अन्तर्सम्बन्धों का अध्ययन किया जाता है जिसमें सम्पूर्ण मानवीय क्रियाओं का निर्धारण होता है। इस प्रकार पर्यावरण भौतिक तत्वों का ऐसा समूह है जिसमें विशिष्ट भौतिक शक्तियां कार्य करती है एवं इनके प्रभाव दृश्य एवं अदृश्य रूप से परिलक्षित होते हैं।

पर्यावरण अध्ययन की विषय वस्तु में पर्यावरण में पारिस्थितिकी के विविध घटकों, इनके पारिस्थितिकीय प्रभावों, मानव पर्यावरण अन्तर्सम्बन्धों आदि का अन्तर सम्मिलित किया जाता है। साथ ही इसमें पर्यावरणीय अवनयन, प्रदूषण, जनसंख्या, नगरीकरण औद्योगिकीकरण तथा इनके पर्यावरण पर प्रभावों तथा संसाधन उपयोग एवं पर्यावरण संकट, पर्यावरण संरक्षण एवं प्रबंधन के विभिन्न पक्षों का भी अध्ययन किया जाता है।

20वीं सदी के अन्तिम दशकों में पर्यावरण की प्रकृति में पर्यावरण के भौतिक एवं जैविक घटकों को सम्मिलित रूप से अध्ययन किया जाने लगा तथा इनकी प्रभावकारी दशाओं का पारिस्थितिकीय विश्लेषण भी आरम्भ हुआ। वर्तमान में पर्यावरण की प्रकृति परिवर्तित स्वरूप में अग्रसर हो रही है तथा इसमें निम्नलिखित तथ्यों के अध्ययन को समावेशित किया जा सकता है-

(1) पारिस्थितिक प्रणाली - इसमें मानव एवं पर्यावरण के पारस्परिक प्रभावों के अध्ययन के साथ ही मानव द्वारा अपनाये अनुकूलन तथा रूपान्तरण का भी अध्ययन किया जाता है।

(2) पारिस्थितिकीय विश्लेषण - इसमें किसी भौगोलिक प्रदेश के पर्यावरण के तत्वों और मनुष्य के मध्य जैविक एवं आर्थिक सम्बन्धों के समाकलित अध्ययन का मूल्यांकन किया जाता है।

(3) स्थानिक प्रणाली - एक प्रदेश का पर्यावरण दूसरे प्रदेश के भूगोल से प्रभावित होता है तथा उसे प्रभावित करता है। क्योंकि विभिन्न परस्पर स्थानिक सम्बन्ध रखते हैं।

(4) स्थानिक विश्लेषण - स्थानिक विश्लेषण के द्वारा किसी भौगोलिक प्रदेश के पर्यावरण की अवस्थितिय भिन्नताओं को समझा जा सकता है।

(5) प्रादेशिक समिश्र विश्लेषण - इसके द्वारा किसी पर्यावरण की क्षेत्रीय भिन्नताओं की प्रादेशिक इकाइयों में पारिस्थितिक विश्लेषण और स्थानिक विश्लेषण दोनों का समिश्र अध्ययन होता है।

(6) जैव मण्डल का अध्ययन - वर्तमान समय में जैव मण्डलीय वृहद पारिस्थितिक तंत्र का पर्यावरण के अभिन्न घटक समूह के रूप में अध्ययन किया जाता है।

(7) प्राकृतिक आपदाओं का अध्ययन - ज्वालामुखी, भूकम्प, बाढ़, सूखा, चक्रवातीय तूफान आदि को पर्यावरणीय अध्ययन में महत्व मिला है।

(8) पर्यावरण में मानवकृत परिवर्तनों की भविष्यवाणी के लिये वैज्ञानिक (भौगोलिक) विकास को भी महत्व मिला है।

1.4 पर्यावरण के घटक
पर्यावरण में जीवों का अस्तित्व कायम रहता है, यह पर्यावरण अनेक तत्वों से मिलकर बना है, इन कारकों का प्रभाव जीवधारियों पर परिलक्षित होता है। पर्यावरणीय कारकों के प्रभाव परिणामस्वरूप जीवधारियों में प्रयुक्त क्रिया-कलापों के कई अनुकूलन उत्पन्न हो जाते हैं, जिससे वे जीव जीवित रह पाते हैं। पर्यावरण को अनेक कारकों के अन्तर्गत वर्गीकृत किया जा सकता है। उदाहरणार्थ - मिट्टी, जल, वायु, जलवायु के तत्व आदि। अतः मनुष्य को प्रभावित करने वाले बाह्यीय बलों या परिस्थिति को पर्यावरण के कारक कहते हैं। दूसरे शब्दों में पर्यावरण का प्रत्येक भाग या अंग जो प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से जीव-जन्तुओं कि जीवनकाल को प्रभावित करता है, उसे कारक कहते हैं।

प्रसिद्ध पर्यावरणविद डौबेनमिर ने पर्यावरण के सात तत्व-जल, मिट्टी, वायु, ताप, प्रकाश, अग्नि तथा जैविक तत्व आदि बताये हैं।

प्रसिद्ध वनस्पतिवेता ओस्टिंग ने पर्यावरण के निम्न घटक वर्णित किये हैं-

(1) पदार्थ या तत्व - मृदा एवं जल।
(2) दशायें - तापक्रम एवं प्रकाश।
(3) बल - वायु एवं गुरुत्व।
(4) जीव जगत - वनस्पति एवं जीव-जन्तु।
(5) समय

कुछ भूगोलवेत्ताओं ने जीवन के आधार पर मुख्यतया दो प्रकार जैविक तथा अजैविक तत्व बताये हैं- जैविक तत्वों में पादप, जीव-जन्तु तथा मानव को एवं अजैविक तत्वों में जल, वायु मृदा, ताप, धरातल आदि को सम्मिलित किया है। जबकि सामान्य रूप से अधिकांश भूगोलवेत्ताओं द्वारा निम्नलिखित घटकों को सम्मिलित किया गया है-

(1) अवस्थिति
(क) ज्यामितिय अवस्थिति।
(ख) सामुद्रिक एवं स्थलीय अवस्थिति।
(ग) निकटवर्ती देशों के संदर्भ में अवस्थिति।
(2) उच्चावच
(3) जलवायु
(4) प्राकृतिक वनस्पति
(5) जैविक कारक
(क) मानव
(ख) अन्य जीव-जन्तु
(6) मृदा कारक
(7) जल राशिया

1.4.1 अवस्थिति
अवस्थिति एक ऐसा महत्त्वपूर्ण कारक है जिसका पर्यावरण के अंग के रूप में भौगोलिक अध्ययन किया जाता है। अवस्थिति स्थित होती है, परन्तु समय के साथ उसकी सापेक्षिक महत्ता परिवर्तित होती रहती है। अवस्थिति का महत्त्व स्पष्ट करते हुये हटिंगटन महोदय ने बताया कि, “ग्लोब-आकृति की गतिशील पृथ्वी पर अवस्थिति भूगोल को समझने के लिये कुंजी है। भूगोलशास्त्र में अवस्थिति को अग्र तीन रूपों में वर्णित किया गया है-

(क) ज्यामितिय अवस्थिति
(ख) सामुद्रिक एवं स्थलीय स्थिति
(ग) निकटवर्ती देशों के संदर्भ में स्थिति

(क) ज्यामितिय अवस्थिति - यह किसी भौगोलिक प्रदेश की अक्षांश व देशान्तरीय स्थिति होती है जिसके द्वारा उक्त प्रदेश की भू-संदर्भ में जानकारी प्राप्त होती है। उदाहरण के लिये, भारत के राजस्थान राज्य की भू-सन्दर्भ स्थिति 23डिग्री 3’ से 30डिग्री 12’ उत्तरी अक्षांश व 69डिग्री 30’ से 78डिग्री 17’ पूर्वी देशान्तरों के मध्य है। इसी प्रकार भारत की भू-सन्दर्भ स्थिति 8डिग्री 4’ से 37डिग्री 6’ उत्तरी अक्षांश तथा 68’ से 97डिग्री 2’ पूर्वी देशान्तर के मध्य है। ग्रीक विद्वानों ने सम्पूर्ण पृथ्वी को ज्यामितिय आधार पर तीन प्रमुख ताप कटिबन्धों में विभाजित किया है जो क्रमश उष्ण कटिबन्ध 23डिग्री 3डिग्री उत्तरी से 23डिग्री 3डिग्री दक्षिणी अक्षांश, उपोष्ण कटिबन्ध 23डिग्री 30’ उत्तरी से 66डिग्री 30 व 23डिग्री 30’ द. से 66डिग्री 30’ दक्षिण अक्षांश व शीत कटिबन्ध 66डिग्री 30’ से 90डिग्री’ उत्तरी व 66डिग्री 30’ से 90डिग्री’ दक्षिणी अक्षांशों के मध्य विस्तृत है।

उपरोक्त अवस्थिति कारक का प्रत्यक्ष प्रभाव मृदा, कृषि तथा वनस्पति संसाधन पर परिलक्षित होता है। ज्यामितिय अवस्थिति का मानव पर प्रभाव के बारे में प्रसिद्ध भूगोलवेत्ता बोदिन ने कहा है कि उत्तरी क्षेत्रों के मनुष्य शारीरिक शक्ति सम्पन्न एवं दक्षिणी क्षेत्रों के तकनीकी ज्ञान में एवं उच्च व्यवसायी है, जबकि मध्यवर्ती क्षेत्रों के मनुष्य राजनीति के नियंत्रण में श्रेष्ठ माने गये हैं मैं स्थिति प्रमुखतया जलवायु को नियंत्रित कर मानव द्वारा सम्पादित आर्थिक क्रियाकलापों को प्रभावित करती है।

(ख) सामुद्रिक एवं स्थलीय स्थिति - समुद्र से घिरे हुए तथा समुद्र के सहारे स्थित भौगोलिक प्रदेशों में सामुद्रिक स्थिति का प्रभाव पड़ता है, जबकि महाद्वीपीय स्थिति में प्रदेश विशेष का समुद्र से कोई सम्बन्ध नहीं होता है। सामुद्रिक स्थिति को चार भागों में वर्गीकृत किया गया है जो क्रमशः निम्न है। एक सागरीय स्थिति (रूमानिया, बुल्गारिया, ईरान, पाकिस्तान बांग्लादेश आदि), द्विसागरीय स्थिति (इटली, भारत, चिली, स्पेन, ग्रीस आदि), तीन सागरीय स्थिति (कनाडा, फ्रांस, टर्की) तथा बहुसागरीय या द्वीपीय स्थिति (ग्रेट ब्रिटेन, जापान) आदि हैं।

महाद्विपीय स्थिति में समुद्र से ‘किसी भी प्रकार का सम्बन्ध नहीं होता है। इसमें राज्य स्थल आवृत्त होते हैं जिसे आन्तरिक स्थिति कहते हैं। महाद्वीपीय स्थिति में समुद्री भागों का समकारी लाभ न मिलने से कई आर्थिक क्रियाएँ अधूरी रहती हैं तथा स्थलीय सुविधाओं तक ही सीमित हो जाता है। इस श्रेणी में नेपाल, भूटान, पेराग्वे, स्विट्जरलैण्ड आदि देश प्रमुख हैं।

सामुद्रिक स्थिति - किसी भी देश की स्थिति वहाँ के पर्यावरण को सीमांकित करती है। जिन देशों की स्थिति समुद्र के सहारे होती है, उनमें समुद्री संसार पर आधारित व्यवसाय अधिक विकसित होते हैं। सामुद्रिक स्थिति निम्न प्रकार की होती है-

(अ) द्वीपीय स्थिति - कोई भी भू-भाग यदि चारों ओर से पानी से घिरा हुआ हो तो द्वीपीय स्थिति कहलाती है। द्वीपीय स्थिति आर्थिक दृष्टि से इसलिये लाभदायक होती है क्योंकि व्यापारिक भागों के लिये सुगमता रहती है। जापान, न्यूजीलैण्ड, ग्रेटब्रिटेन, हवाई द्वीप, श्रीलंका, सिसली तथा इण्डोनेशिया आदि की स्थिति द्वीपीय है।

(ब) तटीय स्थिति - यदि किसी देश की सीमा समुद्र को छूती है तो उसे तटवर्ती स्थिति कहते हैं। फ्रांस, भारत, नार्वे, स्वीडन तथा भूमध्य सागरीय देश तटवर्ती स्थिति वाले देश हैं। तटवर्ती स्थिति वाले देशों को सामुद्रिक संसाधनों की प्राप्ति के साथ-साथ व्यापारिक मार्गों का भी लाभ मिलता है। यदि कोई देश विकसित राष्ट्रों के मध्य समुद्र में स्थित है तो वह निश्चय ही व्यापारिक प्रगति की ओर अग्रसर होगा। ग्रेट ब्रिटेन, संयुक्त राज्य अमरीका तथा यूरोपीय देशों के मध्य तथा जापान का एशिया तथा उत्तरी अमरीका के मध्य द्वीपीय स्थिति होने के कारण ही व्यापार में उन्नति कर रहे हैं।

(स) प्रायद्वीपीय स्थिति - यदि कोई देश तीन ओर से समुद्र से घिरा हो तो उस स्थिति को प्रायद्वीपीय स्थिति कहते हैं। भारत, सऊदी अरब, दक्षिणी अफ्रीका स्पेन, इटली आदि देशों की स्थिति प्रायद्वीपीय हैं। प्रायद्वीपीय स्थिति वाले राष्ट्रों के लिये स्थलीय मार्गों के साथ-साथ जलीय मार्गों की सुविधाएँ भी प्राप्त होती हैं। प्रायद्वीपीय स्थिति के कारण आर्थिक विकास में वृद्धि होती है। प्रायद्वीपीय स्थिति के कारण भौगोलिक दृष्टि से भी महत्व बढ़ जाता है। तटीय भागों पर कई व्यवसाय विकसित हो जाते हैं।

(द) महाद्वीपीय स्थिति - सामुद्रिक प्रभाव से दूर स्थलीय भाग वाले देशों की स्थिति महाद्वीपीय होती है। यहाँ सामुद्रिक दशाएँ न होकर कठोर भौगोलिक वातावरण होता है जिसे किसी भी प्रदेश के विकास हेतु प्रतिकूल कहा जा सकता है। नेपाल, भूटान, बोलीविया, चाड़, नाइजर, जाम्बिया, अफगानिस्तान आदि महाद्वीपीय स्थिति वाले देश है। महाद्वीपीय स्थिति वाले देश है। महाद्वीपीय स्थिति में विदेश व्यापार को भी गति नहीं मिल पाती है।

(ई) व्यापारिक मार्गों पर स्थिति - जो देश अन्तरराष्ट्रीय व्यापारिक मार्गों पर स्थित होते हैं वे तीव्र आर्थिक विकास करते हैं। सिंगापुर के व्यापारिक मार्गों पर स्थित होने से विकास को गति मिली है। दक्षिणी अफ्रीका पूर्व में सिंगापुर के समान स्थिति में था लेकिन स्वेज नहर (1869) बनने से इसका महत्व घट गया है।

(ग) समीपवर्ती देशों के सन्दर्भ में स्थिति - समीपवर्ती देशों के सन्दर्भ में स्थिति को परिभाषित करते हुए वल्केनवर्ग ने लिखा है कि ‘राज्य के समीप स्थित देशों की संख्या एवं प्रकार क्या है?’ इसका प्रभाव राज्य के विकास पर पड़ता है।

1.4.2 उच्चावच
पृथ्वी पर धरातलीय आकृतियाँ पर्यावरण के प्रभाव की सीमा निर्धारित करती हैं, मुख्य रूप से धरातलीय आकृतियों का प्रभाव जलवायु पर दृष्टिगत होता है तथा जलवायुवीय दशाओं के आधार पर ही भौतिक एवं सांस्कृतिक वातावरण की प्रकृति निश्चित होती है। धरातलीय आकृतियों को मुख्य रूप से तीन भागों में वर्गीकृत किया जा सकता है। पर्वत पठार तथा मैदान।

पृथ्वी के धरातल का 26 प्रतिशत भाग पर्वत, 33 प्रतिशत भाग पठार तथा 41 प्रतिशत भाग मैदानी है। जबकि भारत का 293 प्रतिशत भाग पर्वतीय 27.77 प्रतिशत भाग पठारी तथा 43 प्रतिशत मैदानी है। पर्वतीय भाग असम होते हैं तथा जलवायु भी कठोर होती है। यहाँ प्रत्येक आर्थिक क्रिया सुगमतापूर्वक सम्पादित नहीं हो सकती है, यहाँ पर पारिस्थितिकीय सन्तुलन अच्छा पाया जाता है। पर्वतों पर घुमक्कड़ पशुचारण, एकत्रीकरण, शिकार तथा स्थानान्तरित कृषि मुख्य व्यवसाय है।

पठारी भाग धरातल के मुख्य भू-आकार हैं। इनके द्वारा पृथ्वी का एक विशाल भाग आवृत्त है। यह क्षेत्र धरातल से एकदम ऊँचा उठा हुआ समतल सतह वाला भाग होता है, जहाँ चोटियों का अभाव पाया जाता है। पठार क्षेत्र भी मानव जीवन के लिये कठोर परिस्थितियाँ प्रदान करता है। मैदानी भाग मानव जीवन के लिये अनुकूल परिस्थितियाँ उपलब्ध कराता है। विदित है कि विश्व की प्रमुख सभ्यताएँ मैदानों में ही विकसित हुई हैं। मैदानी क्षेत्रों में आर्थिक व्यवसायों के लिये भी अनुकूल दशायें उपलब्ध हैं। विश्व की प्रमुख सभ्यताएँ सिंधु गंगा, मिस्र में नील नदी, इराक में मेसोपोटामिया, नीचे हांगों, मेक्सिको में माया तथा पेरू में इकां आदि विकसित हुई हैं।


पर्वत शृंखला की अवस्थिति एवं जलवायु निर्धारणपर्वत शृंखला की अवस्थिति एवं जलवायु निर्धारण उच्चावच का प्रत्यक्ष प्रभाव जलवायु पर पड़ता है। जलवायु के तत्व क्रमश: तापमान, वर्षा, आर्द्रता तथा पवन आदि उच्चावच से नियंत्रित रहते हैं। ऊँचाई पर प्रति 1000 मीटर पर 65डिग्रीC तापमान का ह्रास होता है, उसी प्रकार गहरी घाटियों में तापीय विलोमता भी प्रभावित होती हैं। पर्वतीय धरातल के कारण किसी देश की जलवायु केवल ठण्डी होती है वरन वर्षा भी अधिक करती है, क्योंकि उष्णार्द्र हवायें पर्वतों को पार करने के कारण वर्षा करती हैं। ऐसा माना जाता है कि भारत में हिमालय पर्वत न होता तो सम्पूर्ण उत्तरी भारत सहारा तुल्य मरुस्थलीय परिस्थितियों से युक्त रहता।

पर्वतीय स्थिति के कारण कोलम्बिया नदी घाटी का पश्चिमी भाग हरा-भरा है जबकि पूर्वी भाग में वनस्पति का अभाव पाया जाता है। हिमालय पर्वत की उपस्थिति के कारण भारत में साइबेरिया से आने वाली ठण्डी हवाएँ प्रवेश नहीं कर पाती हैं। ग्रीष्मकाल में पर्वतीय क्षेत्रों की ठण्डी जलवायु स्वास्थ्यवर्धक रहती है। स्विट्जरलैण्ड, कश्मीर, मसूरी, शिमला आदि क्षेत्र इसी कारण आकर्षण का केन्द्र बने हुए हैं। पर्वत मानवीय प्रवास को भी अवरुद्ध करते हैं।

पठार भी आर्थिक क्रियाओं कि लिये उपयोगी नहीं माने गये हैं। ये क्षेत्र शुष्क अथवा अर्धशुष्क क्षेत्र होते हैं। पठार सामान्यतया कृषि के अनुकूल नहीं होते हैं। केवल ज्वालामुखी उद्गार से निर्मित धरातल वाले पठार ही कृषि के लिये अनुकूल दशाएँ प्रदान करते हैं। उष्ण कटिबंधियों पठारों पर अर्द्ध-उष्ण, शीतोष्ण और अर्द्धशीतोषण जलवायु पायी जाती है। अतः यहाँ मानव निवास की दशाएँ अनुकूल होती है। बोलीवीया एवं मेक्सिको में 75 प्रतिशत जनसंख्या पठारों पर रहती है।

1.4.3 जलवायु
जलवायु पर्यावरण को नियंत्रित करने वाला प्रमुख कारक है, क्योंकि जलवायु से प्राकृतिक वनस्पति, मिट्टी, जलराशि तथा जीव जन्तु प्रभावित होते हैं। कुमारी सैम्पल ने कहा है कि ‘पर्यावरण के सभी भौगोलिक कारकों में जलवायु सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण घटक है सभ्यता के आरम्भ और उद्भव में जहाँ तक आर्थिक विकास का सम्बन्ध रहता है, जलवायु एक वृहत शक्तिशाली तत्व है।’ जलवायु मानव की मानसिक एवं शारीरिक क्रियाओं पर प्रभाव डालती है। प्रो. एल्सवर्थ हंटिंग्टन के अनुसार, “मानव पर प्रभाव डालने वाले तत्वों में जलवायु सर्वाधिक प्रभावशील है क्योंकि यह पर्यावरण के अन्य कारकों को भी नियंत्रित करता है।’ पृथ्वी पर मानव चाहे स्थल पर या समुद्र पर, मैदान में या पर्वत पर, वनों में या मरुस्थल में कहीं पर भी रहे व अपने आर्थिक कार्य करे उसे जलवायु प्रभावित करती है।

जलवायु के पाँचों तत्व क्रमशः वायुमण्डलीय तापमान एवं सूर्यातप वायुभार, पवनें, आर्द्रता तथा वर्षा आदि मानव को प्रभावित करते हैं। तापमान जलवायु के महत्त्वपूर्ण कारक के रूप में वनस्पति को सर्वाधिक प्रभावित करता है। अनेक वनस्पति क्रियायें, जैसे-प्रकाश संश्लेषण, हरितलवक बनना, वसन तथा गर्मी प्राप्त कर अंकुरण आदि प्रभावित होती है।

वनस्पति की प्रकृति एवं वितरण भी तापमान से प्रभावित होता है। विषुवत रेखीय प्रदेशों में उच्च तापमान एवं अति वर्षा के कारण सघन वन पाये जाते हैं, जबकि मध्य अक्षांशों में पतझड़ तथा शीत प्रदेशों में कोणधारी वन पाये जाते हैं। जलवायु कृषि पेटियों को भी निर्धारित करती है। उष्ण कटिबन्धीय तथा मानसूनी प्रदेशों में चावल की कृषि होती है, जबकि शीतोष्ण घास के प्रदेशों में गेहूँ की कृषि होती है। मरुस्थलीय मरुद्यानों में खजूर एवं छुआरों की कृषि की जाती है।

पृथ्वी पर जनसंख्या वितरण भी जलवायु के कारकों द्वारा प्रभावित होता है। पृथ्वी के समस्त क्षेत्र के 30 प्रतिशत भाग पर संसार की सम्पूर्ण जनसंख्या निवास करती है। 70 प्रतिशत स्थलीय भाग जलवायु की दृष्टि से जनसंख्या निवास के अनुकूल नहीं है जिसका विवरण निम्न है-

(1) शुष्क मरुस्थल - 20 प्रतिशत
(2) पर्वतीय क्षेत्र - 20 प्रतिशत
(3) हिमाच्छादित ठण्डे क्षेत्र - 20 प्रतिशत
(4) अति उष्ण-आर्द्र क्षेत्र - 10 प्रतिशत

जलवायु के कारक पारिस्थितिक तंत्र को भी नियंत्रित रखते हैं। जल चक्र के रूप में वर्षा तथा वाष्पीकरण, जल का संचरण रखते हैं। वर्षा की मात्रा के अनुसार ही वनस्पति एवं अन्य जैव विविधता क्रियाशील रहती है, अतः जलवायु एक महत्त्वपूर्ण नियंत्रक कारक के रूप में पर्यावरण को प्रभावित करती है।

1.4.4 प्राकृतिक वनस्पति
प्राकृतिक वनस्पति से अभिप्राय भौगोलिक दशाओं में स्वतः विकसित होने वाले वनस्पति से है, जिसमें पेड़-पौधे, झाड़ियाँ, घास तथा लताएँ आदि सम्मिलित है। वनस्पति जात से अभिप्राय किसी विशिष्ट प्रदेश एवं काल में पाये जाने वाले समस्त जातियों के पेड़-पौधों तथा झाड़ियों के समूह से है। जैसे भारत पुराउष्ण कटिबन्धीय समूह में रखा गया है। वनस्पति से आशय पेड़-पौधों, घास या झाड़ियों के विशिष्ट जाति समूह से है, जबकि वन उस वर्ग को कहते हैं जिसमें वृक्षों की प्रधानता हो।

प्राकृतिक वनस्पति जलवायु उच्चावच तथा मुद्रा के सामंजस्य से पारिस्थितिकीय अनुक्रम के अनुसार अस्तित्व में आती है। प्राकृतिक वनस्पति पर्यावरण के महत्त्वपूर्ण कारक के रूप में पारिस्थितिक तंत्र को सर्वाधिक प्रभावित करती है, जिसे जलवायु सर्वाधिक नियंत्रित करती है। अन्य कारकों में जलापूर्ति, प्रकाश, पवन तथा मुद्राएँ प्रमुख हैं, जो प्राकृतिक वनस्पति के विकास को प्रभावित करते हैं। वनस्पति के कुछ प्रमुख समुदाय होते हैं, जिन्हें पादप साहचर्य कहते हैं। प्राकृतिक वनस्पति के चार प्रमुख वर्ग माने गये हैं- (1) वन (2) घास प्रदेश (3) मरुस्थलीय झाड़ियाँ तथा (4) टुण्ड्रा वनस्पति।

वनों में उष्ण कटिबन्धीय चौड़ी पत्ती वाले सदाबहार वन, उष्ण कटिबन्धीय चौड़ी पत्ती के पर्णपाती वन, शीतोष्ण चौड़ी पत्ती के पर्णपाती वन, शीतोष्ण मिश्रित वन तथा शीतोष्ण शंकुधारी वन प्रमुख हैं। घास के मैदानों में उष्ण कटिबन्धीय एवं शीतोष्ण कटिबन्धीय घास प्रदेश प्रमुख है। उष्ण कटिबन्धीय घास प्रदेशों में सूडान के सवाना प्रदेश है, जो सवाना जलवायु के घास क्षेत्र हैं, जिनका विस्तार सूडान, वेनेजुएला जाम्बेजी नदी बेसिन तथा ब्राजील एवं ऑस्ट्रेलिया के उत्तरी भाग तक है। अफ्रीका एशिया तथा ऑस्ट्रेलिया में इन घास प्रदेशों को स्थानीय नामों से जाना जाता है।

सूडान में सवाना, नाइजीरिया में कानों, जिम्बाब्वे में सेलिसबरी अमेजन नदी के उत्तर में ओरिनिको नदी बेसिन में लानोज अमेजन के दक्षिण में ब्राजील में कम्पाज तथा दक्षिण अफ्रीका में पार्कलैण्ड आदि प्रमुख घास क्षेत्र है। शीतोष्ण घास प्रदेशों में मध्य यूरेशिया में स्टेपी, उत्तरी अमरीका में प्रेरी, दक्षिणी अमरीका में पम्पास, ऑस्ट्रेलिया में डाऊन्स न्यूजीलैण्ड में केन्टरबरी तथा दक्षिणी अफ्रीका में वेल्ड प्रमुख है।

मरुस्थलीय क्षेत्रों में जहाँ वार्षिक वर्षा 30 सेमी से कम होती है, वहाँ काँटेदार वृक्ष तथा झाड़ियाँ मरुस्थलीय वनस्पति के रूप में विकसित होते हैं। टुण्ड्रा प्रदेशों में सर्वत्र बर्फ आच्छादित रहती है। केवल लघु ग्रीष्मकाल में माँस, शैवाल काई तथा नरकुल विकसित होती है।

पर्यावरण के महत्त्वपूर्ण घटक के रूप में प्राकृतिक वनस्पति का विकास होता है लेकिन प्रगतिशील मानव निरन्तर उसे अवकृमित करने में प्रयासरत रहता है। मनुष्य अपनी परिवर्तनकारी क्रिया में आवश्यकता से अधिक आगे बढ़ता जा रहा है। वनस्पति को जलवायु का नियंत्रक माना जाता है। यह तापमान को नियंत्रित रखती है तथा वायुमण्डलीय आर्द्रता को संतुलित रखने का कार्य करती है। पेड़-पौधों विभिन्न स्रोतों से सृजित कार्बन-डाई-आॅक्साइड को अवशोषित कर वातावरण को शुद्ध रखने में सहायता करते हैं। वनस्पति आवरण रेंगती हुई मृत्यु के रूप में प्रसिद्ध मरुस्थलीयकरण की प्रक्रिया को भी नियंत्रित करता है। वनों की जड़ें मृदा को जकड़कर रखती हैं जिससे मृदा अपरदन नियंत्रित होता है। प्राकृतिक वनस्पति जैव-विविधता के रूप में वन्य जीवन का भी आश्रय स्थल बनते हैं अतः प्राकृतिक वनस्पति पर्यावरण के प्रमुख घटक के रूप में मानवीय विकास के लिये आवश्यक माने गये हैं।

1.4.5 जैविक कारक
विभिन्न जीव-जन्तु और पशु, मनुष्य के आर्थिक कार्यों को प्रभावित करते हैं, जन्तुओं में गतिशीलता की दृष्टि से वनस्पति से श्रेष्ठता होती है। वे अपनी आवश्यकताओं के अनुसार प्राकृतिक वातावरण से अनुकूलन कर लेते हैं। जीव जंतुओं में स्थानान्तरणशीलता का गुण होने के कारण वे अपने अनुकूल दशाओं वाले पर्यावरण में प्रवास भी कर जाते हैं। फिर भी इन पर पर्यावरण का प्रत्यक्ष प्रभाव दृष्टिगत होता है। समान दशाओं वाले वातारण के प्रदेशों में जन्तुओं में भिन्नता मिलती है। मरुस्थलीय वातावरण के जन्तुओं में भिन्नता मिलती है, उदाहरणार्थ थार एवं अरब के ऊँटों में भिन्नता मिलती है।

जन्तुओं के सामान्य वर्ग पर्यावरणीय लक्षणों के अनुसार ही विकसित होते हैं। जैसे घास के मैदानों में चरने वाले पशु रहते हैं, जबकि वनों में मुख्य रूप से पेड़-पौधों की टहनियाँ खाने वाले पशु रहते हैं। पृथ्वी पर जीव जंतुओं का वितरण वनस्पति की प्रभावशीलता के अनुसार है, जिसे जलवायु, मृदा उच्चावच आदि तत्व नियंत्रित करते हैं। पृथ्वी पर विभिन्न प्रकार की जलवायु दशाओं एवं वनस्पति जगत के प्रकार के अनुसार चार प्रदेशों के जन्तु पाये जाते हैं-

(1) वनों के जन्तु - उष्ण कटिबन्धीय वर्षा प्रचुर सघन वनों में वृक्षों पर रहने वाले जन्तु इस वर्ग में सम्मिलित हैं। यहाँ वानर, छिपकली, पक्षी, विभिन्न प्रकार के सर्प तथा कीट-पतंगे प्रमुख हैं। कांगो, अमेजन जैसी नदियों घड़ियाल, मगरमच्छ आदि जलचर रहते हैं। मानसूनी तथा उपोष्ण कटिबंधीय वनों में हाथी, गैंडा, जिराफ, हिरन, भैंसा, भेड़िया, सियार तथा आदि थलचर पाये जाते हैं।

(2) घासभूमि के जन्तु - उष्ण तथा शीतोष्ण घास प्रदेशों में चरने वाले हिरन, जंगली चौपाये नीलगाय, जंगली भैंसा, स्प्रिंग वांक आदि शाकाहारी जीव प्रमुख हैं। इनका भक्षण करने वाले मांसाहारी जीवों में तेंदुआ, चीता, शेर प्रमुख हैं।

(3) मरुस्थलों के जन्तु - मरुस्थलों में मरुदभिद वनस्पति मिलती है जिसमें काँटेदार झाड़ियाँ, बबूल, नागफनी वर्ग के पौधे मुख्य हैं। यहाँ खरगोश, लोमड़ी, छिपकली, सर्प आदि जंगली तथा गधे, घोड़े, भेड़, बकरी आदि पालतू जानवर मिलते हैं।

(4) टुण्ड्रा के जन्तु - शीत दशाओं वाले इस क्षेत्र में मस्क, कैरिबू हिरण, खरगोश, ध्रुवीय भालू, कुत्ते, रेंडियर आदि मिलते हैं।

1.4.6 मृदा कारक
मृदा धरातलीय सतह का ऊपरी आवरण है जो कुछ सेंटीमीटर से लेकर एक दो मीटर तक गहरी होती है। मृदा की रचना मूल पदार्थ में परिवर्तनों के परिणामस्वरूप होती है, जो विभिन्न प्रकार की जलवायु में जैविक कारकों के सम्पर्क से एक निश्चित अवधि में निर्मित होती है। मृदा निर्माण में उच्चावच तथा ढाल की भी महत्त्वपूर्ण भूमिका होती है। मृदा में वनस्पति एवं जीव-जंतुओं के अवशेष मिलते रहते हैं, जिसे जैव तत्व कहते हैं। जैव तत्व के कारण मृदा का रंग काला होता है। मानव अपनी क्रियाओं द्वारा मृदा को निरंतर प्रभावित करता रहता है।

मृदा मंत्र एवं पर्यावरण के घटक पृथ्वी पर शाकाहारी एवं मांसाहारी, जीव-जन्तु प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष रूप से मृदा निर्भर रहते हैं, शाकाहारी अपना भोजन कृषि द्वारा तथा मांसाहारी शाकाहारियों से प्राप्त करते हैं। अतः मानवीय उपयोग को दृष्टि से मृदा आवरण किसी देश की मूल्यवान प्राकृतिक सम्पदा होती है। सामान्यतः उपजाऊ मृदा क्षेत्रों में मानव सभ्यता अनुर्वर क्षेत्रों की अपेक्षा उच्च रहती है। भारत में उत्तरी गंगा, ब्रह्मपुत्र का मैदान इसी दृष्टि से थार के रेगिस्तान से भिन्न है। पृथ्वी पर प्राचीन सभ्यताएँ भी उर्वर मृदा क्षेत्रों में ही पनपी हैं।

भूमध्यसागरीय जलवायु में लाल भूरी मृदाओं के प्रदेशों में रोमन साम्राज्य स्थापित हुआ। मृदा के भौगोलिक पक्ष के अनुसार यह प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष रूप से वनस्पति को प्रभावित करती है। पौधे आवश्यक जल तथा पोषक तत्व मृदा से प्राप्त करते हैं। क्षारीय तथा अम्लीय मृदा पौधों की वृद्धि में बाधक होती है। वर्तमान समय में मृदा की प्रमुख समस्या मृदाक्षरण है जो तीव्र वन विनाश के कारण उत्पन्न हुई है। पर्यावरण के तत्व के रूप में मृदा पादपों को जीवन प्रदान कर कृषि व्यवस्था में सहायता करती है अतः मृदा का अनुरक्षण और संरक्षण आवश्यक है।

1.4.7 जल राशियाँ
जल राशियाँ मानव जीवन का आधार है। विभिन्न भू-आकृतियों की भाँति जल राशियाँ भी पर्यावरण को प्रभावित करती है। जीन ब्रुंश के शब्दों में, जल एक महत्त्वपूर्ण आर्थिक सम्पत्ति है। अधिक सत्य तो यह है कि यह मानव के लिये कोयला या स्वर्ण से अधिक मूल्यवान सम्पत्ति है। सभी जगह जल क्षेत्र मानवीय क्रियाकलापों पर प्रभुत्व रखते हैं। प्राकृतिक जल राशियों के अन्तर्गत महासागर, सागर, नदियाँ, झीलें तथा जलाशयों को सम्मिलित किया जाता है। जल चक्र इनके नियमित परिसंचरण में सहयोग करता है। महासागर एक महत्त्वपूर्ण जल-राशि के रूप में सम्पूर्ण जीवमण्डलीय पारिस्थितिकी तंत्र को नियंत्रित करता है।

स्थलीय जलराशियों और जनसंख्या के वितरण में घनिष्ठ सम्बन्ध होता है। जल राशियों के द्वारा ही विभिन्न प्रकार के उच्चावच निर्मित होते हैं। महासागर एवं सागर प्रमुख जलराशियों के रूप में जलवायु को प्रभावित करते हैं। वायु में नमी की मात्रा, वाष्पीकरण तथा तापमान में न्यूनता आदि प्रभाव जलराशियों के होते हैं। विभिन्न जलराशियों के स्वतंत्र पारिस्थितिकी तंत्र विकसित होते हैं। समुद्रों का अपना पारिस्थितिकी तंत्र होता है, जिसमें समुद्री जीव एवं पादप विकसित होते हैं। इसी प्रकार झील, नदी तथा तालाबों के पारिस्थितिकी तंत्र विकसित होते हैं।

जल राशियाँ पर्यावरण के एक विश्वव्यापी तत्व के रूप में सम्पूर्ण पृथ्वी को संयोजित करने का कार्य करती हैं, जिस हेतु समुद्री एवं अन्तःस्थलीय जल मार्गों को अख्तियार किया जाता है। यातायात के मार्गों के साथ ही व्यापार को भी गति मिलती है। अन्तःस्थलीय जलमार्ग राष्ट्रीय एकता को सुदृढ़ करते हैं। उत्तरी अमरीका की महान झीलें संयुक्त राज्य अमरीका और कनाडा को उत्तम अन्तर्देशीय जलमार्ग प्रदान करती हैं। इसके अतिरिक्त मत्स्य व्यवसाय भी पनपता है।

उपरोक्त तत्वों के अतिरिक्त खनिजों को भी पर्यावरण के तत्व के रूप में स्वीकार किया गया है। किसी भी प्रदेश की पर्यावरणीय स्थिति को निर्धारित करने में खनिजों की महत्त्वपूर्ण भूमिका होती है। इस प्रकार के पर्यावरण में औद्योगिक संस्कृति का विकास होता है। खनिज क्षेत्रों में सांस्कृतिक वातावरण नीरस, छिन्न-भिन्न और अस्त-व्यस्त होता है। खनिज खनन से वनोन्मूलन होता है तथा पर्यावरण अवनयन को गति मिलती है।

1.5 पर्यावरण का महत्त्व
1. पर्यावरण के अध्ययन के द्वारा हमें वन, वृक्ष नदी-नाले आदि का हमारे जीवन में क्या महत्त्व है, इसकी उपयोगिता की जानकारी होती है।

2. पर्यावरण अध्ययन से पर्यावरण के प्रति चेतना जागृत होने, सकारात्मक अभिवृत्तियाँ तथा पर्यावरण के प्रति भावनाओं का विकास होता है।

3. वर्तमान में विश्व में ब

Posted by
Get the latest news on water, straight to your inbox
Subscribe Now
Continue reading