उत्तरकाशी में भागीरथी नदी के तट पर खड़ा हो रहा कूड़े का पहाड़
6 Feb 2020
उत्तरकाशी में भागीरथी नदी के तट पर खड़ा हो रहा कूड़े का पहाड़

शैलेंद्र गोदियाल, उत्तरकाशी, दैनिक जागरण, 06 फरवरी 2020

भागीरथी (गंगा) नदी के उत्तर में बसे उत्तरकाशी शहर के शीर्ष पर वरुणावत पर्वत विराजमान है, लेकिन बीते एक साल से भागीरथी के किनारे एक दूसरा पहाड़ आकार ले रहा है। यह पहाड़ है उत्तरकाशी शहर और आसपास की आबादी से निकलने वाले कूड़े का, जो धीरे-धीरे भागीरथी की ओर फैल रहा है। हालांकि, इस कूड़े के प्रबंधन के लिए प्रशासन ने पालिका क्षेत्र में करीब डेढ़ नाली (360 वर्ग गज) भूमि उपलब्ध कराई थी, जिस पर पालिका को कूड़ा प्रबंधन के लिए संयंत्र स्थापित करना था, लेकिन बजट के अभाव में यह संभव नहीं हो पाया। अब पालिका ने कूड़ा प्रबंधन संयंत्र लगाने के लिए शासन से एक करोड़ की धनराशि मांगी है।

बाड़ाहाट (उत्तरकाशी) नगर पालिका क्षेत्र से हर दिन 20 से 25 क्विंटल कूड़ा एकत्र होता है। यहां घर-घर से कूड़ा एकत्र करने की जिम्मेदारी जीरो वेस्ट कंपनी की है, जबकि शहर में सफाई की व्यवस्था पालिका स्वयं संभालती है। शहर से निकलने वाला सारा कूड़ा तांबाखाणी के पास भागीरथी नदी से 20 मीटर की दूरी पर डंप किया जा रहा है। इसके चलते उत्तरकाशी बाजार के एक छोर से दूसरे छोर तक कूड़े का पहाड़ खड़ा हो रहा है। हां, इतना जरूर है कि जीरो वेस्ट कंपनी के कर्मियों ने इस कूड़े से कुछ प्लास्टिक एकत्र कर उसे कॉम्पेक्ट किया। इसे पालिका ने 19 हजार रुपये में बेचा। अगर पालिका समय पर कूड़ा प्रबंधन संयंत्र लगाती तो कई गुना कमाई भी करती, लेकिन मुश्किल यह है कि पालिका के पास संयंत्र लगाने का बजट ही नहीं है।


निर्मल गंगा अभियान को भी पलीता

भागीरथी के किनारे कूड़े का पहाड़ खड़ा होने से नदी के अस्तित्व के लिए भी खतरा पैदा हो गया है। दरअसल, बारिश होने पर यह कूड़ा सीधे भागीरथी में पहुंचता है। इससे नदी तो प्रदूषित हो ही रही है, निर्मल गंगा अभियान को भी पलीता लग रहा है।


कूड़ा प्रबंधन संयंत्र की डीपीआर शासन को भेजी है। इसके तहत कूड़े की छंटनी, खाद बनाने का काम, किल वेस्ट मशीन और कॉम्पेक्टर लगाया जाएगा। इस पूरे संयंत्र को लगाने में एक करोड़ की धनराशि खर्च होगी। धनराशि मिलते ही काम शुरू कर दिया जाएगा। फिलहाल कूड़ा तांबाखाणी के पास ही डाला जा रहा है।

- रमेश सेमवाल, पालिकाध्यक्ष बाड़ाहाट (उत्तरकाशी)


हां, शहर के निकट लगे कूड़े के ढेर को जल्द वहां से हटवाया जाएगा। इसके लिए मैं अपने स्तर से प्रयास करूंगा।

- डॉ. आशीष चौहान, जिलाधिकारी उत्तरकाशी

TAGS

ganga river, pollution in river ganga, river pollution, river pollution india, mining in rivers india, mining in ganga, sanitation, swachh bharat abhiyan, swachh bharat mission.

 

Posted by
Get the latest news on water, straight to your inbox
Subscribe Now
Continue reading