पेयजल की लाइनों में कैल्शियम

Submitted by RuralWater on Sat, 04/28/2018 - 12:56
Printer Friendly, PDF & Email
Source
दैनिक जागरण, 23 अप्रैल, 2018

दून में वर्षों पुरानी पेयजल लाइनों में कैल्शियम जमने से पानी की डिलीवरी कम हो गई है। कैल्शियम के जमाव से पाइप लाइन की रेडियस कम हो गई है, ऐसे में पानी का प्रेशर बढ़ने पर ये बार-बार क्षतिग्रस्त हो रही हैं और शहरवासियों को पानी के लिये संघर्ष करना पड़ रहा है। जल संस्थान द्वारा पाइप लाइनों से कैल्शियम हटाने के लिये कई योजनाएँ बनाई गईं, लेकिन कामयाब नहीं रहीं। हाल ही में एक कम्पनी ने दावा किया था कि वह इलेक्ट्रोड कैल्शिनेशन के जरिए पाइप लाइनों से कैल्शियम हटाएगी, लेकिन कम्पनी का दावा ट्रायल में ही फेल हो गया। बढ़ता कैल्शियम, घटता प्रेशर

दरअसल दून के पानी में कैल्शियम की मात्रा बहुत ज्यादा है। इसके कारण अक्सर पाइपलाइनों में कैल्शियम जम जाता है और इसके कारण पानी की सप्लाई कम हो जाती है। पाइपों की रेडियस लगातार कम होती जाती है और पानी की पर्याप्तता के बाद भी लोगों को पानी नहीं मिल पाता।

कैल्शियम हटाने का ट्रायल फेल

पाइप लाइनों से कैल्शियम हटाने के लिये गाजियाबाद की एक कम्पनी ने जल संस्थान को प्रस्ताव दिया था। दावा किया गया था कि इलेक्ट्रोड कैल्शिनेशन के माध्यम से पाइप लाइनों में जमा कैल्शियम हटाया जाएगा। जल संस्थान ने कम्पनी को ट्रायल देने को कहा। कम्पनी ने दून के गलोगी में 200 मीटर पाइप लाइन पर ट्रायल किया लेकिन 6 महीने में भी पाइप लाइन से कैल्शियम नहीं हट पाया। ट्रायल में फेल होने पर जल संस्थान ने कम्पनी को काम देने से इनकार कर दिया। कम्पनी का दावा था कि उनकी ओर से कैल्शियम वाली लाइन पर इलेक्ट्रोड लगाकर कैल्शिनेशन किया जाएगा। कम्पनी ने सेंसर के माध्यम से पाइप लाइन में इलेक्ट्रोड को जोड़ा और लाइन में हल्का करंट छोड़ कैल्शियम को आयंस में तोड़े जाने की बात कही गई। हालांकि ऐसा कुछ भी नहीं हुआ।

कैल्शियम की अधिकता से नुकसान

पानी के साथ कैल्शियम शरीर में पहुँचाने पर ब्लड में कैल्शियम की अधिकता से कई बीमारियाँ हो सकती हैं। कैल्शियम की अधिक मात्रा शरीर में फास्फेट के साथ मिलकर एक केमिकल का निर्माण करता है जो हड्डियों को भुरभुरा कर देता है और हड्डियाँ कमजोर हो जाती हैं। शरीर की आवश्यकता से अधिक कैल्शियम का उपभोग कई बार शरीर में तेज से मैग्नीशियम की कमी पैदा करता है, जो हड्डियों के अलावा सेहत के लिये भी खतरनाक है। आवश्यकता से अधिक कैल्शियम शरीर में जाने से किडनी स्टोन की फॉरमेशन होती है, इसके अलावा यह ब्रेन डैमेज के लिये भी जिम्मेदार हो सकता है।

जगह-जगह लीकेज

शहर भर में जगह-जगह पानी की लाइन क्षतिग्रस्त हैं, इसके बावजूद भी इस ओर किसी का ध्यान नहीं जा रहा है। सब्जी मंडी के पास पिछले कई दिनों से पाइप लाइन टूटी हुई है, जिसके चलते रोज हजारों लीटर पानी की बर्बादी हो रही है। इसके बावजूद सम्बन्धित विभाग इन लाइनों की सुध लेने की तैयार नहीं हैं।

दस हजार की आबादी को मिलेगी जल संकट से निजात

जागृति एन्क्लेव और अमन विहार के बाशिन्दों की पानी की समस्या जल्द दूर होगी। यहाँ दस हजार लोगों की आबादी को पानी मिल सकेगा। दोनों बसावटों के लिये ओवर हेड टैंक और नलकूप बनकर तैयार हैं। इन दिनों इनका ट्रायल चल रहा है। जागृति एन्क्लेव और अमन विहार क्षेत्र में कई सालों से पानी की दिक्कत बनी हुई थी। क्षेत्रवासी कई बार जल संस्थान से पानी दिये जाने की माँग कर चुके हैं। धीरे-धीरे दोनों इलाकों की आबादी बढ़ती गई और पानी की समस्या और गहराती रही।

दो नलकूप और एक टैंक हुआ तैयार

इन क्षेत्रों के लिये दो नलकूप और एक ओवर हेड टैंक बनाया गया है। नलकूपों का ट्रायल शुरू हो गया है। जल संस्थान की ओर से इसकी मॉनीटरिंग भी कर ली गई है। नलकूपों का निर्माण एडीबी यूनिट द्वारा किया गया है, जबकि इनका संचालन जल संस्थान करेगा।

उद्दीवाला में नई पेयजल लाइन की माँग

कौलागढ़ के उद्दीवाला क्षेत्र में लम्बे समय से पेयजल संकट बना हुआ है। लोगों ने जल संस्थान से इलाके के लिये नई डिस्ट्रीब्यूशन लाइन बिछाने की माँग की है। लोगों ने बताया कि जब इलाके में पेयजल लाइन बिछाई गई थी तो आबादी काफी कम थी, अब आबादी बढ़ने के कारण पानी की पूरी सप्लाई नहीं मिल पा रही है।

यहाँ है परेशानी

गलोगी, मॉसीफाल, बीजापुर, बादल में पानी की दिक्कत

आगे का प्लान

अब जल संस्थान एडीबी के बनाए सॉफ्टनिंग प्लांट पर ही करेगा फोकस

1. 120 किमी शहर में पाइप लाइन
2. 50 वर्ष से पुरानी हैं पेयजल लाइन
3. 1.5 लाख कंज्यूमर्स


TAGS

what is calcine, calcined material, calcine oven, calcination of clay, calcined coal, calcination of nanoparticles, definition of calcination and roasting, calcining ceramic powder, bone disease, rare bone diseases, bone diseases symptoms, diseases related to bones and joints, classification of bone diseases, bone diseases in childhood, metabolic bone disease, bone diseases osteoporosis, electrode calcination, disease related to bone, brain, kidney.


Add new comment

This question is for testing whether or not you are a human visitor and to prevent automated spam submissions.

3 + 0 =
Solve this simple math problem and enter the result. E.g. for 1+3, enter 4.

More From Author

Related Articles (Topic wise)

Related Articles (District wise)

About the author

Latest