प्रदूषण से निबटने में कितनी कारगर है रेडियो तरंग

Submitted by editorial on Wed, 11/21/2018 - 12:34
Printer Friendly, PDF & Email
वायु प्रदूषणवायु प्रदूषण (फोटो साभार - विकिपीडिया)प्रदूषण को लेकर दुनिया भर में कुख्यात हो चुकी देश की राजधानी दिल्ली में पिछले महीने हाफ मैराथन हुआ था।

इस मैराथन में 35 हजार प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया था। यह दौड़ प्रतियोगिता वैसे तो नवम्बर में आयोजित की जानी थी, लेकिन नवम्बर में दिवाली की आतिशबाजी के कारण दिल्ली में प्रदूषण का स्तर और बढ़ जाता, जिससे प्रतिभागियों को स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याएँ होतीं। इसी के मद्देनजर नवम्बर की जगह अक्टूबर में मैराथन आयोजित करना पड़ा।

हालांकि, अक्टूबर में भी दिल्ली का प्रदूषण कुछ कम नहीं था। पार्टिकुलेट मैटर समेत कई अन्य तत्व सामान्य काफी ज्यादा थे। इस प्रदूषण का असर प्रतिभागियों पर न पड़े, इसके लिये आयोजकों ने एक नई तकनीक अपनाई। उन्होंने दिल्ली की आबोहवा में फैले धूलकणों को मानव शरीर में प्रवेश करने से रोकने के लिये अल्ट्राहाई फ्रीक्वेंसी रेडियो तरंगों का इस्तेमाल किया। मैराथन स्थल और उसके रूट एरिया में मशीनें लगाई गईं।

मैराथन आयोजित करने वाले संगठन का दावा है कि रेडियो तरंगों ने अबोहवा में मौजूद पार्टिकुलेट मैटर (जिसका आकार मानव के शरीर के बाल से 30 गुना छोटा होता है) को तितर-बितर कर दिया।

रेडियो तरंगों के कारण दौड़ में शामिल किसी भी प्रतिभागी को स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याएँ नहीं हुईं और मैराथन ठीक तरीके से सम्पन्न हो गया।

उल्लेखनीय हो कि पिछले साल भी सर्दी के मौसम में दिल्ली में प्रदूषण खतरनाक स्तर पर पहुँच गया था, जिस कारण वहाँ हुए क्रिकेट मैच के दौरान श्रीलंका के खिलाड़ियों ने मास्क पहन कर मैच खेला था। कई खिलाड़ियों से स्वास्थ्य सम्बन्धी दिक्कतों की शिकायत भी की थी।

इस साल भी सर्दी शुरू होने के साथ ही दिल्ली में प्रदूषण का स्तर बढ़ने लगा।

दिल्ली में हाफ मैराथन आयोजित करने वाले प्रोकैम इंटरनेशनल के मैनेजिंग डायरेक्टर विवेक सिंह ने मैराथन के दौरान रेडियो तरंगों का इस्तेमाल करने की बात स्वीकारते हुए कहा कि मैराथन के दौरान प्रदूषण को 30 प्रतिशत तक कम करने में मदद मिली। हालांकि, अन्तरराष्ट्रीय मानकों के अनुसार पॉल्यूशन मॉनीटरिंग स्टेशनों के करीब प्रदूषण का स्तर ‘बहुत अस्वास्थ्यकर’ रहा।

उन्होंने कहा कि मौसम पूरी तरह साफ रहा और मैराथन के दौरान किसी भी प्रतिभागी ने स्वास्थ्य बिगड़ने की शिकायत नहीं की।

उल्लेखनीय है कि पिछले कुछ सालों से सर्दी के मौसम में दिल्ली में प्रदूषण खतरनाक स्तर पर पहुँच रहा है। सर्दी में भी अक्टूबर से दिसम्बर के बीच प्रदूषण सबसे ज्यादा रहता है।

पिछले साल नवम्बर में पार्टिकुलेट मैटर (2.5) और पार्टिकुलेट मैटर (10) 999 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर पर पहुँच गया था। जो सामान्य से 10 गुना अधिक था। आबोहवा में प्रति क्यूबिक मीटर में 60 से 100 माइक्रोग्राम पार्टिकुलेट मैटर स्वास्थ्य के लिये हानिकारक नहीं होता है।

इस साल भी प्रदूषण का स्तर कमोबेश ऐसा ही रहा।

दिल्ली में प्रदूषण की कई वजहें हैं। इनमें एक वजह दिल्ली में वाहनों की अधिकता है। अन्य वजहों में सर्दी में पंजाब और हरियाणा में खलिहान में मौजूद फसल के निकलने वाले कूड़े को जलाना, कोयला आधारित थर्मल पावर प्लांट का संचालन आदि शामिल हैं।

दिल्ली की आबादी करीब 1.9 करोड़ है। प्रदूषण का बढ़ता स्तर इस पूरी आबादी के स्वास्थ्य पर गहरा असर डालेगा। प्रदूषण से फेफड़े की कार्य क्षमता में गिरावट आती है, सिर दर्द बढ़ता है, खाँसी व थकावट आती है और फेफड़े में कैंसर का भी खतरा बढ़ जाता है, जो अन्ततः जान भी ले लेता है।

वैसे, आँकड़ों की बात करें, तो प्रदूषण से मौत के मामले में भारत दुनिया भर के देशों में सबसे ऊपर है। भारत में प्रदूषण से हर साल करीब 25 लाख लोगों की मौत हो जाती है। दूसरे स्थान पर चीन है, जहाँ हर साल 18 लाख लोग प्रदूषण के कारण काल के गाल में समा जाते हैं।

ये आँकड़े लैंसेट कमिशन ऑन पॉल्यूशन एंड हेल्थ के हैं। कमिशन की रिपोर्ट के अनुसार, दुनिया भर में हर छठवीं मौत की वजह प्रदूषण है और विकासशील देशों में सबसे ज्यादा लोग प्रदूषण की भेंट चढ़ते हैं।

किसी देश में केवल प्रदूषण से सालाना 25 लाख लोगों की मौत बड़ा आँकड़ा है और इससे निबटने के लिये कई तरह के कदम उठाने की जरूरत है। इनमें कुछ दीर्घकालिक कदम हैं, लेकिन दीर्घकालिक कदम का असर लम्बे समय में देखने को मिलेगा। इससे पहले तात्कालिक कदम उठाने की आवश्यकता है। ऐसे में सवाल उठता है कि क्या रेडियो तरंगों का इस्तेमाल तात्कालिक कदम हो सकता है?

विवेक सिंह ने अन्तरराष्ट्रीय न्यूज एजेंसी रॉयटर्स को बताया कि पिछले साल दिल्ली सरकार ने कोयला आधारित पावर स्टेशन को बन्द कराया था और वाहनों का परिचालन भी कम कराया था। सरकार वायु प्रदूषण कम करने के लिये अल्ट्रा हाई फ्रीक्वेंसी रेडियो तरंगों का इस्तेमाल कर सकती है। उन्होंने कहा, ‘हमने दिखाया कि यह तकनीक काम करती है।’

यहाँ बता दें कि दिल्ली में रेडियो तरंग आधारित जिस उपकरण का इस्तेमाल किया गया था, उसका निर्माण बंगलुरु की एक कम्पनी डेविस अर्थ करती है।

कम्पनी की वेबसाइट बताती है कि उसके उपकरण एयर क्वालिटी इंडेक्स को 33 प्रतिशत तक सुधारते हैं और इनका इस्तेमाल घरों, बिल्डिंगों व फैक्टरियों में किया जा सकता है।

वेबसाइट के मुताबिक शहरों के लिये प्योर स्काईज 9000 का प्रयोग किया जा सकता है। यह 10 किलोमीटर क्षेत्रफल (भौगोलिक स्थिति और बिल्डिंगों की संख्या पर निर्भर) की आबोहवा की गुणवत्ता को 33 प्रतिशत तक सुधार देता है।

कम्पनी का दावा है कि यह उपकरण सामान्य एयर प्यूरिफायरों की अपेक्षा ज्यादा प्रभावी तरीके से काम करता है और प्रदूषण फैलाने वाले तत्वों (सल्फर डाइऑक्साइड) को निष्क्रिय कर देता है।

वेबसाइट के मुताबिक, यह तकनीक बारिश, कोहरे या बर्फबारी के जरिए प्रदूषण कम करने से अलग है। बारिश, कोहरा या बर्फबारी के जरिए प्रदूषण फैलाने वाले तत्वों को नमी के जरिए नीचे लाया जाता है। जबकि रेडियो तरंगों के जरिए इन तत्वों को काफी ऊपर भेज दिया जाता है।

हालांकि इस तकनीक को लेकर वैज्ञानिक स्तर पर कोई बड़ा शोध नहीं मिल पाया है, जिसके बूते यह दावा किया जाये कि प्रदूषण से निबटने में यह तकनीक कारगर हो सकती है।

और न ही अब तक इस बारे में कुछ पता चल सका है कि इस तकनीक के क्या दुष्परिणाम हो सकते हैं।

इस टेक्नोलॉजी के प्रति अनभिज्ञता जाहिर करते हुए बंगलुरु के इण्डियन इंस्टिट्यूट ऑफ साइंस के प्रोफेसर व विज्ञानी जयरमण श्रीनिवासन ने द टेलीग्राफ को बताया कि उन्हें अब तक ऐसा कोई शोध नहीं मिला है, जिसमें इस तकनीक के बारे में विस्तार से बताया गया हो।

हालांकि, कम्पनी के पदाधिकारियों का दावा है कि वैज्ञानिक शोध का रिजल्ट बहुत अच्छा हुआ, इसलिये उन्होंने शोध के प्रकाशित होने से पहले ही यह तकनीक बेचनी शुरू कर दी है।

उनका कहना है कि इस तकनीक से सम्बन्धित जानकारियाँ वे इसलिये बहुत जल्दी प्रकाशित नहीं करना चाहते हैं कि यह तकनीक दूसरे लोग भी अपना सकते हैं।

वहीं, न्यूज वेबसाइट स्क्रॉल की एक रिपोर्ट में इण्डियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (दिल्ली) के प्रोफेसर मुकेश खरे ने कनिपनी के दावों को लेकर कहा कि यह सब मार्केटिंग है।

उन्होंने कहा, ‘इस तकनीक का जन्म शीत युद्ध के वक्त रूस में हुआ था और इसका मुख्य काम हवा की गुणवत्ता में सुधार की जगह दृश्यता बढ़ाना था।’

दूसरी ओर, केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के पदाधिकारियों ने भी इसको लेकर अलग नजरिया व्यक्त किया। बोर्ड के पदाधिकारियों को कोट करते हुए स्क्रॉल ने लिखा है कि इस तकनीक में रेडियो तरंगें एक अप्रत्यक्ष चिमनी तैयार करती है, लेकिन मैराथन में जिस तकनीक का इस्तेमाल हुआ वह कैसे काम करता है, इसके बारे में कोई तथ्य नहीं है।

प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अधिकारियों का कहना है कि उन्होंने कम्पनी से विशेषज्ञ समीक्षित शोधपत्र की माँग की थी, लेकिन उन्हें नहीं मिला।

स्क्रॉल की रिपोर्ट में कम्पनी के हवाले से कहा गया है कि आम लोगों, मधुमक्खियों, तितलियों, प्रवासी पक्षियों आदि पर इस तकनीक के प्रभाव के मूल्यांकन के लिये आधिकारिक शोध किया गया, जिसमें उन पर कोई नकारात्मक असर नहीं पड़ा है। हालांकि, कम्पनी के पदाधिकारियों ने यह भी कहा है कि इसके साइड इफेक्ट्स अभी भी एक बड़ा सवाल है, लेकिन इस तकनीक में जो ऊर्जा दी जाती है, वह बहुत नियंत्रित होती है।

इन तमाम बयानों और दावों के मद्देनजर यह जरूरी है कि रेडियो तरंगों से प्रदूषण दूर करने वाली तकनीक को लेकर व्यापक स्तर पर शोध किया जाये। साथ ही इस पर भी शोध करने की आवश्यकता है कि कहीं इसका मानव व पशु-पक्षियों पर नकारात्मक असर तो नहीं पड़ता है।

वैसे, रेडियो तरंगों के अलावा प्रदूषण कम करने के और भी तरीके हैं और उनका नकारात्मक असर भी नहीं पड़ता है। सरकार को चाहिए कि इन तकनीकों को बढ़ावा देकर प्रदूषण करने की दिशा में पहल करे।


TAGS

Radio wave impact on pollution, can ultra high frequency help to control pollution, pollution in Delhi, particulate matter, reasons for pollution in Delhi, India on top in death due to pollution, pollution kills millions in India, research paper on pollution, pollution can cause lung cancer, Central pollution control board, Half marathon in Delhi, air pollution in Delhi statistics, pollution in Delhi today, Delhi pollution level, Delhi air pollution report, how to tackle pollution in India, long term solution to pollution, research papers, Which trees absorb pollution?, How do plants help in reducing air pollution?, Do Trees reduce air pollution?, Can pollution kill trees?, Which tree is best for environment?, Which trees reduce air pollution?, Can plants absorb pollutants?, Is pollution good for plants?, How does cutting down trees cause pollution?, How does pollution affect the trees?, How much pollution does a tree absorb?, how do trees reduce air pollution, how do trees help in reducing pollution, how do plants reduce air pollution, best trees to reduce pollution, list of pollution control trees, how do trees help in controlling and reducing air pollution, radio wave pollution, Can radio waves affect the brain?, What are the effects of radio waves?, Can RF waves hurt you?, What are the effects of radiation pollution?, radio spectrum pollution, harmful effects of radio waves to living things and environment, radioactive pollution, radioactive pollution effects, noise pollution, radio waves impact on environment, radioactive pollution pdf, radioactive pollution essay, mind control using frequencies, can radio waves interfere with brain waves, electromagnetic waves affect brain, effect of electromagnetic waves on human brain, brain emits electromagnetic waves, how do electromagnetic waves affect humans, What are the 3 main causes of air pollution?, What are the main causes of pollution?, What causes air pollution in India?, What is the main cause of smog?, What are the top 10 most polluted countries?, What are the 4 types of pollution?, Which is the highest polluted city in India?, What is the percentage of pollution in India?, deaths due to air pollution in india 2017, deaths due to air pollution in india 2018, deaths due to pollution in india, deaths due to water pollution in india, deaths due to pollution in india 2017, deaths due to air pollution in india 2016, deaths due to air pollution in delhi, pollution deaths in india, deaths due to air pollution in india 2017, deaths due to air pollution in india 2016, deaths due to water pollution in india, deaths due to pollution in india, today pollution in india, current events in india pollution, deaths due to air pollution in india 2018, air pollution india 2017, research papers on air pollution, air pollution research paper pdf, research paper on air pollution in india, air pollution research paper topics, air pollution journal articles pdf, environmental pollution articles, atmospheric pollution research abbreviation, research paper on air pollution control, How does air pollution affect human lungs?, Can you get cancer from lead poisoning?, Is pollution bad for your health?, Can pollution cause asthma?, air pollution is a leading cause of cancer, air pollution and lung cancer statistics, which types of cancer can pollution lead to?, which pollutants can cause cancer in humans, air pollution now leading cause of lung cancer, causes of lung cancer, can air pollution cause skin cancer, who outdoor air pollution causes cancer, what is india doing to reduce air pollution, steps taken by government to control air pollution in india, prevention of air pollution in india, ways to reduce air pollution in cities, india's plan to reduce pollution, what is india doing about air pollution, air pollution in indian cities, india air pollution solutions, solution of air pollution essay, solution of air pollution in points, pollution solutions, solution of air pollution wikipedia, air pollution prevention, air pollution solutions in india, simple solutions to air pollution, factory pollution solutions.


Add new comment

This question is for testing whether or not you are a human visitor and to prevent automated spam submissions.

9 + 3 =
Solve this simple math problem and enter the result. E.g. for 1+3, enter 4.

More From Author

Related Articles (Topic wise)

Related Articles (District wise)

About the author

उमेश कुमार रायउमेश कुमार राय पत्रकारीय करियर – बिहार में जन्मे उमेश ने स्नातक के बाद कई कम्पनियों में नौकरियाँ कीं, लेकिन पत्रकारिता में रुचि होने के कारण कहीं भी टिक नहीं पाये। सन 2009 में कलकत्ता से प्रकाशित होने वाले सबसे पुराने अखबार ‘भारतमित्र’ से पत्रकारीय करियर की शुरुआत की। भारतमित्र में बतौर प्रशिक्षु पत्रकार करीब छह महीने काम करने के बाद कलकत्ता से ही प्रकाशित हिन्दी दैनिक ‘सन्मार्ग’ में संवाददाता के रूप में काम किया। इसके बाद ‘कलयुग वार्ता’ और फिर ‘सलाम दुनिया’ हिन्दी दैनिक में सेवा दी। पानी, पर्यावरण व जनसरोकारी मुद्दों के प्रति विशेष आग्रह होने के कारण वर्ष 2016 में इण्डिया वाटर पोर्टल (हिन्दी) से जुड गए। इण्डिया वाटर पोर्टल के लिये काम करते हुए प्रभात खबर के गया संस्करण में बतौर सब-एडिटर नई पारी शुरू की।

नया ताजा