पोषण पर भी पड़ता है, जलवायु परिवर्तन का प्रभाव

Submitted by editorial on Sat, 11/03/2018 - 16:12
Source
सर्वोदय प्रेस सर्विस, नवम्बर 2018

कुपोषण से जूझते दक्षिण-एशिया के देशों के लिये हावर्ड विश्वविद्यालय की हाल की रिपोर्ट खासी चिन्ता बढ़ाने वाली है जिसमें जलवायु परिवर्तन की वजह से खाद्य पदार्थों के घटते उत्पादन के अलावा भोजन के पोषक तत्व भी बुरी तरह प्रभावित होने की चेतावनी दी गई है। दूसरी तरफ, विश्व बैंक का अध्ययन कहता है कि सस्ती और कम या पोषण-रहित प्रचलित भोजन सामग्री, पोषण तत्वों से भरपूर, लेकिन महंगी भोजन सामग्री के मुकाबले बाजार से गायब हो रही है। कुपोषण की महामारी से निपटते हमारे देश के लिये यह एक नया संकट है।

खाद्य-पदार्थों पर ग्लोबल वार्मिंग का प्रभावखाद्य-पदार्थों पर ग्लोबल वार्मिंग का प्रभाव (फोटो साभार - विकिपीडिया)ग्लोबल वार्मिंग और जलवायु परिवर्तन सहित बढ़ती महंगाई ने हमारे भोजन से पोषक- पदार्थ कम कर दिये हैं। वातावरण में कार्बन डाइऑक्साइड का स्तर बढ़ने से पर्यावरण सम्बन्धित नुकसान तो हो ही रहे हैं, हमारे दिन-प्रतिदिन के भोज्य-पदार्थों में पोषक-तत्वों की भी कमी हो रही है। बढ़ती महंगाई ने फल, सब्जियों सहित मांस जैसे ज्यादा पोषक तत्वों को हमारी थाली से बाहर कर दिया है।

यह देखना ज्यादा दिलचस्प हो सकता है कि इन भोज्य-पदार्थों की महंगाई कम पोषक-तत्वों वाले खाद्य-पदार्थों जैसे-तेल, चीनी आदि की तुलना में अधिक तेजी से बढ़ी है। ऐसी स्थिति में हम कम पोषक-तत्वों वाले हानिकारक खाद्य-पदार्थ अपना लेते हैं। खाद्य-पदार्थों में पोषक-पदार्थों की कमी का सवाल एक गम्भीर लोकतांत्रिक सवाल है।

हावर्ड विश्वविद्यालय के ‘टी.एच.चान स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ’ की एक ताजा रिपोर्ट में बताया गया है कि जलवायु परिवर्तन ने हमारे भोजन से पोषक-तत्वों का अपहरण कर लिया है। इस तरह ग्लोबल वार्मिंग से हमारे सामने खाद्य-सुरक्षा के लिये दोहरा खतरा पैदा हो गया है। जलवायु परिवर्तन के दुष्प्रभावों से खाद्य-सुरक्षा पहले से ही खतरे में है।

कई अन्तरराष्ट्रीय अध्ययनों में इन खतरों की वजह से कृषि- उत्पादन घटने की सम्भावना व्यक्त की गई है, लेकिन ‘हावर्ड रिपोर्ट’ जिस नए खतरे की तरफ संकेत कर रही है उसे गम्भीरता से समझने की जरूरत है। यह रिपोर्ट कह रही है कि कार्बन उत्सर्जन से भोजन में पोषक-तत्वों की कमी हो रही है, इसकी वजह से गेहूँ, चावल, सहित तमाम फसलों में पोषक तत्व घट रहे हैं।

इस अध्ययन में पाया गया है कि जहाँ-जहाँ अधिक कार्बन डाइऑक्साइड की मौजूदगी में फसलें उगाई गईं, वहाँ-वहाँ फसलों में जिंक, आयरन और प्रोटीन की कमी पाई गई। वैज्ञानिकों ने प्रयोगों के माध्यम से इस तथ्य की पुष्टि भी की है। दरअसल हमारे खाद्य पदार्थों में 68 फीसदी जिंक, 81 फीसदी आयरन और 63 फीसदी प्रोटीन की आपूर्ति पेड़-पौधों से ही होती है।

दुनिया भर में तकरीबन डेढ़ अरब लोग आयरन की कमी से जूझ रहे हैं जिनके लिये यह खतरा और भी गहरा हो सकता है। यही नहीं वर्ष 2050 तक दुनिया में तकरीबन 18 करोड़ लोग जिंक और 12-13 करोड़ लोग प्रोटीन की कमी से ग्रस्त होंगे। जरूरी पोषक-तत्व उचित मात्रा में नहीं मिल पाने की वजह से शरीर कुपोषण का शिकार हो जाता है। नतीजे में कम उम्र में ही हड्डियों से जुड़े रोग, आँखों की रोशनी कम हो जाना, रोग-प्रतिरोधक क्षमता घटना जैसी परेशानियाँ पैदा हो जाती हैं।

चूँकि भारत में कुपोषण की दर पहले से ही ज्यादा है, इसलिये कार्बन उत्सर्जन की बढ़ोत्तरी हमारे यहाँ सर्वाधिक दुष्प्रभाव डाल सकती है। इसी तरह अन्य एशियाई देशों, अफ्रीका और मध्य-पूर्व के देशों पर भी इसका बुरा प्रभाव पड़ेगा। रिपोर्ट में स्पष्ट कहा गया है कि कार्बन डाइऑक्साइड से पौधों के विकास में मदद तो मिलती है, किन्तु इससे पौधों में पोषक तत्वों की मात्रा का स्तर घट जाता है।

उधर, विश्व बैंक ने अपने एक अध्ययन में दक्षिण-एशिया में पोषक खाद्य पदार्थों की लागत पर निष्कर्ष प्रस्तुत किया है कि महंगाई की मार से बचते हुए हम अक्सर कम पोषक और हानिकारक खाद्य-पदार्थ स्वीकार कर लेते हैं।

भारत सहित सभी छः दक्षिण एशियाई देशों पर किये गए उक्त अध्ययन में कहा गया है कि ज्यादातर पोषक खाद्य-पदार्थ मौसमी होते हैं और अधिक टिकाऊ भी नहीं होते। इनकी कीमतें भी स्थानीय स्तर के उत्पादन और स्थानीय स्तर के बाजार पर ही निर्भर करती हैं।

अधिक पोषक खाद्य-पदार्थों की तुलना में कम पोषक खाद्य-पदार्थों, जैसे-गेहूँ, चावल, चीनी और तेल आदि की कीमतें अपेक्षाकृत स्थिर रहती हैं। ऐसी स्थिति में पोषक-पदार्थों की कीमतों में आया उछाल अल्प आय-वर्ग के लोगों की खुराक में असन्तुलन पैदा कर देता है। दक्षिण-एशिया में कुपोषण की समस्या सबसे भयानक है। दुनिया के सबसे ज्यादा बच्चे दक्षिण-एशिया में ही कुपोषित हैं। एक सर्वेक्षण के मुताबिक यहाँ 36 फीसदी बच्चे ठिगनेपन के शिकार हैं, तो 16 फीसदी बच्चे मोटापे से जूझ रहे हैं।

इस परिस्थिति से निपटने के लिये ‘फूड, सेफ्टी एंड स्टैंडर्ड अथॉरिटी ऑफ इण्डिया’ की ओर से दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं। इनके मुताबिक छः तरह के खाद्य-पदार्थों में पोषक-तत्वों का मिलाया जाना अगली एक जनवरी से अनिवार्यतः लागू किया जाएगा। पूरे देश में लागू की जा रही इस व्यवस्था के तहत नमक, तेल, दूध, आटा, मैदा, और चावल को शामिल किया गया है।

‘फूड, सेफ्टी एंड स्टैंडर्ड (फोर्टिफिकेशन इन फूड) रेग्यूलेशन-2016’ के अन्तर्गत नोटिफिकेशन जारी करते हुए कहा गया है कि नमक में आयोडीन और आयरन, तेल व दूध में विटामिन ए और डी तथा आटे, मैदा व चावल में आयरन, फोलिक एसिड, विटामिन बी-12 अनिवार्यतः मिलाने ही होंगे। विश्व बैंक और विश्व स्वास्थ्य संगठन की सिफारिशों के मद्देनजर भी भारत भविष्य में कुछ और खाद्य-पदार्थां में पोषक-पदार्थों को मिलाना अनिवार्य कर सकता है। आखिर कुपोषण का सवाल जीवन से जुड़ा है?

श्री राजकुमार कुम्भज वरिष्ठ कवि एवं लेखक हैं।

TAGS

nutrition, climate change, malnutrition in south asia, harvard university, t.h. chan school of public health, decreasing production of foodgrains, lack nutrition elements in food, rising level of carbon dioxide, food security, lack of iron and protein, report prepared by world bank, fortification of food, food safety standard and regulation act, how does climate change affect nutrition, climate change and nutritional status, climate change making food crops less nutritious, impact of climate change on malnutrition, climate change food nutrition, climate change and food security, how does climate change affect food and nutrition, climate change and food quality, Which crop has maximum production in India?, How much of food grains are produced in India?, Which state is largest producer of maize in India?, Are grains crops?, food grain production in india statistics, food grain production in india 2017-18, food grain production in india 2016-17, food grain production in india from 1950 to 2016, total food grain production in india 2017-18, year wise food grain production in india, food grain production in india 2016-17 pdf, total food grain production in india 2015-16, What are the 7 elements of nutrition?, What are the symptoms of lack of nutrition?, What are the diseases caused by lack of nutrients?, What happens when your body doesn t get enough nutrients?, What are the 3 types of nutrition?, What are the 7 essential nutrients?, What causes poor nutrition?, How can we prevent nutritional deficiency?, Which vitamin deficiency leads to hair loss?, Which disease is caused due to deficiency of protein?, What are the diseases caused due to malnutrition?, What are the diseases caused by lack of vitamins?, What disease is caused by lack of nutrients?, What happens if you have too much nutrients?, What are the side effects of not eating enough?, nutrition food, types of nutrition, nutrition definition, nutrients, what is nutrition pdf, why is nutrition important, what is nutrition in biology, balanced diet, What happens when your iron is low?, Can you die of lack of iron?, What not to eat when you have low iron?, Can iron deficiency cause bowel problems?, iron deficiency symptoms, iron levels chart, iron deficiency causes, iron deficiency anemia symptoms, iron deficiency treatment, iron deficiency test, avocado iron, low iron levels, What are the fortified foods?, What are the benefits of food fortification?, Why are foods fortified with vitamins and minerals?, What foods are fortified by law?, What are fortified products?, How do you fortify food?, Are fortified foods good for you?, What is fortification nutrition?, What does fortified mean in food?, What fortified foods have b12?, What nutrients help repair the body?, Which foods are fortified with folic acid?, What is a fortified drink?, What is fortified bread?, What does fortified cereal mean?, importance of food fortification, food fortification pdf, food fortification in india, food fortification ppt, food fortification benefits, food fortification advantages and disadvantages, examples of fortified foods, objectives of food fortification, What are food safety standards?, What is Fssai What are food safety and standards rule?, What is Food Safety Act of 2013?, How do I apply for a food license online?, What are the four principles of food safety?, What are some food safety rules?, What are the food standards?, What is Food Safety and Standards Act 2006?, Why is food safety important?, What is the law of food?, What is RA 10611?, Is Fssai license mandatory?, What are documents required for Fssai Licence?, How can I get Fssai approval?, food safety and standards regulations 2016, food safety and standards regulations 2017, food safety and standards regulations 2011 pdf, food safety and standards regulations 2017 pdf, food safety and standards act 2011 ppt, salient features of food safety and standards regulations 2011, food safety and standards (food products standards and food additives) regulations, 2011, food safety and standards regulations 2016 pdf.

 

 

 

Disqus Comment

More From Author

Related Articles (Topic wise)

Related Articles (District wise)

About the author

नया ताजा