कोसी का कहर !

Submitted by admin on Tue, 01/20/2009 - 14:37
Printer Friendly, PDF & Email

यही रहा तो इस बार भी होगा कोसी का कहर !


मदन जैड़ा / हिन्दुस्तान। नई दिल्ली, 18 जनवरी
अगले मानसून में भी कोसी के कहर से बिहार के लोगों को निजात मिलना मुश्किल लग रहा है। कारण यह है कि नेपाल में कोसी पर बने कुसहा बांध की मरम्मत के कार्य में देरी हो गई है। नेपाल में भारत के राजदूत ने भी कार्य की गति धीमी होने की सूचना दी है। केद्र के जल संसाधन महकमे का कहना है कि इसमें तीन महीने का विलंब अब तक हो चुका है। फरवरी में बांध में तेज रफ्तार से बर्फीला पानी पहुंœचना शुरू हो जाता है जिससे कार्य में और भी मुश्किल पैदा हो जाएगी। जल संसाधन राज्य मंत्री जय प्रकाश यादव ने कहा कि बिहार सरकार की यह ढिलाई जनता के लिए फिर से खतरे की झंडी है।

यादव ने यहां संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि गत जून में कुसहा बांध के टूटने के बाद बिहार सरकार ने इसकी मरम्मत का प्रस्ताव केंद्र को भेजा था। चार महीने पूर्व केंद्र ने नियमों को शिथिल कर तत्काल 40 करोड़ रुपये राज्य सरकार को भेज दिया। राज्य सरकार ने वशिष्ठ कंस्ट्रक्शन कंपनी को बांध के निर्माण कार्य का जिम्मा सौंपा। कंपनी को 30 नवम्बर तक इसे पूरा करना था लेकिन नहीं किया। फिर राज्य सरकार ने 15 दिसम्बर की तिथि निर्धारित कर दी। फिर भी कार्य पूरा नहीं हुआ तो नई तिथि 31 दिसम्बर, फिर 15 जनवरी रखी। लेकिन 15 जनवरी भी बीत गई और कार्य अधूरा पड़ा है।

यादव ने कहा कि फरवरी से वहां मौसम में बदलाव शुरू हो जाता है। कोसी में ग्लेशियरों का ठंडा पानी आता है और उसका बहाव तेज होता है। इसलिए कार्य करने में दिक्कत होगी। राज्य सरकार ने 31 मार्च 2009 तक सारा कार्य पूरा करने का लक्ष्य रखा है लेकिन नेपाल में भारत के राजदूत ने सूचित किया है जिस रफ्तार से कार्य चल रहा है, उससे नहीं लगता कि 31 मार्च तक पूरा हो जाएगा। यादव के अनुसार इसमें तीन माह का विलंब है। अभी तक कॉफर डैम बनाने का काम ही पूरा नहीं हुआ है। इस हिसाब से मानसून तक यह कार्य शायद ही पूरा हो पाए। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार का यह रवैया बिहार के लिए खतरे का आमंत्रण है।

2- साभार – मदन जैड़ा / हिन्दुस्तान।

Tags - bihar flood hindi in Hindi, Kosi bihar flood-2008 in Hindi, bihar kosi flood in Hindi

More From Author

Related Articles (Topic wise)

Related Articles (District wise)

About the author

नया ताजा