गंगा मैया से ज्यादा शुद्ध है नर्मदा जल

Submitted by admin on Wed, 07/15/2009 - 09:00
Printer Friendly, PDF & Email
Source
दीपक दीवान/ May 06, 2009
होशंगाबाद, मध्यप्रदेश की जीवनदायिनी नर्मदा का जल गंगाजल से भी ज्यादा शुद्ध है। इस तथ्य का खुलासा केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की एक रिपोर्ट में हुआ है। नर्मदा के पानी में घुलित आक्सीजन का निम्मतम स्तर गंगा नदी से काफी ज्यादा है, इस कारण नदियों की ग्रेडिंग में नर्मदा को बी और गंगा को सी ग्रेड दी गई है। बोर्ड विभिन्न स्रोतों से प्राप्त जल की मासिक सेंपलिंग कर उसका परीक्षण करता है।

इसमे देश भर की विभिन्न नदियों के पानी का भी परीक्षण किया जाता है। परीक्षण के आधार पर नदी जल की ग्रेडिंग होती है। प्राकृतिक स्रोत से प्राप्त जलों में नर्मदा नदी के पानी को सर्वाधिक उच्च गुणवत्तायुक्त पाया गया है।

नर्मदाजल को बी ग्रेड
नर्मदा जल को अधिक शुद्धता के लिए बी ग्रेड दिया गया है। नर्मदा जल की सेंपलिंग प्रदेश के होशंगाबाद, ओंकारेश्वर, महेश्वर, बड़वानी और गुजरात के जड़ेश्वर में की गई। नर्मदाजल में होशंगाबाद में घुलित आक्सीजन की मात्रा 8.8 मिग्रा प्रतिलीटर पाई गई और खंभात की खाड़ी में मिलने से पहले गुजरात के जड़ेश्वर में 7 से 10 मिग्रा प्रतिलीटर पाई गई। इन स्थानों के बीच ओंकारेश्वर में 7.8, महेश्वर में 7.6 और बड़वानी में घुलित आक्सीजन की मात्रा 9.1 मिग्रा प्रतिलीटर पाई गई। एनएमबी कालेज होशंगाबाद में इंडस्ट्रियल केमेस्ट्री के प्रोफेसर ओएन चौबे के अनुसार घुलित आक्सीजन की मात्रा जितनी ज्यादा होती है जल उतना ही अधिक शुद्ध माना जाता है।

गंगाजल को सी ग्रेड
गंगाजल की सेपलिंग उत्तरांचल, रूद्रप्रयाग, हरिद्वार, बुलंदशहर, कानपुर, रायबरेली, इलाहाबाद, बक्सर और अंत में डायमंड हार्बर में की गई। उत्तरांचल में गंगाजल में डिसाल्वड आक्सीजन(घुलित आक्सीजन) की मात्रा 9.8 पाई गई और समुद्र में मिलने से पूर्व डायमंड हार्बर प्वाइंट पर घुलित आक्सीजन का निम्नतम स्तर 5.4 मिग्रा प्रतिलीटर पाया गया। सेंपलों के आधार पर गंगाजल को सी ग्रेड दिया गया है।

गुजरात की साबरमती नदी को सर्वाधिक प्रदूषित पाया गया। इसे डी ग्रेड दिया गया है। श्री चौबे के मुताबिक मार्च में प्रकाशित केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की यह रिपोर्ट मां नर्मदा के प्रति करोड़ों भक्तों की आस्था और बढ़ाएगी।

Related Articles (Topic wise)

Related Articles (District wise)

About the author

नया ताजा