बदहाल हुई पानीपत की झील

Submitted by admin on Sun, 10/04/2009 - 12:21
पानीपत शहर का हृदय कहे जाने वाले हाली पार्क की झील बदहाल हो चुकी है। इसमें शहर के सीवरेज का गंदा पानी और कबाड़ जमा हो चुका है। कभी इस झील में लोग बोटिंग का लुत्फ उठाते थे, लेकिन उदासीन रवैये के कारण अब झील आवारा पशुओं के लिए आरामगाह बने हुए हैं। यहां से हर रोज प्रशासनिक अधिकारी गुजरते हैं, लेकिन किसी की भी नजर झील पर नहीं पड़ती या फिर वे इसको देखकर भी अनदेखा कर रहे हैं। नगर परिषद ने भी बजट का रोना रोकर झील के कायाकल्प से मुंह मोड़ लिया है। इससे शहरवासी मायूस हैं।

झील का विकास किया जाए


हाली पार्क में आए माडल टाउन निवासी रविंद्र, मुकेश व अंकित का कहना है कि पंद्रह-सोलह साल पहले हाली पार्क में खूब रौनक रहती थी। वे छुट्टी वाले दिन पार्क में खेलते थे और झील में बोटिंग का लुत्फ उठाते थे। काफी लोग झील में बोटिंग करने आते थे। अब झील का पानी दूषित हो चुका ह। इसको देखकर मन में टीस होती है। प्रशासन ने झील के विकास पर ध्यान देना चाहिए।

1974 में हुआ था उद्घाटन


पूर्व मुख्यमंत्री बंसीलाल ने मौलाना अल्ताफ हुसैन हाली की पुण्य तिथि पर पांच अक्टूबर 1974 को हाली पार्क का उद्घाटन किया था। इस पार्क में पांच एकड़ से ज्यादा जमीन पर झील बनाई गई थी, जिसमें लोग बोटिंग का मजा लेते थे। अब झील वीरान हो चुकी है।

प्रशासन ने किया था वादा


हाली पार्क में हाली पानीपत ट्रस्ट द्वारा 22 नवंबर, 08 को दो दिवसीय मेले का आयोजन किया था। इस दौरान प्रशासन ने पार्क की सफाई करवा दी थी और झील का कायाकल्प करने का वादा किया था। एक साल बीतने को है, लेकिन प्रशासन ने झील की सफाई नहीं करवाई है।

मेगा प्रोजेक्ट नहीं चढ़ा सिरे


हाली पार्क की झील की जगह दिल्ली की एक कंपनी द्वारा वर्ष 2009 में मेगा प्रोजेक्ट के तहत मॉल, रेस्टोरेंट, मनोरंजन पार्क व पार्किग बनाई जानी थी। इस पर 810 करोड़ रुपए खर्च होने थे, लेकिन अभी तक प्रोजेक्ट सिरे नहीं चढ़ पाया है। विभाग की अनदेखी के चलते शहर की शान में बदनुमा दाग लग गया है। शहर के बुजुर्ग लोगों का कहना है कि जब झील का उद्घाटन किया गया था, उस समय यह पार्क शहर की शान हुआ करता था। आसपास के लोग बड़े चाव से यहां घूमने आया करते थे। पार्क में स्थित झील हर आने वाले शख्स का मन मोह लेता था। लेकिन अधिकारियों की अनदेखी और शहर के आम नागरिकों के चुप रहने के चलते पार्क बदहाल होता गया।

करेंगे समाधान


हाली पार्क की झील में सीवरेज के गंदे पानी पर प्रशासन ने रोक लगा दी थी। अब फिर से झील में गंदा पानी जाने लगा है। मैं इसके समाधान के लिए प्रशासनिक अधिकारियों से मिलूंगा। - सुनील कुमार, पार्षद वार्ड नंबर चार

वादा पूरा करेंगे


प्रशासन को अपना वादा पूरा करते हुए हाली पार्क की झील का सुधार करना चाहिए। इस बारे में प्रशासनिक अधिकारियों से विचार किया जाएगा। - राममोहन राय, सचिव, हाली, पानीपत ट्रस्ट

काम शुरू नहीं


बजट न होने की वजह से हाली पार्क की झील का सुधार नहीं हो पाया है। झील के विकास के लिए मेगा प्रोजेक्ट शुरू होना था, लेकिन कंपनी ने अभी तक काम नहीं शुरू नहीं किया है। झील के कायाकल्प की कोशिश की जाएगी। - रोहताश शर्मा, कार्यकारी प्रधान, नगर परिषद

सुधार होना चाहिए


ऐतिहासिक हाली पार्क की झील में गंदा पानी जमा होने से झील की सुंदरता पर ग्रहण लग गया है। झील का सुधार होना चाहिए। यह शहर की सुंदरता पर ग्रहण है। - अमित सुखीजा, बीए द्वितीय वर्ष आर्य कालेज

झील का उद्धार जरूरी


बड़े भाई ने बताया कि हाली पार्क की झील में पहले बोटिंग होती थी। सुनकर बड़ा अच्छा लगा, लेकिन झील की दुर्दशा देखकर मन दुखी हो गया। झील का उद्धार होना जरूरी है। - संदीप, निवासी राजनगर

फैल सकती है बीमारी


हाली पार्क की झील के पास से गुजरने पर मुंह पर रूमाल रखना पड़ता है। झील में जमा गंदे पानी से बीमारी फैल सकती है। इसलिए झील की सफाई की जानी चाहिए। - विनिता, निवासी माडल टाउन

गंदा पानी निकलवाएं


हाली पार्क की झील में गंदा पानी नहीं भरना चाहिए। जो पानी भरा है उसे प्रशासन को निकलवाना चाहिए। झील हमारे शहर की शान है। इसकी सुंदरता पर दाग नहीं लगने देना चाहिए। - वंदना, निवासी माडल टाउन

झील में भरें स्वच्छ पानी


शहर में हाली पार्क की झील ही एकमात्र झील है। वह भी प्रदूषित हो चुकी है। झील की सफाई करके उसमें स्वच्छ पानी भरना चाहिए। - प्रमोद खेड़ा, प्रिधान सनातन धर्म संगठन, पानीपत

Disqus Comment

Related Articles (Topic wise)

Related Articles (District wise)

About the author

नया ताजा