ऐल्बिडो (Albedo)

Submitted by Hindi on Tue, 12/29/2009 - 14:43
किसी वस्तु द्वारा प्राप्त होने वाले और उस वस्तु द्वारा परावर्तित किए जाने वाले विकिरणों की मात्राओं के बीच अनुपात। आम बोलचाल की भाषा में इसे ‘धवलता’ भी कहते हैं।

पृथ्वी की औसत एल्बिडो (जिसे ग्रहीय एल्बिडो भी कहा जाता है) लगभग 30 प्रतिशत है परंतु पृथ्वी के न तो हर क्षेत्र की और न ही हर वस्तु यथा जंगल, घास के मैदान, बर्फ, सागर, रेत आदि की ऐल्बिडो बराबर होती है। वह सूर्य की किरणों के आपतन कोण (जिस कोण पर वे धरती पर पड़ती हैं) के अनुसार भी बदलती रहती है। साथ ही उस पर आकाश के स्वच्छ अथवा मेघाच्छित होने के प्रभाव भी पड़ते हैं। इसीलिए उनका मान भूमध्यरेखा पर कम और ध्रुवीय क्षेत्रों में अधिक होता है। कुछ वस्तुओं के औसत एल्बिडो मान इस प्रकार हैं:

वस्तु

ऐल्बिडो और (प्रतिशत)

उष्ण कटिबंधीय वन

21

पतझड़ी वन

18

नुकीले पत्तों वाले वृक्षों के वन

(कोनीफरस फॉरेस्ट)

13

घास के मैदान

15

धान्य फसलें

10-25

हरी घास

8-27

घने बादल

70-80

छितराए बादल

25-50

सागर (60-700अक्षांशों के क्षेत्र में)

7-23

थलीय जल

2-78

हिम

70-90

गिला रेत

30-35

नंगी चट्टानें

12-18



वैसे इन अथवा अन्य वस्तुओं द्वारा परावर्तित की जाने वाली ऊर्जा का अधिकांश भाग वायुमंडल द्वारा अवशोषित कर लिया जाता है।

Disqus Comment