बोवाई सम्बन्धी कहावतें

Submitted by Hindi on Mon, 03/22/2010 - 16:55
Author
घाघ और भड्डरी

अगहर खेती अगहर मार।
घाघ कहैं तौ कबहुँ न हार।।


भावार्थ- घाघ का मानना है कि खेती और मारपीट के मामले में पहल करने वाला व्यक्ति कभी हारता नहीं है। लड़ाई-झगड़े में पहले मारने की नीति को सर्वत्र श्रेय दिया जाता है लेकिन खेती के मामले में हमेशा अगहर होना लाभदायक नहीं होता, फिर भी लाभ की सम्भावना अधिक होती है।

Disqus Comment