भूजलस्तर गिरने से एक साल में जलबोर्ड के 65 कुएँ सूखे

Submitted by Hindi on Thu, 09/07/2017 - 10:57
Source
राष्ट्रीय सहारा, नई दिल्ली, 07 सितम्बर 2017

.राजधानी में लगातार भूमिगत जलस्तर गिर रहा है। जलस्तर गिरने के कारण जलबोर्ड के 65 कुएँ सूख गये हैं। कुओं के सूखने के कारण जलबोर्ड को इन इलाकों में पानी की अतिरिक्त व्यवस्था करनी पड़ रही है। पहले इन क्षेत्रों में कुओं से जलापूर्ति होती थी।

दिल्ली जलबोर्ड दिल्लीवासियों की प्यास बुझाने के लिये यमुना और गंगा के अलावा भाखड़ा व्यास नहरों से तथा 4400 कुओं और रैनीवैलों से पानी की आपूर्ति करता है। कुओं और रैनीवैलों से करीब 120 एमजीडी पानी मिलता है जिसमें जलबोर्ड को 80 एमजीडी पानी कुओं से मिलता है। कुओं से लगातार पानी का दोहन करने के कारण भूमिगत जलस्तर लगातार गिर रहा है जिससे पिछले एक वर्ष में 65 कुएँ सूख गये। यह कुएँ दक्षिण और दक्षिण पूर्व दिल्ली के हैं। इन कुओं के पानी की भरपाई जलबोर्ड को दूसरे कुओं से करनी पड़ रही है। इसलिये दूसरे कुओं से पानी को दोहन अधिक हो रहा है। नतीजतन इन कुओं का जलस्तर गिरने लगा है। अगर यही स्थिति रही तो दक्षिण दिल्ली के कुछ और कुएँ भी बंद हो सकते हैं।

इस मामले में सिटीजन फ्रंट फॉर वाटर डेमोक्रेसी के संजय शर्मा ने कहा कि जलबोर्ड केवल पानी का दोहन कर रहा है और भूमिगत जलस्तर को ऊपर लाने के लिये कोई प्रयास नहीं किये। उन्होंने कहा कि जिस तरह पानी का दोहन हो रहा है उससे भूमिगत जलस्तर में और गिरावट आना स्वाभाविक है। शर्मा ने कहा कि अगर जलबोर्ड वर्षा जलसंचयन और वाटर हार्वेस्टिंग के प्रयास नहीं करता है तो भूमिगत स्तर और गिरेगा। उन्होंने कहा कि जापान की कम्पनी जायका ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि दिल्ली में 2021 तक 1200 एमजीडी पानी की जरूरत होगी, जलबोर्ड के पास 930 एमजीडी पानी की उपलब्धता है ऐसे में यही स्थिति बनी रही तो आने वाले समय में और भी कुओं के बंद होने की संभावना है।

इस मामले में जलबोर्ड के मेंबर वाटर आरएस त्यागी ने कहा कि वाटर हार्वेस्टिंग को बढ़ावा देने के लिये जलबोर्ड द्वारा जन जागृति अभियान चलाया गया है। इसके अलावा पल्ला और उसके आस-पास के इलाकों में जलसंवर्धन के लगातार प्रयास किये जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि आने वाले वक्त में दिल्ली में पेयजल की बढ़ती माँग को पूरा करने के लिये पानी की और आवश्यकता होगी इसलिये अभी से प्रयास करने होंगे।

- दक्षिण और दक्षिण पूर्व के भूमिगत जलस्तर गिरने से सूखे यह कुएँ
- दिल्ली में 4400 कुओं से 80 एमजीडी पानी का दोहन करता है जलबोर्ड

Disqus Comment