बिहार में पर्यावरण की रक्षा के लिए यात्रा की शुरुआत

Submitted by HindiWater on Tue, 09/22/2020 - 17:33

पर्यावरण एवं वन विभाग के प्रधान सचिव दीपक कुमार सिंह ने आज रोहतास ज़िले से पर्यावरण संवाद यात्रा कार्यक्रम का शुभारंभ किया। इस दौरान अपने संबोधन में उन्होंने यात्रा के उद्देश्य से अवगत कराते हुए प्रतिभागियों को लक्ष्य से परिचित कराया। यह प्रशिक्षण कार्यक्रम अगले पाँच दिनों तक चलेगा और प्रशिक्षित साथी आने वाले दिनों में राज्य के अलग अलग हिस्से में जाकर पर्यावरण संरक्षण में समाज की भूमिका को लेकर जागरूकता का काम करेंगे। उन्होंने उम्मीद ज़ाहिर की है कि संवाद यात्रा अपने लक्ष्य को हासिल करने में अवश्य ही सफल रहेगा। 

इस दौरान उन्होंने जैव विविधता के महत्व पर विस्तार से चर्चा की। उन्होंने बताया कि जैव विविधता जीवों के बीच पायी जाने वाली विभिन्नता है, जो प्रजातियों में, प्रजातियों के बीच और उनकी पारितंत्रों की विविधता को भी समाहित करती है। इसमें सभी प्रकार के जीव-जंतु और पेड़-पौधे व वनस्पतियां शामिल हैं। जैव विविधता से ही इंसान सहित समस्त जीवों की भोजन, चारा, कपड़ा, लकड़ी, ईंधन आदि आवश्यकताओं की पूर्ति होती है। ये रोगरोधी और कीटरोधी फसलों की किस्मों का विकास करती है, जिससे कृषि उत्पादकता अधिक होती है। औषधीय आवश्यकताओं की पूर्ति जैव विविधता से आसानी से हो जाती है] तो वहीं पर्यावरणीय प्रदूषण को नियंत्रित करने में जैव विविधता का अहम योगदान है। इसके अलावा कार्बन अवशोषित करना और मिट्टी के गुणवत्ता में सुधार करने में भी इसका अनुकरणीय योगदान है। 

इस अवसर पर जल और जंगल के प्रति अपने कार्यों को लेकर सक्रिय पत्रकार पंकज मालवीय ने कहा कि एक प्रकार से जैव विविधता पृथ्वी पर जीवनचक्र को बनाए रखती है। लेकिन अभी तक हम मानते आ रहे थे कि जल संकट के कारण जैव विविधता खतरे में है, किंतु जैव विविधता के लगातार कम होने से जल संकट गहराता जा रहा है।

DFO प्रद्युमण गौरव ने अपने सम्बोधन में इस कार्यक्रम के उद्देश्यों पर विस्तार से प्रकाश डालते हुए कहा कि समाज को समझना और समझकर पर्यावरण की रक्षा के प्रति उन्हें प्रेरित कर सकें। प्रशिक्षण कार्यक्रम में राज्य के अलग अलग जिले से २५ पर्यावरण कार्यकर्ता प्रशिक्षण ले रहे हैं।

Disqus Comment