गाँव स्तर पर सहभागिता भूजल निगरानी कार्यक्रम

Submitted by HindiWater on Fri, 08/28/2020 - 17:32
Source
India Water Portal

(Image: Newcastle University)

साल 2012 में  Managing Aquifer Recharge and Sustaining Groundwater Use through Village level Intervention (MARVI)  की शुरुआत हुई, इसका उद्द्येश्य भारत के ग्रामीण समुदाय के लिए सिचाई के पानी की आपूर्ति सुधारना और उनकी आजीविका के अवसरों को बढ़ाना है।  MARVI का मुख्य फोकस ग्रामीण स्तर पर भागीदारी से प्रभावी भूजल निगरानी कार्यक्रम को विकसित करके बरसात के पानी का संग्रहण, ग्राउंड वाटर संरचनाओं की प्रभावशीलता का आंकलन और डिमांड मैनेजमेंट की रणनीतियों का विकास करना है। इससे भूजल के उपयोग को टिकाऊ बनाया जाएगा। विशेष रूप से, MARVI का फोकस  ग्रामीण स्तर पर भागीदारी से प्रभावी  भूजल निगरानी कार्यक्रम विकसित कर मौजूदा बारिश के पानी का संग्रहण और ग्राउंडवाटर रिचार्ज  संरचनाओं की प्रभावशीलता का आकलन करना और डिमांड मैनेजमेंट की  रणनीतियों का विकास करना है जो कि भूजल के उपयोग को टिकाऊ बनाएगा। Australian Centre for International Agricultural Research (ACIAR) द्वारा फण्ड की गई परियोजना में  कई पार्टनर्स शामिल हैं जैसे  कि  Western Sydney University, Commonwealth Scientific and Industrial Research Organisation (CSIRO) Land and Water, International Water Management Institute (IWMI), Development Support Centre (DSC), Arid Communities and Technologies (ACT), Maharana Pratap University of Agriculture and Technology (MPUAT) and Vidya Bhawan Krishi Vigyan Kendra (VBKVK)  इनके  के साथ मिलकर इसे  क्रियान्वित किया जा रहा है। MARVI परियोजना में, विभिन्न विषयों (सिंचाई, जल विज्ञान, जल विज्ञान, सामाजिक विज्ञान, अर्थशास्त्र, कृषि विज्ञान, मिट्टी विज्ञान, ग्रामीण विकास आदि) के शोधकर्ताओं को शामिल करते हुए 'ट्रांसडिसिप्लिनरी रिसर्च' दृष्टिकोण का उपयोग किया गया है। भूजल का प्रबंधन करने के लिए, मॉडलिंग और मूल्यांकन उपकरण विकसित किए जा रहे हैं ताकि उन्हें आसानी से उपलब्ध स्थानीय जानकारी के साथ उपयोग किया जा सके। MARVI के अध्ययन के लिए  मेघराज जलसंधि, गुजरात के अरावली जिले और राजस्थान के उदयपुर में धरता जलसंधि हार्ड रॉक एक्वीफर क्षेत्र हैं।  ये दोनों जिले भूजल रिचार्ज और प्रबंधन में विभिन्न प्रकार के ट्रांसडिसिप्लिनरी मुद्दों को प्रदान करते हैं। MARVI परियोजना के एक हिस्से  के रूप में, अंग्रेजी, हिंदी और गुजराती में कई पुस्तकों को भी छापा गया है।

मारवी भूजल सुप्रबंधन का अनूठा उपयोग 

MARVI परियोजना किसानों और अन्य प्रभावित हितधारकों की प्रत्यक्ष भागीदारी के माध्यम से भूजल आपूर्ति में सुधार करने और इसकी मांग को कम करने में सहायता के लिए एक ग्रामीण स्तर की भागीदारी वाले मॉडल विकसित करने पर केंद्रित है।  MARVI परियोजना की एक अनूठी विशेषता लोगों द्वारा वैज्ञानिक मापतौल का उपयोग भूजल जानकार नाम के वोलियंटियर के माध्यम से जुड़कर करना है। भूजल जानकार   उपयुक्त प्रशिक्षण और क्षमता निर्माण के साथ भूजल स्तर और गुणवत्ता की निगरानी करते हैं,भुजल जनकार इस जानकारी को किसानों और अन्य लोगों को उनकी अपनी भाषा में देते हैं।  यह पुस्तिका भूजल जानकार  के दृष्टिकोण, जल विज्ञान, कृषि विज्ञान और सामाजिक-आर्थिक विश्लेषण, My Well ऐप और गाँव के भूजल सहकारी समितियों के पहलुओं को कवर करने वाली MARVI परियोजना से प्रमुख आउटपुट का सारांश प्रदान करती है। 

Editors: Basant Maheshwari and Anil Mehta

The booklet is available as flipbook and as PDF in EnglishHindi and Gujarati

हमारे भूजल: जल साक्षरता के लिए एक संसाधन पुस्तक  

यह पुस्तक भूजल के अतिदोहन के मुद्दे से संबंधित है, जो कि  विशेष रूप से आंध्र प्रदेश, गुजरात, राजस्थान, हरियाणा, पंजाब, तमिलनाडु और महाराष्ट्र जैसे राज्यों में एक गंभीर समस्या है। इसे छात्रों और शिक्षकों द्वारा उपयोग की जाने वाली एक पुस्तक के रूप में लिखा गया है, जिसका उद्देश्य भारत में भूजल के अति-दोहन की गंभीरता के बारे में न केवल जागरूकता बढ़ाना है बल्कि शिक्षण समुदाय को सशक्त बनाना है। पुस्तक छात्रों और शिक्षकों को मांग और आपूर्ति प्रबंधन दोनों के लिए महत्वपूर्ण  जानकारी प्रदान करती है। भूजल आपूर्ति को जल संचयन और रिचार्ज के द्वारा बढ़ाया जा सकता है, कृषि में जल उपयोग दक्षता बढ़ाने (ड्रिप जैसे सिंचाई के आधुनिक तरीकों के माध्यम से) और भोजन और पानी की बर्बादी को कम करने के माध्यम से प्रबंधित किया जा सकता है। पुस्तक में विभिन्न प्रकार की खाद्य फसलों के उत्पादन के लिए कितने पानी की आवश्यकता होती है, इसकी जानकारी है। पुस्तक में भूजल को एक सामान्य संसाधन के रूप में माना गया है जिसे सभी को ध्यान से उपयोग और संरक्षित करने की आवश्यकता है। जल स्वच्छता  (डब्ल्यूएएसएच), जल प्रदूषण और जल पुन: उपयोग के पहलुओं को इस पुस्तक में संक्षेप में शामिल किया गया है। यह पुस्तक भूजल के अतिदोहन के मुद्दे से संबंधित है, जो कि  विशेष रूप से आंध्र प्रदेश, गुजरात, राजस्थान, हरियाणा, पंजाब, तमिलनाडु और महाराष्ट्र जैसे राज्यों में एक गंभीर समस्या है। यह छात्रों और शिक्षकों द्वारा उपयोग के लिए एक  पुस्तक के रूप में लिखा गया है, जिसका उद्देश्य भारत में भूजल अति-दोहन की गंभीरता के बारे में न केवल जागरूकता बढ़ाना है बल्कि शिक्षण समुदाय को सशक्त बनाना है। पुस्तक छात्रों और शिक्षकों की जानकारी प्रदान करती है जो मांग और आपूर्ति प्रबंधन दोनों के लिए महत्वपूर्ण है। जबकि भूजल आपूर्ति को जल संचयन और रिचार्ज के द्वारा बढ़ाया जा सकता है, पानी के उपयोग को कृषि में जल उपयोग दक्षता बढ़ाने (ड्रिप जैसे सिंचाई के आधुनिक तरीकों के माध्यम से) और भोजन और पानी की बर्बादी को कम करने के माध्यम से प्रबंधित किया जा सकता है। पुस्तक में विभिन्न प्रकार की खाद्य फसलों के उत्पादन के लिए कितने पानी की आवश्यकता होती है, इसकी जानकारी है। पुस्तक में भूजल को एक सामान्य संसाधन के रूप में माना गया है जिसे सभी को ध्यान से उपयोग और संरक्षित करने की आवश्यकता है। जल स्वच्छता  (डब्ल्यूएएसएच), जल प्रदूषण और जल पुन: उपयोग के पहलुओं को इस पुस्तक में संक्षेप में शामिल किया गया है।

Authors: Rai Kookana, CSIRO Land and Water, University of Adelaide, Australia; Basant Maheshwari, Western Sydney University, Sydney, Australia; Peter Dillon, CSIRO Land and Water, Flinders University, Australia; Ramesh Purohit, Maharana Pratap University of Agricultural and Technology, Udaipur and Sachin Oza, Development Support Centre, Ahmedabad

The book is available as flipbook and as PDF in EnglishHindi and Gujarati

 

भूजल की कहानियां: ग्रमीणो ने साझा की अपनी आवाज मारवी परियोजना 

इस पुस्तक में कहानियों को विकसित करने के लिए जिस तकनीक का इस्तेमाल किया गया है, उसे फोटो वॉइस कहा जाता है। यह तकनीक आम लोगों को सक्षम बनाती है - आमतौर पर गरीबी, कम साक्षरता स्तर, जातीयता, लिंग, संस्कृति या अन्य परिस्थितियों के कारण सीमित छमताओं के साथ फोटोग्राफी के माध्यम से अपने पर्यावरण, दुनिया के अनुभवों को साझा करने के लिए। MARVI परियोजना इस किताब के माध्यम से अपनी फोटो शेयर करती है जिससे पानी के मुद्दों और उनकी समस्याओं को समुदाय और निति निर्माताओ का ध्यान  इस ओर जा सके। तस्वीरों में दिखाया गया है कि ग्रामीणों के लिए भूजल वर्तमान और भविष्य में क्या मायने रखता है और उनके लिए पानी का क्या महत्व है और वो गांव के पानी की सुरक्षा के लिए अपनी जिम्मेदारी को कैसे देखते है। यह पुस्तक इस बात का एक उदाहरण है कि ग्रामीण विकास परियोजनाओं में स्थानीय समस्याओं और समाधानों के लिए इंगेजमेंट, ओनरशिप  और विज़न विकसित करने के लिए कहानी-लेखन जैसी जमीनी गतिविधियों का उपयोग कैसे किया जा सकता है। इस पुस्तक के लेखन  की प्रक्रिया ने ग्रामीणों को अप्रत्यक्ष रूप से MARVI परियोजना में समस्या का पता लगाने और उनके भूजल की स्थिति के संभावित समाधान की पहचान करने में मदद की है। यह गुजरात और राजस्थान के आम ग्रामीणों से भूजल, पानी के अतिदोहन और जीविकोपार्जन पर प्रभाव की जटिलता के बारे में दिलचस्प दृष्टिकोण और अंतर्दृष्टि प्रदान करती है। यह इस बात की भी आशा करती है कि जटिल भूजल संसाधनों के प्रबंधन के मुद्दों और चुनौतियों के समाधान के लिए सामुदायिक स्तर पर सामूहिक कार्रवाई की सुविधा के लिए क्या किया जा सकता है।

Authors: M. Chew, B. Maheshwari, R. Purohit, S. Oza, Y. Dashora, Y. Jadeja, J. Ward, P.K., Singh, R. Kookana, M. Sharma and R. Packham

The booklet is available as flipbook and as PDF in EnglishHindi and Gujarati

सतत जल भविष्य के लिए ग्राम समुदायों को सशक्त बनाना: जलदूतों के लिए एक  पुस्तक

जमीनी स्तर पर भूजल स्थिति की वैज्ञानिक समझ की कमी, प्रबंधन उपायों की मांग पर ध्यान न देना और भूजल प्रबंधन में सामुदायिक भागीदारी की अनुपस्थिति ने भागीदारी भूजल प्रबंधन की अवधारणा को जन्म दिया है, जिसके तहत सभी हितधारकों को प्रशिक्षित करने का प्रयास किया जाएगा। सेंट्रल ग्राउंड वाटर बोर्ड के सहयोग से MARVI द्वारा तैयार की गई  पुस्तक का मुख्य उद्देश्य ग्रामीणों को विकसित और प्रशिक्षित करना है।

Prepared by Central Ground Water Board, Dept. of Water Resources, River Development and Ganga Rejuvenation, Ministry of Jal Shakti, Govt. of India and MARVI

The booklet is available as flipbook and as PDF in English

अंग्रेजी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें - Developing an effective participatory groundwater monitoring program at village level

Disqus Comment