जुताई सम्बन्धी कहावतें

Submitted by Hindi on Mon, 03/22/2010 - 14:39
Author
undefined

अगहन में ना दी थी कोर।
तेरे बैल क्या ले गये चोर।।


भावार्थ- घाघ कहते हैं कि हे किसान! तूने अगहन में अपने ईख के खेतों की जुताई क्यों नहीं की? क्या तेरे बैल चोर चुरा ले गये थे?

Disqus Comment