कैसा हो पीने का पानी?

Submitted by admin on Sat, 07/23/2011 - 08:43
Author
रांची एक्सप्रेस
Source
रांची एक्सप्रेस
पीने का पानी कैसा हो? इस विषय पर वैज्ञानिकों ने काफी प्रयोग किये हैं और पानी की गुणवत्ता को तय करने के मापदंड बनाये हैं। पीने के पानी का रंग, गंध, स्वाद सब अच्छा होना चाहिए। ज्यादा कैल्शियम या मैगनेशियम वाला पानी कठोर जल होता है और पीने के योग्य नहीं होता है। पानी में उपस्थित रहने वाले हानिकारक रसायनों की मात्रा पर भी अंकुश आवश्यक है। आर्सेनिक, लेड, सेलेनियम, मरकरी तथा फ्लोराईड, नाईट्रेट आदि स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव डालते हैं। पानी में कुल कठोरता 300 मिली ग्राम प्रति लीटर से ज्यादा होने पर पानी शरीर के लिये नुकसानदायक हो जाता है। पानी में विभिन्न बीमारियों के कीटाणुओं का होना हानिकारक रसायनों का होना कठोरता होना पानी को पीने के अयोग्य बनाता है।पीने का जल शुध्द हो, प्यास बुझाये, मन को प्रफुल्लित रखे, तभी वह शुध्द पेयजल होता है।

हमारे शरीर का 60 से 70 प्रतिशत हिस्सा पानी से बना है। प्रतिदिन शरीर को 6 से 10 गिलास पानी की आवश्यकता होती है। इस आवश्यकता का एक बड़ा भाग खाद्य पदार्थों के रूप में शरीर ग्रहण करता है। शेष पानी मनुष्य पीता है।

गर्मियों में पानी ज्यादा चाहिये क्योंकि पसीने के रूप में काफी ज्यादा पानी शरीर से वापस बाहर निकल जाता है, सर्दी में पानी की मात्रा कम चाहिये। पानी भोजन के पाचन, रूधिर संचरण तथा समस्त अन्य जैव क्रियाओं के लिये अत्यंत आवश्यक है। सुबह उठकर एक गिलास शीतल जल का सेवन व्यक्ति को कई बीमारियों से बचाता है। पानी हमारी प्यास बुझाता है। प्यास लगना इस बात का संकेत है कि हमारे शरीर को पानी की जरूरत है। यह शरीर को चुस्त बनाए रखता है। इसके द्वारा खाद्य पदार्थों के पोषक तत्व रक्त में मिल जाते हैं। पानी शरीर के रक्त का बहाव यथावत रखता है। वह शरीर के अतिरिक्त तत्व पसीना और मूत्र के रूप में बाहर निकालने में सहायक होता है, मल के निष्कासन में भी सहायक होता है। यह शरीर के ताप को ठीक बनाए रखता है। पीने का पानी निश्चय ही शुध्द स्वच्छ और साफ होना चाहिये। यह रंगहीन गंधहीन और गंदगी रहित होना चाहिये। इसमें किसी तरह के हानिकारक तत्व नहीं होना चाहिये। हमारे यहां आमतौर पर पानी क शुध्दता और स्वच्छता के बारे में बहुत लापरवाही बरती जाती है।

पीने लायक साफ पानी न तो उपलब्ध है और न ही इसकी मांग की जाती है। पानी में तरह तरह की गंदगी होती है, जिसके बारे मे बिल्कुल ध्यान नहीं दिया जाता। सच पूछिए तो इसके बारे में आम लोगों को जानकारी भी नहीं है। गंदगी में जो रोग के जीवाणु होते हैं, वे आंख से दिखते नहीं, केवल माइस्क्रोस्कोप से दिखते हैं। इसी गंदगी की वजह से और इसके रोग के जीवाणुओं से बहुत सी बीमारियां होती हैं जैसे दस्त, पेचिस, हैजा, टाइफाइड, पीलिया, नारू और भी कई आंत संबंध रोग पानी से होने वाली बीमारियों के नाम से जाने जाते हैं। ज्यादातर लोग पीने का पानी किसी पोखर या तालब से लेते हैं जहां बर्तन भी धोते हैं, कपड़े भी धोए जाते हैं, लोग खुद भी नहाते है, गाय-भैंसों को भी नहलाते हैं। यह सारी गंदगी अन्दर चली जाती है। इसी प्रकार पानी कुओं से भी लिया जाता है जो ज्यादा गहरे नहीं होते और खुले छोड़ दिये जाते हैं। हवा के साथ इसमें धूल, मिट्टी, पत्ते, पक्षी की बीट इत्यादि जाकर गिरती है और पानी को प्रदूषित करती है। कुछ गांवों में हैंडपंप की सुविधाएं दी गई हैं, परन्तु उसके ऊपर की गोलाई में कीचड़ व कूड़ा करकट पड़ा होता है। वहां से गंदा पानी धीरे-धीरे जमीन में रिसकर स्वच्छ पानी को खराब कर देता है। फिर वह पानी पीने योग्य नहीं रह जाता।

इस खबर के स्रोत का लिंक:
Disqus Comment