लवणता (Salinity)

Submitted by admin on Fri, 12/18/2009 - 15:21
खारे जल या समुद्री जल में घुलित लवण, मुख्यत: सोडियम क्लोराइड, के सान्द्रण का मान।

Measure of the concentration of dissolved salts, mainly sodium chloride, in saline water or sea water.

किसी जलाशय (महासागर, सागर, झील, नदी आदि) के जल में घुले हुए लवण की मात्रा जिसे प्रायः कुल जल के प्रति हजारवें भाग (%.) के रूप में व्यक्त किया जाता है। जल के भार और उसमें मिश्रित लवणीय पदार्थों के अनुपात को लवणता या खारापन कहते हैं। महासागरों, सागरों तथा कुछ झीलों में लवणता अधिक होने के कारण जल खारा होता है और नदियों के जल में लवणता अत्यल्प होने के कारण वह मीठा या अलवण (fresh) होता है। महासागरीय जल में लवणता का औसत 35% हैं किंतु विभिन्न सागरों में इसकी मात्रा 30 और 40 के मध्य पायी जाती है। सागरीय जल में पाये जाने वाले लवणों में सर्वाधिक मात्रा सोडियम क्लोराइड (77.8 प्रतिशत) और मैग्नेशियम क्लोराइड (10.9 प्रतिशत) की है। अन्य लवणों में मैग्नेशियम सल्फेट (4.7 प्रतिशत), कैल्सियम सल्फेट (3.6 प्रतिशत) और पोटैशियम सल्फेट (2.5 प्रतिशत) महत्वपूर्ण हैं। विभिन्न सागरों एवं झीलों तथा महासागर के विभिन्न भागों में लवणता की मात्रा में उल्लेखनीय भिन्नता मिलती है जिसके लिए उत्तरदायी कारकों में वर्षा जल की आपूर्ति, वाष्पीकरण की मात्रा, जल की आपूर्ति एवं निष्कासन, महासागरीय धाराएं,प्रचलित पवन आदि प्रमुख हैं।

वर्षा जल के रूप में स्वच्छ जल की अधिक आपूर्ति से लवणता कम हो जाती है। भूमध्य रेखीय भागों में अधिक वर्षा तथा ध्रुवीय भागों में हिमवर्षा के कारण लवणता अति निम्न पायी जाती है। मध्य अक्षांशीय सागरों में तथा आंतरिक सागरों एवं झीलों में वाष्पीकरण की अधिकता के कारण लवणता बढ़ जाती है। बड़ी नदियों के मुहाने के पास लवणता कम होती है। जिस आंतरिक सागर या झील से नदियां निकलती हैं वहां भी लवणता कम पायी जाती है। यदि किसी बंद सागर या झील में नदियां गिरती हैं किंतु उसमें से जल का निकास नहीं होता है तथा वाष्पीकरण अधिक होता है, तब वाष्पीकरण की अधिकता से लवणता की मात्रा बढ़ जाती है, जैसे कैस्पियन सागर, भूमध्य सागर। अक्षांशीय वितरण के अनुसार उच्चतम लवणता मध्य अक्षांशीय समुद्रों में पायी जाती है और न्यूनतम लवणता ध्रुवीय तथा उच्च अक्षांशीय समुद्रों में मिलती है। लाल सागर, फारस की खाड़ी और भूमध्य सागर में अधिक लवणता (37 से 41%) पायी जाती है। निम्न लवणता वाले सागरों (20 से 35%) में आर्कटिक सागर, बेरिंग सागर, जापान सागर, चीन सागर, उत्तरी सागर, इंग्लिश चैनल, बाल्टिक सागर, हडसन की खाड़ी आदि प्रमुख हैं। महाद्वीपों के आंतरिक भागों में स्थित अनेक सागरों तथा झीलों में लवणता 150% से भी अधिक पायी जाती है। टर्की की वानझील (330), मृतसागर (0238, अमेरिका की बृहत् खारी झील (220) में अत्यधिक लवणता पायी जाती है।

जल के वाष्पीकरण के पश्चात् नमक की अधिक मात्रा में बचा रहना।

Disqus Comment