नीति सम्बन्धी कहावतें

Submitted by Hindi on Wed, 03/24/2010 - 16:43
Author
घाघ और भड्डरी

ओछे बैठक ओछे काम, ओछी बातें आठो याम।
घाघ बतायें तीन निकाम, भूलि न लीजौ इनकै नाम।।


शब्दार्थ- ओछे-नीच। आठोयाम- आठों पहर।

भावार्थ- घाघ का कहना है कि जो व्यक्ति आठों पहर ओछे अर्थात् बुरे लोगों की संगत में रहते हैं, नीच काम करते हैं, छोटी बातें करते हैं वे बिल्कुल बेकार होते हैं। भूल कर भी उनका नाम न लीजिए।

Disqus Comment