स्वास्थ्य सम्बन्धी कहावतें

Submitted by Hindi on Fri, 03/26/2010 - 10:25
Author
घाघ और भड्डरी

अँतरे खोंतरे डंडै करै।
ताल नहाय ओस माँ परै।।

दैव न मारै अपुवइ मरै।


भावार्थ- जो व्यक्ति कभी-कभी (दूसरे-चौथे) व्यायाम करता है अर्थात् नियमित नहीं करता, तालाब में स्नान करता है और ओस में सोता है, उसे भगवान या भाग्य नहीं मारता स्वयं अपनी मूर्खता से मरता है।

Disqus Comment