Seven Pool Lake in Hindi / सातताल झील

Submitted by Hindi on Fri, 12/24/2010 - 11:49

परिचय

नैनीताल से 23 किमी दूर सातताल नाम की एक बहुत ही ख़ूबसूरत जगह है। यह झील गढ़वाल उत्तराखंड में स्थित हैं। इस ताल तक पहुँचने के लिए भीमताल से ही मुख्य मार्ग है। भीमताल से 'सातताल' की दूरी केवल 4 कि.मी. है। आजकल यहाँ के लिए एक दूसरा मार्ग माहरा गाँव से भी जाने लगा है। माहरा गाँव से सातताल केवल 7 कि.मी. दूर है। इस ताल में नौका-विहार करने वालों को विशेष सुविधायें प्रदान की गयी है। यह ताल पर्यटन विभाग की ओर से प्रमुख सैलानी क्षेत्र घोषित किया गया है।

ताल के प्रत्येक कोने पर बैठने के लिए सुन्दर व्यवस्था कर दी गयी है। सारे ताल के आस-पास नाना प्रकार के फूल, लतायें लगायी गईं हैं। बैठने के अलावा सीढियों और सुन्दर- सुन्दर पुलों का निर्माण कर 'सातताल' को स्वर्ग जैसा ताल बनाया गया है। सचमुच यह ताल सौन्दर्य की दृष्टि से सर्वोपरि है। यहाँ पर नौकुचिया देवी का मन्दिर है।

स्थिति


• सात झीलों का समूह सात ताल भवाली से मात्र 13 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यहाँ के दृश्य यहाँ आए पर्यटकों को बहुत ही लुभाते हैं। एक साथ सात झीलों का आलौकिक रूप बस यहीं पर देखा जा सकता है।
• इसकी आकृति अश्वखर के समान है।
• इसकी लम्बाई 19 मीटर है, चौड़ाई 315 मीटर और गहराई 150 मीटर तक आंकी गयी है और यह समुद्र तल से 1288 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है।
• यहाँ पर सात छोटी-छोटी झीलों का समूह है।
o नल-दमयंती ताल
o गरूड़ ताल
o राम ताल
o लक्ष्मण ताल
o सीता ताल
o पुर्ण ताल
o सुखा ताल
जिनका संक्षिप्त विवरण निम्न प्रकार है:-

नल-दमयंती ताल


सबसे पहले जो ताल पड़ती है वो है नल-दमयंती ताल। माहरा गाँव से सात ताल जाने वाले मोटर-मार्ग पर यह ताल स्थित है। जहाँ से महरागाँव सातताल मोटर मार्ग शुरु होता है, वहाँ से तीन किलोमीटर बांयीं तरफ यह ताल है। इस ताल का आकार पंचकोणी है। पौराणिक कथाओं के अनुसार नल दमयन्ती झील का नाम एक राजा नल और उसकी पत्नी दमयन्ती के नाम पर पड़ा जो यहाँ पर आये थे और बाद में इस ताल में ही उनकी समाधि बन गयी। उस समय में यह ताल बहुत बड़ी थी और इससे लगभग पूरे गाँव में सिंचाई की जाती थी इसी कारण यहाँ की खेती भाबर की खेती को मात करती थी और यहाँ पर बहुत घना जंगल था जो अब खत्म होने लगा है।

इसमें कभी-कभी कटी हुई मछलियों के अंग दिखाई देते हैं। ऐसा कहा जाता है कि अपने जीवन के कठोरतम दिनों में नल दमयन्ती इस ताल के समीप निवास करते थे। जिन मछलियों को उन्होंने काटकर कढ़ाई में डाला था, वे भी उड़ गयी थीं। कहते हैं, उस ताल में वही कटी हुई मछलियाँ दिखाई देती हैं

उसी समय एक महात्मा के द्वारा इस झील में मछलियाँ पाली गई थी और ऐसी मान्यता रही कि इस झील में कभी भी मछलियाँ नहीं मारी जा सकती हैं। यह मान्यता आज भी बनी हुई है। जिस की वजह से इस झील में आज भी काफ़ी बड़ी और प्रमुख मछलियों का अस्तित्व बचा हुआ है। इन मछलियों में प्रमुख हैं सिल्वर कार्प, गोल्डन कार्प और महासीर जिन्हें बिना किसी मेहनत के झील के बिल्कुल साफ पानी में यहाँ वहाँ घूमते हुए आसानी के साथ देखा जा सकता है।

गरूड़ ताल


इसके बाद गरूड़ ताल पड़ती है। यह छोटी सी ताल है और इसका पानी बहुत ही साफ है। स्थानीय लोगों का कहना है कि इस झील के पास पांडवों के वनवास के दौरान द्रौपदी ने अपनी रसोई बनाई थी। द्रौपदी द्वारा इस्तेमाल किये जाने वाले सिल-बट्टा आज भी यहाँ पर पत्थरों के रूप में मौजूद है। स्थानीय लोगों की ऐसी मान्यता है कि इस पूरे इलाके में पांडव अपने वनवास के दौरान रहे थे।

राम, लक्ष्मण, सीता ताल


इसी ताल से कुछ आगे राम, लक्ष्मण, सीता ताल है। यह ताल सबसे बड़ी ताल है जिसमें तीनों ताल एक साथ जुड़ी हुई है। कहा जाता है की यहाँ पर राम, लक्ष्मण, सीता रहा करते थे। यहाँ पांडव लोग भी रहे थे और यहीं भीम ने हिडिंबा राक्षसी का अंत किया था।

सूखा ताल और पूर्ण ताल


सूखा ताल और पूर्ण ताल झीलों का अस्तित्व लापरवाहियों के चलते अब समाप्त हो गया है। पर इन दो झीलों के अलावा जो झीलें हैं वो आज भी अच्छी स्थिति में हैं।
यहाँ एक प्राचीन चर्च भी है जो अपने शिल्प के लिये काफ़ी मशहूर है। सातताल से ही 7-8 किमी. की खड़ी चढ़ाई तय करके हिडिंबा देवी का मंदिर भी है। इस मंदिर में जो बाबा जी रहते हैं उन्होंने कई प्रजातियों के पेड़-पौंधे, फूल और जड़ी-बूटियां यहाँ पर लगाई हैं जिस कारण इस स्थान पर विभिन्न प्रजातियों की चिड़ियाँ देखने को भी मिल जाती हैं।

Hindi Title

सात ताल झील


Disqus Comment