वायुमंडल (Atmosphere)

Submitted by admin on Sat, 07/10/2010 - 09:45
पृथ्वी के चारों ओर व्याप्त वायु की मोटी परत या आवरण जिसमें विभिन्न गैसों का मिश्रण पाया जाता है। वायुमंडल के संघठन में अनेक गैसें पायी जाती हैं जिनमें अधिकांश भाग नाइट्रोजन (78.00 प्रतिशत), आक्सीजन (20.95 प्रतिशत), आर्गन (0.93 प्रतिशत) और कार्बन डाईआक्साइड (0.03 प्रतिशत) का है। अत्यल्प अनुपात में पायी जाने वाली गैसों में हाइड्रोजन, नियोन, हिलियम, ओजोन आदि प्रमुख हैं। वायुमंडल में गैसों के अतिरिक्त विभिन्न मात्रा में जलवाष्प भी विद्यमान होती है।

ज्वालामुखी उद्गार तथा पवनों एवं आंधियों द्वारा छोटे-छोटे शैल कण, रेत, धूलि आदि भी वायुमंडल में पहुंचा दिये जाते हैं जो मुख्यतः निचले स्तर में ही विद्यमान होते हैं। वायुमंडल का लगभग 97 प्रतिशत भाग भूतल से लगभग 29 किमी. की ऊँचाई तक पाया जाता है किंतु इसका बाहरी छोर अत्यधिक ऊंचाई (लगभग 10,000 किमी.) तक विस्तृत है जिसके विषय में विस्तृत जानकारी उपलब्ध नहीं है। वायुमंडल में अनेक परतें पायी जाती हैं जिनमें सबसे निचली परत क्षोभमंडल (troposphere) की है जिसमें अधिकांश मौसमी घटनाएं उत्पन्न होती हैं। इसकी ऊँचाई भूतल से 12 किमी. तक पायी जाती है। क्षोभ मंडल या परिवर्तन मंडल के बाहर क्रमशः समतापमंडल (stratosphere), मध्य मंडल (mesosphere) और ताप मंडल (thermosphere) पाये जाते हैं।

Disqus Comment