विश्व में चर्चा का विषय बना ट्रीमैन

Submitted by HindiWater on Fri, 10/16/2020 - 15:58
Source
कल्पतरु संस्थान

 ट्रीमैन

जयपुर के पर्यावरणविद विष्णु लांबा का नाम देश और दुनिया में चर्चा का विषय बना हुआ है ! मूलतः टोंक जिले के लाम्बा के  निवासी विष्णु ने एक पौधा चोर के रूप में सत्ताईस साल पहले पर्यावरण संरक्षण का काम शुरू किया था लेकिन आज ट्री मैन ऑफ इंडिया के नाम से जाने जाते हैं ! उन्होंने बिना सरकारी सहायता के लगातार जन सहभागिता से अनेक नवाचार किए और अपने गांव  को देश के प्रमुख आदर्श ग्रामों की पंक्ति में लाकर खड़ा कर दिया ! इनके प्रयासों की गूँज अब विश्व के 193 देशों में सुनाई दे रही है ! अंतर्राष्ट्रीय प्रसारक डीडब्ल्यू जर्मन ने इनकी सफलता की कहानी को आज से विश्व भर में तीस भाषाओं में दिखाना शुरू कर दिया है !


प्रथम भाग आनें पर विश्व भर से दिग्गज बधाई दे रहे है ! यूएन एन्वायरमेंटल विंग के प्रमुख एरिक सोल्हिम ने ग्लोबल वार्मिंग से निपटने और एको फ्रेंडली आजीविका प्रदान करने सहित लाम्बा की उफलब्धियों फार बधाई देते हुए लिखा कि एक बेहतर भारत और एक बेहतर दुनिया के लिए आपके सभी प्रयास विश्वशनीय और धन्यवाद के पात्र हैं, बतादें कि संयुक्‍त राष्‍ट्र के महासचिव एंटोनियो गुटेरस और संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम के सेक्रेटरी जनरल इरिक सोलहेम यूएन की और से पर्यावरण के क्षेत्र में असाधारण योगदान के लिए पीएम मोदी को यूएन का सर्वोच्च पुरस्कार चैंपियन "ऑफ द अर्थ" भी पदान कर चुके है ! लाम्बा को बधाई देनें वालों में महाराष्ट्र के वन मंत्री मुनगंटीवार, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ सतीश पूनिया, लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला, सांसद दिया कुमारी, जयपुर सांसद रामचरण बोहरा, मध्य प्रदेश की पर्यटन मंत्री उषा ठाकुर, तेलंगाना से राज्य सभा सांसद संतोष कुमार, जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह सहित अनेक दिग्गज शामिल है !


केमिकल युक्त सिंदूर के स्थान पर प्राकृतिक सिंदूर हो या फिर बरगद के पत्तों से बनी पत्तल, श्री कल्पतरू संस्थान के माध्यम से ट्री मैन लाम्बा लोगों को इको फ्रैंडली रोजगार उपलब्ध करा रहे हैं, उनका प्रयास है कि देश के 100 गांवों को पर्यावरण की दृष्टि से आदर्श ग्राम बनाकर 5 करोड़ पौधे लगाकर उन्हें संरक्षित किया जाए, इतना ही नहीं, उन्होंने जलवायु संकट से निपटने के लिए युवक-युवतियों की एक बड़ी फौज भी तैयार की है, जो पर्यावरण संरक्षण के काम में जुटी हुई है

Disqus Comment