यमुना की निर्मलता के लिए उत्तराखंड सरकार बना रही कार्ययोजना 

Submitted by HindiWater on Sat, 08/29/2020 - 17:09
Source
दैनिक जागरण 

त्रिवेंद्र सिंह रावत, मुख्यमंत्री उत्तराखंड

उत्तराखंड में यमुना को अविरल और निर्मल बनाने के उद्देश्य से राज्य सरकार एक कार्य योजना तैयार कर रही है। केंद्र की ओर से गंगा नदी की स्वच्छता और निर्मलता के लिए चल रही परियोजना नमामि गंगे की तर्ज़ पर ही यमुना की  स्वच्छता के लिए एक कार्ययोजना बनाने की तैयारी चल रही है। केंद्र सरकार ने भी देश की 13 नदियों के पुनरुद्धार की योजना बनाई है, जिन 13 नदियों के पुनरुद्धार की बात केंद्र सरकार द्वारा की गई है उनमें यमुना नदी को भी शामिल किया गया है। 

 

यमुना दो बांध बनाने की तयारी 

यमुना नदी उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले के यमुनोत्री से निकलकर  देहरादून और दिल्ली से होते हुए संगम नगरी इलाहबाद में गंगा नदी में जाकर मिल जाती है। दैनिक जागरण की खबर के अनुसार उत्तराखंड में यमुना को स्वच्छ बनाने के लिए राज्य की त्रिवेंद्र सिंह रावत सरकार कार्ययोजना बनाने में जुट गई है। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के अनुसार युयमुना नदी पर दो बांध भी बनाये जा सकते हैं। इन बांधो की मदद से अन्य राज्यों में यमुना नदी की सफाई के लिए पानी छोड़ा जाएगा। 

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत का कहना है की "कानपुर में हुई गंगा काउंसिल की बैठक में गंगा की सफाई का मसला उठा था, तब मैंने यह सुझाव दिया था की यमुना पर लखवाड़-व्यासी व् त्यूनी-पलासू जलविद्युत परियोजनाओं के बनने के बाद दो और बाँध बनाए जा सकते हैं। इन अतिरिक्त बांधों का उपयोग केवल यमुना की सफाई के लिए होगा।  राज्य से आगे जिस भी क्षेत्र में यमुना की सफाई को मुहीम चलेगी, उसके लिए इन बांधों से पानी छोड़ा जाएगा ये योजना करीब सात सौ करोड़ की होगी"

 

सीवर और गंदे नाले को यमुना में जाने से रोकने को उठाए जाएंगे कदम 

उत्तराखंड में यमुना का उदगम स्थल है, यमुना उत्तराखंड के यमुनोत्री से निकलकर राजधानी देहरादून से होकर गुजरती है। उत्तराखंड में यमुना कई सारे शहरों, कस्बों और गांवों से होकर गुजरती  है, यमुना से लगे शहरों, कस्बों और गांवों में यहां से निकलने वाला कचरा, सीवर और गंदे नाले  यमुना में समा रहे हैं।यमुना में समाने वाले इस कचरे को रोकने और इसकी स्वच्छता सुनिश्चित करने के लिए राज्य सरकार एक कार्ययोजना बना रही है।  इसके तहत यमुना से लगे शहरों में सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट (एसटीपी) गंदे नालों की टैपिंग पर फोकस दिया जाएगा जिससे कि यमुना में गंदगी ना जाने पाए साथ ही वहां कूड़ा-कचरा प्रबंधन के लिए प्रभावी कदम उठाए जाएंगे।  

यमुना की सफाई की कार्ययोजना का प्रस्ताव जल्द ही बनाकर केंद्र सरकार को दिया जाएगा साथ ही उत्तराखंड सरकार कई अन्य विकल्पों पर भी विचार कर रही है जिससे की युमना की निर्मलता और अविरलता बानी रहे। 

Disqus Comment