भविष्य का कृषि संकट - कारपोरेट खेती

Submitted by editorial on Tue, 09/18/2018 - 14:09
Source
सर्वोदय प्रेस सर्विस, सितम्बर 2018
कारपोरेट खेतीकारपोरेट खेती (फोटो साभार - स्क्रॉल)खेती को उद्योग में तब्दील करने की बातें कई सालों से होती रही हैं, लेकिन अब कारपोरेट हितों के चलते इसे अमलीजामा पहनाने की तैयारियाँ जोर-शोर से दिखाई देने लगी हैं।

राज्यों और केन्द्र की सरकारों समेत ‘विश्व व्यापार संगठन’ सरीखे देशी-विदेशी संस्थान अव्वल तो किसानी को किसानों के बोझ से मुक्त करना चाहते हैं और दूसरे सीमित होती कृषि भूमि में बाजारों के लिये भरपूर उत्पादन के मार्फत मुनाफा कूटना चाहती हैं। ऐसे में किसानी अब किसानों की बजाय कारपोरेट का धंधा बनती जा रही है।

लगता है, अब भारत किसानों का देश नहीं कहलाएगा। यहाँ खेती तो की जाएगी, लेकिन किसानों के द्वारा नहीं, खेती करने वाले विशालकाय कारपोरेट्स होंगे। आज के अन्नदाता किसानों की हैसियत उन बंधुआ मजदूरों या गुलामों की होगी, जो अपनी भूख मिटाने के लिये कारपोरेट्स के आदेश पर अपनी ही जमीनों पर चाकरी करेंगे।

इस समय देश में खेती और किसानों के लिये जो नीतियाँ और योजनाएँ लागू की जा रही हैं उसके पीछे यही सोच दिखाई देती है। कारपोरेट हितों ने पहले तो षड्यंत्रपूर्वक देश की ग्रामीण उद्योग व्यवस्था तोड़ दी और गाँवों के सारे उद्योग धन्धे बन्द कर दिये। स्थानीय उत्पादकों को ग्राहकों के विरुद्ध खड़ा किया गया।

विज्ञापनों के जरिए स्थानीय उद्योगों में बनी वस्तुओं को घटिया व महंगा और कम्पनी उत्पादन को सस्ता व गुणवत्तापूर्ण बताकर प्रचारित किया गया और यहाँ की दुकानों को कम्पनी के उत्पादनों से भर दिया गया। इस गोरखधंधे में स्थानीय व्यापारियों ने भी कोई कसर नहीं छोड़ी। उन्होंने अपने व्यापार और देशी उद्योगों के पैरों पर खुद कुल्हाड़ी मारकर उसे कारपोरेट के हवाले कर दिया। अब उद्योग, व्यापार और खेती पर कारपोरेट्स एक-के-बाद-एक कब्जा करते जा रहे हैं।

प्राकृतिक संसाधन, उद्योग और व्यापार पर तो उन्होंने पहले ही कब्जा कर लिया था। अब वे खेती पर कब्जा जमाना चाहते हैं ताकि कारपोरेट उद्योगों के लिये कच्चा माल और दुनिया में व्यापार के लिये जरूरी उत्पादन कर सकें।

कारपोरेट खेती के हित में छोटे किसानों के पास पूँजी की कमी, छोटी जोतों में खेती का अ-लाभप्रद होना, यांत्रिक और तकनीकी खेती कर पाने में अक्षमता आदि के तर्क गढ़े गए। कहा गया कि पारिवारिक खेती करने वाले किसान उत्पादन बढ़ाने में सक्षम नहीं हैं। इस तर्क की आड़ में कारपोरेट्स ने प्रत्यक्ष स्वामित्व या पट्टा या लम्बी लीज पर जमीन लेकर खेती करने या किसान समूह से अनुबन्ध करके किसानों को बीज, कर्ज, उर्वरक, मशीनरी और तकनीक आदि उपलब्ध कराकर खेती करने का जुगाड़ कर लिया।

खेती की जमीन, कृषि उत्पादन, कृषि उत्पादों की खरीद, भण्डारण, प्रसंस्करण, विपणन, आयात-निर्यात आदि सभी पर कारपोरेट्स अपना नियंत्रण करना चाहते हैं। दुनिया के विशिष्ट वर्ग की भौतिक जरूरतों को पूरा करने के लिये जैव ईंधन, फलों, फूलों या खाद्यान्न की खेती भी वैश्विक बाजार को ध्यान में रखकर करना चाहते हैं। वे फसलें, जिनसे उन्हें अधिकतम लाभ मिलेगा, पैदा की जाएँगी और अपनी शर्तोंं व कीमतों पर बेची जाएँगी। अनुबन्ध खेती और कारपोरेट खेती के अनुरूप नीतिगत सुधार के लिये उत्पादन प्रणालियों को पुनर्गठित करने और सुविधाएँ देने के लिये नीतियाँ और कानून बनाए जा रहे हैं।

दूसरी हरित क्रान्ति के द्वारा कृषि में आधुनिक तकनीक, पूँजी-निवेश, कृषि यंत्रीकरण, जैव तकनीक और जीएम फसलों, ई-नाम आदि के माध्यम से अनुबन्ध खेती, कारपोरेट खेती के लिये सरकार एक व्यवस्था बना रही है।

डब्ल्यूटीओ का समझौता, कारपोरेट खेती के प्रायोगिक प्रकल्प, अनुबन्ध खेती कानून, कृषि और फसल बीमा योजना में विदेशी निवेश, किसानों के संरक्षक सीलिंग कानून को हटाने का प्रयास, आधुनिक खेती के लिये इजराइल से समझौता, खेती का यांत्रिकीकरण, जैव तकनीक व जीएम फसलों को प्रवेश, कृषि मंडियों का वैश्विक विस्तारीकरण, कर्ज राशि में बढ़ोत्तरी, कर्ज ना चुका पाने में अक्षमता पर खेती की गैरकानूनी जब्ती, कृषि उत्पादों की बिक्री की शृंखला, सुपरबाजार, जैविक ईंधन, जेट्रोफा, इथेनॉल के लिये गन्ना और फलों, फूलों की खेती आदि को बढ़ावा देने की सिफारिशें, निर्यातोन्मुखी कारपोरेटी खेती और विश्व व्यापार संगठन के कृषि समझौते के तहत वैश्विक बाजार में खाद्यान्न की आपूर्ति की बाध्यता आदि सभी को एकसाथ जोड़कर देखने से कारपोरेट खेती की तस्वीर स्पष्ट होती है।

इस समय देशी-विदेशी बहुराष्ट्रीय कम्पनियाँ रॉथशिल्ड, रिलायंस, पेप्सी, कारगिल, ग्लोबल ग्रीन, रॅलीज, आयटीसी, गोदरेज, मेरी को आदि के द्वारा पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, बिहार, बंगाल, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, तामिलनाडु, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, गुजरात, छत्तीसगढ़ आदि प्रदेशों में आम, काजू, चीकू, सेब, लीची, आलू, टमाटर, मशरुम, मक्का आदि की खेती की जा रही है।

उच्च शिक्षित युवा जो आधुनिक खेती करने, छोटी दुकानों में सब्जी बेचने, प्रसंस्करण करने आदि के काम कर रहे हैं, उनमें से अधिकांश कारपोरेटी व्यवस्था स्थापित करने के प्रायोगिक प्रकल्पों पर काम कर रहे हैं।

भारत में किसी भी व्यक्ति या कम्पनी को एक सीमा से अधिक खेती खरीदने, रखने के लिये सीलिंग कानून प्रतिबन्धित करता है। इसके चलते कारपोरेट घरानों को खेती पर सीधा कब्जा करना सम्भव नहीं है। इसलिये सीलिंग कानून बदलने के प्रयास किये जा रहे हैं।

कुछ राज्यों में अनुसन्धान और विकास, निर्यातोन्मुखी खेती के लिये कृषि व्यवसाय फर्मों को खेती खरीदने की अनुमति दी गई है, कहीं पर कम्पनियों के निदेशकों या कर्मचारियों के नाम पर खेती खरीदी की गई है, तो कहीं राज्य सरकारों ने नाम मात्र राशि लेकर पट्टे पर जमीन दी है। बंजर भूमि खरीदने या किराये पर लेने की अनुमति दी जा रही है।

कृषि में किसानों की आय दोगुनी करने के लिये नीति आयोग का सुझाव यह है कि किसानों को कृषि से गैर कृषि व्यवसायों में लगाकर आज के किसानों की संख्या आधी की जाये, तो बचे हुए किसानों की आमदनी अपने आप दोगुनी हो जाएगी।

आयोग कहता है कि कृषि कार्यबल को कृषि से इतर कार्यों में लगाकर किसानों की आय में काफी वृद्धि की जा सकती है। अगर जोतदारों की संख्या घटती रही तो उपलब्ध कृषि आय कम किसानों में वितरित होगी। वे आगे कहते हैं कि वस्तुतः कुछ किसानों ने कृषि क्षेत्र को छोड़ना शुरू भी कर दिया है और कई अन्य कृषि को छोड़ने के लिये उपयुक्त अवसरों की तलाश कर रहे हैं। किसानों की संख्या 14.62 करोड़ से घटाकर 2022 तक 11.95 करोड़ करना होगा। जिसके लिये प्रतिवर्ष 2.4 प्रतिशत किसानों को गैर-कृषि रोजगार से जोड़ना होगा।

एक रिपोर्ट के अनुसार आज देश में लगभग 40 प्रतिशत किसान अपनी खेती बेचने के लिये तैयार बैठे है। केन्द्रीय वित्त मंत्री ने संसद में कहा था कि सरकार किसानों की संख्या 20 प्रतिशत तक ही सीमित करना चाहती है। अर्थात यह 20 प्रतिशत किसान वही होंगे, जो देश के गरीब किसानों से खेती खरीद सकेंगे और जो पूँजी, आधुनिक तकनीक और यांत्रिक खेती का इस्तेमाल करने में सक्षम होंगे। यह सम्भावना उन किसानों के लिये नहीं है जो खेती में लुटने के कारण परिवार का पेट नहीं भर पा रहा है। इसका अर्थ यह है कि आज के शत-प्रतिशत किसानों की खेती पूँजीपतियों के पास हस्तान्तरित होगी और वे किसान कारपोरेट होंगे।

किसानों की संख्या 20 प्रतिशत करने के लिये ऐसी परिस्थितियाँ पैदा की जा रही हैं कि किसान स्वेच्छा से या मजबूर होकर खेती छोड़ दे या फिर ऐसे तरीके अपनाए जिसके द्वारा किसानों को झाँसा देकर फँसाया जा सके। किसान को मेहनत का मूल्य न देकर सरकार खेती को घाटे का सौदा इसीलिये बनाए रखना चाहती है ताकि कर्ज का बोझ बढ़ाकर उसे खेती छोड़ने के लिये मजबूर किया जा सके।

जो किसान खेती नहीं छोड़ेंगे उनके लिये अनुबन्ध खेती के द्वारा कारपोरेट खेती के लिये रास्ता बनाया जा रहा है। देश में बाँधों, उद्योगों और इंफ्रास्ट्रक्चर के लिये पहले ही करोड़ों हेक्टर जमीन किसानों के हाथ से निकल चुकी है। अब बची हुई जमीन धीरे-धीरे उन कारपोरेट्स के पास चली जाएगी जो दुनिया में खेती पर कब्जा करने के अभियान पर निकले हैं। लूट की व्यवस्था को कानूनी जामा पहनाकर उसे स्थायी और अधिकृत बनाना कारपोरेट की नीति रही है।

भारत में जब अंग्रेजी राज स्थापित हुआ था तब जमींदारी कानून के द्वारा लूट की व्यवस्था बनाई गई थी। लगान लगाकर किसानों को लूटा गया था। अनुबन्ध खेती, कारपोरेट खेती जमींदारी का नया प्रारूप है। अब केवल लगान नहीं, खेती के हर स्तर पर लूट की व्यवस्था बनाकर खेती ही लूटी जा रही है। देश खाद्यान्न सुरक्षा, आत्मनिर्भरता को हमेशा के लिये खो रहा है। यह परावलम्बन राष्ट्रीय सुरक्षा के लिये भी बड़ा खतरा है। भारत फिर से गुलामी की जंजीरों में बँधता जा रहा है।


TAGS

multinational companies in agriculture, list of agricultural companies in india, top 100 agriculture companies, top agriculture companies in world, agro based companies in india, agriculture company names, top agriculture companies in india, list of agricultural companies in india pdf, list of major agro based industries in india, rallis india wiki, tata rallis india ltd jobs, rallis india ltd wikipedia, rallis india ltd ankleshwar, rallis india share, rallis india share price target, rallis india subsidiaries, rallis india limited ankleshwar ankleshwar, gujarat, Rallis India Limited, Nuziveedu Seeds Limited, nuziveedu seeds limited careers, nuziveedu seeds limited secunderabad, telangana, nuziveedu seeds limited share price, nuziveedu seeds products, nuziveedu seeds contact, nuziveedu seeds paddy, nuziveedu seeds company profile, nuziveedu seeds hyderabad, telangana, Lemken India Agro Equipments Private Limited, lemken india agro equipments private limited share price, lemken india agro equipments private limited wiki, lemken india jobs, lemken india contact details, lemken plough india, lemken plough price in india, lemken products, lemken plough price list in india, Advanta Limited, advanta limited wiki, advanta limited share price, upl advanta ltd, advanta seeds jobs, advanta india ltd contact details, advanta limited hyderabad telangana, advanta seeds products, advanta corn seeds, Monsanto India, monsanto india jobs, monsanto india limited hyderabad telangana, monsanto india products, monsanto india contact details, monsanto india company profile, monsanto india news, monsanto india controversy, monsanto india wiki, Poabs Organic Estates, poabs organic estates jobs, poabs organic estates wiki, poabs organic estates share, poabs organic estates linkedin, poabs organic estates ceo, poabs estate nelliyampathy, poabs tea careers, poabs organic estates nelliyampathy, National Agro Industry, national agro industry wikipedia, national agro industries company, national agro industry career, national agro industries jobs, national agro industries turnover, national agro industries ceo, agro industries in india, national agro industry share price, Godrej Agrovet Limited, godrej agrovet products, godrej agrovet stock price, godrej agrovet limited pune maharashtra, godrej agrovet products price list, godrej agrovet moneycontrol, godrej agrovet contact details, godrej agrovet careers, godrej agrovet share, Rasi Seeds, rasi seeds products, rasi seeds cotton, rasi seeds wikipedia, rasi seeds turnover, rasi seeds job vacancy, hyveg rasi seeds, rasi seeds logo, rasi seeds address, Agricultural Companies in India, advantages of corporate farming, growth of corporate farming in india, corporate farming facts, corporate farming in india pdf, corporate farming introduction, corporate farming statistics, corporate farming in india ppt, corporate farming companies in india, What percentage of farms are corporate owned?, What percent of farms are family owned?, What are large farms called?, What is meant by cooperative farming?, What percent of farms are owned by corporations?, Do farmers own their land?, How much money is spent annually on farm subsidies?, What percentage of farms are factory farms?, Why are family farms important?, What are the three types of farming?, What is a large scale farm?, When did farming begin?, What are the benefits to farmers of joining a cooperative?, What are the types of cooperatives?, What is cooperative farming system?, What are the benefits to farmers of joining a cooperative?, What are the types of cooperatives?, What is cooperative farming system?, What percent of land in the US is privately owned?, Who is the biggest farmer in the United States?, How many farms are in the world?, How many acres of farmland are in the US?, What do farmers get subsidies for?, What is it called when the government pays farmers not to farm?, How many farmers receive subsidies?, How many animals are killed each year in factory farms?, What is free range farming?, When did factory farming start?, Why is agriculture important to America?, What are the different types of farming?, What are the types of farming in India?, What are the methods of farming?, What is a small scale farmer?, What are the advantages of large scale production?, What is industrialized agriculture?, Who were the first farmers?, Why did farming start?, When did humans learn to farm?, list of agricultural companies in india pdf, top agriculture companies in world, list of major agro based industries in india, indian top 10 pesticides companies, top 10 seed companies in india, top 100 agriculture companies, agriculture company names, list of agro based industries in india, Agricultural investment in farming, investment in agriculture in india, investment in agriculture sector in india, investment in organic farming in india, investment in agricultural land in india, agriculture investment companies in india, hosachiguru minimum investment, agricultural investment in india, how to invest in hosachiguru, Agricultural mechanization, advantages of agricultural mechanization, advantages of agricultural mechanization pdf, disadvantages of agricultural mechanization, problems of agricultural mechanization, agricultural mechanization in india, mechanization of agriculture ppt, introduction to agricultural mechanization pdf, mechanization of agriculture advantages and disadvantages pdf, Organic farming, What is organic farming and what are the benefits of it?, What are the methods of organic farming?, What are the types of organic farming?, What is organic farming and its importance?, types of organic farming, organic farming benefits, what is organic farming in india, organic farming methods, importance of organic farming, organic farming wikipedia, organic farming introduction, methods adopted for organic farming, GM crops, What is an example of a genetically modified crop?, Should we grow GM crops?, How are GM crops made?, What are the disadvantages of GM crops?, gm crops in india, gm crops advantages and disadvantages, gm crops pros and cons, genetically modified plants list, 10 genetically modified crops, genetically modified crops pdf, genetically modified crops ppt, gm crops upsc, E-nam in farming, What is e Nam scheme?, What is e Nam app?, What is APMC yard?, What is the meaning of Enam?, e nam app, what is e nam, e nam pib, e nam states, e-nam website, e nam wiki, e nam gktoday, e-nam full form, Contract farming, What is contract farming in India?, What is agricultural contracting?, What is contract broiler farming?, Who is an out growers?, types of contract farming, contract farming companies, benefits of contract farming, types of contract farming in india, contract farming upsc, importance of contract farming, contract farming ppt, contract farming models in india, WTO settlement, wto dispute settlement cases, dispute settlement mechanism under wto, wto dispute settlement understanding, dispute settlement mechanism of wto pdf, wto dispute settlement system, dispute settlement meaning, dispute settlement mechanism of wto ppt, dispute settlement mechanism of wto slideshare, Corporate Farming Experimental Project, What is the meaning of corporate farming?, What percent of farms are corporate owned?, What are large farms called?, What is meant by cooperative farming?, agriculture projects ideas, agriculture projects for students, what is corporate farming, corporate farming in india, school project on agriculture, corporate farming introduction, importance of corporate farming, agriculture project report pdf, Contract farming law, model contract farming act 2018 pib, model contract farming act 2018 pdf, model contract farming act upsc, model contract farming act pib, model contract farming act 2018 upsc, model contract farming act 2018 prs, model contract farming law, contract farming act 2017, Foreign investment in agriculture and crop insurance scheme, foreign direct investment in agriculture sector in india, national agricultural insurance scheme 2016-17, crop insurance online, crop insurance benefits, crop insurance pdf, crop insurance maharashtra, pmfby, Efforts to remove farmers guardian sealing law, Agreement with Israel for Modern Farming, israel agriculture centres in india, israel agriculture training in india, israel farming technology in india, israel agriculture companies in india, india israel agriculture project, israel farming methods, israel agriculture technology, india israel relations agriculture, Mechanization of farming, advantages of farm mechanization, farm mechanization pdf, objectives of farm mechanization, mechanization of agriculture ppt, disadvantages of farm mechanization, mechanization of agriculture advantages and disadvantages pdf, importance of mechanisation, problems of farm mechanization, Biotechnology and GM crops enter, public acceptance issues in biotechnology ppt, consumer acceptance of genetically modified foods, gmo foods in europe, public acceptance issues in biotechnology case studies, scholarly articles on gmo foods, stance on genetically modified food, genetically modified food issues, opinions on gm crops, Global expansion of agricultural markets, agri marketing and international agricultural relations articles, types of agricultural markets, agriculture, importance of agricultural marketing, agricultural marketing definition, problems of agricultural marketing, concept of agricultural marketing, give five importance of agricultural marketing, Increase in farming loan amount, types of loans in agriculture, agriculture loan interest rates, agriculture loan sbi, agriculture loan interest rates in sbi, loan for farmers from government, agriculture land purchase loan nabard, agriculture loan subsidy, agriculture loan interest rate 2017, Illegal seizure of farming on the inability to pay a debt, Chain of agricultural products, What is supply chain in agriculture?, What is a value chain in agriculture?, What is agri food chain?, role of supply chain management in agriculture, supply chain management in agriculture ppt, agricultural supply chain management pdf, agricultural supply chain definition, agriculture value chain india, agriculture supply chain, food and agricultural supply chain, agricultural value chain example, Farming supermarket, infarm, hydroponic grocery store, in farms, inhouse farming.


Disqus Comment