भोजन में संतुलित नमक के सेवन को बढ़ावा देने की नई पहल

Submitted by editorial on Tue, 08/14/2018 - 17:36
Source
इंडिया साइंस वायर, वास्को-द-गामा (गोवा), 14 अगस्त, 2018

नमक सेवन की मात्रा जानने के लिये नमूनों का एकत्रणनमक सेवन की मात्रा जानने के लिये नमूनों का एकत्रण भोजन में नमक ज्यादा होने से उच्च रक्तचाप और हृदय संबंधी बीमारियाँ हो सकती हैं। वैज्ञानिकों के एक समूह द्वारा किए गए अध्ययन के आधार पर आहार में नमक की संतुलित मात्रा के उपयोग को प्रोत्साहित करने के लिये एक समग्र रणनीति विकसित करने का सुझाव दिया गया है।

इस अध्ययन के दौरान वैज्ञानिकों ने नमक की संतुलित मात्रा के सेवन में आने वाली बाधाओं को समझने का प्रयास किया है। इसी आधार पर लोगों को नमक की कम मात्रा के उपयोग के लिये मानसिक रूप से तैयार करने तथा जागरूकता बढ़ाने का सुझाव दिया गया है। इन सुझावों में जागरूकता के प्रसार के लिये जनमाध्यमों के विस्तृत उपयोग, खाद्य प्रसंस्करण उद्योगों में नमक की कम मात्रा के उपयोग को प्रोत्साहन, खाद्य सामग्रियों पर उल्लिखित पोषण लेबलों के लिये निर्धारित नियमों में बदलाव तथा पोषक तत्वों की पूर्ण जानकारी देने की बात कही गई है।

कम नमक खाने को लेकर लोगों की यह धारणा है कि भारत एक गर्म देश है और यहाँ पसीना अधिक निकलने से शरीर में नमक की मात्रा कम हो सकती है। इसलिये नमक अधिक खाना चाहिए। कई लोगों का मानना है कि नमक कम होने से भोजन स्वादिष्ट नहीं रहता। इसी तरह अधिकतर असंगठित खाद्य उत्पाद विक्रेता, छोटे रेस्टोरेंट या स्ट्रीट फूड विक्रेताओं का मानना है कि नमक कम डालने से स्वाद में कमी के कारण ग्राहकों की संख्या कम हो सकती है। खाद्य प्रसंस्करण उद्योगों से जुड़े लोगों का कहना है कि कम नमक उपयोग करने से उनके बनाए हुए खाद्य उत्पादों की बिक्री कम हो सकती है। इसके अलावा देश में मौजूदा खाद्य नीतियों के उचित कार्यान्वयन और अनुपालन में भी कमी पायी गई है।

भारत में संतुलित नमक सेवन के संबंध में रणनीति विकसित करने में आने वाली चुनौतियों की पड़ताल के लिये किया गया यह अध्ययन विभिन्न हितधारकों के दृष्टिकोण, उनके साक्षात्कार और सामूहिक विचार विमर्श पर आधारित है। गुरुग्राम स्थित पब्लिक हेल्थ फाउंडेशन ऑफ इंडिया, नई दिल्ली के सेंटर फॉर क्रोनिक डिसीज कंट्रोल, हैदराबाद के जॉर्ज इंस्टिट्यूट फॉर ग्लोबल हेल्थ, नई दिल्ली स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान और यूनिवर्सिटी ऑफ सिडनी, ऑस्ट्रेलिया के शोधकर्ताओं ने मिलकर यह अध्ययन किया है।


साक्षात्कार लेते हुए प्रतिनिधिसाक्षात्कार लेते हुए प्रतिनिधि प्रमुख शोधकर्ता डॉ. शैलेष मोहन ने इंडिया साइंस वायर को बताया कि “भारत में लाखों लोग उच्च रक्तचाप से प्रभावित हैं और उनमें से अधिकतर उचित उपचार नहीं लेते हैं। ऐसे में इसकी रोकथाम ही महत्त्वपूर्ण उपाय हो सकता है। आहार में नमक के सेवन को कम करके उच्च रक्तचाप को नियंत्रित कर सकते हैं। अधिक नमक के सेवन से होने वाले गैर-संक्रामक रोगों के नियंत्रण के लिये एक प्रभावी कार्ययोजना बनाना कारगर हो सकता है।”

शोधकर्ताओं के अनुसार, “कम नमक के उपयोग के साथ ही अधिक आयोडीन उपलब्धता को सुनिश्चित करना भी जरूरी है, जिससे आयोडीन युक्त नमक कार्यक्रम के उद्देश्यों को पूरा किया जा सके। खाद्य उद्योगों को भी लोगों के स्वास्थ्य के प्रति प्रतिबद्धता दिखाते हुए कम नमक का उपयोग करने की ओर गंभीरता-पूर्वक ध्यान देना होगा। इसके साथ ही भोजन में नमक के उपयोग को लेकर शोध को बढ़ावा देने की भी आवश्यकता है।”

डॉ. शैलेष मोहन के अलावा इस अध्ययन में प्रीति गुप्ता, वंदना गर्ग, सुधीर राज थौट, रूपा शिवशंकर, आनंद कृष्णन, दोरैराज प्रभाकरन तथा यूनिवर्सिटी ऑफ सिडनी ऑस्ट्रेलिया के क्लेयर जॉनसन और ब्रूस नील शामिल थे। यह अध्ययन हाल में प्लॉस वन शोध पत्रिका में प्रकाशित किया गया है।

Twitter handle : @shubhrataravi


TAGS

Salt reduction in hindi, Non-communicable disease in hindi, Hypertension in hindi, high blood pressure in hindi, salt reduction uk in hindi, salt reduction strategies in hindi, salt consumption statistics in hindi, salt reduction and blood pressure in hindi, who recommended salt intake per day in hindi, global salt intake data in hindi, benefits of salt reduction in hindi, who collaborating centre on salt reduction in hindi, non communicable diseases list in hindi, causes of non communicable diseases in hindi, non communicable diseases causes and prevention in hindi, symptoms of non communicable diseases in hindi, effects of non communicable diseases in hindi, non communicable diseases pdf in hindi, risk factors of non communicable diseases in hindi, non communicable diseases ppt in hindi, hypertension definition in hindi, hypertension causes in hindi, hypertension treatment in hindi, types of hypertension in hindi, hypertension symptoms in hindi, hypertension headache in hindi, hypertension pathophysiology in hindi, hypertension medications in hindi, high blood pressure treatment in hindi, causes of sudden high blood pressure in hindi, high blood pressure diet in hindi, high blood pressure causes in hindi, high blood pressure chart in hindi, high blood pressure home remedies in hindi, high blood pressure reading in hindi, what foods cause high blood pressure in hindi, low sodium diet menu in hindi, what can i eat on a low sodium diet in hindi, low sodium diet recipes in hindi, low sodium diet foods in hindi, potassium rich foods in hindi, low sodium food chart in hindi, low sodium diet definition in hindi, list of food rich in sodium and potassium in hindi, how to reduce salt in body quickly in hindi, reducing salt intake benefits in hindi, reducing salt intake weight loss in hindi, how to lower sodium in body in hindi, how to reduce salt in body in tamil in hindi, how to reduce sodium intake in your diet in hindi, reducing sodium intake benefits in hindi, does drinking water lower sodium in hindi, recommended daily salt intake in hindi, how much sodium in a teaspoon of salt in hindi, how much salt per day in hindi, how much sodium per day to lose weight in hindi, how much sodium per day with high blood pressure in hindi, how much sodium in salt in hindi, daily sodium intake for high blood pressure in hindi, how much sodium per day bodybuilding in hindi, reducing salt intake benefits in hindi, how to reduce sodium in blood in hindi, how to reduce salt in body quickly in hindi, how to reduce sodium intake in your diet in hindi, reducing salt intake weight loss in hindi, how to get sodium out of the body in hindi, does drinking water lower sodium in hindi, low sodium diet in hindi


Disqus Comment