पराली के प्रदूषण से प्रभावित हो रही है ग्रामीण बच्चों की सेहत

Submitted by editorial on Tue, 08/14/2018 - 17:29
Printer Friendly, PDF & Email
Source
इंडिया साइंस वायर, नई दिल्ली, 14 अगस्त, 2018

वायु प्रदूषणवायु प्रदूषण पराली जलाने से होने वाले प्रदूषण का असर बच्चों की सेहत पर पड़ रहा है। पंजाब के मालवा क्षेत्र में स्थित पटियाला, संगरूर और फतेहगढ़ साहिब जिलों के ग्रामीण इलाकों में किए गए भारतीय वैज्ञानिकों के ताजा अध्ययन में यह बात उभरकर आयी है।

शोधकर्ताओं के अनुसार, पराली जलाने की अवधि में पीएम-10, पीएम-2.5 और पीएम-1 का औसत मासिक स्तर केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा निर्धारित मापदंडों के मुकाबले 3-4 गुना अधिक पाया गया है। इसके अलावा हवा में हानिकारक सूक्ष्म कणों के बढ़े हुए घनत्व की अवधि के दौरान बच्चों में फोर्स्ड वाइटल कैपेसिटी (एफवीसी) और फोर्स्ड एक्सपायरेटरी वॉल्यूम (एफईवी) जैसे मापदंडों में गिरावट दर्ज की गई है, जो फेफड़ों की बेहतर कार्यप्रणाली के संकेतक माने जाते हैं। लड़कियों की अपेक्षा लड़कों में एफवीसी की गिरावट का स्तर अधिक पाया गया है।

दिसंबर-2014 से सितंबर-2015 के बीच गेहूँ के एक फसल सत्र और दो धान फसल सत्रों के दौरान यह अध्ययन किया गया है, जिसमें सूक्ष्म कणों पीएम-10, पीएम-2.5 और पीएम-1 के कारण बच्चों की सेहत पर पड़ने वाले प्रभाव का आकलन किया गया है। पराली जलाने की अवधि में किए गए इस अध्ययन में 10-16 वर्ष के बच्चों की फेफड़ों की कार्यप्रणाली की पड़ताल एफवीसी और एफईवी से की गई है, जिनका उपयोग फेफड़ों की कार्यप्रणाली के परीक्षण के लिये किया जाता है।

इस अध्ययन से जुड़े प्रमुख शोधकर्ता डॉ. सुशील मित्तल ने इंडिया साइंस वायर को बताया कि “लड़कियों की अपेक्षा लड़कों में एफवीसी का स्तर अक्तूबर तथा नवंबर महीनों में कम पाया गया है, जो उस दौरान धान की फसल के अवशेषों के जलाए जाने के कारण सूक्ष्म कणों के उत्सर्जन से होने वाले सांस संबंधी रोगों का सूचक है। इसी तरह का चलन अप्रैल तथा मई में भी देखने को मिला है, जब गेहूँ की फसल के अवशेष जलाए जाते हैं। वर्ष 2014 के मुकाबले 2015 में एफवीसी के मूल्य में नौ प्रतिशत बढ़ोत्तरी दर्ज की गई है। लड़कियों के एफवीसी स्तर में भी मामूली गिरावट के साथ इसी तरह का पैटर्न देखने को मिला है। इससे स्पष्ट है कि ग्रामीण इलाकों में स्कूली बच्चों के श्वसन तंत्र की कार्यप्रणाली फसल अवशेषों के जलने से होने वाले उत्सर्जन से प्रभावित हो सकती है।”

सितंबर के पहले पखवाड़े से अक्तूबर के दूसरे पखवाड़े तक तीनों अध्ययन क्षेत्रों में एफवीसी के स्तर में क्रमिक गिरावट दर्ज की गई है। चावल के फसल अवशेष जलाने की अधिकतर घटनाएँ अक्तूबर के दूसरे पखवाड़े और नवंबर के पहले पखवाड़े की बीच होती हैं। इसके बावजूद पटियाला में दिसम्बर के पहले पखवाड़े तक इसका प्रभाव बना हुआ था। अध्ययनकर्ताओं का मानना है कि इसके पीछे पराली जलाने की घटनाओं के बाद वायुमंडल में काफी समय तक सूक्ष्म कणों निलंबित होना जिम्मेदार हो सकता है।

शोधकर्ताओं के अनुसार, सूक्ष्म कणों का घनत्व आधार वर्ष के मुकाबले लगभग दोगुना दर्ज किया गया है। धान के फसल अवशेषों को जलाने की अवधि में पीएम-1, पीएम-2.5 और पीएम-10 का स्तर गेहूँ के फसल सत्र की अपेक्षा अधिक पाया गया है। इस अध्ययन के दौरान पीएम-10 का सर्वाधिक स्तर 379 माइक्रोग्राम/मीट्रिक घन फतेहगढ़ साहिब में वर्ष 2015 में दर्ज किया गया है, जो उसी अवधि में संगरूर के 358 माइक्रोग्राम/मीट्रिक घन और पटियाला के 333 माइक्रोग्राम/मीट्रिक घन से काफी अधिक था। धान फसल सत्र में सूक्ष्म कणों का घनत्व अधिक पाए जाने के पीछे धान की पराली का ज्यादा मात्रा में जलाया जाना माना जा रहा है। जबकि, गेहूँ की पराली का उपयोग चारे के रूप में भी कर लिया जाता है।

शोधकर्ताओं का कहना है कि फसल अवशेषों को जलाना एक अनियंत्रित दहन प्रक्रिया है, जिसके कारण अन्य गैसीय उत्पादों के साथ दहन के मुख्य उत्पाद के रूप में सूक्ष्म कणों एवं कार्बन डाईऑक्साइड का उत्सर्जन बड़ी मात्रा में होता है। बचपन में फेफड़े की कार्यप्रणाली में कमजोर होने से बच्चों के स्वास्थ्य पर दीर्घकालिक प्रभाव पड़ सकते हैं। वायुमंडल में हानिकारक सूक्ष्म कणों के बढ़ते घनत्व को इसके लिये प्रमुख रूप से जिम्मेदार माना जाता है। इन सूक्ष्म कणों के सेहत पर पड़ने वाले प्रभावों के बारे में पता लगाने के लिये और अधिक अध्ययन किए जाने की आवश्यकता है।

पुणे स्थित भारतीय उष्णदेशीय मौसम विज्ञान विभाग और पटियाला की थापर यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं द्वारा किया गया यह अध्ययन शोध पत्रिका मापन में प्रकाशित किया गया है। अध्ययनकर्ताओं में डॉ. मित्तल के अलावा गुरप्रीत एस. सग्गू, रविंदर अग्रवाल और गुरफान बेग शामिल थे।

Twitter handle : @usm_1984


TAGS

Crop residue burning in hindi, Epidemiological Study in hindi, Respiratory Health in hindi, Post-harvest Stubble Burning in hindi, stubble burning alternatives in hindi, harmful effects of stubble burning in hindi, effects of crop burning in punjab and haryana on environment in hindi, what is parali crop in hindi, crop residue in hindi, burning in india in hindi, effects of air pollution on human health in points in hindi, 5 effects of air pollution on human health in hindi, effects of pollution on human health essay in hindi, effects of climate change on human health pdf in hindi, health effects of pollution on human beings in hindi, effect of pollution on human health pdf in hindi, effects of air pollution on human health wikipedia in hindi, effects of air pollution on human health pdf in hindi, effects of human health by parali in hindi, agricultural waste in hindi, examples of agricultural waste in hindi, agricultural waste wikipedia in hindi, agricultural waste pdf in hindi, list of agricultural waste in hindi, types of agricultural waste in hindi, sources of agricultural waste in hindi, agricultural waste management in hindi, what are some examples of agricultural waste in hindi, crop residue burning in india in hindi, what is crop burning in hindi, crop residue burning in punjab in hindi, effects of crop burning in punjab and haryana on environment in hindi, crop residue burning in madhya pradesh in hindi, causes of stubble burning in hindi, effects of stubble burning in hindi, stubble burning alternatives in hindi, epidemiological study designs ppt in hindi, epidemiological study examples in hindi, epidemiological study designs advantages and disadvantages in hindi, epidemiological study designs pdf in hindi, classification of epidemiological study designs in hindi, epidemiology example in hindi, current epidemiological studies in hindi, epidemiological study designs quiz in hindi, respiratory health tips in hindi, respiratory health meaning in hindi, respiratory health supplements in hindi, respiratory health definition in hindi, respiratory health association in hindi, respiratory health herbs in hindi, how to keep lungs healthy naturally in hindi, respiratory health tea in hindi, effects of stubble burning in hindi, disadvantages of stubble burning in hindi, stubble burning alternatives in hindi, harmful effects of stubble burning in hindi, stubble burning solutions in hindi, causes of stubble burning in hindi, solution to stubble burning in hindi, paddy straw burning in punjab in hindi, stubble burning alternatives india in hindi, alternative measures of burning wheat stubble in hindi, solution to stubble burning in hindi, disadvantages of stubble burning in hindi, alternative options to stubble burning in hindi, effects of stubble burning in hindi, causes of stubble burning in hindi, stubble burning solutions in hindi, agricultural waste burning in hindi, burning of agricultural waste by farmers in hindi, effects of crop burning in punjab and haryana on environment in hindi, what is crop burning in hindi, effects of stubble burning in hindi, crop residue burning in india in hindi, disadvantages of stubble burning in hindi, causes of stubble burning in hindi, agriculture burning in hindi


Add new comment

This question is for testing whether or not you are a human visitor and to prevent automated spam submissions.

7 + 1 =
Solve this simple math problem and enter the result. E.g. for 1+3, enter 4.

More From Author

Related Articles (Topic wise)

Related Articles (District wise)

About the author

Latest