सुन्दरबन पर्यावरणीय रिपोर्टिंग के लिये ग्रांट

Submitted by editorial on Sat, 06/09/2018 - 12:37
Source
द थर्ड पोल


आवेदन की अन्तिम तिथि - 28 मई 2018
संस्था: The Third Pole

The Third PoleThe Third Poleपर्यावरण से जुड़े मुद्दों के प्रचार-प्रसार और मीडिया रिपोर्टिंग की गुणवत्ता बढ़ाने के उद्देश्य से ‘द थर्ड पोल’ पत्रकारों को अनुदान मुहैया करा रहा है। इस अनुदान का फोकस सुन्दरबन पर है। अनुदान पाने की इच्छा रखने वाले पत्रकारों को सुन्दरबन में हो रहे मौसमी और पर्यावरणीय बदलाव से जुड़े मुद्दों पर सारगर्भित स्टोरीज करनी होगी जिसका फोकस वहाँ निवास करने वाले आर्थिक रूप से कमजोर लोगों, महिलाओं और उनकी समस्याओं पर भी होना चाहिए।

खबरों के लिये मीडियम और भाषा की कोई बाध्यता नहीं है। अतः उनके प्रसार के लिये प्रिंट, ऑडियो-विजुअल, ऑडियो, वेब, फोटो फीचर या मल्टीमीडिया के साथ ही किसी भी भाषा का इस्तेमाल किया जा सकता है।

इस अनुदान के लिये उन स्टोरी आइडियाज को प्रमुखता दी जाएगी जो समस्याओं पर रिपोर्ताज लिखने के बजाय सीमाओं से परे जाकर उनसे निपटने के समाधान पर चर्चा करें। विशेष तौर पर ऐसे समाधान जो राजनीतिक सीमाओं के परे हों।

अगर आप इन मुद्दों से सरोकार रखने के साथ अनुदान पाने की इच्छा रखते हों तो आवेदन दे सकते हैं।

आवेदन का तरीका:-

1. अपना सीवी भेजें

2. स्टोरी आइडिया के साथ एरिया और फील्ड वर्क में लगने वाले समय की जानकारी दें।

3. बजट एक लाख रूपए से ज्यादा नहीं होना चाहिए और उसका सम्पूर्ण और तर्कपूर्ण विवरण दें। इसके साथ ही अनुदान राशि का इस्तेमाल कैमरा, लैपटॉप या अन्य किसी सामान की खरीद पर नहीं होना चाहिए।

4. अनुदान के विषय से जुड़े दो स्टोरी सैम्पल भी भेजें। सुन्दरबन से जुड़े सैम्पल को वरियता दिया जाएगा।

5. आपको अपने मीडिया हाउस के एडिटर/ न्यूज एडिटर/ ब्यूरो चीफ द्वारा साइन किया हुआ पत्र देना होगा। पत्र में अनुदान प्राप्त स्टोरी या सीरीज को इनहाउस प्रकाशित करने की अनुमति के साथ ‘द थर्ड पोल’ को दोबारा प्रकाशित करने की अनुमति का विवरण होना जरूरी है। स्वतंत्रत पत्रकारों को भी ऐसे ही पत्र प्रस्तुत करने होंगे। पत्र वैसे संस्थान से जारी किया जाना चाहिए जिसके लिए वे काम करते हों। किसी परेशानी के कारण यदि कोई तत्काल पत्र नहीं भेज सकता तो भी आवेदन कर सकता है। अनुदान के लिये चुने जाने पर दो दिनों के अन्दर उन्हें पत्र देना होगा।

आवेदन केवल अंग्रेजी या बंगाली भाषा में ही किया जाना चाहिए। अगर आप किसी अन्य भाषा में आवेदन दे रहें हों तो कृपया अंग्रेजी या बंगाली में एक सिनोप्सिस अवश्य भेजें।

ऐसे पत्रकार जो सुन्दरबन और उसके आस-पास के इलाकों से हों उन्हें चयन की प्रक्रिया में वरीयता दी जाएगी। महिला पत्रकारों को भी वरीयता दी जाएगी।

आप अपना आवेदन एमएस वर्ड अटैचमेंट के साथ नीचे दी गई ईमेल आईडी पर मेल करें।
ईमेल - joydeep.gupta@thethirdpole.net

आवेदन भेजने की अन्तिम तिथि 28 मई 2018 है

Joydeep Gupta

www.thethirdpole.net

www.indiaclimatedialogue.net

 

TAGS

sunderban biodiversity, sundarban forest animals, sundarbans mangrove forest, sundarban tigers, sundarbans national park, conservation of biodiversity in sundarban, sundarban biosphere reserve, sundarban west bengal, sundarban biodiversity conservation project, What type of forest are Sundarbans?, Is Sundarban a sanctuary?, What is Sundarban famous for?, Which animals are found in Sundarbans?, sundarbans mangrove forest, sundarban forest animals, largest mangrove forest in world, sundarban tigers, sundarbans national park, sundarbans map, sundarbans mangrove ecosystem, sundarban biosphere reserve, sundari forest, mangrove forest in sundarban, top 10 mangrove forest in the world, largest mangrove forest in the world, mangrove forests found in the world, sundarbans ecosystem, meaning of Sundarbans, animals are found in Sundarbans, Sundarban famous, Sunderban delta, sundarban forest animals, sundarbans mangrove forest, sundarbans mangrove ecosystem, sundarban flood project in bengali, sundarbans national park, sundarban west bengal, sundarban tigers, sundarbans map, reporting for sundarbans, research paper on sundarban, case study on sundarban delta, environmental problems sundarbans, effects of global warming in sundarban, threats to sundarbans, sundarbans case study, sundarban forest animals, impact of climate change on "sundarbans", the largest mangrove forest: ways forward, sundarban biodiversity conservation project.

 

Disqus Comment

Related Articles (Topic wise)

Related Articles (District wise)

About the author

नया ताजा