उर्वरकों की क्षमता बढ़ाने के उपाय (Measures to increase the efficiency of fertilizers)

Submitted by UrbanWater on Sat, 10/07/2017 - 12:34
Source
प्रसार शिक्षा निदेशालय, बिरसा कृषि विश्वविद्यालय, राँची, जनवरी-दिसम्बर 2009

झारखण्ड की 47 प्रतिशत मिट्टी में कम प्रतिशत में जैव कार्बन है। मिट्टी परीक्षण करने के बाद कितना गोबर खाद देना है, उसका निर्धारण होता है। समुचित मात्रा में गोबर खाद देकर ही फसलों में दिये गए उर्वरकों का पूर्ण उपयोग किया जा सकता है। गोबर खाद मिट्टी की दशा का सुधारकर अनुपलब्ध पोषक तत्व को उपलब्ध पोषक तत्व में बदल देता है। किसानों में यह धारणा है कि रासायनिक उर्वरक डालने से मिट्टी खराब हो जाता है, यह सही नहीं है। यदि सही मात्रा एवं अनुपात में तीनों आवश्यक उर्वरकों का प्रयोग किया जाय तो भरपूर उपज लिया जा सकता है।

झारखण्ड में 80 प्रतिशत लोग खेती में लगे हैं। अधिक फसल उत्पादन के लिये आधुनिक कृषि तकनीक में उन्नत बीज, समय से फसल बुआई, कोड़ाई, पटवन, उर्वरक का उपयोग, खरपतवार नियंत्रण, कीट व रोग नियंत्रण, समय से कटाई एवं फसल चक्र का उपयोग करने लगेे हैं। इनमें सबसे महंगा उपादान उर्वरक है।

मिट्टी में सही मात्रा में एवं सही अनुपात (नत्रजन (नाइट्रोजन), फॅास्फोरस एवं पोटाश) में उर्वरक का प्रयोग करना चाहिए। यह तभी सम्भव है जब आप मिट्टी परीक्षण करा कर उर्वरकों का प्रयोग करेंगे। इससे होता यह है कि मिट्टी में आवश्यक पोषक तत्व का उर्वरक अधिक डालकर ही उपज का अधिक लाभ ले सकते हैं पोषक तत्व का सही अनुपात चाहिए नहीं तो एक तत्व की कमी दूसरे तत्व की उपयोगिता को प्रभावित करेगी। मिट्टी में उपलब्ध आवश्यक पोषक तत्व की पूर्ण जानकारी मिट्टी परीक्षण द्वारा विभिन्न फसलों की आावश्यकतानुसार निर्धारित निश्चित मात्रा में उर्वरक की सिफारिश से अधिक लाभ ले सकते हैं।

मिट्टी परीक्षण से आपको मिट्टी में सुधार की आवश्यकता है या नहीं यह भी पता चलता है यदि आपकी मिट्टी अम्लीय है तो उसमें तीन से चार क्विंटल चूना बुआई के समय डालकर ही उर्वरक की क्षामता को पूर्ण उपयोग कर सकतेे हैं। झारखण्ड की 49 प्रतिशत मिट्टी अधिक अम्लीय है। यह सभी ऊपरी जमीन है। धान के अलावा अधिकांश फसल में मिट्टी सुधार चुना डालकर उर्वरकों की क्षमता बढ़ा सकते हैं।

मिट्टी परीक्षण से आपकी मिट्टी के कार्बन की प्रतिशत उपलब्धता का पता चलता है 80 प्रतिशत नत्रजन (नाइट्रोजन) कार्बन पदार्थ के साथ संलग्न होता है। झारखण्ड की 47 प्रतिशत मिट्टी में कम प्रतिशत में जैव कार्बन है। मिट्टी परीक्षण करने के बाद कितना गोबर खाद देना है, उसका निर्धारण होता है। समुचित मात्रा में गोबर खाद देकर ही फसलों में दिये गए उर्वरकों का पूर्ण उपयोग किया जा सकता है। गोबर खाद मिट्टी की दशा का सुधारकर अनुपलब्ध पोषक तत्व को उपलब्ध पोषक तत्व में बदल देता है।

किसानों में यह धारणा है कि रासायनिक उर्वरक डालने से मिट्टी खराब हो जाता है, यह सही नहीं है। यदि सही मात्रा एवं अनुपात में तीनों आवश्यक उर्वरकों का प्रयोग किया जाय तो भरपूर उपज लिया जा सकता है। प्रयोग से ऐसा पता चला है कि यदि केवल यूरिया का उपयोग किया जाये तो शुरू के वर्ष में फसल की अच्छी उपज मिलती है लेकिन 10-12 वर्षों के बाद फसल की उपज बहुत कम हो जाती है। यदि रासायनिक उर्वरक की क्षमता अधिक लेना है तो नत्रजन (नाइट्रोजन), स्फूर, एवं पोटाश की सन्तुलित मात्रा देनी होगी एवं नत्रजन (नाइट्रोजन) उर्वरक तीन बार फसल की आयु एवं अवस्था के अनुसार देना होेगा। शुष्क खेती में उर्वरकों का उपयोग सतह के नीचे (4.5 इंच) करना चाहिए।

फसल बोने के लिये मिट्टी को खूब भुरभुरा करना चाहिए जिससे पौधों की जड़ों का अधिक फैलाव होकर अधिक-से-अधिक पोषक तत्वों का उपयोग कर सके। अच्छी जुताई से पौधों को अधिक हवा एवं जल मिलता है जो उपलब्ध पोषक तत्व की उपयोगिता बढ़ाता है। समय पर फसल की बुआई एवं अनुशंसित बीज की मात्रा से कम उर्वरक से अधिक उपज प्राप्त कर सकते हैं। समय से पहले या देरी से बुआई करने पर डाले गए उर्वरक की उपयोगिता कम हो जाता है एवं कीट या पौधा रोग की अधिक सम्भावना होती है।

यूरिया का छिड़काव हमेशा खरपतवार को हटाने के बाद करना चाहिए। यदि खरपतवार का नियंत्रण करना सम्भव न हो तो ऊपर से नत्रजन (नाइट्रोजन) का प्रयोग न करें। नत्रजन (नाइट्रोजन) उर्वरक 2-3 बार हमेशा पटवन के बाद छिड़काव करेें। स्फूर, एवं पोटाश उर्वरक की उपयोगिता पौधा के प्रथम आधा उम्र तक अधिक होता है। उसके बाद उसकी उपयोगिता कम हो जाती है। लेकिन नत्रजन (नाइट्रोजन) का उपयोग बढ़वार के प्रथम एवं अन्तिम अवस्था में कम जरूरत होती है एवं बीच के अवस्था में इसकी उपयोगिता अधिक होती है।

फसलों की अच्छी पैदावार के साथ-साथ मृदा की उर्वरा शक्ति बनाए रखने एवं भूक्षरण से बचाए रहना आवश्यक है। इसके लिये अदलहनी फसलों के बाद दलहनी फसल, गहरी जड़ों वाली फसल के बाद कम गहरी जड़ वाली, अधिक जल व खाद चाहने वाली फसल के बाद कम जल व खाद चाहने वाली फसलें अधिक निकाई, गुड़ाई वाले फसल के बाद कम गुड़ाई वाले फसल से ही अधिक मृदा उर्वरा का उपयोग एवं अधिक फसल उपज ले सकते हैं।

लेखक, कनीय वैज्ञानिक -सह-सहायक प्राध्यापक, मृदा विज्ञान एवं कृषि रसायन विभाग, बिरसा कृषि विश्वविद्यालय काँके, राँची से सम्बद्ध हैं।


TAGS

how to increase fertilizer use efficiency in hindi, factor affecting fertilizer use efficiency in hindi, fertilizer production energy consumption in hindi, fertilizer use efficiency definition in hindi, ammonia production energy consumption in hindi, fertilizer use efficiency ppt in hindi, fertilizer use efficiency pdf in hindi, npk fertilizer in hindi, fertilizer use efficiency wikipedia in hindi, fertilizer use efficiency in india, factor affecting fertilizer use efficiency in hindi, factors influencing nutrient use efficiency in hindi, improving nutrient use efficiency in crops in hindi, Scholarly articles for fertilizer use efficiency definition in hindi, nitrogen use efficiency definition in hindi, factors affecting nitrogen use efficiency in hindi, nitrogen use efficiency wikipedia in hindi, nitrogen use efficiency in plants in hindi, factors affecting nutrient use efficiency in hindi, nutrient use efficiency wikipedia in hindi, methods to improve crop production in hindi, nitrogen use efficiency in wheat in hindi, information about fertilizer use efficiency definition in hindi, nutrient management definition in hindi, how to increase nutrient use efficiency in hindi, importance of nutrient management in hindi, nutrient management in crops, essay fertilizer use efficiency definition in hindi, Scholarly articles for essay fertilizer use efficiency definition.


 

पठारी कृषि (बिरसा कृषि विश्वविद्यालय की त्रैमासिक पत्रिका) जनवरी-दिसम्बर, 2009


(इस पुस्तक के अन्य अध्यायों को पढ़ने के लिये कृपया आलेख के लिंक पर क्लिक करें।)

1

उर्वरकों का दीर्घकालीन प्रभाव एवं वैज्ञानिक अनुशंसाएँ (Long-term effects of fertilizers and scientific recommendations)

2

उर्वरकों की क्षमता बढ़ाने के उपाय (Measures to increase the efficiency of fertilizers)

3

झारखण्ड राज्य में मृदा स्वास्थ्य की स्थिति समस्या एवं निदान (Problems and Diagnosis of Soil Health in Jharkhand)

4

फसल उत्पादन के लिये पोटाश का महत्त्व (Importance of potash for crop production)

5

खूँटी (रैटुन) ईख की वैज्ञानिक खेती (sugarcane farming)

6

सीमित जल का वैज्ञानिक उपयोग

7

गेहूँ का आधार एवं प्रमाणित बीजोत्पादन

8

बाग में ग्लैडिओलस

9

आम की उन्नत बागवानी कैसे करें

10

फलों की तुड़ाई की कसौटियाँ

11

जैविक रोग नियंत्रक द्वारा पौधा रोग निदान-एक उभरता समाधान

12

स्ट्राबेरी की उन्नत खेती

13

लाख की ग्रामीण अर्थव्यवस्था में भागीदारी

14

वनों के उत्थान के लिये वन प्रबन्धन की उपयोगिता

15

फार्मर्स फील्ड - एक परिचय

16

सूचना क्रांति का एक सशक्त माध्यम-सामुदायिक रेडियो स्टेशन

17

किसानों की सेवा में किसान कॉल केन्द्र

18

कृषि में महिलाओं की भूमिका, समस्या एवं निदान

19

दुधारू पशुओं की प्रमुख नस्लें एवं दूध व्यवसाय हेतु उनका चयन

20

घृतकुमारी की लाभदायक खेती

21

केचुआ खाद-टिकाऊ खेती एवं आमदनी का अच्छा स्रोत

 

Disqus Comment

More From Author

Related Articles (Topic wise)

Related Articles (District wise)

About the author

नया ताजा